शनिवार, 21 जनवरी 2017

अपेंडिक्स का आयुर्वेदिक इलाज, शेयर करें


अपेंडिक्स आँत का एक टुकड़ा होता है, इसके संक्रमण जिसे अपेंडिसाइटिस कहते हैं, पेट दर्द पैदा करने वाला एक आम कारण है । अपेंडिक्से 10 से 30 साल की उम्र के लोगों में आम होता है । यह महिलाओं के मुकाबले पुरुषों में ज्या‍दा देखने को मिलता है ।

जब यह अवरोध कुछ दिनों तक लगातार बना रहता है तो अंततः संक्रमण होकर अपेंडिक्स के फटने की स्थिति आ जाती है । अपेन्डिक्स का फटना एक आपात स्थिति है । इसका सही समय पर इलाज बहुत जरुरी है । आज हम आपको बता रहे अपेंडिक्स के घरेलू इलाज जिनको अपना के आप इस समस्या से निजात पा सकते हैं ।

• अदरक : अदरक दर्द और सूजन को दूर करने में सहायक है । रोजाना अदरक की चाय 2 से 3 बार पियें । अदरक की चाय बनाने के लिये 1 कप उबलते हुए पानी में 1 छोटा चम्मच घिसा अदरक डाल कर 10 मिनट उबालें । दूसरा तरीका है कि अपने पेडु को अदरक के तेल से दिन में कई बार मसाज करें ।

• लहसुन : रोजाना खाली पेट 2 से 3 कच्चीर लहसुन का सेवन करें । ये अपेंडिक्स में आराम देता हैं ।

• नीम्बू : एक नींबू निचोड़ कर उसमें कच्ची शहद मिलाइये । इस मिश्रण को दिन में कई बार लीजिये ।

• मेथी दाना : 1 कप पानी में 2 छोटे चम्मदच मेथी डाल कर पानी को उबालें । इसके बाद इस पानी को दिन में एक बार पियें । खाने में भी मेथी दाने का प्रयोग करें । इससे दर्द और सूजन दूर होती है ।

• तुलसी : इसके सेवन से आराम मिलता हैं और रोगी को बुखार आता है तो वो भी कम होता है ।

• पुदीना : यह अंदर की गैस, मतली और चक्कुर जैसे लक्षणों को दूर करता है । यह अपेंडिक्सी के दर्द को भी ठीक करता है । इसका सेवन करने के लिये पुदीने की चाय तैयार करें । 1 चम्मठच ताजी पुदीने की पत्तिलयों को 1 कप खौलते पानी में 10 मिनट तक उबालें । इसे छान कर इसमें कच्ची शहद मिलाएं । फिर इसे हफ्तेभर दो या तीन पर रोजाना पियें ।

• तरल चीजे : तरल पदार्थ से कब्ज दूर होता हैं और अपेंडिक्स की समस्या भी दूर होती हैं । फ्रूट जूस और पानी का सेवन करे 

• फाइबर वाले भोज्य : आपको हाई फाइबर वाले आहार जैसे, बींस, खीरा, टमाटर, चुकंदर, गाजर, ब्रॉक्ली, मटर, ब्राउन राइस, मुनक्कास, वीट जर्म, कद्दू के बीज, सूरजमुखी के बीज और अन्यी ताजे फल तथा सब्जि्यां खाने चाहिए जिससे आपेंदिक्स की समस्या दूर होती हैं ।

• दूध : उबला दूध पीने से आराम मिलता हैं लेकिन उबाल कर इसे ठंडा करले ।

• सेंधा नमक : लाल टमाटर में सेंधा नमक और अदरक मिलकर खाना खाने से पहले खाने पर आराम मिलता हैं ।

• पालक : इसका साग बनाकर खाने से इस समस्या में आराम मिलता हैं ।

• राई का सेवन : पेट के निचले भाग में दायीं ओर राई पीसकर लेप करने से दर्द दूर होता है । मगर ध्यान रहे कि एक घंटे से ज्यादा देर तक लेप लगा नहीं रहना चाहिए । वरना छाले भी पड़ सकते हैं ।

• चौलाई : चौलाई का साग लेकर पीस लें और उसका लेप करें । इससे शांति मिलेगी और पीड़ा दूर होगी ।

अपेंडिक्स की समस्या का समय रहते इलाज कराएँ और ध्यान रखे की यह मर्ज बढ़ने ना पायें नहीं तो समस्या अधिक हो सकती हैं ।

SHARE THIS
loading...

0 Comments: