फ़ूड इन्फेक्शन लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
फ़ूड इन्फेक्शन लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

गुरुवार, 23 नवंबर 2017

जानिए फूड पॉइजनिंग के लक्षण और उपचार

जानिए फूड पॉइजनिंग के लक्षण और उपचार


जब भी हम बाहर का कुछ खा लेते हैं या फिर हम बाहर के खाने में अधिक दिलचस्पी लेते हैं, तो अक्सर हमारा हाजमा खराब हो जाता है। हम अक्सर जल्दी- जल्दी में जो भी मिलता है उसे खा लेते हैं, जिसके कारण हम कई तरह की बीमारियों से ग्रसित हो जाते हैं या फिर हमें फूड पॉइजनिंग हो जाती है। इसका मुख्य कारण है गंदगी। जब भी हम कुछ खाते हैं, अगर वो गंदगी वाले स्थान पर हो या फिर वहा गंदगी हो, तो ऐसे में हानिकारक बैक्टीरिया हमारे शरीर के अंदर चले जाते हैं और यह बैक्टीरिया हमारे शरीर में संक्रमण फैलाते हैं, जिसके कारण हमारी तबियत खराब ही जाती है और कई परेशानियों का सामना करना पड़ता है।

फूड पॉइजनिंग के लक्षण

जब भी हमें फूड पॉइजनिंग हो जाता है, तो हमारे शरीर में कई तरह की बीमारियों के लक्षण दिखाई देते हैं जैसे कि…
1.बार-बार उल्टी आना
2.पेट दर्द होना
3.सिर दर्द होना
4.दस्त आना
5.शरीर का थका हुआ और कमजोर महसूस होना आदि।
ये भी पढ़िए : फूड प्वाइज़निंग होने पर अपनाएं ये सात उपाय!

फूड पॉइजनिंग के कारण

फूड पॉइजनिंग का सामना हमें तब करना पड़ता है जब हम खाने-पीने की चीजों में सफाई पर ध्यान नहीं देते जैसे कि…
1.बासी खाने का सेवन
2.खाना बनाते समय गंदे पानी का इस्तेमाल
3.खाने पर मक्खियों का बैठना
4.सब्जियों और फलों को अच्छे से न धोना
5.खाना गंदे हाथों से खाना आदि।
ये भी पढ़िए : खानपान की ये आदतें बिगाड़ती हैं सेहत

फूड पॉइजनिंग होने पर घरेलू उपाय

हानिकारक बैक्टीरिया जब हमारे शरीर के अंदर चले जाते हैं, तो हमें फूड पॉइजनिंग हो सकती है। जब हमें इसे रोकना हो, तो सबसे पहले साफ सफाई का ध्यान रखना चाहिए। फलों और सब्जियों को धोकर खाना चाहिए। ऐसा करने से हम फूड पॉइजनिंग के खतरे से बच सकते हैं और जब हमें फूड पॉइजनिंग हो जाती है, तो हमें कुछ घरेलू उपाय करने चाहिए…
ये भी पढ़िए : सावधान ! तांबे के बर्तन में रखी ये चीजें होती है जहर समान

फूड पॉइजनिंग को दूर करने के घरेलू उपाय

पानी का सेवन
जब भी फूड पॉइजनिंग हो जाए तो सबसे पहले हमें इस बात पर ध्यान देना चाहिए कि शरीर में पानी की कमी न आ जाये। इसलिए हमें ज्यादा से ज्यादा पानी पीना चाहिए, साथ ही सूप, चावल का पानी, नारियल पानी, खिचड़ी, ग्लूकोज आदि लेते रहना चाहिए।

अदरक
अदरक से हमारे व्यंजन तो स्वादिष्ट होते हैं, साथ ही यह पाचन संबंधी समस्याओं के लिए भी एक घरेलू उपाय है। एक चम्मच शहद में अदरक के रस की कुछ बूंदे मिलाकर लेने से पेट का दर्द ठीक हो जाता है।

जीरा
फूड पॉइजनिंग होने पर जीरा बहुत ही फायदेमंद होता है। एक चम्मच भुने जीरे को पीसकर अपने सूप में मिलाकर लेने से पेट की सूजन और दर्द कम हो जाता है।

तुलसी
तुलसी संक्रमण के इलाज के लिए बहुत ही शानदार उपाय होता है। फूड पॉइजनिंग होने पर तुलसी के पत्तों के रस में एक चम्मच शहद मिलाकर खाने से आप को बहुत ही फायदा मिलाता है।

केला
केला में पोटेशियम की अधिक मात्रा होती है, इसलिए जब भी हमें फूड पॉइजनिंग हो तो केले का सेवन करना चाहिए। केले को दही में मैश करके खाने से हमे दस्त से छुटकारा मिल जाता है।

नींबू पानी का घोल
एक गिलास पानी में नींबू का रस, नमक, और चीनी मिलाकर एक घोल तैयार करो, फिर उस घोल को पी लें, इसे एक से दो घंटे के बीच लेते रहें।

