जरा हट के लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
जरा हट के लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

सोमवार, 7 मई 2018

जानिए कैसे आपके घर में मौजूद ये चीज बदल सकती है आपका जीवन

जानिए कैसे आपके घर में मौजूद ये चीज बदल सकती है आपका जीवन


किवदंती के अनुसार कहा जाता है कि नील के पौधे की उत्पत्ति श्मशान में हुई थी, नील का पौधा मनुष्य के जीवन के सत्य के बारे में बताता है.यह संबोधित करता है कि जीवन के बाद मृत्यु है और मृत्यु के पुनः जीवन है।जीवन मरण ही इस धरती का सबसे बड़ा सच है. तंत्र शास्त्र के अनुसार नील माता सरस्वती का प्रतीक भी माना जाता  है, इसीलिए विघा की देवी को तारा देवी भी कहते है.

लोगो के अनुसार तो नील का इस्तेमाल सफेद कपड़ो की चमक वापस लाने के लिए लिया जाता है परंतु नील की सबसे अच्छाई यह भी है कि इसे मिटटी को उपजाऊ बनाने के लिए अपयोग करते है. इसकी पत्तियों के प्रसंस्करण से नील रंजक प्राप्त होता है,परंतु आप इस बात को नहीं जानते होगे कि यदि नील को इस तरह से उपयोग किया जाए तो यह हमारी किस्मत भी बदल सकता है. आइये जानते हैं इसके उपाय

जो भी व्यक्ति नील मिले सरसों के तेल का दीपक सरस्वती के आगे जलाता है उससे दुर्भाग्य दूर होता है.

सफ़ेद कपड़ो पर नील लगाने से चंद्रमा शुभ होकर मानसिक विकार दूर करता है।

आपने घर का वास्तुदोष दूर करना हो तो घर में नील व नमक का पौचा लगाये.

दरिद्रता को दूर करने के लिए ही चूना व नील मिलाकर दीवाली पर घर की पुताई करते  है.

घर के बहार नील से उल्टा स्वस्तिक बनाये इससे दुर्भाग्य से मुक्ति मिलेगी

राहू ग्रह के अशुभ प्रभाव हो तो नील से टॉयलेट साफ करें.

नील, समुद्री नमक, तंबाकू और रांगा मरघट में दबाने से आयु में वृद्धि होती है।

रविवार, 6 मई 2018

जानिये इस तरह की महिलाएं शारीरिक संबंध बनाने में पुरुषों से ज्यादा रखती हैं रूचि !

जानिये इस तरह की महिलाएं शारीरिक संबंध बनाने में पुरुषों से ज्यादा रखती हैं रूचि !


शादी एक ऐसा शब्द है जिसे सुनते ही हर लड़की का मन में एक ख्याल आता है कि उसकी भी शादी होगी. ये सब सोचकर उसका मन भी ख़ुशी से झूम उठता है बसर्ते उसकी शादी उसके पसंद के लड़के से हो जाये. हर लड़की के मन में यही रहता है कि उसका भी पति उसे बहुत प्यार करे और उसका पूरा ख्याल रखे. शादी का दिन जितना लड़कियों के लिए ख़ास होता है उतना ही लड़कों के लिए होता है. शादी के बाद से ही उन दोनों की नयी जिंदगी शुरू होती है.

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि शादी के बाद महिलाओं को सिंगार करना पड़ता है. शादी-शुदा महिला की जिंदगी में सिंगार बहुत मायने रखता है क्योंकि सुहागन महिला की पहचान उसका सिंगार होता है. ॐ शांति ओम में दीपिका पादुकोण ने एक डाइलोग बोला था अगर आपको याद हो तो कि “चुटकी सिंदूर की कीमत तुम क्या जानो रमेश बाबू?” अगर पुरानों के अनुसार देखा जाए तो महिलाओं के लिए मांग में सिंदूर काफी महत्व रखता है.

सिंदूर लगाने के महिलाओं के जीवन में कई महत्व हैं. कहा जाता है कि महिलाओं के सिंदूर लगाने से उनके पति की उम्र बढ़ती है और वह उनके पति की निशानी होता है. आज हम आपको सिंदूर के ऐसे फायदे बतायेंगे जिन्हें जानकर आप भी हैरान रह जायेंगे. बहुत कम ही लोग जानते होंगे कि सिंदूर महिलाओं का BP कण्ट्रोल करता है. इसी के साथ सिंदूर लगाने से महिलाओं के मन यौन इच्छा भी जाग्रत होती है.

गौरतलब है सिंदूर लगाने वाली महिलाओं में शारीरिक संबंध बनाने को लेकर एक अलग ही तरह की इच्छा होती है. इस तरह की महिलाओं को बाकी महिलाओं की तुलना में देखा गया है कि ऐसी महिलाओं में उनके मुकाबले सेक्स करने की क्षमता अधिक होती है. बता दें सिंदूर को देखकर महिलाओं को संबंध बनाने की लालसा पैदा होती है. आज का समय ऐसा हो गया है कि लोग सिंदूर बहुत कम बस दिखाने को ही लगाते हैं लेकिन सिंदूर के ये फायदे जानकर आप भी चौंक गये होंगे. बताया गया है कि इस तरह की महिलाएं पुरुषों से ज्यादा सेक्स करने में रूचि रखती हैं.

शुक्रवार, 4 मई 2018

90% लड़कियां सोते समय अपने शरीर के इस हिस्से पर रखती हैं अपने हाथ, जानिए क्यों ?

90% लड़कियां सोते समय अपने शरीर के इस हिस्से पर रखती हैं अपने हाथ, जानिए क्यों ?


दिनभर की भाग दौड़ की जिंदगी , कभी काम तो कभी इंज्वॉय बस फिर क्या दिन खत्म और थकान शुरु । कुछ लोग अपनी थकान अच्छे से निकाल पाते है तो कुछ लोगों को आराम नहीं मिलता । क्योंकि काम और आराम के बीच वक्त का फासला बहुत कम होता है । दिन भर काम कर लोगों को बस रात का इंतजार होता है कि कब रात हो और वो खाना-खा के सो जाए ।
नींद के बारे में एक मशहूर कहावत है – चलो नींद के दफ्तर में हाज़िरी लगा आते हैं, वो सपनो में आये तो ओवर टाइम भी कर लेंगे…।

रात की भरपूर नींद जितनी अच्छी होती है उतना ही सेहत के लिए भी फायदेमंद होती है । सोने से शरीर और दिमाग दोनों को आराम मिलता है । दिनभर जो मनसिक तनाव सहा है उससे राहत मिलती है । इसलिए कहते है ना नींद दिनभर में कितना भी ले लो लेकिन नींद तो रात की ही बेहतर होती है ।

हर इंसान चाहता है कि उसे थकान के मारे चैन की नींद आए और रात कट जाए । जितने लोग उतने तरीके भी है । जी हां सभी का सोने का तरीका भी अलग- अलग होता है, आज हम आपसे इसी तरीके की चर्चा करेंगे । खासकर लड़कियों के सोने के तरीकों की हम बात करेंगे । क्योंकि 90% लड़कियां रात को सोते समय अपने शरीर के जिन हिस्सों पर हाथ रख के सोती है वो जानकर आप दंग रह जाएंगे । लेकिन जो भी उन्हें ऐसा करने में आराम महसूस होता है ।

रात में कुछ लड़कियां बिंदास होकर सोती है तो कुछ अलग अलग पोजिशन में सोती है । किसी को सीधा सोने में दिलचस्पी है तो किसी-किसी को उल्टा सोने में सुकुन मिलता है । चलिए आज हम आपको बताएंगे की 90 % लड़कियां रात में अपने किस अंग को पकड़ के सोती है , जिससे उनको नींद अच्छी आती है ।

लड़कियां ज्यादातर अपने दोनों हाथ अपने पैरों के बीच में रखती है
एक रिसर्च में ये मामला साफ हो चुका है कि अधिकतर लड़कियां जब रात को सोती हैं तो वो अपने दोनों हाथों को पैर के बीच दबा लेती है । ऐसा माना जाता है कि ऐसा करने से वो खुद को अच्छा महसूस कराती है । अकेले सोने का भय या थकान भी दूर हो जाती है । ऐसी पोजिशन अकसर करवट लेके ही कि जा सकती है । इनमें से 70 % लड़कियां अपने लेफ्ट में सोती है ।

