गैस व एसिडिटी लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
गैस व एसिडिटी लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

मंगलवार, 1 मार्च 2022

आज से ही गर्म पानी पीने की आदत डालें,  इन 15 बीमारियों का है रामबाण इलाज

आज से ही गर्म पानी पीने की आदत डालें, इन 15 बीमारियों का है रामबाण इलाज

कहा जाता है कि व्‍यक्ति का शरीर में 70 प्रतिशत पानी ही होता है इसलिए हमारे शरीर में सबसे ज्‍यादा पानी की आवश्‍यकता होती है। अगर कोई व्‍यक्ति पानी पर्याप्‍त सेवन नहीं करता है तो उसे कई तरह की बिमारीयों का सामना करना सकता है इसलिए कहा गया है कि पानी हमारे स्‍वास्‍थ्‍य के लिए बेहद जरूरी है। 
 
लोगों के जहन में अक्‍सर ये सवाल आता है कि रोजाना कितना पानी पीना चाहिए, इसे लेकर हमेशा असमंजस की स्थिति बनी रहती है। इस मुद्दे पर कई साल तक बहस भी हो चुकी है वहीं ये भी जरूरी है कि शरीर में न तो पानी की कमी होनी चाहिए और न ही अति लेकिन वहीं आपको ये भी बता दें कि अगर आप दूषित पानी पीते हैं तो आपको अनेकों बिमारियाँ हो सकती है।
 


वहीं अगर सर्दीयों की बात करें तो एक आदत आपके जीवन शैली में बहुत जरूरी है क्‍योंकि माना जाता है कि अगर सर्दियों में आप रोजाना गर्म पानी पीते हैं तो आपके शरीर में कोई बीमारी नहीं उत्पन्न होगी साथ ही आज हम आपको गर्म पानी पीने के कुछ ऐसे फायदे बताने जा रहे हैं जो सच में बहुत ही लाभकारी साबित हुए है आइए जानते हैं कि कैसे एक महिला को गर्म पानी पीने के पॉजिटीव परिणाम मिले।
 

1. कीटाणु की समस्‍या-

गर्म पानी का सेवन करने से पानी के अंदर मौजूद सभी कीटाणु मर जाते है। साथ ही अगर आप वहीं पानी बिना गर्म करे पीते हैं तो कीटाणु आपके शरीर के अंदर प्रवेश डायरेक्‍त प्रवेश कर जाते हैं जो कि कई खतरनाक बिमारियों को जन्‍म दे सकते हैं इसलिए ध्‍यान रहे कि आप हमेशा पानी को गर्म करके ही पिये।

2. मोटापे की समस्‍या-

मोटापे से परेशान लोगों के लिए रोज़ सुबह खाली पेट गर्म पानी में निम्बू का रस डाल कर पीना बेहद फायदेमंद साबित होगा इसका असर आपको शुरवात के कुछ ही दिनों में दिखना शुरू हो जायेगा। जानकारी के अनुसार निम्बू में सिट्रिक अमल होता है। जो की सीधा मोटापे पर हमला करता है।
 

3. पाचन की समस्‍या-

वहीं अगर किसी व्‍यक्ति को खाना पचाने में समस्‍या होती है तो उसके लिए उसे बस रोज़ सुबह उठकर खाली पेट गर्म पानी में 2 चम्‍मच काला नमक मिलाकर पीना चाहिए ऐसा करने से वो स्‍वस्‍थ हो जाएगा।

4. गैस की समस्‍या-

वहीं अगर किसी व्‍यक्ति को गैस की समस्‍या है तो वो रोज़ सुबह गर्म पानी में तुलसी डाल कर पिये तो उसके शरीर से गैस की दिक्कत हमेशा से खत्म जाएगी।
 

5. खांसी की समस्या-

किसी व्‍यक्ति को खांसी की समस्या है तो आप पानी में अदरक डाल कर गर्म करले और उसका प्रतिदिन सेवन करे। इससे आपको खासी में आराम मिलेगा।

6. सर्दी-जुकाम से राहत -

कभी कभी ऐसा होता है की बिना मौसम भी आपको छाती में जकड़न और जुकाम शिकायत हो जाती है, तो ऐसे में आप गर्म पानी पीना किसी रामबाण से कम नहीं है. और गर्म पानी पीने से आपका गला भी ठीक रहता है.
 
ये भी पढ़िए : सोने से पहले कमरे में जलाएं सिर्फ 1 तेज पत्ता, फिर देखिये कमाल !

7. पीरियड्स बनाए आसान -

पीरियड्स का दर्द अक्सर महिलाओं के सभी कामों पर एक रोक लगा देता है ऐसे में गर्म पानी पीने से इस दर्द में राहत मिल सकती है. इस दौरान आप गर्म पानी से पेट की सिकाई भी कर सकती है निश्चित ही काफी लाभ मिलेगा.

8. बढ़ती उम्र थाम लें-

एक उम्र के बाद चेहरे पर पड़ने वाली झुर्रियां आपको परेशान करने लगती हैं तो अब चिंता करने की कोई बात नहीं है. आज से ही गर्म पानी पीना शुरू कर दीजिये और कुछ ही हफ्तों में आप इसका कमाल देखेंगे. त्‍वचा में कसाव आने लगेगा और आपकी स्किन चमकदार भी होने लगेगी.
 
ये भी पढ़िए : 'प्याज़ का रस' दोबारा बाल उगाने का रामबाण तरीका, जानिए कैसे?

9. बॉडी करे डिटॉक्‍स-

रोजाना गर्म पानी पीने से आपकी बॉडी डिटॉक्‍स होने लगती है  जिससे ये शरीर की सारी अशुद्धियां को आसानी से साफ कर देता है. क्योंकी गर्म पानी पीने से आपके शरीर का तापमान बढ़ने लगता है, जिसकी वजह से आपको पसीना आता है और इसके माध्यम से आपके शरीर की अशुद्धियां दूर हो जाती हैं.

10. बालों के लिए है फायदेमंद-

त्वचा के साथ साथ गर्म पानी का सेवन बालों के लिए भी बहुत फायदेमंद है. इससे बाल चमकदार बनते हैं और यह बालों की ग्रोथ के लिए के लिए भी बहुत अच्छा होता है.
 
ये भी पढ़िए : सिर्फ सात दिन में बवासीर की छुट्टी, आजमाकर देख लीजिए

11. पेट को रखे दुरुस्‍त-

गर्म पानी पीने से पाचन क्रिया भी अच्छी रहती है और गैस की समस्या में भी राहत देता है. खाना खाने के बाद एक कप गर्म पानी पीने की आदत जरूर डालें. ऐसा करने से खाना जल्‍दी पचेगा और पेट हल्‍का रहता है.

12. ब्‍लड सर्कुलेशन को रखे सही-

हमारे शरीर को सुचारू रूप से चलाने के लिए पूरी बॉडी में खून का संचार सही से होना बहुत जरूरी होता है और इसमें गर्म पानी पीना बहुत फायदेमंद रहता है.
 
ये भी पढ़िए : 99 प्रतिशत ब्लॉकेज को भी रिमूव कर देता है पीपल का पत्ता

13. जोड़ों का दर्द करे दूर-

गर्म पानी शरीर के जोड़ों को चिकना बनाता है और जोड़ों का दर्द भी कम करता है. हमारी मांसपेशियों का 80 प्रतिशत भाग पानी से बना हुआ है ऐसे में गर्म पानी पीने से मांसपेशियों की ऐंठन भी दूर होती है. 

डिसक्लेमर : दोस्तों, आयुर्वेदप्लस में दी गई जानकारी पाठकों के ज्ञानवर्धन के लिए है। अतः हम आप से निवेदन करते हैं की किसी भी उपाय का प्रयोग करने से पहले अपने चिकित्सक से सलह लें। हमारा उद्देश्य आपको जागरूक करना है। आपका डाॅक्टर ही आपकी सेहत बेहतर जानता है इसलिए उसका कोई विकल्प नहीं है।   

मंगलवार, 1 मई 2018

रोज सुबह खाली पेट गुड़ और पानी का सेवन करने से होते हैं इतने फायदें

रोज सुबह खाली पेट गुड़ और पानी का सेवन करने से होते हैं इतने फायदें


हमारे देश में कई ऐेसे लोग हैं जिनको मीठा खाने का बहुत शौक होता है लेकिन कई लोग ऐसे होते हैं जो ये सोचते हैं कि मीठा खाने से मोटापा बढ़ता है. जिसके डर से वह मीठा नहीं खाते लेकिन आप मीठा खाने के शौक को पूरा करना चाहते हैं और अपनी हेल्थ के साथ समझौता नहीं करना चाहते तो गुड़ आपके लिए एक अच्छा  विकल्प है तो आइये जानते हैं गुड़ खाने के अनेकों फायदे.

गुड़ को पहले जमाने में कई लोग खाया करते थे कई लोग तो रोटी के साथ ही गुड़ का सेवन करते थे. गुड़ और चीनी दोनों ही गन्ने की मदद से बनाए जाते हैं लेकिन दोनों मे फर्क इतना है कि जब चीनी को बनाया जाता है तो गन्ने में जो तत्व मिले होते हैं जैसे आयरन, कैलशियम, पोटेशियम, फास्फोरस जैसे पोषक तत्व शामिल होते हैं जबकि गुड में विटामिन ‘ए’ और ‘बी’ भी पाए जाते हैं.

गुड़ खाने से कई फायदे होते हैं गुड़ को यदि रोज सुबह खाली पेट गर्म पानी के साथ खाया जाए तो उसके लाभ और भी बढ़ जाते हैं आपको बस इतना करना है कि सुबह उठते ही खाली पेट गुड़ के कुछ टुकड़े चबाने हैं और उसके बाद हल्का गर्म यानि गुनगुना पानी पीना है.  गुड़ और पानी लेने के बाद आधे घंटे तक कुछ नहीं खाना.

खाली पेट गुड़ और पानी पीने से होते हैं ये लाभ

कई लोगों को इतनी बीमारियां होती हैं कि रोज उनका पेट साफ नहीं होता जिसको लोग कब्ज कहते हैं. गुड़ और पानी का सेवन करने से कब्ज की शिकायत दूर हो जाती है.

