बेहोशी लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
बेहोशी लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

शनिवार, 10 दिसंबर 2016

4 बूंद नाक में डालो, बेहोश व्यक्ति तत्काल होश में आएगा

4 बूंद नाक में डालो, बेहोश व्यक्ति तत्काल होश में आएगा


प्रकृति ने मनुष्य को ऐसे-ऐसे वरदानों से नवाजा है कि वह चाहे तो भी जीवनभर उनसे ऋण नहीं हो सकता है। तुलसी भी ऐसा ही एक अनमोल पौधा है जो प्रकृति ने मनुष्य को दिया है। सामान्य से दिखने वाले तुलसी के पौधे में अनेक दुर्लभ और बेशकीमती गुण पाए जाते हैं। आइये जाने कि तुलसी का पूज्यनीय पौधा हमारे किस-किस काम आ सकता है-

- शरीर के वजन को नियंत्रित रखने हेतु भी तुलसी अत्यंत गुणकारी है।

- इसके नियमित सेवन से भारी व्यक्ति का वजन घटता है एवं पतले व्यक्ति का वजन बढ़ता है यानी तुलसी शरीर का वजन आनुपातिक रूप से नियंत्रित करती है।

- तुलसी के रस की कुछ बूंदों में थोड़ा-सा नमक मिलाकर बेहोंश व्यक्ति की नाक में डालने से उसे शीघ्र होश आ जाता है।
- चाय (बिना दूध की) बनाते समय तुलसी  के कुछ पत्ते साथ में उबाल लिए जाएं तो सर्दी, बुखार एवं मांसपेशियों के दर्द में राहत मिलती  है।

- 10 ग्राम तुलसी के रस को 5 ग्राम शहद के साथ सेवन करने से हिचकी एवं अस्थमा के रोगी को ठीक किया जा सकता है।

- तुलसी के काढ़े में थोड़ा-सा सेंधा नमक एवं पीसी सौंठ मिलाकर सेवन करने से कब्ज दूर होती है।

- दोपहर भोजन के पश्चात तुलसी की पत्तियां चबाने से पाचन शक्ति मजबूत होती है।

- 10 ग्राम तुलसी के रस के साथ 5 ग्राम शहद एवं 5 ग्राम पिसी कालीमिर्च का सेवन करने से पाचन शक्ति की कमजोरी समाप्त हो जाती है।

- दूषित पानी में तुलसी की कुछ ताजी पत्तियां डालने से पानी का शुद्धिकरण किया जा सकता है।

गुरुवार, 20 अक्तूबर 2016

अगर आपको बार बार बेहोशी की समस्या है तो अपनाये यह उपाय.

अगर आपको बार बार बेहोशी की समस्या है तो अपनाये यह उपाय.


इस रोग में व्यक्ति को बेहोशी छा जाती है| वह निष्प्राण-सा पड़ा रहता है| ऐसे समय में रोगी को किसी आरामदायक एवं सुरक्षित स्थान पर लिटाना चाहिए| उसके चारों ओर भीड़ नहीं लगनी चाहिए| रोगी के वस्त्रों को ढीला करके चित लिटाकर पंखे की हवा देनी चाहिए| चेहरे पर बार-बार ठंडे पानी के छींटे मारें|

कारण :

मनुष्य दिनभर कोई न कोई कार्य अवश्य करता रहता है| इन कार्यों को सम्पन्न करने से उसे जोखिम भी उठाना पड़ता है| जोखिम के कार्यों में प्राय: चोट-फोट का डर रहता है| अत: जब कभी चोट-फोट के कारण संवेदनशीलता में किसी प्रकार की कमी आ जाती है तो उस दशा को बेहोशी (मूर्च्छा) कहा जाता है| कई बार गम्भीर बीमारी, गरमी की अधिकता या मर्म स्थान में चोट लग जाने के कारण भी बेहोशी आ जाती है|

पहचान :