बगल में तकिया लेकर हाथ में हाथ लेकर या गाल पर हाथ लगाकर सोना:
कुछ लड़कियां अपने बगल में तकिया लेके सोती है । अपने हाथों को दूसरे हाथ से दबाकर सोती है ,ऐसा सोने वालों की माने तो उन्हें नींद अच्छी आती है । वैसे देखा जाए तो एक तरफ एक ही करवट लेके सोने से शरीर में खून का प्रवाह भी बना रहता है और इससे दिमागी संतुलन भी बना रहता है ।

अपने दोनों पैरों को मोड़ लेना और घुटने को टच करना:
बहुत सारी लड़कियां अपने दोनों पैरों को मोड़ कर भी सोती है । हांलकि ये पोजिसन अकसर सेहत के लिए नुकसान देह है । इससे सुबह पैर भारी रहते हैं औऱ पैरों को सीधा करने में परेशानी भी होती है ।अगर भूलकर भी आपलोग करते है ऐसा काम तो हो जाएं सावधान ,ऐसा करने से नींद तो खराब होती ही है और शरीर पर भी बुरा प्रभाव पड़ता है ।

रात को सोते समय लडकियाँ ऐसे सोती है – हो गए ना हैरान सुनकर लेकिन ये सच है 90 % लड़कियां इसी तरह सोती है । और बची 10 % लड़कियों का कोई फिक्स पोजिशन नहीं है । क्योंकि जिसको जैसे नींद आती है वो वैसे ही सो जाती है । जो भी हो लेकिन इतना तो तय है कि नींद सेहत के लिए बहुत जरुरी है । इसलिए नींद के शौकिन बस ख्वाबों का मजा लें औऱ सेहत बनाए ।
शादी में हो रहा है विलम्ब तो कुंडली में हो सकते हैं ये दोष

शादी में हो रहा है विलम्ब तो कुंडली में हो सकते हैं ये दोष


किसी भी माता-पिता के लिए उसके बच्चों के विवाह में देरी होना बहुत ही चिंता का विषय होता है| समय पर शादी न होने के कई कारण हो सकते हैं जैसे-कुंडली दोष होना, मांगलिक दोष, ग्रहों का उल्ट होना या फिर कुंडली में पितृदोष होना| कारण चाहे जो भी हो ये आपकी या आपके किसी रिश्तेदार की शादी में इस प्रकार अड़चन पैदा करते हैं कि या तो कहीं  कोई रिश्ता नही आता और रिश्ता आ भी जाता है बात नही बन पाती| कई बार अपनी लड़की की शादी के लिए बहुत धक्के खाने के बाद भी योग्य वर या लड़के के  लिए योग्य कन्या नही मिल पाती | ज्योतिषाचार्य के अनुसार इनका कारण  अच्छे से निवारण करना आवश्यक है |
 

विवाह में देरी के कारण

मांगलिक दोष: शीघ्र विवाह के उपाय में मांगलिक दोष का समाधान होना आवश्यक होता है| यदि किसी जातक की कुंडली में मांगलिक दोष है तो शादी में देरी के लिए ये सबसे अहम कारण बनता है| इसके अलावा इस दोष के साथ यदि जातक का विवाह हो चुका है तो शादी में कलह की स्थिति बनी रहेगी इसलिए एक मांगलिक की शादी एक मांगलिक जातक से ही होनी चाहिए| इससे मांगलिक दोष का प्रभाव कम होता है

सप्तमेश का बलहीन होना: यदि जातक के सप्तम भाव का स्वामी दुष्ट ग्रहों से पीड़ित हो अथवा अपनी नीच राशि में स्थित हो तो वह बलहीन हो जाता है। इसके अलावा सप्तमेश 6, 8,12 भाव में स्थित होने पर कमज़ोर होता है और इसके प्रभाव से जातकों के विवाह में देरी होती है
 

बृहस्पति ग्रह का बलहीन होना: यदि कुंडली में बृहस्पति ग्रह दुष्ट ग्रहों से पीड़ित हो, सूर्य के प्रभाव में आकर अस्त हो अथवा अपनी नीच राशि मकर में स्थित हो तो वह बलहीन हो जाएगा और इससे जातक को शादी-विवाह में दिक़्क़त का सामना करना पड़ेगा

शुक्र का नीच होना: यदि जातक की कुंडली में शुक्र ग्रह कमज़ोर होता है तो उसके जीवन में कोई भी काम पूरा नहीं हो पाता है और इसलिए जातक को अपने विवाह में बाधाओं का सामना करना पड़ता है

नवांश कुंडली में दोष: जन्म कुंडली के नौवें अंश को नवांश कुंडली कहते हैं। ज्योतिष शास्त्र के अनुसार इस कुंडली से जातक के जीवन साथी के बारे में सटीक अनुमान लगाया जा सकता है इसलिए यदि जातक की इस नवांश कुंडली में दोष हो तो जातक के विवाह में बाधाएँ उत्पन्न होंगी
 

विवाह बाधा निवारण प्रयोग

बृहस्पति को देवताओं का गुरु माना जाता है इनकी पूजा से विवाह के मार्ग में आ रही सभी अड़चनें स्वत: ही समाप्त हो जाती हैं। इनकी पूजा के लिए गुरुवार का विशेष महत्व है|

गुरुवार को बृहस्पति देव को प्रसन्न करने के लिए पीले रंग की वस्तुएं चढ़ानी चाहिए| पीले रंग की वस्तुएं जैसे हल्दी, पीला फल, पीले रंग का वस्त्र, पीले फूल, केला, चने की दाल आदि इसी तरह की वस्तुएं गुरु ग्रह को चढ़ानी चाहिए| साथ ही शीघ्र विवाह की इच्छा रखने वाले युवाओं को गुरुवार के दिन व्रत रखना चाहिए
 

एक लड़की की शादी के मामले में देरी हो रही है, तो उसकी शादी वार्ता के दौरान शुक्रवार को सफेद और गुरुवार को पीले कपड़े पहनने के लिए दे तो यह शादी की बात बनने के लिए बेहतर है। 4 सप्ताह के लिए यह करें तो निश्चित रूप से अच्छा प्रस्ताव मिल जाएगा।

नहाने के पानी में हल्दी की एक चुटकी मिला कर स्नान करें।  यह उपाय विवाह योग्य आयु प्राप्त लोगों की जल्दी शादी में मदद करता है

लड़कियां योग्य वर की प्राप्ति के लिए सोलह सोमवार का व्रत करें| भगवान शिव को बेलपत्र या भांग के पत्ते व कच्चा दूध चढ़ाएं

किसी भी रिश्तेदार की शादी में जाएँ तो वहां मेहंदी की रस्म में ज़रूर भाग लें (खासकर लड़कियों के लिए) दुल्हन को थोड़ी मेहँदी अपने हाथों से लगायें व दुल्हन की बची मेहँदी में से कुछ अपने हाथों में लगायें| यह कन्याओं के लिए शुभ होता है


गुरुवार, 3 मई 2018

जानिए आखिर क्यों अपने पति से छिपाकर ये काम करती हैं पत्नियां! जानकर उड़ जाएगें होश

जानिए आखिर क्यों अपने पति से छिपाकर ये काम करती हैं पत्नियां! जानकर उड़ जाएगें होश


शादीशुदा ज़िन्दगी में मिठास बनाए रखने के लिए उसमें कभी-कभी रोमांस का तड़का लगाना बेहद जरुरी है. जितने भी दिन शादीशुदा जोड़ों में रोमांस रहता है उतने दिन उनके रिश्ते में कोई भी दिक्कत नहीं आती, लेकिन जैसे ही उनके बीच रोमांस खत्म हो जाता है तब उनके रिश्ते में परेशानियां आनी शुरू हो जाती है, लेकिन एक रिसर्च अनुसार हम आपको बता दें कि इसी रोमांस के बीच पत्नी की कुछ ऐसी बातें हैं जो कि अपने पति से हमेशा छिपाकर रखती है, वजह जानकर चोक जाएगें आप..

दरअसल आपको बात दें कि अधिकतर महिलाये अपने पति से कुछ ना कुछ बात छिपाकर रखती है उन्ही में से कुछ ऐसी बातें जो कि ना बताने से पति पत्नी के रिश्तों में दरार पड़न लगती है.इसीलिए हर एक शादीशुदी पुरुष को ध्यान रखा चाहिए कि अगर आपकी पत्नी आजकल चुपचाप रहती हैं तो जरुर वह आपसे कुछ बात छिपा रही है.