2. जिन लोगों को हमेशा एसिडिटी या गैस की शिकायत हो रही है तो वो भी इस चीज का सेवन कर सकते हैं.

3. कई लोगों के हमेशा पेट में दर्द रहता है गुड़ और गर्म पानी का सेवन करने से इस समस्या से छुटकारा मिल सकता है.

4. खून भी साफ होता है

5. इसके सेवन से मांसपेशिया मजबूत होती हैं

6.  रंग साफ हो जाता है

7. ये शरीर में खून के प्रवाह यानी ब्लड सर्कुलेशन को सामान्य रखता है जिसके बीमरियां नहीं लगती.

8. शरीर की चर्बी को भी काम करता है.

गुरुवार, 18 जनवरी 2018

गैस की वजह से सीने में उठे दर्द से छुटकारा पाने के अचूक उपाय

गैस की वजह से सीने में उठे दर्द से छुटकारा पाने के अचूक उपाय


आजकल की व्यस्ततम जिंदगी के चलते हुए सेहत और इम्यून सिस्टम का ध्यान रखना इतना आसान काम नहीं हैं। लोगों को अपने इम्यून सिस्टम की खराबी के चलते कई रोजमर्रा की कई बिमारियों से रूबरू होना पड़ता हैं। जिसमें से एक हैं गैस प्रॉब्लम की वजह से सीने में उठने वाला दर्द। अपूर्ण पाचन, जल्दी जल्दी खाना खाते समय खाने के साथ हवा निगलने, कब्ज़, तैलीय और प्रोसेस्ड खाद्य पदार्थ खाने, अधिक फाइबर और स्टार्च युक्त आहार लेने, खाद्य पदार्थों की एलर्जी आदि के कारण आँतों में गैस बन सकती है। जिससे सीने में दर्द होता हैं।

इस परेशानी से बचने के लिए आज हम आपको बताने जा रहे हैं कुछ घरेलू उपाय। आइये जानते हैं उन उपायों के बारे में।
* लहसुन :
लहसुन को वंडर मेडिसीन कहा गया है जो हर तरह की बिमारियों में रामबाण का काम करता है। सेहत के लिए तो रामबाण है ही हार्ट के लिए तो सबसे ज्यादा लाभकारी है। लहसुन के एक या दो कली अगर आप रोज सुबह खाली पेट खा रहे हैं तो यह न सिर्फ आपके कोलेस्ट्रोल को कम करेगा बल्कि हृदय की धमनी के दीवार पर फैट की परत को बनने से भी रोकेगा। नतीजा आपके हार्ट में ऑक्सीजन और रक्त का प्रवाह सुचारू रहेगा। अगर छाती में दर्द की शिकायत गैस से भी है तो यह काफी कारगर होती है।
* इलायची और जीरा :
गैस के कारण छाती में होने वाले दर्द के लिए यह एक उत्तम घरेलू उपचार है। ये कार्मिनटिव (वातहर) की तरह कार्य करते हैं। ये पेट से गैस निकालते हैं तथा इस फंसी हुई गैस के कारण छाती और पेट में होने वाले दर्द से आराम दिलाते हैं। आप इलायची को पानी में कुछ देर उबालकर इलायची की चाय पी सकते हैं। ये पाचन में भी सहायक होते हैं तथा गैस बनने से भी रोकते हैं।

* मदार :
मदार का पत्ता और कालीमिर्च को पीसकर गोली बना लें और यह 1-1 गोली दिन में 2 बार 5 दिनों तक सेवन करें और साथ ही बारहसिंगा का सींग घिसकर छाती पर लेप करें। इससे छाती का दर्द ठीक होता है।

* धनिया :
गर्मी के कारण, बासी भोजन करने, खट्टी डकारें आने, अम्लपित्त बनने के कारण रोगी की छाती में जलन होती है। जलन के कारण रोगी बड़ी बेचैनी महसूस करता है, अधिक घबराया रहता है और उसे ऐसा महसूस होता है जैसे उसका हृदय बैठा जा रहा है। ऐसी अवस्था में रोगी को 5 ग्राम सूखा धनिया, 2 ग्राम कालानमक, 1 ग्राम हींग और 5 ग्राम अजवायन को मिलाकर चूर्ण बनाकर दिन में 3-4 बार सेवन करना चाहिए। इससे छाती की जलन दूर होती है।

* अदरक :
अदरक के कई औषधीय गुण हैं। अगर आपको गैस या एसीडिटी से हार्टबर्न हो रहा है, छाती में दर्द हो रहा हो तो अदऱक की चाय आजमा सकते हैं। यह छाती के दर्द के साथ , कफ, खांसी समेत कई बिमारियों के इलाज में काम आता है।

* पेपरमिंट टी :
यह भी वातहर की तरह काम करता है क्योंकि यह पेट से गैस निकालने में सहायक होता है। यह भोजन के पाचन में भी सहायक होता है। यह जी मचलाने और उल्टी के लिए भी एक प्रभावी उपचार है। छाती में फंसी हुई गैस को निकालने के लिए पेपरमिंट टी एक प्राकृतिक उपाय है।

* तुलसी :
तुलसी में सिर्फ एंटी बैक्टीरियल गुण ही नहीं बल्कि एंटी इंफ्लामेट्री गुण भी होते हैं। इसके अलावा तुलसी में ऐसे कई कंपाउड पाए जाते हैं जो दिल के सेहत के लिए भी गुणकारी है। तुलसी में Eugenol पाया जाता है जो दिल के सेहत के लिए काफी फायदेमंद है। तुलसी के पत्ते लोग चबा कर खाते हैं और कई लोग चाय और काढ़ा बना कर पीते हैं। अगर छाती में दर्द है तो तुलसी-अदरक का काढ़ा बना कर उसमें शहद की बूंदे डाल कर पी लीजिए काफी फायदा करेगा।

बुधवार, 17 जनवरी 2018

1 रुपये की मूली में है इतनी ताकत कि जड़ से खत्म हो जाएंगी ये बीमारियां

1 रुपये की मूली में है इतनी ताकत कि जड़ से खत्म हो जाएंगी ये बीमारियां


सलाद और सब्जी के रूप में इस्तेमाल होने वाली मूली सेहत के लिए वरदान साबित होती है। मूली से सिर्फ सब्जियां ही नहीं बल्कि इससे पराठे और आचार भी बनाए जाते हैं। मामूली सी दिखने वाली मूली से कई रोगों का इलाज किया जा सकता है। जी हां, मूली कई औषधिय गुणों से भरपूर होती है। तो चलिए आज जानेंगे मूली के फायदों के बारे में-

त्वचा के लिए
मुली का सेवन करना त्वचा के लिए लाभकारी होता है। रोजाना सुबह खली पेट में मुली को खाने से चेहरा साफ और सुन्दर रहता है। मुली को पिस कर खुजली वाली हिसे में लगा कर कम से कम आधे घंटे के बाद धोने से खुजली से भी राहत मिलता है ।

कैंसर की छुट्टी
मूली में भरपूर मात्रा में फॉलिक एसिड, विटामिन C और एंथोकाइनिन पाए जाते हैं। ये तत्वन शरीर को कैंसर से लड़ने में मदद करते हैं। मुंह, पेट, आंत और किडनी के कैंसर से लड़ने में यह बहुत सहायक होती है।

डायबिटीज से छुटकारा
मूली कम ग्लाछइसेमिक इंडेक्स, के लिए जानी जाती है। यानी कि इसे खाने से ब्लहड शुगर पर असर नहीं होता है। रोजाना सुबह खाने में मूली का सेवन करने से डायबिटीज से जल्द छुटकारा मिल सकता है।

सर्दी-जुकाम में राहत
मूली खाने से जुकाम भी नही होता है। कुछ नहीं तो मूली को कम से कम सलाद में तो जरूर खाना चाहिए।

भूख बढाती है
यदि आप को भूख न लगने की शिकायत है तो रोज खाने के समय एक मुली को काली नमक के साथ लगा कर खाने से भूख अच्छी लगती है।

आँखों के लिए
मुली में काफी अच्छी मात्र में Vitamin A, B, C जैसे तत्व पाए जाते है जो की हमारे आँखों की रोशनी को बढाता है । रोजाना सुबह मुली को खाने से आँखों की रौशनी बढती है ।

नींद ना आना
यदि आप नींद न आने से परेशान है, तो रोजान सोने से पहले एक मुली का सेवन करे ऐसा करने से आप को नींद अच्छी आयगी ।

गैस
मुली गैस की समस्या के लिए रामबाण सिद्ध होता है। मुली और टमाटर का सलाद या मुली के juise का सेवन करने से गैस से छुटकारा मिलता है ।

बालों के लिए
यदि आप के बालो में जुएँ हो गये है और कई घरेलु उपाय अपना कर भी इससे छुटकारा नहीं मिल रहा हो तो, मुली के रस से अपने बालो को पूरी तरह से भिन्गों दे और 5 मिनट तक मालिस करे और फिर आधा घंटे के बाद अपने सर को धो ले । इस प्रक्रिया को 3 से 5 दिनों तक उपयोग करने से सारे जुएँ और लिख मर जायंगे ।

गुरुवार, 11 जनवरी 2018

इन आसान उपायों से कब्ज़ और गैस से हमेशा के लिए पाएं छुटकारा

इन आसान उपायों से कब्ज़ और गैस से हमेशा के लिए पाएं छुटकारा


खाने पीने की गलत आदतों और खराब जीवन शैली के चलते अधिकतर लोग पेट से जुडी बीमारियों से ग्रसित रहते है| पेट में गैस बनना, पेट फूलना, एसिडिटी, पेट में दर्द के साथ जलन होना, ये पेट से जुड़े कुछ ऐसे रोग है, जिनसे अधिकतर लोग परेशान हैं| आजकल पेट से जुड़ा एक और रोग सामने आया है, और वो रोग है , पेट ठीक से साफ ना होना|