यदि रोगी पूरी तरह से बेहोश हो जाता है तो उसे अपने तन-बदन का होश नहीं रहता| लेकिन यदि आधी बेहोशी होती है तो इधर-उधर देखकर वह कुछ कहने के लिए बार-बार उठता है या इशारे करता है| वैसे आमतौर पर बेहोशी या अर्द्धबेहोशी की हालत में रोगी कोई हरकत नहीं करता|
बेहोशी की दशा में रोगी की नाड़ी तथा श्वास की गति ठीक बनी रहती है| लेकिन कई बार देखा गया है कि रोगी का शरीर कांपता रहता है| वह हाथ-पैर भी पटकता है क्योंकि उसके शरीर में दर्द भरी हड़कन होती है| उसके मुख से लार भी गिरती है| रोगी गहरी नींद में सो जाता है| उसकी याददाश्त कम हो जाती है| कभी-कभी बेहोशी की हालत में उसका मूत्र निकल जाता है|

नुस्खे :

  • सबसे पहले कार्य तो यही है कि बेहोश हो जाने पर रोगी के मुख पर ठंडे पानी के छींटे बार-बार दें| ऐसा करने से रोगी को होश आ जाता है|होश आने पर रोगी को शुद्ध शहद चटाना चाहिए| इससे दोबारा बेहोश होने का भय जाता रहता है|
  • तुलसी के पत्तों को पीसकर उसमें जरा-सा सेंधा नमक मिलाकर रोगी की नाम में बार-बार डालें|होश आने के बाद रोगी को थोड़ी-सी अजवायन पानी के साथ दें|
  • यदि गरमी तथा अधिक मेहनत करने की वजह से बेहोशी आ गई हो तो रोगी को खीरे का रस देना चाहिए| माथे पर भी इस रस को मलते रहें|सिर तथा शरीर पर तुलसी का रस मलने से हर प्रकार की बेहोशी दूर हो जाती है|
  • अरहर की दाल को थोड़े से पानी में भिगोकर रख दें| कुछ देर बाद पानी को पिलाने से नशा तथा मूर्च्छा दोनों दूर हो जाते हैं|
  • पीपल के पेड़ की छाल को सुखाकर पीस लें| फिर उसे शहद के साथ मिलाकर दिन में दो-तीन बार चाटें|पीपल के फलों को सुखाकर जला लें| फिर उसका महीन चूर्ण बनाकर देशी घी में मिलाएं| इसे आंखों में काजल की तरह नित्य रात को सोते समय लगाएं| बेहोशी रोकने के लिए यह काजल बहुत कारगर सिद्ध हुआ है|
  • प्याज का रस सुंघाएं तथा मुंह में बूंद-बूंदकर डालें|पुदीना सुंघाने से भी बेहोशी दूर हो जाती है|
  • कालीमिर्च को पीसकर महीन चूर्ण कर लें| फिर इस चूर्ण को नाक में रत्तीभर की मात्रा में डालें| रोगी को होश आ जाएगा|
  • लोबान की धूनी कुछ देर नाक में देने से रोगी की बेहोशी टूट जाती है|एक चम्मच आंवले का रस देशी घी में मिलाकर पिलाने से रोगी को काफी लाभ होता है|
  • बेर का गूदा, कालीमिर्च, खस तथा नागकेसर - सबको 5-5 ग्राम की मात्रा में लेकर पीस डालें| फिर पानी से शरबत बनाकर रोगी कू पिलाएं|

क्या खाएं क्या नहीं :

रोगी की बेहोशी दूर होने के बाद उसे हरेक पदार्थ खाने को दिया जा सकता है - जैसे दही, रबड़ी, घी, अंडा, चावल की खीर आदि| इसके अलावा नीबू का शरबत पिलाते रहें क्योंकि यह स्नायुमंडल के लिए बहुत लाभदायक है| परन्तु गुड़, खटाई, इमली, चटपटी तथा मसालेदार चीजें, तेल, डालडा घी, मट्ठा, खट्टे फल, कब्ज करने वाला भोजन, चाय, कॉफी, शराब, बीड़ी-सिगरेट, भांग, गांजा, कोकाकोला, चुइंगम आदि के सेवन से उसे दूर रखें|