महिलाएं ज्यादतार अपने निजी अंगो से जुड़ी बिमारी के बारे में छुपाना पसंद करती हैं.. साथ ही वह अपने पति से शारीरक सबंध से संबंधित कोई भी बाते खुलकर बोल नहीं पाती हैं, यदि उनको कोई समस्या भी है तो वह पति की वजाह अपनी सहेली को बताना  पसंद करती हैं.बहुत बार ऐसा भी होता है  कि वह अपनी बात को छुपाने के लिए अपने पति से झुठ तक बोल देती है, जिससे उनके रिश्ते खटास हो सकती है.

महिलाएं वैवाहिक जीवन के विभिन्न पड़ावों पर अपने पति से न चाहते हुए भी काई बातों को छिपाने के लिए झूठ बाेलती हैं,सभी पत्नियों की सबसे बुरी बात होती है कि वह अपनी छोटी-मोटी परेशानियों नजरअंदाज कर देती हैं, और फिर आगे बड़ी समस्या होने का डर रहता है.

वहीं अगर पत्नी का शारीरक संबध बनाने का मन भी होता है, तो वह अपने पति से इस बात को भी कहने से शर्माती है, लेकिन पुरुषों में ऐसा नहीं होता है. ज्यदातर सभी महिलाओं  को कुछ ना कुछ बाजार से खरीदना पसंद होता है लेकिन वह इस बात को भी पति से छिपाती है, है कि वह बाजार से क्या खरीदकर लाई हैं, इसके अलावा भी पत्नियां बच्चों की कमियों को भी पति को बताना पसंद नहीं करती हैं, ताकि घर का माहौल खराब ना हो.

क्या आपके मोबाइल नंबर में भी है ये शुभ अंक तो बन सकते हैं करोड़ो के मालिक

क्या आपके मोबाइल नंबर में भी है ये शुभ अंक तो बन सकते हैं करोड़ो के मालिक


आज के समय के दो बड़े सच अगर हम आपको बताएं तो पहला तो ये होगा कि हम सबके पास आज मोबाइल होता है. दूसरा ये कि चाहे हम कितने भी मॉडर्न हो गए हों लेकिन आज भी हम में से कई ऐसे लोग ज़रूर होते हैं जो शास्त्र, अंक ज्योतिष में बहुत विश्वास रखते हैं. ऐसे में आज हम आपको आपके मोबाइल नंबर और अंक शास्त्र से जुड़ी एक ऐसी खबर बताने जा रहे हैं जो जानना आपके लिए बेहद ज़रूरी है. हमारी आज की इस खबर में हम आपको बतायेंगे कि आपकी राशि के अनुसार अगर आपके फोन नंबर में ये अंक है तो ये आपके लिए काफी लाभदायक होता है.

तो आइये आपको बताते हैं कि आपकी राशि और आपके मोबाइल नंबर का वो अनोखा मेल.


मेष राशि : मेष राशिके जातकों के लिए अंक 4 और अंक 7 बेहद लकी माना जाता है. ऐसे में उनके लिए इन्ही अंको के योगांक का मोबाइल नंबर लेना लाभदायक होता है.

वृषभ राशि : वृषभ राशि के जातकों का लकी नंबर माना जाता है 5 और 8. ऐसे में उन्हें इन अंकों का योगंक का नंबर लेना चाहिए.

मिथुन राशि : मिथुन राशिके जातकों के लिए अंक 6 और 9 अंक शुभ होते हैं. ऐसे में इन्हें इसी योगांक का नंबर लेना चाहिए.

कर्क राशि : कर्क राशि के जातकों के लिए अंक  8 और 9 अंक शुभ होते हैं. ऐसे में इन्हें इसी योगांक का नंबर लेना चाहिए.

सिंह राशि : सिंह  राशि के जातकों के लिए अंक 2 और 4 अंक शुभ होते हैं. ऐसे में इन्हें इसी योगांक का नंबर लेना चाहिए.

कन्या राशि : कन्या राशि के जातकों के लिए अंक 5 और 8 अंक शुभ होते हैं. ऐसे में इन्हें इसी योगांक का नंबर लेना चाहिए.

तुला राशि : तुला राशि के जातकों के लिए अंक 7 और 1 अंक शुभ होते हैं. ऐसे में इन्हें इसी योगांक का नंबर लेना चाहिए.

वृश्चिक राशि : वृश्चिक राशि के जातकों के लिए अंक 4 और 5 अंक शुभ होते हैं. ऐसे में इन्हें इसी योगांक का नंबर लेना चाहिए.

धनु राशि : धनु राशि के जातकों के लिए अंक 9 और 8 अंक शुभ होते हैं. ऐसे में इन्हें इसी योगांक का नंबर लेना चाहिए.

मकर राशि: मकर राशि के जातकों के लिए अंक 4 और 9 अंक शुभ होते हैं. ऐसे में इन्हें इसी योगांक का नंबर लेना चाहिए.

कुंभ राशि : कुम्भ राशि के जातकों के लिए अंक 2 और 7 अंक शुभ होते हैं. ऐसे में इन्हें इसी योगांक का नंबर लेना चाहिए.

मीन राशि : मीन राशि के जातकों के लिए अंक 6 और 8 अंक शुभ होते हैं. ऐसे में इन्हें इसी योगांक का नंबर लेना चाहिए.
अपने दरवाजे पर रोज सुबह छिड़क दें ये पानी, मिलेंगे फ़ायदे

अपने दरवाजे पर रोज सुबह छिड़क दें ये पानी, मिलेंगे फ़ायदे


सभी देवी-देवताओं की पूजा में दीपक के साथ ही कर्पूर से भी आरती करने की परंपरा है। कर्पूर जलाने से निकलने वाला धुआं नकारात्मकता दूर करता है वातावरण को पवित्र बनाता है। ज्योतिष में कर्पूर के कुछ उपाय भी बताए गए हैं, जिनसे धन की कमी भी दूर हो सकती है। यहां जानिए उज्जैन के ज्योतिषाचार्य पं. मनीष शर्मा के अनुसार कर्पूर के कुछ खास उपाय…

उपाय- 1
रोज सुबह गंगा जल में या साफ जल में कर्पूर मिलाएं और मेन गेट पर छिड़कें। इस उपाय से घर में नकारात्मकता प्रवेश नहीं करती है। किसी की बुरी नजर नहीं लगती है।

उपाय- 2
रोज सूर्यास्त के समय कर्पूर जलाएं और पूरे घर में घुमाएं। तुलसी के पास भी कर्पूर जलाएं, आरती करें। घर के मंदिर में भी कर्पूर जलाएं। इस उपाय लक्ष्मी की कृपा प्राप्त हो सकती है।

उपाय- 3
रोज शाम को बेडरुम में कर्पूर जलाने से स्वास्थ्य संबंधी लाभ प्राप्त होते हैं। पति-पत्नी के बीच प्रेम बना रहता है।

उपाय- 4
बुधवार को घी, कर्पूर और मिश्री का दान करें। इस उपाय से भी निकट भविष्य में शुभ फल प्राप्त हो सकते हैं।

उपाय- 5
देवी-देवताओं की पूजा करते समय कर्पूर से आरती अवश्य करें। इस उपाय से पूजा भगवान की प्रसन्नता मिलती है।

आप यहां बताए गए कर्पूर के पांचों उपाय कर सकते हैं या कोई एक उपाय भी नियमित रूप से करते रहने से सकारात्मक फल मिल सकते हैं। मान्यता है कि कर्पूर घर में अवश्य रखना चाहिए, इससे घर के वास्तु दोष भी दूर हो सकते हैं।

सुबह उठते ही करेंगे ये काम तो आप भी बन जाएंगे भाग्यशाली

सुबह उठते ही करेंगे ये काम तो आप भी बन जाएंगे भाग्यशाली


शास्त्रों में इंसान को खुश रहने के लिए बहुत से उपाय बताये गये हैं लेकिन आजकल की भागदौड़ भरी जिंदगी में लोग इस उपाय को नहीं कर पाते. हिन्दू धर्म में कहा जाता है कि इन्सान को सुबह नहाकर पूजा पाठ करनी चाहिए.