पेट साफ़ ना होने पर व्यक्ति को समय पर और ठीक प्रकार से लैट्रिन नहीं आती| जिसके कारण व्यक्ति के पेट में दर्द भी होने लगता है| पेट साफ़ ना होने से व्यक्ति का किसी काम में मन नहीं लगता| कभी कभी पेट साफ़ ना होने के कारण सिर दर्द, थकान और तनाव की कंडीशन भी पैदा हो जाती है|
पेट के साफ ना होने को कब्ज का रोग भी कह सकते है| पेट के ठीक से साफ़ ना होने के कारण ही कब्ज की बीमारी होती है| पेट साफ करने के लिए आजकल मार्किट में अनेक प्रकार दवाइयां और पेट सफा चूर्ण मौजूद है| पेट साफ़ करने के लिए लोग इन दवा और चूरन का खूब इस्तेमाल करते है, लेकिन इनके इस्तेमाल से कभी कभी कुछ साइड इफ़ेक्ट भी हो जाते है, इसीलिए इसका सेवन करना अधिक सेफ नहीं रहा| इस पोस्ट में हम आपको पेट साफ करने के घरेलू उपचार के बारे में बतायेगे| इन घरेलू उपचार के माध्यम से बिना किसी साइड इफ़ेक्ट आपका पेट साफ़ रहेगा|

पेट साफ करने के देशी घरेलू उपाय (Constipation Home Remedy in Hindi)

अरंडी का तेल (Castor oil) – पेट साफ करने के लिए अरंडी के तेल का इस्तेमाल भी कर सकते है| पेट साफ करने के लिए यह बढ़िया घरेलू उपाय है| पेट साफ करने के लिए रात को सोने से पहले एक गिलास गुनगुने दूध में थोड़ी मात्रा में अरंडी का तेल मिलाकर पियें| ऐसा करने से अगली सुबह ही आपका पेट साफ हो जायेगा|

दही (Curd) – पेट साफ रहे इसके लिए हमारे पेट में कुछ बैक्टीरिया होते है| दही में ये बैक्टीरिया मौजूद होते है| इन बैक्टीरिया की संख्या बढ़ाने के लिए रोजाना एक कटोरी दही खानी चाहिए| दही खाने से पेट साफ रहता है|

बेकिंग सोडा (Baking soda) – बेकिंग सोडा पेट साफ करके पुराने से पुराने कब्ज के इलाज में सहायक है| पेट साफ करके कब्ज की समस्या दूर करने के लिए आधे गिलास पानी में आधी चम्मच बैकिंग सोडा डालकर पियें|

नारियल पानी (Coconut Water) – नारियल पानी जहाँ एक ओर आपकी सुंदरता में चार चाँद लगा देता है, वही दूसरी ओर यह पेट साफ करने के लिए भी उपयोग किया जाता है| पेट साफ रखने के लिए रोजाना सुबह खाली पेट नारियल पानी पीने की आदत डाले| नारियल पानी पीने से त्वचा में निखार आता है|

त्रिफला (Triphala) – पेट साफ करने के लिए गुनगुने दूध के साथ त्रिफला पाउडर का सेवन करे| त्रिफला पेट साफ करने के आयुर्वेदिक उपचार में से एक है| त्रिफला पाउडर आसानी से मार्किट में मिल जाता है|

शहद (Honey) – पेट साफ करने के लिए रात को सोने से पहले एक गिलास गुनगुने पानी में शहद डालकर पियें| इससे अगले दिन सुबह ही आपका पेट साफ हो जायेगा| शहद से पेट साफ़ करने का नुस्खा ये काफी लाभकारी है|

लहसुन (Garlic) – लहसुन में Anti Inflammatory गुण पाया जाता है| जिसके कारण यह हमारे कठोर मल को पतला करने का काम करता है| इससे मल आंतो से आसानी से गुजर जाता है, और आपका पेट साफ हो जाता है| पेट साफ करने के अलावा लहसुन के अनेक गुण है| इन गुणों के बारे में आपको आगे जानकारी देंगे|

अलसी के बीज (Linseed Seed) – अलसी के बीज का पाउडर या अलसी के बीज रात को सोने से पहले एक गिलास गुनगुने दूध में डालकर पियें| इससे पेट साफ होता है|

नींबू (Lemon) – नींबू के अनेक फायदे है| पेट साफ करने में भी नींबू कारगर है| एक गिलास गुनगुने पानी में नमक, शहद और नींबू का रस डालकर सुबह खाली पेट पीने से पेट साफ हो जाता है| पेट साफ करने का ये सबसे आसान उपाय है|

मेथी (Fenugreek) – मेथी हर घर में मौजूद होती है| पेट साफ करने के लिए मेथी का इस्तेमाल भी करते है| मेथी से पेट साफ करने के लिए रात को सोने से पहले पानी के साथ एक चम्मच मेथी का सेवन करे|

सेब का सिरका (Apple Vinegar) – सेब का सिरका पाचन किर्या को दुरुस्त करके पेट को साफ करता है| सेब का सिरका कब्ज की बीमारी में भी लाभदायक है| पेट साफ करने के लिए रोजाना दिन में तीन बार खाना खाने से पहले 2 चम्मच सेब के सिरके का सेवन करे|

पानी (Water) – एक शोध के अनुसार जो लोग पानी कम पीते है, उन्हें पेट साफ ना होने और कब्ज जैसे पेट के रोग अधिक होते है| शरीर में पानी की कमी के कारण हमारा पाचन तंत्र एक्टिव नहीं रह पाता| जिसके कारण पेट साफ नहीं रहता| पानी अधिक पीने से हमारा पाचन तंत्र एक्टिव रहेगा और मल आंतो से आसानी से निकल जायेगा| आंतों में खुश्की की प्रॉब्लम भी शरीर में पानी की कमी के कारण होती है, इसीलिए खूब पानी पियें|

पेट साफ रखने के टिप्स (Pet Saaf Karne Ke Tips) –

1. पानी की कमी के कारण कब्ज और पेट साफ ना होने की प्रॉब्लम होती है, इसीलिए अधिक से अधिक पानी पीना चाहिए|

2. कैफीन की अधिक मात्रा पाचन तंत्र को कमजोर कर देती है, इसीलिए कैफीन युक्त चीजे जैसे चाय और कॉफी का सेवन कम करे|

3. आपको जानकर हैरानी होगी कि मानसिक और शारीरिक तनाव के कारण कब्ज और पेट साफ ना होने की प्रॉब्लम हो जाती है| इन सब प्रॉब्लम से बचने के लिए तनाव से दूर रहे| हमेशा खुश रहने की आदत डाले|

4. रोज सुबह खाली पेट एक से दो गिलास गुनगुना पानी पियें| इससे पेट जल्दी साफ होता है, और आपको वाशरूम में अधिक समय नहीं बैठना पड़ता|

5. पेट साफ करने के घरेलू उपाय आपको कैसे लगे, हमें जरूर बताये| अगर आपके पास पेट साफ करने का कोई अन्य नुस्खा है, तो अपना नुस्खा आप कमेंट के माध्यम से हमारे साथ साँझा कर सकते है|

शुक्रवार, 22 दिसंबर 2017

इसकी सिर्फ 2 गोली करती है हर बीमारी का इलाज, एक बार जरूर ट्राय करे

इसकी सिर्फ 2 गोली करती है हर बीमारी का इलाज, एक बार जरूर ट्राय करे


किंग ऑफ स्पाइस या ब्लैक पेपर नाम से प्रचलित काली मिर्च भोजन में इस्तेमाल किए जाने वाले गर्म मसाले का अहम् हिस्सा है। काली मिर्च हमारे भोजन का स्वाद ही नहीं बढ़ाती, कई बीमारियों के इलाज में सहायक साबित होती है।

काली मिर्च, काला नमक भुना हुआ जीरा और अजवाईन को पीस कर लसी या निम्बू पानी में डाल कर पीने से पाचन किर्या दरुस्त रहती है| इस में केल्शियम , आइरन, फास्फोरस, कैरोटिन, थाईमन और रिथोफ्लेब्न जैसे पोष्टिक तत्व होते है | की गयी स्टडी के अनुसार काली मिर्च में बायो-एन्हंस्र नाम का रेसाइन होता है ,जिस की मौजूदगी में किसी भी दवाई का असर बढ़ जाता है तथा दवाई कम मात्रा में भी तेज असर करती है|

आवश्यक सामग्री :

  • 15 काली मिर्चे
  • 2 बादाम की गिरीयां
  • 5 मुनकें
  • 2 छोटी इलाइची
  • एक गुलाब का फूल
  • आधा चमच खसखस
  • 250 ग्राम दूध

बनाने की विधि:

15 काली मिर्चे, 2 बादाम की गिरीयां, 5 मुनकें, 2 छोटी इलाइची, एक गुलाब का फूल, आधा चमच खसखस को रात को एक वर्तन में डाल कर भिगो दे और सुबह को रगड़ कर 250 ग्राम दूध में मिला कर हर रोज लगातार कुछ महीने पीने से दिमाग में तरावट आयेगी और दिमाग की थकावट दूर हो जाएगी |

20 ग्रम काली मिर्च, 50 ग्राम बादाम 20 ग्राम तुलसी के पत्ते को एक साथ पीस कर चूरन या थोड़ा सा गुड़ मिलाकर छोटी-छोटी गोलियां बना ले और इस चूरन का एक चमच दो चमच या 2 गोलियां शहद में मिला कर चाटने से दिमाग की ताकत में सुधार होता है |

एक चमच घी और 8 काली मिर्च और शकर को मिला कर रोजाना चाटने से याद शक्ति में सुधार होता है तथा दिमाग की कम्जोरी दूर होती है

इसके फायदे:

ब्लड प्रेशर:  
ब्लड प्रेशर को नियंत्रित करने व शरीर को आराम देने में काली मिर्च बेहद फायदेमंद है। यदि आपका ब्लड प्रेशर बढ़ गया हो तो छोटी चम्मच काली मिर्च का पाउडर को आधे गिलास पानी में मिलाकर पीएं। आपका बीपी कंट्रोल होने लगेगा।