दही का सेवन
दही में एंटी बैक्टीरिया गुण पायें जाते हैं, जो हमारे लीवर में होने वाले संक्रमण को रोकते हैं, फूड पॉइजनिंग वाले मरीज को खाली पेट या खाने के तुरंत बाद दही देना चाहिए।

खिचड़ी
फूड पॉइजनिंग वाले मरीज को खिचड़ी देनी चाहिए, क्योंकि यह हल्की होने के कारण आसानी से पच जाती है।

शुक्रवार, 12 मई 2017

इन चीजों को खाने के बाद भूल से भी ना पिएं दूध वरना हो जाएंगे बीमार

इन चीजों को खाने के बाद भूल से भी ना पिएं दूध वरना हो जाएंगे बीमार


दूध कितना फायदेमंद होता है इसके बारे में तो सभी जानते हैं. बॉडी में कैल्शियम की कमी दूध ही पूरा करता है जिसकी सलाह डॉक्टर भी देते हैं. बच्चों और बुजुर्गों के लिए भी दूध हर तरह से फायदेमंद होता है. लेकिन दूध पीने से कोई हानि भी हो सकती है ? आज हम आपको कुछ ऐसी चीजों के बारे में बताएंगे जिसे खाने के बाद दूध नहीं पीना चाहिए…

1. मछली खाने के बाद 
मछली खाने के बाद दूध ना पीने के पीछे कोई सांइटिफिक रीज़न मौजूद नहीं है. लेकिन ऐसा कहा जाता है कि अगर मछली के बाद दूध पी लिया जाए तो फूड पॉइजिनिंग, पेट दर्द जैसी पाचन संबंधी समस्याएं हो सकती हैं. इससे स्किन पर सफेद धब्बे होने की आशंका रहती है.

2. दही खाने के बाद :
यदि दूध और दही दोनों साथ में या फिर दही के बाद दूध का सेवन किया जाए तो पाचन क्रिया के खराब होने की आशंका रहती है. पेट दर्द और उलटी आना इसके लक्षण हो सकते हैं.

3. खट्टा खाने के बाद :
खट्टे फलों के साथ दूध का सेवन करना भी बहुत हानिकारक होता है. इससे उल्टी की समस्या भी हो सकती है. खट्टे फल खाने के कम से कम दो घंटे बाद ही दूध का सेवन करना चाहिए.

4. तरबूज खाने के बाद :
तरबूज़ खाने के बाद दूध पीना भी पेट के लिए ख़राब होता है. इससे पेट में गैस बनती है साथ ही कई समस्याएं उत्पन्न होती है.

5. उड़द खाने के बाद :
उड़द की दाल और दूध को साथ में लेने से बॉडी में कई समस्या शुरु हो जाती हैं. इससे पाचन क्रिया का ख़राब होना, जी मचलाना, उल्टी आना, शरीर में भारीपन महसूस होना और पेट दर्द जैसे लक्षण हो सकते हैं. इन दोनों के सेवन के बीच कम से कम दो घंटे का अंतराल होना चाहिए.

मंगलवार, 9 मई 2017

हैंड वॉश करने से होती हैं कई बीमारियां दूर !आप जानें |

हैंड वॉश करने से होती हैं कई बीमारियां दूर !आप जानें |


सेहतमंद रहने के लिए खान-पान की अच्छी आदतों का होना बहुत जरूरी है। हमें बचपन से ही सिखाया जाता है कि खाना खाने से पहले हाथ धोने चाहिए। इससे कई बीमारियां दूर होती है। कुछ लोग हाथों को पानी के साथ धो लेते है जिससे हाथों पर मौजूद कीटाणु खत्म नहीं होते।
खाना खाने से पहले हाथों को साबुन के साथ धोना चाहिए ताकि इस पर मौजूद कीटाणु पूरी तरह से खत्म हो सके।  आज हम आपको बताते है कि हैंड वॉश से आप किन बीमारियों से दूर रह सकते है।

1. डायरिया
डायरिया की शिकायत बच्चों में आम देखने को मिलती है। खाना खाने से पहले सही तरह से हाथ न धोने पर भी इस बीमारी का सामना करना पड़ सकता है क्योंकि यह पाचन तंत्र से जुड़ी हुई होती है।

2. गले की इंफेक्शन
बिना हाथ धोए खाना खाने से गले की इंफेक्शन हो सकती है। इसके अलावा कफ और खराश की शिकायत हो जाती है।

3. दस्त और कब्ज
अगर आप गंदे हाथों से खाना खाते है तो इसका असर पाचन क्रिया पर पड़ता है। पाचन क्रिया ठीक न होने पर दस्त, कब्ज, पेट दर्द और गैस की तकलीफ हो जाती है।

4. फूड इंफेक्शन
गंदे हाथों से खाना खाने से फूड इंफेक्शन हो जाती है। दिनभर में हम कईचीजों को छूते है जिससे हाथों में कई ऐसे रोगाणु चिपके रहते हैं। इससे फूड इंफेक्शन का खतरा बढ़ जाता है।