शास्त्रों में भी बताया गया है कि किसी भी मंत्र के जप करने से पहलेस्त्री हो या पुरुष सभी का मन के साथ तन का शुद्ध होना बहुत जरुरी है. आजकल की बिजी लाइफ में लोग सुबह पूजा पाठ तो कर लेते है लेकिन किसी भी मंत्र का जाप नहीं कर पाते.

ऐसा इसलिए होता है क्योंकि ऑफिस जाने वाले लोगो के पास सुबह नहाने के बाद ज्यादा समय नहीं होता. आज हम आपको एक ऐसे मंत्र के बारे में बता रहे हैं जिसे आप बिना नहाए भी कर सकते हैं.

आज जो मंत्र हम आपको बता रहे हैं उसका जप आप सुबह उठकर अपने बिस्तर पर ही कर सकते हैं. इस मंत्र का जप आप आप बिना नहाए कर सकते हैं. चलिए आपको बताते हैं आपको किस मंत्र का जप करना है. इस मंत्र के जप करने से आपका भाग्य आपका साथ देगा और घर परिवार में सुख शांति रहेगी.

मंत्र-
ब्रह्मा मुरारिस्त्रिपुरान्तकारी भानुः शशी भूमिसुतो बुधश्च।
गुरुश्च शुक्रः शनि राहुकेतवः कुर्वन्तु सर्वे ममसुप्रभातम्॥

इस मंत्र का अर्थ यह है कि ब्रह्मा, विष्णु, शिव, सूर्य, चंद्र, मंगल, बुध, बृहस्पति, शुक्र, शनि, राहु और केतु ये सभी मेरे प्रातःकाल यानी सुबह को मंगलमय बनाएं. इसे जपने से नौ ग्रहों की कृपा मिलती है.

इसके अलावा, हमारे हाथों के अग्रभाग में देवी लक्ष्मी, मध्य में सरस्वती और हाथ के मूलभाग में भगवान विष्णु का वास है. इसलिए सुबह जागते ही अपनी दोनों हथेलियों को देखकर मंत्र का पाठ करना चाहिए-

कराग्रे वसते लक्ष्मीः करमध्ये सरस्वती।
करमूले तू गोविंद: प्रभाते करदर्शनम्॥

जानिये शारीरिक संबंध बनाने के बाद क्यों जरुरी होता है पेशाब करना !!

जानिये शारीरिक संबंध बनाने के बाद क्यों जरुरी होता है पेशाब करना !!


पति और पत्नी के रिश्ते में और ज्यादा मजबूती लाने के लिए यौन संबंध बनाना बहुत ज्यादा जरुरी है. आजकल बिजी होने की वजह से बहुत से लोग अपनी पार्टनर को उतना समय नहीं दें पाते जितना उन्हें देना चाहिए. ये बात तो सभी को अच्छी तरह से ही पता है कि किसी भी रिश्ते में तभी मजबूती आती हैं जब आप अपने पार्टनर को पूरी तरह से अपना समय देते हैं. आपको अपने पार्टनर को भावनात्मक और शारीरिक दोनों ही तरह से समय देना चाहिए.

इसके लिए बहुत ज्यादा जरुरी है कि कपल्‍स अपनी सेक्स लाइफ को अच्छी बनाने के आलावा शारीरिक संबंध बनाने की प्रक्रिया को भी साफ सुथरा बनाए, जिससे आगे जाकर दोनों में से किसी को भी कोई दिक्कत ना हो, क्योंकि बहुत बार  उत्सुकता में शारीरिक संबंध बनाने के दौरान लोग साफ-सफाई पर बिलकुल भी ध्यान नहीं दे पाते, जिसकी वजह से आने वाले भविष्य में उनके स्वस्थ पर बुरा असर पड़ता है. आज हम आपको कुछ ऐसी बातें बताने जा रहे हैं जो बातें आपको यौन संबंध बनाते समय जरुर ध्यान में रखनी चाहिए.

व्यक्ति के जीवन में शारीरिक संबंध बनाना जितना ज्यादा जरुरी है उतना ही जरुरी है शारीरिक संबंध बनाते समय अपने प्राइवेट पार्ट का ध्यान रखना. अगर आप यौन संबंध बनाते समय अपने प्राइवेट पार्ट को साफ नहीं रखते तो इससे आने वाले समय में आपके पार्टनर को बहुत ज्यादा परेशानी हो सकती है, क्योंकि व्यक्ति के प्राइवेट पार्ट बहुत ज्यादा संवेदनशील होते हैं इसलिए इनका ख्याल रखना बेहद जरुरी है.

जब भी आप किसी से यौन संबंध बनाए तो उसके एकदम बाद अपने गुप्तांगों को अच्छी तरह से धो लें. ऐसा करने से आपके और अपने पार्टनर के शरीर में संक्रमण की संभावना बहुत कम हो जाती हैं.

बहुत बार देखा गया है कि यौन संबंध बनाने के बाद स्त्रियों को पेशाब में संक्रमण की शिकायत हो जाती हैं, जो उनके पार्टनर के शरीर से ट्रांसमिट होती हैं, क्योंकि जैसे की आप सभी जानते हैं कि पुरुषों में शुक्राणु और पेशाब करने का एक ही रास्ता होता है. जिससे अगर उनके पेशाब में किसी भी तरह का कोई संक्रमण होता है तो ये संक्रमण यौन संबंध बनाने के समय महिला के अंदर चला जाता है. इसके उल्टे महिलाओं में पेशाब करने और प्रजनन दोनों का रास्ता अलग-अलग होता है जिसकी वजह से पुरुष को संक्रमण होने का खतरा बहुत कम होता है.

इसलिए कहा जाता है कि जब भी किसी के साथ शारीरिक संबंध बनाये तो संबंध बनाने के बाद पुरुष और महिला दोनों को ही पेशाब करना चाहिए. ऐसा करने से गुप्तांगो में संभोग के समय गए संक्रमण को गर्भाशय तक पहुंचने से रोकने में मदद मिलती है.

बुधवार, 2 मई 2018

मुस्लिम लोग आख़िर बैठकर पेशाब क्यों करते हैं,यह जानना सबके लिए जरुरी है.

मुस्लिम लोग आख़िर बैठकर पेशाब क्यों करते हैं,यह जानना सबके लिए जरुरी है.


हम आपको बताएंगे कि मुस्लिम लोग बैठकर पेशाब क्यों करते हैं ? बहुत से लोगों को इसका सही कारण नहीं पता है। कईयों को तो इस बारे में गलत जानकारी दी गई है। इसी कन्फ्यूजन को दूर करने के लिए आज पूरी रिसर्च के बाद हमारी टीम यह पोस्ट तैयार किया है। तो आइए, जान लेते हैं सही बात क्या है। इसके मुख्य दो कारण हैं

पहला कारण
इस्लाम धर्म में पेशाब को अशुद्ध माना गया है। अगर इसका एक बूंद भी कपड़े पर गिर जाता है तो वह कपड़ा अशुद्ध हो जाता है और उस कपड़े में मुस्लिम भाई नमाज और धार्मिक किताब कुरान भी नहीं पढ़ सकते। पानी से धो लेने पर वह कपड़ा शुद्ध हो जाता है। पर बैठ कर पेशाब करने से पेशाब ज्यादा नहीं झलकता जिस कारण कपड़ा अशुद्ध होने से बच जाता है।

दूसरा कारण
इस्लाम धर्म में अपने प्राइवेट हिस्सों को एक्सपोज़ करना पाप माना जाता है। इसलिए इसका पर्दा करना बहुत जरूरी होता है। जब एक इंसान बैठकर पेशाब करता है तो उसका प्राइवेट हिस्सा छिपा रहता है। इसीलिए मुसलमान भाइ बैठ कर पेशाब किया करते हैं।

डॉक्टर के अनुसार क्या सही है ?
स्वास्थ्य के नजरिए से देखा जाए तो बैठकर पेशाब करना ही सही होगा। क्योंकि डॉक्टर्स बतलाते हैं कि, जब हम खड़े होकर पेशाब करते हैं, तो उस समय मूत्राशय पूरी तरह से खाली नहीं हो पाता। जिस कारण मूत्राशय में कुछ मूत्र बच जाता है और वह फिर वापस किडनी की ओर चला जाता है। जिससे इन्फेक्शन और किडनी संबंधित रोग होने का खतरा रहता है।