गैस या एसिडिटी:
पेट में गैस या एसिडिटी की समस्या होने पर आप तुंरत नींबू में काला नमक और काली मिर्च का पाउडर या 2 दाने मिलाकर इसका रस चूसें। यह आपकी अपच व गैस की समस्या को पल भर में दूर कर देगी।

गठिया:
जो लोग गठिया की समस्या से परेशान हैं वे तिल के गर्म तेल में काली मिर्च को डालकर उसे ठंडा कर लें और बाद में उस तेल से गठिया वाली जगह पर मालिश करें। एैसा करने से दर्द मे आराम मिलेगा।

पेट में कीड़े: 
यदि पेट में कीड़े की समस्या हो तो थोड़ी सी मात्रा में काली मिर्च के पाउडर को एक गिलास छाछ में घोलकर पी लें। दूसरा उपाय है किशमिश के साथ काली मिर्च दिन में तीन बारी खाएं।

कैंसर: 
हाल ही में कैंसर पर किए गए एक शोध में ये बात सामनेआई है कि महिलाओं के लिए कालीमिर्च का सेवन बहुत लाभकारी होता है। कालीमिर्च में विटामिन सी, विटामिन ए, फ्लैवोनॉयड्स, कारोटेन्स और अन्य एंटी -ऑक्सीडेंट आदि तत्व भी पाए जाते है। कालीमिर्च ब्रेस्ट कैंसर को रोकने में मददगार होती है। यह त्वचा के कैंसर से भी शरीर की रक्षा करती है।

मंगलवार, 19 दिसंबर 2017

सिर्फ 7 दिन लगातार खाइए छुहारे, होगा ऐसा चमत्कार जो आपने कभी सोचा भी नहीं होगा

सिर्फ 7 दिन लगातार खाइए छुहारे, होगा ऐसा चमत्कार जो आपने कभी सोचा भी नहीं होगा


गर्म तासीर होने की वजह से छुहारा सर्दियों में ज्यादा खाया जाता है. आपको बता दें जब खजूर सूख जाता है तो वो छुहारा बन जाता है. छुहारा खाने से हमारे शरीर में बहुत से फायदे होते हैं. एक छोटा से छुहारे में इतने चमत्कारिक गुण होते हैं जो आपने कभी सोचा भी नहीं होगा. छुहारा एक ऐसा खाद्य पदार्थ है जिसके सेवन से आप कई बिमारियों को जड़ से खत्म कर सकते हो. चलिए आज हम आपको बताते हैं छुहारे के चमत्कारी फायदे.

छुहारा एक ड्राई फ्रूट है जिसे खाने से हमारे शरीर को बहुत से लाभ मिलते हैं. अगर छुहारे का लगातार सेवन किया जाये तो हमारा शरीर शक्तिशाली और मजबूत बनता है. छुहारा खाने में स्वादिष्ट और मीठा होता है. अगर आप लगातार 7 दिन छुहारे खाएंगे तो आपको बहुत से फायदे मिलेंगे.

छुहारों के चमत्कारी फायदे 

  • हर दिन आधा लीटर दूध में 4 छुहारे खौलाकर पीने से शरीर की कमजोरी दूर होती है.
  • साँस के मरीज अगर हर दिन छुहारे खाएंगे तो उन्हें फायदा मिलेगा.
  • रोजाना छुहारे खाने से गैस की समस्या दूर होती है.
  • छुहारे में भरपूर मात्रा में कैल्शियम पाया जाता है इसलिए रोजाना छुहारे खाने से आपकी हड्डियाँ मजबूत होंगी.
  • दूध में छुहारे उबालकर पीने से भूख बढ़ती है.
  • अगर किसी के फोड़े फुंसी हो तो उसे छुहारे की गुठली पीसकर लगानी चाहिए.
  • छुहारे से छोटे बच्चों की सोते समय पेशाब करने की समस्या दूर हो जाती है.
  • दूध के साथ छुहारा खाने से बवासीर की शिकायत दूर होती है.
  • मासिक धर्म से जुड़ी समस्याओं के लिए भी फायदेमंद होता है छुहारा.

शुक्रवार, 15 दिसंबर 2017

पानी में भीगी किशमिश खाने के चमत्कारिक फायदे, काश पहले पता होता

पानी में भीगी किशमिश खाने के चमत्कारिक फायदे, काश पहले पता होता


ड्रायफ्रूट्स खाने से हमारी शरीर में रोजमर्रा में जो जरूरी विटामिन्स और तत्वों की जरुरत होती है उसे पूरा किया जा सकता है। ड्रायफ्रूट्स में कुछ ऐसे भी हैं जिन्हें ताजा भी खाया जा सकता है जिनमें से एक है किशमिश। अंगूर को सुखाने के बाद बनाई जाने वाली किशमिश में कई चमत्कारी गुण पाए जाते हैं। इससे होने वाले फायदे अनेक हैं। किशमिश खाने से आपकी बढ़ती उम्र का असर बहुत कम हो जाएगा साथ ही चेहरे पर चमक आएगी। शरीर के सारे फंक्शन ठीक से काम करेंगे और आप बहुत ही फिट महसूस करेंगे। डॉक्टर्स के अनुसार किशमिश में भरपूर मात्रा में विटामिन, एंटीऑक्सीडेंट्स और शरीर को सुचारू रूप से चलाने वाले महत्वपूर्ण तत्व पाए जाते हैं। किशमिश खाने से हमारे शरीर के टॉक्सिन्स खत्म होते हैं इससे पिंपल्स जैसी परेशानियां खत्म हो जाती हैं और सुंदर त्वचा के साथ स्वस्थ्य शरीर बनता है। रातभर भिगोकर रखने से इसमें मौजूद शुगर कंटेट कम हो जाता है और न्यूट्रीशन वैल्यू बढ़ जाती है। इसलिए किशमिश को खाने का यह सबसे अच्चा तरीका है। 

पानी में भीगी किशमिश खाने के चमत्कारिक फायदे ।

1. रात में सोते समय एक कफ पानी में 2 चम्मच किशमिश को भिगों कर रख दें। सुबह इस पानी को छानकर पिएं और किशमिश को अच्छे से चबाकर खाएं। इस तरह से किशमिश में पार्यप्त मात्रा मौजूद फाइबर हमारे शरीर के डाइजेशन को बेहतर करता है।
2. किशमिश में मौजूद बोरोन नामक माइक्रो न्यूट्रिएंट्स हमारी हड्डियों को मजबूत करता है। रेग्युलर भीगी किशमिश खाने से हमारे मुंह में मौजूद बैक्टीरिया भी खत्म होता है।
3. किशमिश में मैग्नीशियम और पोटैशियम पर्याप्त रूप से पाए जाते हैं ये दोनों न्यूट्रिएंट्स हमारे शरीर का एसिड लेवल कंट्रोल करते हैं। इससे एसिडिटी की प्रॉब्लम दूर होती है। इसके अलावा इसमें मौजूद आयरन एनीमिया के रोगियों के लिए बहुत फायदेमंद होता है।
4. किशमिश रोजाना खाने से आंखों की रोशनी भी अच्छी रहती है। क्योंकि इसमें एंटीऑक्सीडेंट्स, विटामिन ए, बीटाकैरोटीन और कैरोटीनॉइड पाए जाते हैं जो कि आंखों के लिए बहुत फायदेमंद होते हैं। मौजूद फाइबर कोलेस्ट्रॉल को कंट्रोल करता है जिससे हार्ट डिसीज की चांसेस भी कम होते हैं।

5. कमजोर शरीर वाले लोगों के लिए यह एक रामबाण औषधि है। रोजाना किशमिश खाने वालों की शारीरिक दुर्बलता दूर होती है और हेल्दी तरीके से उनका वजन भी बढ़ता है। इसकी वजह इसमें पाए जाने वाले फ्रक्टोज और ग्लूकोज हैं।

6. रेग्युलर भीगी किशमिश खाने से बॉडी के टॉक्सिन्स बाहर निकलते हैं। इससे हमारे शरीर में किडनी फंक्शन्स बेहतर होते हैं। साथ ही लिवर प्रॉब्लम का खतरा टलता है।

7. भीगी हुई किशमिश से बॉडी में मौजूद ब्लड प्यूरिफाय होता है इससे शरीर में इम्यूनिटी बढ़ती है और बीमारियों का खतरा टलता है। इसके अलावा पिंपल्स भी कम होते हैं। स्किन पर निखार बढ़ता है और हेल्दी त्वचा मिलती है।

8. किशमिश में मौजूद एंटीऑक्सीडेंट्स बढ़ती उम्र का असर कम करने में मदद करता है। इसमें एंटीबैक्टीरियल और एंटीफंगल प्रॉपर्टी पाई जाती है। इससे स्किन इन्फेक्शन का खतरा टलता है।

शुक्रवार, 1 दिसंबर 2017

90% लोग नही जानते की कब दही ज़हर बन जाता है, जाने दही कब और क्यों खाना चाहिए

90% लोग नही जानते की कब दही ज़हर बन जाता है, जाने दही कब और क्यों खाना चाहिए


आज हम आपको बताएँगे दही क़ब, कैसे और क्यों सेवन करना चाहिए। दूध जैसे डेयरी प्रॉडक्ट खाने की अक्सर खाने को कहा जाता है। लोग दही को अपने खाने में शामिल करते हैं लेकिन इसके सेवन का सही समय भी होना बहुत जरूरी है। रात के समय खाना खाने के बाद कोई शारीरिक काम नहीं करते हम जिससे दही पचने की बजाए शरीर में कफ बनना शुरू हो जाता है इसके अलावा भी शरीर में बहुत नुकसान हो जाते हैं रात को दही खाने से ।

रात के समय दही क्यों नही खाना चाहिए


पाचन क्रिया :
रात को दही खाने से पाचन क्रिया में गड़बड़ी पैदा हो जाती है। इसे पचाने के लिए एनर्जी बर्न करने की जरूरत होती है। रात के समय ज्यादातर लोग खाने के बाद सो जाते है। जिससे दिक्कत बढ़ने लगती है।

खांसी और जुखाम :
रात के समय दही खाने से शरीर में इंफैक्शन होने का डर रहता है। इससे खांसी और जुखाम हो सकता है।