मंगलवार, 1 मई 2018

ये 4 राशियों वाले लोग होते हैं सबसे ताकतवर, नहीं करते किसी के सामने झुकना पसंद

ये 4 राशियों वाले लोग होते हैं सबसे ताकतवर, नहीं करते किसी के सामने झुकना पसंद


ज्योतिष शास्त्र के अनुसार कुल 12 राशियां बताई गई है और यह सभी राशियां अपने आप में अलग अलग ही महत्व रखती हैं इसी वजह से यह सभी राशियां एक दूसरे से अलग होती है इन 12 राशियों में से किसी राशि के व्यक्ति अधिक बुद्धिमान होते हैं तो किसी राशि के व्यक्ति मेहनती होते हैं इसी प्रकार से बहुत से गुण हैं जो इन सभी राशियों को अलग अलग करती है इन सभी राशियों का स्वभाव भी अलग अलग ही देखने को मिलता है कोई स्वभाव से बहुत शांत होता है तो कोई स्वभाव से क्रोधित होता है आज हम आपको इस लेख के माध्यम से उन 4 राशियों के बारे में जानकारी बताने जा रहे हैं जो दुनिया की सबसे प्रभावशाली राशियों में मानी जाती है यह राशियां अपने बलबूते पर, ऊर्जा नेतृत्व और शक्ति में सबसे आगे मानी गई है इन राशियों को चुनौती देना बहुत ही जोखिम भरा काम हो सकता है।

आइए जानते हैं यह 4 राशियां कौन सी है

मेष राशि
मेष राशि वाले व्यक्ति ऊर्जा से भरपूर होते हैं और यह किसी से भी नहीं डरते हैं निडरता में इस राशि के व्यक्ति सबसे आगे माने जाते हैं इनकी इस खासियत को जब देखा जा सकता है जब यह किसी विपत्ति में होते हैं और यह उस विपत्ति से सबसे प्रभावशाली तरीके से बाहर निकलते हैं इनको मुसीबतों से बाहर निकलना बहुत अच्छे तरीके से आता है इस राशि के व्यक्ति किसी के आगे झुकना पसंद नहीं करते हैं इनके इन्हीं सब गुणों की वजह से यह अन्य व्यक्तियों से अलग होते हैं इस राशि वाले व्यक्तियों से अन्य व्यक्ति भी अच्छे तरीके से पेश आते हैं।

वृश्चिक राशि
वृश्चिक राशि वाले व्यक्ति बहुत ही परिश्रमी और प्रभावशाली व्यक्तित्व के स्वामी माने गए हैं इस राशि वाले व्यक्तियों में इमानदारी इनकी सबसे बड़ी प्रमुखता होती है यह बहुत ही ईमानदार होते हैं और यह अन्य व्यक्तियों से भी यही अपेक्षा करते हैं परंतु यदि इस राशि वाले व्यक्तियों के साथ किसी प्रकार का कोई धोखा या दुश्मनी ली जाए तो इस राशि वाले व्यक्तियों से बचना बहुत ही कठिन काम हो जाता है।

कुंभ राशि
कुंभ राशि वाले व्यक्तियों की सबसे बड़ी खास बात इनका व्यक्तित्व होता है इस राशि वाले व्यक्ति कभी भी भावनाओं में बह कर कोई फैसला नहीं लेते है इनकी इच्छा शक्ति बहुत ही मजबूत होती है यदि कुंभ राशि वाले व्यक्तियों के अंदर जिद होती है तो इनके अंदर आत्मविश्वास भी कूट कूट कर भरा होता है यदि किसी काम को अंजाम देना इनकी बुद्धिमता का रिजल्ट होता है इन्हीं सब वजह से लोग इनसे डरते हैं क्योंकि इस राशि वाले व्यक्ति बहुत ही मजबूत इरादे वाले होते हैं और उनका आत्मविश्वास भी बहुत ऊंचा होता है।

मकर राशि
मकर राशि वाले व्यक्ति किसी भी क्षेत्र में अपने मजबूत आत्मविश्वास और अपने मजबूत इरादों से आगे बढ़ते हैं इस राशि वाले व्यक्तियों से अच्छा और बेहतर कोई भी नहीं कर सकता है इनको किसी भी समस्याओं से निपटना बहुत ही अच्छी तरीके से आता हैं इनमे अपने आपको एक अलग ही तरीके और एक अनोखे प्रकार से पेश करने की खासियत होती है इस राशि वाले व्यक्तियों की चुनौतियों को पार करना हर किसी के बस की बात नहीं होती है।

नोट:- यदि आपको हमारे द्वारा दी गई जानकारी अच्छी लगी तो आप नीचे दिए हुए कमेंट बॉक्स में हमको कमेंट कर सकते हैं और इस पोस्ट को अपने मित्रों के बीच शेयर भी कर सकते हैं हम आगे भी आपकी राशियों से जुड़ी हुई जानकारियां लेख के माध्यम से लाते रहेंगे धन्यवाद।

रविवार, 29 अप्रैल 2018

अगली बार हस्तमैथुन करने से पहले ये बातें जान लें, लड़के और लड़कियों दोनों को पता होनी चाहिए ये बातें

अगली बार हस्तमैथुन करने से पहले ये बातें जान लें, लड़के और लड़कियों दोनों को पता होनी चाहिए ये बातें


हस्तमैथुन, एक ऐसा शब्द जिसके बारे में समाज में अलग-अलग तरह की बातें फैली हुई हैं, कुछ बातें सही हैं तो कुछ वाहियात और बेबुनियाद. समाज का एक तबका है जो हस्तमैथुन को गलत मानता है तो वहीँ एक दूसरा तबका ऐसा भी है जिसके लिए हस्तमैथुन उतना ही आम है जितना खाना-पीना और सोना. यकीन मानिये उस दूसरे तबके की बात पर अब तो वैज्ञानिकों ने भी मुहर लगा दी है. जी हाँ अगर अप भी हस्तमैथुन को लेकर कोई गलत धारणा रखते हैं तो उसे भूल जाइये, क्योंकि ये क्रिया बेहद ही आम और सामान्य है.

क्या होता है हस्तमैथुन?

सरल और सटीक शब्दों में समझाएं तो जब भी कोई इंसान अपने प्राइवेट पार्ट्स को छूता है तो उसे हस्तमैथुन कहते हैं. हर इंसान का हस्तमैथुन करने का तरीका अलग होता है. बता दें कि हस्तमैथुन के वक़्त एक इंसान अपने दिमाग में कुछ हसीन बातें सोचता है और उसकी कल्पना में खुद को चरम सुख देता है.

क्या हस्तमैथुन गलत है?

अब सवाल ये उठता है कि क्या हस्तमैथुन गलत है? तो इसका जवाब है बिलकुल भी नहीं. आखिर खुद को छूना और खुद को सुख देना भला कैसे गलत हो सकता है? हां लेकिन कुछ लोग बेशक इसे गलत मानते हैं, लेकिन हस्तमैथुन में किसी तरह की कोई बुरी, कोई गलती नहीं होती है. हस्तमैथुन एक बेहद ही निजी मामला है बस यहाँ इस बात का ध्यान रखने की ज़रूरत है कि हस्तमैथुन सार्वजनिक जगह पर करना गलत है.

जानकारी के लिए बताएं तो इसे लड़के और लड़कियां दोनों ही करते हैं. लड़कों में 17 साल की उम्र के बाद इसे करने की इच्छा बढ़ने लगती है.हालांकि कुछ लोग ऐसे भी हैं जो इसे नहीं करते हैं, इसमें गलत सही की बात नहीं है बस ये उनकी निजी राय होती है.

कई लोग ये मानते हैं कि इस क्रिया को करने से आपका शारीरिक विकास रुक जाता है या फिर, आपके शरीर की बनावट बिगड़ जाती है. या कई मामलों में तो आँखों के नीचे काले घेरे तक पड़ जाते हैं, लेकिन अगर आप भी इनमें से किसी भी बात को सही मानते हैं तो हम आपको बता दें कि ये सब गलत हैं. हस्तमैथुन से ऐसा कुछ नहीं होता है.

सच्चाई बताएं तो इसे करने से आपके तनाव कम होते हैं और शरीर में खुश करने वाले हार्मोन इंडॉरफिंस रिलीज होते हैं, जो आपको रिलैक्स करते हैं. सिर्फ इतना ही नहीं ऐसा करने से आपको सोने में मदद मिलती है और साथ ही इससे आपके निजी अंग भी सक्रिय रहते हैं.