सूजन :
शरीर में कुछ हिस्सों में अगर सूजन है तो रात के समय दही कभी न खाएं। इससे सूजन कम होने की बजाए बढ़ जाएगी।

गठिया या जोड़ों का दर्द :
गठिया या जोड़ों के दर्द से परेशान हैं तो रात के समय इसका सेवन करने से परहेज करें। इससे दर्द कम होने की बजाए बढ़ जाएगा।

ये भी पढ़िए : दही के साथ ये चीजें मिलाकर खाएं, मिलेगा दस गुणा ज्यादा फायदा

दही कब, क्यों और कैसे खाना चाहिए

दही खाने का सबसे बढ़िया समय सुबह का है। हाथों पैरों की जलन, पेट की इंफैक्शन, अपच, भूख न लगना, कमजोरी के अलावा और भी बहुत से शिकायतें सुबह दहीं खाने से दूर हो जाती हैं। नाश्ते में दही की एक कटोरी में शक्कर मिलाकर खाने से खून की कमी दूर होती है।

दही को हेल्थ के लिए बहुत अच्छा माना जाता है। इसमें कुछ ऐसे रासायनिक पदार्थ होते हैं, जिसके कारण यह दूध की अपेक्षा जल्दी पच जाता है। जिन लोगों को पेट की परेशानियां, जैसे अपच, कब्ज, गैस बीमारियां घेरे रहती हैं, उनके लिए दही या उससे बनी लस्सी, छाछ का उपयोग करना फायदेमंद होता है। डाइजेशन अच्छी तरह से होने लगता है और भूख खुलकर लगती है।

दही में प्रोटीन की क्वालिटी सबसे अच्छी होती हैं। दही जमाने की प्रक्रिया में बी विटामिनों में विशेषकर थायमिन, रिबोफ्लेवीन और निकोटेमाइड की मात्रा दुगुनी हो जाती है। दूध की अपेक्षा दही आसानी से पच जाता है। दही, जिसे हम आये दिन प्रयोग में लाते हैं, हमारे शरीर को स्वस्थ्य रखने में बहुत लाभकारी होती है | ऐसा कहा जाता है कि मनुष्य पिछले लगभग 4000 वर्षों से दहीं का इस्तेमाल कर रहे हैं | दही में उपस्थित कैल्शियम, प्रोटीन और विटामिन हमारे शरीर को कई प्रकार के रोगों से बचाते हैं | दही को अलग-अलग तरह से प्रयोग में लाकर हमें निम्नलिखित 16 तरह के स्वास्थ्यप्रद लाभ मिल सकते हैं | कृपया ध्यान दें कि सर्दी या खांसी होने पर, अथवा अगर आप अस्थमा के रोगी हैं तो दही का प्रयोग ना करें

दही के 8 फायदे :

अनिद्रा :
रात में नींद न आने की परेशानी हो तो रोज खाने के साथ एक कटोरी दही का सेवन करें। धीरे-धीरे यह समस्या दूर हो जाएगी।

पाचन सकती बढ़ता है :
दही का नियमित सेवन शरीर के लिए अमृत के समान माना गया है। यह खून की कमी और कमजोरी दूर करता है। दूध जब दही का रूप ले लेता है तब उसकी शुगर एसिड में बदल जाती है। इससे पाचन में मदद मिलती है। जिन लोगों को भूख कम लगती है। उन लोगों को दही बहुत फायदा करता है।
पेट की गर्मी दूर करते है : 
दही की छाछ या लस्सी बनाकर पीने से पेट की गर्मी शांत हो जाती है। पेट में गड़बड़ होने पर दही के साथ ईसबगोल की भूसी लेने या चावल में दही मिलाकर खाने से दस्त बंद हो जाते हैं। पेट के अन्य रोगों में दही को सेंधा नमक के साथ लेना फायदेमंद होता है।

पेट के रोग :
अमेरिकी आहार विशेषज्ञों के अनुसार दही के नियमित सेवन करने से आंतों के रोग और पेट संबंधित बीमारियां नहीं होती हैं।

दिल के रोग :
दही में दिल के रोग, हाई ब्लड प्रेशर और गुर्दों की बीमारियों को रोकने की गजब की क्षमता है। यह कोलेस्ट्रॉल को बढ़ने से रोकता है और दिल की धड़कन सही बनाए रखती है।
हड्डियों की मजबूती : 
दही में कैल्शियम अधिक मात्रा में पाया जाता है। यह हड्डियों के विकास में सहायक होता है। साथ ही, दांतों और नाखूनों को भी मजबूत बनाता है। इससे मांसपेशियों के सही ढंग से काम करने में मदद मिलती है।

जोड़ो का दर्द : 
हींग का छौंक लगाकर दही खाने से जोड़ों के दर्द में लाभ मिलता है। यह स्वादिष्ट होने के साथ-साथ पौष्टिक भी है।

बवासीर :
बवासीर रोग से पीड़ित रोगियों को दोपहर के भोजन के बाद एक गिलास छाछ में अजवायन डालकर पीने से फायदा मिलता है।

गुरुवार, 30 नवंबर 2017

बेल्ट पहनते समय क्या आप भी करते हैं लाइफ को खतरे में डालने वाली ये गलती?

बेल्ट पहनते समय क्या आप भी करते हैं लाइफ को खतरे में डालने वाली ये गलती?


ज्यादातर लोगों की रोज कमर पर बेल्ट बांधने की आदत होती है। लेकिन ये आदत तब मुसीबत बन जाती है जब हम रोज टाइट बेल्ट बांधते हैं। इसके कारण दिनभर पेट की नर्व्स दबी रहती हैं। ऐसा लंबे समय तक करने से पेल्विक रीजन से निकलने वाली आर्टरी, वेन्स, मसल्स और आंतों पर प्रेशर पड़ता है। इसके कारण स्पर्म काउंट कम हो सकता है, जिससे पुरुषों की फर्टीलिटी घटने की आशंका बढ़ जाती है।

आयुर्वेद एक्सपर्ट डॉ. अबरार मुल्तानी का कहना है कि अगर जरूरी नहीं है तो बेल्ट न पहनें और अगर पहनना ही है तो बेल्ट ढ़ीला करके पहनें। डॉ. मुल्तानी बता रहे हैं रोज बेल्ट पहनने के कुछ नुकसानों के बारे में।

रिसर्च क्या कहती है?

कोरियाई रिसर्चर्स ने 12 पुरुषों पर रिसर्च की जिसमें यह बात सामने आई कि कमर पर टाइट बेल्‍ट बांधने से एब्डॉमिनल मसल्स के काम करने का तरीका बदल जाता है। रिसर्च में यह भी साबित हुआ कि लंबे समय तक टाइट बेल्ट बांधने से रीढ़ की हड्डी में अकड़न आ सकती है। साथ ही सेंटर ऑफ ग्रेविटी में भी बदलाव आता है। इसके कारण घुटनों के जोड़ों पर भी जरूर से ज्यादा प्रेशर पड़ता है, जिससे ज्वाइंट पेन की प्रॉब्लम बढ़ती है।
  • खाने का पाचन ठीक तरीके से नही हो पाता
  • एसिडिटी और कब्ज़ की प्रॉब्लम हो सकती है
  • पैरों की हड्डियाँ कमजोर होने लगती है
  • स्पर्म काउंट कम हो सकता है
  • पैरों में स्वेलिंग आ सकती हैं
  • कमर दर्द की प्रॉब्लम बढ़ सकती है 

बुधवार, 15 नवंबर 2017

दिन में 1 बार जरूर खाएं ये 5 चीजें, बीमारियां हो जाएंगी दूर

दिन में 1 बार जरूर खाएं ये 5 चीजें, बीमारियां हो जाएंगी दूर


स्वस्थ्य शरीर ही जिंदगी की असली पूंजी है। आजकल भागदौड़ भरी जिंदगी में लोग पैसा तो कमी रहे हैं लेकिन सेहत का ध्यान रखने के लिए किसी के पास समय ही नहीं है। सारे दिन में अपने लिए कुछ समय निकाल कर आप हमेशा के लिए स्वस्थ रह सकते हैं। खान-पान के साथ-साथ थोड़ा सा वर्कआउट,योगा या फिर सैर भी जरूर करें। जिससे आपका खाना-पीया आसानी से पच भी जाएगा और उसके पौष्टिक तत्व शरीर को भरपूर मात्रा में मिलते भी रहेंगे। इसके साथ ही आप रोजाना अपने आहार में कुछ जरूरी चीजें शामिल जरूर करें,जिससे आपको बहुत फायदा मिलेगा। 

1. लहसुन
लहसुन के एंटी बैक्टीरियल गुण हर तरह के संक्रमण को रोकने में मददगार है। खाने में इसका इस्तेमाल करने से फ्लेवर भी बढिया हो जाता है। सुबह खाली पेट लहसुन का एक कली पानी के साथ खाने से बहुत सी बीमारियों से बचाव रहता है। ब्लड सर्कुलेशन बेहतर,प्रतिरोधक क्षमता मजबूत,दर्द जैसी और भी बहुत से परेशानियां इससे दूर हो जाती हैं। 
2. हरी इलायची
रोजाना सिर्फ एक इलायची खाने से भी आप तंदुरूस्त रह सकते हैं। इसकी खूशबूू फ्रैशनेस का अहसास दिलाती है। इसके एंटी बैक्टीरियल गुण रैड ब्लड सैस बढ़ाने,पाचन क्रिया मजबूत,पेट की गैस से राहत, सीने की जलन दूर करने के अलावा और भी कई तरह के फायदे पहुंचाती है। 
3. अंजीर
अंजीर का फल सूखाकरव भी खाया जाता है। आयरन,कैल्शियम,प्रोटीन,फाइबर जैसे और भी बहुत से जरूरी पोषक तत्व इसमें शामिल होते हैं। यह खून की कमी दूर,एसीडिटी से राहत, कब्ज से छुटकारा दिलाने में मददगार है। इसके एंटीऑक्सीडेंट गुण शरीर के लिए बहुत फायदेमंद है। वैसे तो इसकी तासीर गर्म होती है लेकिन 1 अंजीर रात को भिगोकर सुबह खाना भी लाभकारी है।  
4. अखरोट
एक अखरोट बहुत सी बीमारियों को दूर भगाने का काम करता है। रोजाना नियमित रूप से इसका सेवन करने से बॉडी को भरपूर एनर्जी मिलती है। यह मैटाबॉलिज्म दुरूस्त और कैंसर जैसी बीमारियों से लड़ने में मददगार है। दिमाग तेज करने के लिए रोजाना एक अखरोट बच्चों को जरूर दें। 
5. छुआरा
छुआरा ड्राई फ्रूट में सबसे खास है। वैसे तो इसकी तासीर गर्म होती है लेकिन गर्मियों में एक छुआरा खाना फायदेमंद होता है। इससे फेफड़ों के रोग दूर, दिल स्वस्थ,खून बढ़ाने, सीने के दर्द से राहत के अलावा और भी कई रोगों में फायदेमंद है। 

सोमवार, 13 नवंबर 2017

जानिए भोजन के बाद सौंफ खाने के है इतने सारे फायदे

जानिए भोजन के बाद सौंफ खाने के है इतने सारे फायदे


स्‍वस्‍थ शरीर के लिए यह जरूरी है की आपका पाचन सही हो, यदि पाचन तंत्र में कोई गड़बड़ी होती है तो हमारे शरीर में तमाम तरह की समस्‍याएं आने लगती हैं जैसे गैस की समस्या, एसिडिटी, कब्‍ज, डायरिया, अपच आदि। मगर कुछ घरेलु नुस्खों को अपनाकर आप अपने पेट को गैस, अपच जैसी बीमारियों से बेहद आसानी से छुटकारा पा सकते हैं। यदि आप खाना खाने के बाद कुछ खास चीजों का सेवन से आपका स्वास्थ्य और पेट दोनों को एकदम दुरुस्त रख सकते है।

अक्सर हम जब भी किसी रेस्तरा से खा कर निकलते है तो हम सौंफ खाते है, आप कहते तो जरूर है मगर क्या आपने सोचा है की सौंफ ही क्यू दिया जाता है, उसके अलावा कुछ और क्यो नहीं। इसके पीछे एक बड़ी वजह है, असल मे इससे हमारा पाचन शक्ति मजबूत होता है, मुंह की दुर्गंध कम होता है। सांस और ह्दय संबंधी बीमारी से भी छुटकारा मिलता है। आयुर्वेद के अनुसार सौंफ को खाना खाने के बाद हर हाल में लेना चाहिए क्योंकि यह शरीर में वजन कम करने में भी मददगार साबित होता है। कहा जाता है की सौंफ के साथ मिश्री लेना सबसे ज्यादा फायदेमंद होता है क्योंकि सौंफ में विटामिन सी, पोटेशियम, मैंगनीज, लोहा, फोलेट और फाइबर शामिल है।

सौंफ खाने के फायदे जानकार आप भी हैरान हो जायेंगे क्योंकि इसमे इतनी सारी खूबिया है की आप इसे चाह कर भी मना नहीं कर पायेंगे।अगर देखा जाए तो इसमें जीवाणुरोधी और एंटी इंफ्लेमेटरी गुण पीड़ादायक मसूड़ों को शांत करने में सौंफ काफी सहायक होता है। बात करे तो सौंफ एक तरह से माउथ फ़्रेश्नर की तरह है, इससे मुंह की बदबू दूर होती है। सौंफ के बीज में अपच, सूजन और पाचन शक्ति को बढ़ाने में मदद करता है। इसके इस्तेमाल से पेट में दर्द और पेट के अंदर सूजन से राहत मिलती है।

आपको बता दे की सौंफ से पेशाब की रुकावट भी दूर होती है इसलिए कहा जाता है की सौंप की चाय पीने से पेशाब के रास्ते की सभी समस्या दूर हो जाती है। आंखों की सूजन कम करने के लिए भी सौंफ का इस्तेमाल किया जाता है। सर्दी-खांसी, फ्लू और साइनस से श्वसन तंत्र के संक्रमण से राहत दिलाने में भी यह मददगार साबित होता है। आपको बता दे की यह पोटेशियम का अच्छा स्त्रोत है, बीपी को कम करता है। विटामिन सी एंटी ऑक्सीडेंट के रूप में काम करता है, यह ह्दय रोग से बचाता है। यह भूख को कम करता है, सौंफ का ताजा बीज प्राकृतिक वसा नाशक के रूप में कार्य करता है इसलिए इसके इस्तेमाल से वजन घटता है।

मंगलवार, 7 नवंबर 2017

15 दिन अगर मेथी दाना खा लिया तो कुछ ऐसा हो जायेगा की सच में चौक जायेंगे

15 दिन अगर मेथी दाना खा लिया तो कुछ ऐसा हो जायेगा की सच में चौक जायेंगे


मेथी के छोटे-छोटे दानों से आपको बड़े- बड़े फायदे हो सकत हैं। यह कई तरीकों से आपको स्वस्थ्य रखने में मदद करता है। मेथी में दानों में विटामिन सी, कैल्शियम, आयरन, पोटैशियम जैसे पोषक तत्व पाए जाते हैं। इसके अलावा नियासिन लाइसिन, ट्रायप्टोिपान और सैपोनिन्सल आदि नाम के कई अन्य पोषक तत्व भी होते हैं। तो आइए जानते हैं छोटे दानों वाली मेथी आपके स्वास्थ्य को किस तरह फायदा पहुंचाती है।

कोलेस्ट्राल लेवल को संतुलित रखता है
प्रतिदिन 56 ग्राम मेथी दानों का 24 हफ्ते तक प्रयोग करने से कोलेस्ट्राल लेवल 14 प्रतिशत तक कम होता है जिससे हार्ट अटैक की संभावना 25 प्रतिशत कम हो जाती है। इसको आप खाने के साथ प्रयोग कर सकते हैं या मेथी के दानों को रात में पानी में भिगोकर, सुबह उसके पानी को पिएं।
शुगर लेवल को कम करता है
मेथी का प्रयोग आपके ब्लड में शुगर की मात्रा को कम कर टाइप-2 डायबिटीज का उपचार करता है। इसके लिए 500 मिलीग्राम मेथी के दानों का दिन में दो बार प्रयोग करें।
शुगर  में सूजन और जलन दूर करता है
रिसर्च से पता चलता है कि मेथी स्किन रोगों फोड़े-फफोले, खुजली, त्वचा में जलन और गठिया जैसे रोगों में बहुत लाभकारी है। एक चम्मच मेथी के पाउडर को गर्म पानी में मिलाएं और कपड़े का साफ टुकड़ा लेकर मिश्रण में डुबाकर उसे स्किन के प्रभावित क्षेत्र पर लगाएं या थोड़ी देर बांध कर रखें इससे आपको काफी राहत मिलेगी।
एसिडिटी से राहत
मेथी में पाया जाने वाला लसलसा पदार्थ पेट और आंत में होने वाली जलन को रोकता है, जो सीने की जलन और एसिडिटी से बचाता है। इसके पाउडर को खाने में छिड़क कर सकते हैं। दूसरा तरीका इसके बीजों को पानी के साथ निगल सकते या फिर खाने के पहले इसका जूस बना कर भी पी सकते हैं।
बुखार से बचाए
नींबू और शहद के साथ प्रयोग करने पर यह आपको बुखार से आराम दिलाता है। बीमारी के समय यह शरीर को जरूरी पोषण प्रदान करता है। बुखार के दौरान दो चम्मच मेथी दाने में एक चम्मच शहद और नीबू का रस मिलाकर हर्बल चाय की तरह दिन में तीन बार प्रयोग करें।

स्तन वृद्धि में असरदार
मेथी के प्रयोग से कई तरह की चाय और अन्य उत्पाद बनाए जाते हैं जो कि स्त्रियों के हार्मोंस को नियंत्रित रखते हैं और स्तनों की वृद्धि में सहायक होते हैं। स्तनों वृद्धि के लिए मेथी को प्रतिदिन अपने डाइट में शामिल करें। 3 ग्राम मेथी के दानों का प्रतिदिन प्रयोग करें। मेथी का प्रयोग गर्भाशय में संकुचन( दबाव) पैदा कर बच्चे के जन्म को आसान बनाने में सहायक होता है। हालांकि गर्भवती महिलाओं को डॉक्टर के परामर्श के बाद ही इस उपाय का उपयोग करना चाहिए।

महिलाओं के दूध को बढ़ाने में फायदेमंद
मेथी स्तनपान कराने वाली महिलाओं में दूध बढ़ाने के लिए जाना जाता है। रिसर्च के अनुसार मेथी के प्रयोग से 24 से 72 घंटे के अन्दर 500 प्रतिशत अधिक दूध की वृद्धि देखी गई है। इसलिए जो महिलाएंं बच्चों को नियमित रूप से स्तनपान कराती हैं उनको दूध में वृद्धि के लिए एक-एक मेथी कैप्सूल( 500एम.जी) दिन में तीन बार प्रयोग करें।

शुक्रवार, 27 अक्तूबर 2017

शंख सिर्फ हिन्दू धर्म का पवित्र धार्मिक प्रतीक ही नहीं है बल्कि सेहत का खज़ाना भी है

शंख सिर्फ हिन्दू धर्म का पवित्र धार्मिक प्रतीक ही नहीं है बल्कि सेहत का खज़ाना भी है


शंख बजाने के अलावा इसमें रखा पानी कई बीमारियों में फ़ायदा करता है शंख में कैल्शियम और फास्फोरस के अलावा कई मिनरल्स होते हैं जो हेल्थ के लिए फायदेमंद होते हैं शंख से जुड़े ऐसे हेल्थ बेनिफिट्स जिनके बारे में शायद आप भी नहीं जानते होंगे.

1. शंख बजाने से फेंफडे फैलते हैं अस्थमा और सांस से जुड़ी समस्याओं में फायदा होता है.
2. रेक्टल मसल्स सिकुड़ती और फैलती है इससे उनकी एक्सरसाइज होती है गैस्ट्रिक और पेट की कई प्रॉब्लम दूर होती है.
3. प्रोटेस्ट मसल्स की एक्सरसाइज होती है पर उनमे सूजन नहीं आती.
4. यूरिनरी ब्लैडर की एक्सरसाइज होती है और इनसे रिलेटेड बिमारियों से बचाव होता है.