क्या हस्तमैथुन के लिए सेक्स टॉयज सही विकल्प है?

लड़कियों के मामले में देखा गया है कि वो अक्सर हस्तमैथुन के लिए सेक्स टॉयज का इस्तेमाल करती हैं ऐसे में सवाल ये है कि क्या ये सही विकल्प है या नहीं तो इसका जवाब ये है कि ऐसा करना तब तक सुरक्षित है जब तक आपको किसी तरह का कष्ट न हो. इस बात का ख्याल रखना चाहिए कि वस्तु को आप ठीक से पकड़ें ताकि ये अंदर न रह जाए. इस बात का भी ख्याल रखना चाहिए कि अंदर जाने वाला वस्तु बैक्टेरिया रहित हो.

मई के महीने में इन 4 राशि वाले लोगों की चमकने वाली है किस्मत, इतना आएगा पैसा कि संभाल नहीं पाओगे

मई के महीने में इन 4 राशि वाले लोगों की चमकने वाली है किस्मत, इतना आएगा पैसा कि संभाल नहीं पाओगे


इंसान के जीवन में उसकी राशि और ग्रहों की चाल का बहुत महत्व होता है. ग्रहों की चाल से इंसान के जीवन पर बहुत असर पड़ता है. किसी भी ग्रह में कोई परिवर्तन होता है उसका सीधा असर व्यक्ति के जीवन पर पड़ता है. राशि में किसी भी ग्रह के प्रवेश करने से कोई न कोई संकेत जरुर मिलता है. ज्योतिष शास्त्रों के अनुसार मई के महीने में 4 राशि वालों की किस्मत चमकने वाली है. इन राशि वाले लोगों पर होगी धन की वर्षा. इन्हें मई के महीने में करोड़पति बनने से कोई नहीं रोक सकता. मई के महीने में 4 राशि वाले लोग बहुत भाग्यशाली रहने वाले हैं. चलिए जानते हैं कौनसी हैं वो 4 खुशनसीब राशि वाले लोग जिनकी मई के महीने में लॉटरी लगने वाली है.

इन 4 राशि वाले लोगों की चमकने वली है किस्मत

वृषभ राशि : 

ग्रहों के इस परिवर्तन से वृषभ राशि वाले लोगों की आर्थिक स्थिति अच्छी होगी. इस राशि कें लोगों को धन का अधिक लाभ होगा. कारोबार में प्रगति होने के योग हैं. मई का महीना इस राशि वाले लोगों के लिए शुभ साबित होगा.

कर्क राशि : 

कर्क राशि वाले लोगों के लिए ये समय अच्छा रहने वाला है. इस राशि के लोगों को धन की अधिक प्राप्ति होने वाली है. नौकरी वालों के लिए ये समय शुभ साबित होगा. मई के महीने में आपको पैसों की कमी नहीं होगी.

मकर राशि : 

मकर राशि वाल लोगों के परिवार में खुशियाँ आयेंगी. परिवार वालों से सम्बन्ध अच्छे होंगे. दोस्तों से मिलने का मौका मिलेगा. इस राशि के जातक वैवाहिक बंधन में बंध सकते हैं.

मीन राशि : 

मीन राशि के लोगों को सुख शांति मिलेगी. घर का माहौल अच्छा रहेगा. इन लोगों के घर धन की वर्षा होने वाली है. छात्रों के लिए ये समय सफलता का है. इस राशि के के लोग नया बिजनेस शुरू कर सकते हैं.

शनिवार, 28 अप्रैल 2018

जानिये शरीर के ये अंग खोल देते हैं महिलाओं के सारे राज

जानिये शरीर के ये अंग खोल देते हैं महिलाओं के सारे राज


ये कहावत तो सबसे सुनी ही होगी कि महिलाओं को कोई नहीं पहचान सकता. ऐसा कहा जाता है कि महिलाओं को पहचानना मुश्किल ही नहीं नामुमकिन होता है.  वैसे आपको एक बात बता दें कि महिलाओं को जानना ज्यादा मुश्किल काम नहीं है. महिलाओं को समझने के लिए ज्यादा दिमाग लगाने की जरुरत नहीं होती. आपकी जानकारी के लिए बता दें कि उनके सारे राज खुद उनके शरीर के अंग खोल देते हैं. आपको बता दें महिलाओं के शरीर के तीन अंग उनके बारे में बहुत कुछ बताते हैं. अगर आप भी किसी  महिला के स्वभाव के बारे में जानना चाहते हैं तो उनके इन तीन अंगों पर ध्यान जरुर दें.

ये 3 अंग खोल देते हैं महिलाओं के सारे राज

ठोड़ी पर डिम्पल

ऐसा माना जाता है कि जिन महिलाओं की ठोड़ी पर डिंपल होता हैं वो बहुत खुशमिजाज़ और वफादार स्वभाव की होती है. ऐसी महिलाएं काफी दयालु स्वभाव की भी होती हैं. आपको बता दें जिन महिलाओं की ठोड़ी गोल होती है वो भाग्यवान होती हैं. लंबी ठोड़ी वाली महिलाएं सांसारिक सुखों की तरफ जल्दी आकर्षित हो जाती हैं इसलिए उनकी गिनती चरित्रहीन महिलाओं में की जाती है.

होंठ

महिलाओं के होंठ उनके चेहरे का सबसे आकर्षित अंग होता है. आप महिलाओं के होंठ देखकर उनके स्वभाव के बारे में पता लगा सकते हैं. आपकी जानकारी के लिए बता दें जिन महिलाओं के होंठ   लाल, पतले, चिकने और अच्छी शेप वाले  होते हैं उनका स्वभाव बेहद सेक्सी होता है और अपने पति का बहुत प्यार पाती हैं. ऐसी महिलाओं की शादीशुदा लाइफ काफी अच्छी होती है.

भौहें

जिन महिलाओं की भौहें धनुष आकार वाली होती हैं  वो सुन्दर और चरित्रवान होती हैं. इसके विपरीत अगर किसी महिला की भौहें सीधी लंबी और मोटी होती हैं उन्हें अच्छा नहीं माना जाता.

गुरुवार, 26 अप्रैल 2018

जोरू के गुलाम होते हैं इन अक्षरों के नाम वाले पति, जानिए कहीं आपका नाम भी तो नही

जोरू के गुलाम होते हैं इन अक्षरों के नाम वाले पति, जानिए कहीं आपका नाम भी तो नही


कोई भी पुरुष अगर समझदार न हो तो पारिवारिक हालत बिगड़ने में टाइम नहीं लगता, वहीं अगर पति जिम्मेदार और मेहनती ना हो तो दुनियादारी नहीं निभती । साथ ही दोनों का आपसी मेल भी होना बेहद जरूरी है, ऐसे में इनके बीच परस्पर प्यार और समर्पण की भावना देख कुछ लोग भलें ही पति को जोरू का गुलाम कह सकते हैं पर वास्तव में ये इस रिश्ते को चलाने की ये एक कला भी हैं, जिसमें कुछ ही लोग माहिर होते हैं और आज हम आपको ऐसे ही लोगों के बारे में बताने जा रहे हैं।

वैसे हर लड़की की चाहत होती है कि शादी के बाद उसका पति उसकी बात सुनें और उस अमल करें, पर हकीकत में किसी को कैसा जीवनसाथी मिलता है इसकी कोई गारंटी नहीं है। हालांकि कुछ पत्नियां अपने पति को कंट्रोल करके अपनी बात मनवा लेते हैं, वहीं कुछ पति खुद ही पत्नी की हर इच्छा पर जानिसार कर देते हैं।

वैसे एक ट्रिक है जिससे ये जाना जा सकता है कि आपके भावी पति देव आप पर कितना मेहरबान रहने वाले हैं, जी हां, आप पति के नाम से ये जान सकते हैं कि वो आपकी सुनेगें की नहीं। तो चलिए जानते हैं ऐसे नाम वाले पतियों के बारे में, जो शादी के बाद अपनी पत्नी को सिर-आंखों पर बिठाते हैं.. अपनी बीवी पर जानिसार करने वालों में A नाम के पुरूष सबसे आगे हैं।

A नाम के
दरअसल जिन पुरषों का नाम A से शुरू होता है, वे अपनी बीवी के हर तकलीफ और सुख-दुख को अपना मान कर चलते हैं और इनका केयरिंग नेचर ही इन्हें बीवी का गुलाम बनाता है । ऐसे में ये किसी दबाव में नहीं बल्कि अपने मन की खुशी के लिए बीवी की हर बात मानते हैं और उन्हें कोई तकलीफ नहीं देना चाहते हैं।

K नाम के
वैसे दिन पुरूषों का नाम K से शुरू होता है वो काफी जिद्दी स्वभाव के होते हैं, पर वहीं शादी के बाद ये अपनी पत्नी के कंट्रोल में रहते हैं और अपने बीवी के लिए कुछ भी करने को तैयार हो जाते हैं। वैसे शादी से पहले तो K नाम के पुरूष बहुत रौब दिखाते हैं पर शादी के बाद इनका व्यवहार पूरी तरह से बदल जाता है और पत्नी के लिए समर्पित हो जाते हैं।

R नाम के
वहीं R नाम के पुरूष दिल के बड़े साफ होते हैं और अपनी बीवी को खुश रखने के लिए हर सम्भव कोशिश करते हैं। यहां तक कि शादी के ये लोग अपनी पत्नी से कुछ काम करवाना नहीं चाहते .. ऐसे में जॉब से थक कर आने के बाद भी ये अपनी पत्नी के लिए कुछ ना काम कुछ जरूर करते हैं।

P नाम के
इनका सहयोगी रवैया ही दूसरों की नजरों में इन्हे पत्नी का गुलाम बना देता है। वहीं P अक्षर के नाम वाले पुरूष अपने वैवाहिक जीवन को काफी समझदारी और दिमाग से चलाते हैं। ऐसे में ये अपने वैवाहिक जीवन की खुशियों बनाए रखने के लिए,

अपनी पत्नी की हर छोटी-बड़ी बात मानकर चलते हैं और उससे भरपूर सहयोग और प्यार देते हैं। ताकि इनका आपसी रिश्ता हमेशा खुशहाल रह सके, उनके इसी सोच और नेचर की वजह से लोग इन्हें बीवी की गुलाम कह सकते हैं।

मंगलसूत्र पहनते समय भूलकर भी ना करे ये गलतियाँ, परिवार पर पड़ सकता है मौत का साया

मंगलसूत्र पहनते समय भूलकर भी ना करे ये गलतियाँ, परिवार पर पड़ सकता है मौत का साया


भारत में धार्मिक रीति रिवाजों का प्राचीन और पौराणिक इतिहास रहा है और यहाँ जन्म से लेकर मृत्यु तक में रस्मों रिवाजों को परंपरागत तरीके से निभाया जाता है। हिन्दू धर्म में संस्कारों को बहुत महत्व दिया जाता और शास्त्रों में भी इनके महत्व को दर्शाया गया है। इसी प्रकार शादी को भी हिन्दू धर्म में एक पवित्र बंधन माना जाता है।

विवाह में अनेक रस्में निभाई जाती है और इसी में से एक है मंगल सूत्र जिसे पहनना सुहागन की निशानी माना जाता है। जब तक स्त्री के का पति उसके साथ रहता है वह मंगलसूत्र गले में पहने रखती है मंगर जब उसके पति की मृत्यु हो जाती है तो वह मंगलसूत्र उतरवा दिया जाता है।

आज हम आपको मंगलसूत्र से जुड़ी कुछ ऐसे रहस्य बाते बताएंगे जो आपने पहले कभी नहीं पढ़े या सुने होंगे. यदि आप इन तरीको से मंगलसूत्र ग्रहण कर रही हैं तो आपको यह आदतें बदलनी होंगी वरना आपके सिर से आपके सुहाग का साया हमेशा के लिए उठ भी सकता है.

इन बातों का रखें ध्यान

1. किसी भी स्त्री को अन्य किसी स्त्री से मंगलसूत्र मांगकर धारण नहीं करना चाहिए. ऐसा करने से पति की आयु कम होती है अथवा दुखो का आगमन होता है.

2. जिस प्रकार एक सुहागन स्त्री के जीवन में सिंदूर बिछिया का महत्व है उसी प्रकार स्त्रियां मंगलसूत्र का भी धारण करती है जो उनके सुहाग को लंबी आयु एवं बुरी नजर से उनके पति की रक्षा करता है.

3. मंगलसूत्र का निर्माण काले मोती से होता है. सभी मंगलसूत्र में काले मोती अवश्य होने चाहिए यही काले मोती बुरी नज़रों से पति की रक्षा करते हैं.

4. विवाह के समय पत्नी जिस वक़्त से गले में मंगलसूत्र धारण करती है उसी वक़्त से उसका मंगलसूत्र का उतारना वर्जित हो जाता है. यदि ऐसी कोई स्थिति उत्पन्न हो तो स्त्री अपने गले में काला धागा आवश्य बाँध कर रखे.

5. सभी मंगलसूत्र में सोने का रहना आवश्यक होता है. ऐसा इसलिए है क्योंकि स्वर्ण गुरु के प्रभावों को कम करता है और वैवाहिक जीवन में सुख एवं ऊर्जा प्रदान करता है. इसलिए शुद्ध सोने से बना मंगलसूत्र आपके खुशहाल वैवाहिक जीवन का प्रतीक है.

अगर आप इनमें से किसी भी आदत के शिकार हैं या आपके मंगलसूत्र में किसी भी चीज की कमी है तो तुरंत इन पर सुधार करे. छोटी सी आदत आपके जीवन में बड़ा बदलाव ला सकती है।
आप भी कमा सकते है वीर्य से लाखों रूपए, जानें कैसे बेचे ऑनलाइन

आप भी कमा सकते है वीर्य से लाखों रूपए, जानें कैसे बेचे ऑनलाइन


दोस्तों यह तो सभी जानते हैं कि आज के दौर में पैसा कमाना आसान नहीं है जितना कहना आसान है उतना है नहीं लेकिन आज मैं आपको बता दूं की वीर्य को बेचकर पैसे कमाने का जरिया बन चुका है जिससे कि बीर्य बेचकर लोग लाखों कमा रहे हैं वैसे ही आप भी कमा सकते हैं अगर आप पूर्ण रुप से स्वस्थ है मानसिक और शारीरिक रूप से तैयार है तो आपको थोड़ा परिश्रम करना होगा

जानिए वीर्य को कैसे बेचे
इसके लिए आपको जरूरत पड़ेगी इंटरनेट कि  जिसके लिए आपको बेबी सेंटर की लिस्ट में रजिस्टर कराना पड़ेगा और अगर आप ऐसा नहीं कर सकते तो आप व्यक्तिगत रूप से भी संपर्क कर सकते हैं और आप को अपना मोबाइल नंबर कांटेक्ट नंबर देना होगा.

क्यों खरीदते हैं लोग वीर्य को जानें..
इस दुनिया में बहुत से लोग है जिनका वीर्य में सुक्राणु कम होते है जिस से उनके बच्चे नही हो पाते है. इसके लिए आजकल इसकी वेबसाइट भी आ गयी है. क्यूंकि  आजकल के पुरुष में ये प्रोब्लम्स होना आप सी बात हो गयी है.

दोस्तों बहुत से लोग ऐसे होते हैं जिनको वीर्य बनता ही नहीं अगर वीर्य बनता है तो उस वीर्य मैं बच्चे के शुक्राणु ही नहीं होते हैं वह इलाज कराने पर भी  सफल नहीं होते और वह बच्चा पाने के आस में इधर उधर भटकते रहते हैं ऐसा जोड़ा अपनी धन दौलत सब कुछ न्योछावर कर देते हैं और कोई उन्हें ऐसा उपाय बताता है तो वह अपना सब कुछ न्योछावर करने के लिए तैयार हो जाते हैं

मंगलवार, 24 अप्रैल 2018

तो इस वजह से पीरियड्स के दौरान महिलाओं को किचन में जाने के लिए किया जाता है मना

तो इस वजह से पीरियड्स के दौरान महिलाओं को किचन में जाने के लिए किया जाता है मना


पीरियड्स औरत की जिंदगी का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है इसे ना तो गलत माना जाना चाहिए और ना ही गलत समझना चाहिए। हर महीने आने वाला पीरियड औरत की जिंदगी का एक महत्वपूर्ण पहलू है। जो लोग पीरियड को गलत समझते हैं उन्हें अपनी यह मानसिकता बदलनी चाहिए।