ये भी पढ़िए : शंख में छिपे हैं सेहत के ये राज, जानिये कैसे

5. शंख बजाने से चेस्ट की मसल्स की टोनिंग होती है.
6. गले की मसल्स की एक्सरसाइज होती है. वोकल कार्ड और थाइरायड से जुडी प्रॉब्लम्स में फायदा होता है.
7. ब्रेन और पूरी बॉडी में ब्लड सर्कुलेशन तेज होता है. हेयर फॉल की प्रॉब्लम भी दूर होती है.
8. फेस की मसल्स की एक्सरसाइज होती है. झुर्रियों से बचाव होता है.
9. रातभर शंख में रखे पानी से सुबह स्किन की रेगुलर मसाज करे. स्किन डिजीज में फायदा होता है. इस रखे पानी में गुलाब जल मिलाकर बाल धोने से बाल काले, मुलायम और घने होते है. इसके अलावा इसको तीन चम्म्च सुबह खाली पेट पीने से कब्ज जैसी तकलीफों में फायदा होता है. और इसमें उतना ही सादा पानी मिलाकर आँखों को धोने से आँखें हेल्दी रहती है.
10. नहाने के बाद शंख को स्किन पर हल्के-हल्के रगड़ने से स्किन ग्लो करती है.

मंगलवार, 24 अक्तूबर 2017

पाद को रोकने से होता है नुकसान, जानिए गैस छोड़ने के 7 फायदे

पाद को रोकने से होता है नुकसान, जानिए गैस छोड़ने के 7 फायदे


ज़िंदगी में हमें तरह-तरह की स्थितियों का सामना करना पड़ता है। इन्हीं में से एक है पाद का आना। जब चार लोग एक ग्रुप में बैठे हों और कहीं से गन्दी बदबू आ जाए तो सब एक-दूसरे पर इस तरह शक करने लगते हैं। मानो किसी ने गैस पास नहीं की हो बल्कि किसी का खून कर दिया हो। और तो और कुछ लोगों का व्यवहार तो ऐसा होता है मानो उनके पेट में गैस बनती ही नहीं है। इस हालत में गैस पास करने वाला आदमी भी ऐसा व्यवहार करने लगता है कि उसने कुछ नहीं किया है। कारण कि इतनी जिल्लत कौन झेले।


इस बीच कुछ लोग ऐसे भी होते हैं जो धीरे-धीरे से गैस पास कर देते हैं। कुछ ऐसे भी होते हैं जो शर्मिंदगी से बचने के लिए लम्बे समय तक पाद को रोककर रखते हैं। मगर एक्सीटर यूनिवर्सिटी में हुए अध्ययन में सामने आया है कि पेट में बनने वाली गैस को जबरन रोककर नहीं रखना चाहिए। इसका नुकसान है। इसके उलट गैस पास करने के फायदे हैं। आज बात उन्हीं कुछ बिंदुओं पर।

पादने पर निकलने वाली गैस में होते हैं ऐसे तत्व
जब कोई इंसान पादता है, तब उसके शरीर से निकलने वाली गैस में सामान्‍य तौर पर 59% नाइट्रोजन, 21% हाइड्रोजन, 9% कार्बन डाईऑक्‍साइड, 7% मीथेन, 4% ऑक्‍सीजन और सिर्फ 1% सल्‍फर युक्‍त गैस होती शामिल होती है।

सल्फर वाली डाइट से आती है दुर्गन्ध 
हमारी डाइट में मौजूद सल्फर ही पाद से आने वाली बदबू की मुख्य वजह होता है। पत्‍तागोभी, बीन्‍स, चीज, सोडा और अंडे आदि में सल्फर मौजूद होता है। इनके सेवन से हमारे शरीर में ज्यादा बदबूदार गैस बनती है।
 यह भी पढ़िये :  
जन्मदिन का महीना बताता है कि आप कैसे बनाते हैं संबंध?

एक दिन में इतनी बार पादता है इंसान
इंसान एक दिन में औसतन 14 बार पादता है। यह आंकड़ा महिलाओं और पुरुषों में एक जैसा है। हाँ, वो बात अलग है कि इस तथ्य को महिलाएं नहीं मानती।

पेट दर्द से बचाता है
गैस को ज्यादा देर तक रोकने से पेट दर्द की समस्या हो सकती है। गैस को वक्त पर छोड़ते रहना आपको इससे बचा सकता है।
 यह भी पढ़िये :
ये संकेत दिखाई दे तो समझ जाना आपकी किडनी फेल हो रही है

संभव हो तो यह भी कर लें
अगर संभव हो तो गैस पास करने से पहले पेट की मसाज भी कर लें। इससे गैस ठीक तरह से आपके पाचन तंत्र से निकल जाएगी।


इस तरह चल जाता है पता
पाद की बदबू बहुत तेज है या नार्मल। इस बात से पता लगाया जा सकता है कि आपने संतुलित आहार लिया है या नहीं।

जैसे कि अगर आपने सोडियम युक्त खाना ज्यादा खा लिया है तो आपके पाद से तेज बदबू आती है। वहीं अगर आपने ज्यादा कार्बोहाइड्रेड युक्त खाना खाया है तो आपको पाद ज्यादा आती है लेकिन उसकी बू नार्मल रहती है।

इस तरह लग जाता है एलर्जी का पता
पाद से lactose intolerance (दूध की एलर्जी) या अन्य कोई पाचन सम्बंधित एलर्जी का भी पता लगाया जा सकता है। अगर आपको कुछ विशेष प्रकार की चीजें खाने की वजह से ज्यादा गैस बनती है तो इसका मतलब है कि आपको उस चीज से एलर्जी है।

बड़ी आंत की सेहत के लिए भी है अच्छा 
पाद को रोककर रखने से बड़ी आंत में भी परेशानी हो सकती है। ऐसे में जिन्हें बड़ी आंत को लेकर कोई समस्या रहती है उन्हें गैस को बिलकुल रोककर नहीं रखना चाहिए।
 यह भी पढ़िये : 
99 प्रतिशत ब्लॉकेज को भी रिमूव कर देता है पीपल का पत्ता

पाद सूंघने के फायदे
एक रिसर्च के अनुसार छोटी मात्रा में पाद को सूंघना स्वास्थ्य के लिए अच्छा होता है। पाद में हाइड्रोजन सल्फाइड गैस होता है। छोटी मात्रा में यह शरीर में जाने से कैंसर, दिल का आघात, दौरा और गठिया होने की संभावना कम हो जाती है।

पेट की सूजन को करता है कम

आंत में बनने वाली गैस की वजह से कई बार पेट की सूजन हो जाती है। यही कारण है कि गैस को रोकने की आदत छोड़ देना चाहिए।

यह आनंद देता है

यह बात तो हर कोई मानता है कि गैस पास कर देने के बाद एक अलग तरह के सुकून की प्राप्ति होती है। बस तो फिर गैस को रोकिये मत। मौका मिलते ही पास कर दीजिए। 

रविवार, 22 अक्तूबर 2017

रात को खाने के बाद लें सिर्फ 1 चुटकी काला जीरा, फिर देखें कमाल

रात को खाने के बाद लें सिर्फ 1 चुटकी काला जीरा, फिर देखें कमाल


पतला होना यानि की मोटे शरीर से स्लिम-ट्रिम होना कौन नहीं चाहता और इसके लिए लोग खासी मशक्त भी करते हैं। सुबह-सुबह उठकर जिम जाना कई किलोमीटर तक भाग-भागकर पसीना बहाना तब जाकर कहीं इस मोटापे से छुटकारा मिलने के आसार नज़र आते हैं। और उसके बाद वही उबला हुआ बेस्वाद खाना। कभी आपने सोचा तो जरूर होगा कि क्या किसी हाजमे को छीक करने वाले चूरन की तरह इस मोटी चर्बी वाले शरीर के लिए भी कोई चूरन बना होता तो क्या बात होती। खैर अभी भी कुछ नहीं बिगड़ा है, क्योंकि अभी भी एक ऐसी चीज़ है जिसे चुटकी भऱ खाने के बाद आपको किसी भी जिम में पसीना बहाने की जरूरत नहीं महसूस होगी। खासकर लड़कियों को जिनके लिए अपने पूरे दिन का शेड्यूल मैनेज करना बहुत ही मुश्किल होता है।

यकीन मानिए इसे खाने के बाद आपको किसी भी तरह का साइड इफेक्ट नहीं होगा। यह हर तरह से फायदेमंद है। दरअसल हम बात कर रहे है खाने में इस्तेमाल होने वाले काले जीरे की, जिसे अक्सर पेट दर्द में भी हम खा लिया करते है। रसोई घर में ज्यादातर इसका इस्तेमाल होता है औऱ यह आसानी से आपको हर में मिल जाएगा।
इसके बाद भी कोई बड़ा बदलाव नहीं हासिल होता उन्हें, लेकिन अब जीरा वजन कम करने में आपकी मदद करेगा। खाने के स्वाद को बढ़ाने वाला जीरा, खासतौर से दाल में डालने वाला जीरा हर किसी को पसंद है। कुछ लोग चावल पकाते समय भी जीरे का प्रयोग करते हैं, क्योंकि इसके खुशबू भी काफी अच्छी लगती है जो पकवान की सुगंध को बढ़ा देती है।
वजन कम करने के साथ साथ यह बहुत सारी अन्य बीमारियों से भी बचाता है, जैसे कोलेस्ट्रॉल कम करता है, हार्ट अटैक से बचाता है, स्मरण शक्ति बढ़ाता है, खून की कमी को ठीक करता है, पाचन तंत्र ठीक कर गैस और ऐंठन ठीक करता है।
दो बड़े चम्मच जीरा एक गिलास पानी मे भिगो कर रात भर के लिए रख दें। सुबह इसे उबाल लें और गर्म-गर्म चाय की तरह पियें। बचा हुआ जीरा भी चबा लें। इसके रोजाना सेवन से शरीर के किसी भी कोने से अनावश्यक चर्बी शरीर से बाहर निकल जाती है। लेकिन ऐसी भी होता है कि कई लोगों को इसका टेस्ट पसंद नहीं आता वो इसे सादा खाना पसंद नहीं करते तो आप एक काम कर सकते हैं कि जब भी कुछ पकायें तो जीरा पाऊडर उसमे मिला लिजिए। इसका इस्तेमाल खाने में रोजाना करें तो ज्यादा बेहतर है।
इसके अलावा़ आप 5 ग्राम दही में एक चम्मच जीरा पाउडर मिलाकर यदि इसका रोज़ाना सेवन करें, एक हफ्ते के अंदर-अंदर आपको फर्क महसूस होने लग जाएगा।