पीरियड्स को लेकर आपने बहुत सारी बाते सुनी होंगी। उनमें से एक है पीरियड्स के दौरान महिलाओं का किचन में एंट्री न करना। पीरियड्स के दौरान महिलाओं को किचन में जाने से रोक लगा दी जाती है परंतु क्या आप जानते हैं इसके पीछे क्या कारण हो सकते हैं आज हम आपको बताएंगे समाज में चली आ रही एंड मान्यताओं का कारण तो आइए जानते हैं फिर क्यों मना किया जाता है पीरियड के दौरान किचन में घुसने से।

पीरियड्स में महिलाओं की किचन में एंट्री पर रोक – पीरियड्स में महिलाओं को किचन में नहीं जाने दिया जाता है। इसका मुख्य रूप से यह कारण है कि पीरियड्स के दौरान महिलाओं की बॉडी में हारमोनल चेंज होते हैं जिस वजह से उनके पूरे शरीर में तेज दर्द होता है।इसीलिए इस दर्द से बचने के लिए महिलाओं को किचन में काम करने से मना किया जाता है ताकि उनको आगे और कोई दिक्कत ना हो।
सिर्फ रात को ही क्यों निकाली जाती है किन्नरों की शव यात्रा, वजह जानकर चौंक जायेंगे आप

सिर्फ रात को ही क्यों निकाली जाती है किन्नरों की शव यात्रा, वजह जानकर चौंक जायेंगे आप


किन्नरों को हमारे समाज में तीसरे लिंग यानी ‘थर्ड जेंडर’ का दर्जा प्राप्त है। हम सभी ने देखा है कि इनकी जिंदगी हमारी तरह सामान्य नहीं होती। इनके जीवन जीने के तरीके, रहन-सहन सब कुछ अलग-अलग होते हैं। शायद आप इनकी रहस्यमयी दुनिया के बारे में जानते भी न हों, इसलिए आज हम आपको इनकी दुनिया से रूबरू कराएंगे जहां बहुत से रिवाज है। क्या आप जानते हैं जन्म से लेकर मरण तक इनके अलग-अलग नियम है। जी हां, आपने इनके जन्म की खबरें देखी होंगी या इन घटनाओं से वाकिफ होंगे लेकिन क्या कभी आपने किसी किन्नर की शव यात्रा देखी है..?

शायद नहीं। है न… ऐसा क्यों है यह हम आपको बताते हैं। शव को सभी से छुपा कर रखा जाता है। जी हां, जहां ज्यादातर शव यात्रा दिन में निकाली जाती है, वहीं किन्नरों की शव यात्रा रात में निकाली जाती है। दरअसल, किन्नरों की शव यात्रा रात में इसलिए निकाली जाती है ताकि कोई इंसान इनकी शव यात्रा ना देख सके। ऐसा क्यों किया जाता है यहां जान लें… किन्नर समाज में ऐसा रिवाज रहा है। साथ में ये भी मान्यता है कि इस शव यात्रा में इनके समुदाय के अलावे दूसरे समुदाय के किन्नर भी मौजूद नहीं होने चाहिए। किन्नर समाज में किसी की मौत होने पर ये लोग बिल्कुल भी मातम नहीं मनाते, क्योंकि इनका रिवाज है कि मरने से उसे इस नर्क वाले जीवन से छुटकारा मिल गया।

इसलिए ये लोग चाहे जितने भी दुखी हों, किसी अपने के चले जाने से मौत पर खुशियां ही मनाते हैं। ये लोग इस खुशी में पैसे भी दान में देते हैं। ये कामना करते हैं कि ईश्वर जाने वाले को अच्छा जन्म दे। सबसे अजीब बात तो ये है कि ​किन्नरों के समाज में किसी की मौत होने पर ये लोग शव को अंतिम संस्कार से पहले जूते-चप्पलों से पीटते हैं। एक मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक ऐसा करने से मरने वाले के सारे पापों का प्रायश्चित हो जाता है। हालांकि किन्नर हिन्दू धर्म को मानते हैं, लेकिन ये लोग शव को जलाते नहीं हैं बल्कि उन्हें दफनाते हैं।

सोमवार, 23 अप्रैल 2018

तो इस वज़ह से हिंदू धर्म में अंतिम संस्कार के समय नहीं जलाते हैं अर्थी

तो इस वज़ह से हिंदू धर्म में अंतिम संस्कार के समय नहीं जलाते हैं अर्थी


कहते हैं की इंसान को एक दिन भगवान के घर जाना ही हैं। आज हम बात करेंगे की मृत्यु के बाद क्या किया जाता हैं। सनातन धर्म में व्यक्ति का अंतिम सफर जिस अर्थी पर होता हैं, उसे मुखाग्नि से पहले हटा दिया जाता हैं। जिस अर्थी पर व्यक्ति को ले जाया जाता हैं, उसे चीता की लकड़ियो के साथ जलाया नहीं जाता हैं| इसके ना जलाने के कई वजह हैं। अगर आप जानना चाहते हैं की आखिर इसकी वजह क्या हैं, तो आज हम आपको बताएँगे? मान्यता हैं की बांस जलाने से वंश जलता हैं। सनातन धर्म में या बैंबू को जलाना वर्जित माना गया हैं। इसको वंश बढ़ाने वाला माना जाता हैं। कहावत भी हैं की "बांस को जलाने से वंश जलता हैं|

अर्थी में होता है इसका प्रयोग

हिन्दू धर्म में शव यात्रा के दौरान अर्थी का प्रयोग किया जाता हैं जिसमें की बांस का उपयोग किया जाता हैं।अर्थी को जलाया नहीं जाता हैं। बल्कि शव को इससे उतारकर स्नानदि क्रिया के बाद शव को अन्य किसी लकड़ी के द्वारा बनाए गए चीता पर रख कर जलाया जाता हैं।
ये भी पढ़िए : बेवजह नहीं मारा जाता जलती हुई लाश के सर पर डंडा, इसके पीछे है ये बड़ी वजह !

वैज्ञानिक दृष्टिकोण से इसलिए हानिकारक है बांस जलाना

हमारे भारत में किए गए हर धार्मिक कार्य में कोई ना कोई वैज्ञानिक दृष्टिकोण होता ही हैं। विज्ञान की माने तो बांस में हैवी मेटल काफी मात्रा में होता हैं। जिसके जलाने से लेड आक्साइड बनाता हैं। यह खतरनाक नीरो टॉक्सिक होता हैं। जिससे की वायु प्रदूषण होता हैं।

पीपल की तरह लाभकारी है बांस

बांस के ऊपर ज्यादा गर्मी और वर्षा का अधिक प्रभाव नहीं पड़ता हैं । अन्य पेड़ो की अपेक्षा 30% ज्यादा आक्सीजन छोड़ता हैं और कार्बनडाईआक्साइड खींचता हैं। यह पीपल की तरह दिन में कार्बनडाई आक्साइड खींचता हैं और रात में आक्सीजन छोड़ता हैं।

फेंगशुई में भी महत्वपूर्ण है बैंबू

चाइना में चाइनीज वास्तुकारों का मानना हैं की फेंगशुई में भी बांस को समृद्धि का प्रतीक हैं इसलिए इसको ऑफिस या कार्यक्षेत्र में रखा जाता हैं। माना जाता हैं की जैसे-जैसे यह पौधा बढ़ेगा, आपका बीजनेश भी उतनी तेजी से बढ़ेगा।

ये हैं बांस की खूबियां

बांस का पौधा सबसे तेजी से बढ़ने वाला पौधा हैं। फेंगशुई इसे लंबी आयु के साथ जोड़ता हैं| और हमारा भारतीय शास्त्र वंश से जोड़ता हैं। इसकी एक खासियत बात यह हैं की यह विपरीत परिस्थितियो में भी बढ़ता हैं इसलिए इसको हिम्मत और साहस का प्रतीक माना जाता हैं। इसलिए विवाह में बांस का प्रयोग किया जाता हैं।

इसलिए हिंदू धर्म में नहीं जलाते अगरबत्ती

बांस का प्रयोग अगरबत्ती के स्टिक के रूप में किया जाता हैं इसलिए हिन्दू धर्म में पुजा के दौरान अगरबत्ती नहीं जलाया जाता हैं। इसके साथ अगरबत्ती जलाने से वातावरण में फैलकर वायुप्रदूषण करते हैं, जो सांस संबंधी बीमारी के कारण बनते हैं।