3 ग्राम जीरा पाउडर को पानी में मिलाएं इसमें कुछ बूंदें शहद की डालें फिर इसे पी जाएं। वेजिटेबल यानि सब्जियों के उपयोग से सूप बनाएं, इसमें एक चम्मच जीरा डालें। या फिर ब्राउन राइस बनाएं इसमें जीर डालें यह सिर्फ इसका स्वाद ही नहीं बढ़ाएगा बल्कि आपका वजन भी कम करेगा।
अदरक और नींबू दोनों जीरे की वजन कम करने की क्षमता को बढ़ाते हैं। इसके लिए गाजर और थोड़ी सब्ज़ियों को उबाल लें इसमें अदरक को कद्दूकस यानि कि बिल्कुल बारीक कर लें, साथ ही ऊपर से जीरा और नींबू का रस डालें और इसे रात में खाएं।

जीरे में मौजूद पोषक तत्व और एंटीऑक्सीकडेंट आपकी पाचन शक्ति को बढ़ाता है, जिससे पेट की चर्बी कम करने में मदद मिलती है। यह चर्बी ही तो मोटापे को दावत देती है। जिसे जीरा आसानी से खत्म कर देता है।इसके अलावा जीरा खाने को पचाने में मदद करता है जिससे गैस कम बनती है। जीरा गैस को बनने से रोकता है जिससे पेट और आंतों में अच्छे से खाना पच जाता है।

गुरुवार, 19 अक्तूबर 2017

दिवाली फूड्स से हो जाए एसिडिटी, तो इन चीजों से पाएं इससे छुटकारा

दिवाली फूड्स से हो जाए एसिडिटी, तो इन चीजों से पाएं इससे छुटकारा


दिवाली है तो खाने-पीने पर आपका कंट्रोल सोचकर भी मुश्किल है। दिवाली की ढेरों चटपटी डिशेज और मिठाइयों के कारण आपको एसिडिटी के समस्या हो सकती है। कुछ फूड्स आपके शरीर में एसिड पैदा कर सकते हैं जिसके कारण एसिडिटी हो सकती है। एसिडिटी के कारण सीने में जलन की समस्या भी हो सकती है जिससे आपको काफी बैचेनी होती है।

यहां ऐसे 5 घरेलू उपचार बताए जा रहे हैं जो इस दिवाली एसिडिटी को दूर करने के काम आएंगे:

केला: 
बैचेनी कम करने के लिए पका हुआ केला खाएं। अगर ज्याद दिक्कत हो तो ज्यादा पका हुआ केला खाना फायदेमंद रहेगा क्योंकि इसमें पोटेशियम की मात्रा ज्यादा होती है जो इसे परफेक्ट एंटीडोट बनाता है।

तुलसी: 
पांच से छह तुलसी के पत्ते खाइए अगर आपकी एसिडिटी ज्यादा परेशान कर रही हो।

सौंफ
थोड़ी-सी सौंफ खाना एसिडिटी के लक्षणों को कम करने में मदद मिल सकती है लेकिन लंबे उपचार के लिए थोड़ी सौंफ को पानी में उबाले और रातभर रखें। दिनभर इस पानी को पीने से आपकी एसिडिटी के कारण हो रही बैचेनी दूर होगी।

जीरा: 
जब भी एसिडिटी महसूस हो, थोड़ा-सा जीरा लें और उसे अच्छे से चबाएं। इसे भी आप पानी में उबाल कर इस घोल को ठंडा होने पर पी सकते हैं।

ईलाइची: 
एसिडिटी दूर करने में ईलाइची काफी मदद कर सकती है, इसे बिना छिलके या छिलके सहित खा सकते हैं।

बुधवार, 20 सितंबर 2017

खाली पेट चाय पीने के ये नुकसान आपको डरा सकते हैं

खाली पेट चाय पीने के ये नुकसान आपको डरा सकते हैं


चाय किसे नहीं पसंद होता है। हमारे देश में एक संस्कृति बनी हुई है, सुबह- शाम चाय पीने की। पहले यह सिर्फ शहरों में देखने को मिलता था, लेकिन अब यह धीरे- धीरे गाँवों में भी देखा जाने लगा है। लोग अक्सर चाय का मतलब समझते हैं कि इससे थकान मिट जाती है। लेकिन क्या यह सच में थकान मिटाने का ही काम करता है। चाय को खाली पेट पीने से कई नुकसान भी हो सकते हैं। अगर आप भी खाली पेट चाय पीते हैं, तो थोड़ा संभल जाइए। आइये जानते हैं, खाली पेट चाय पीने से शरीर को कौन- कौन सी परेशानियाँ हो सकती हैं।

कुछ लोगों को आदत होती है सुबह उठते ही बिस्तर पर चाय पीने की, अगर आपको भी यही आदत है तो जितना जल्दी हो सके इस आदत को बदल डालिए। बिस्तर पर चाय पीने से इंसान के शरीर में वाइड जूस की प्रक्रिया अनियमित हो जाती है, जिससे व्यक्ति को घबराहट होने लगती है।

  • ज्यादा चाय पीने से अनिद्रा की समस्या घेर लेती है।
  • अगर आप ज्यादा मीठी चाय पीने के शौक़ीन हैं तो आपको मोटापे की समस्या हो सकती है।
  • सुबह- सुबह खाली पेट चाय पीने से न्युरोलोजिकल समस्याएँ हो सकती हैं, जिससे धीरे- धीरे भूख ना लगने की भी समस्या उभर आती है।
  • सुबह- सुबह ज्यादा गर्म चाय पीने से गले के टिशू को भी नुकसान पहुँचता है।
  • ज्यादा चाय पीने से भविष्य में अल्सर होने की भी सम्भावना बनी रहती है।
  • चाय में कैफीन भी पाया जाता है, जो शरीर को नुकसान पहुँचाने का काम करता है।
  • अगर आप रोजाना खाली पेट चाय पीने के शौक़ीन हैं तो आपको एसीडिटी की समस्या भी हो सकती है।
  • अगर आप हर रोज सुबह उठकर चाय का सेवन करते हैं तो आपके शरीर में प्रोटीन की कमी हो जाती है।

तो आपने देखा कि चाय के बारे में लोगों के मन में गलत धारणा बनी हुई है कि इससे थकान दूर होती है, जबकि ऐसा कुछ भी नहीं होता है। उल्टा इसके ज्यादा सेवन से शरीर को कई समस्याएँ घेर लेती हैं।

सुबह उठकर खाली पेट चाय पीने के नुकसान:

1. सुबह उठकर खाली पेट चाय पीने से बाइल जूस की प्रक्रिया अनियमित हो जाती है. जिसके चलते आपको मिचली आ सकती है और घबराहट महसूस हो सकती है.

2. आमतौर पर ब्लैक टी को सेहतमंद माना जाता है लेकिन बहुत अधिक ब्लैक टी पीना सेहत के लिए नुकसानदेह हो सकता है. सामान्य तौर पर माना जाता है कि ब्लैक टी पीने से वजन कम होता है लेकिन ब्लैक टी पीने से पेट फूल जाता है और भूख नहीं लगती है.

3. आमतौर पर लोग दूध वाली चाय पीना पसंद करते हैं. पर कम ही लोगों को पता होगा कि खाली पेट दूध वाली चाय पीने से जल्दी थकान महसूस होती है. साथ ही व्यवहार में भी चिड़चिड़ापन आ जाता है.

4. अगर आप भी उन लोगों में से हैं जिन्हें स्ट्रांग टी पीना अच्छा लगता है तो संभल जाइए. ज्यादा स्ट्रांग चाय पीने वालों को अल्सर होने का खतरा रहता है. इससे पेट की अंदरुनी सतह में जख्म हो जाने की आशंका बढ़ जाती है.

5. कई लोग एक ही बार ज्यादा चाय बना लेते हैं और उसे बार-बार गर्म करके पीते रहते हैं. बार-बार गर्म करके चाय पीना खतरनाक हो सकता है.
खाना खाने के तुरन्त बाद कभी न करें ये काम, सेहत पर पड़ता है खतरनाक प्रभाव

खाना खाने के तुरन्त बाद कभी न करें ये काम, सेहत पर पड़ता है खतरनाक प्रभाव


सेहत बनाने के लिए लोग अच्छा से अच्छा भोजन लेते हैं लेकिन कई बार उसका बेहतर परिणाम मिलता नही दिखता है जानते हैं क्यों? ..क्योंकि अच्छी सेहत के लिए पौष्टिक आहार लेना ही काफ़ी नहीं है.. आहार का पचना और उसके पोषक तत्वों का शरीर को मिलना भी ज़रूरी होता है। कई बार ऐसा हो नहीं पाता, वजह हो सकती है खाने के बाद आपकी कुछ आदतें… ज़रा नज़र दौड़ाइए उन आदतों पर, जो आप खाना खाने के बाद करने के आदी हों। इन आदतों का ख़ामियाज़ा आपकी सेहत को भुगतना पड़ सकता है। आइए, जानते हैं ऐसी ही कुछ बुरी आदतें, जो दबे पांव आपको कर रही हैं बीमार।

1. तुरन्त पानी पीने से बचे
जानकर कहते है खाना खाने के बाद वैसे भी पानी की अधिक मात्रा हमारे लिए हानिकारक होती है वो इसलिए क्योंकि खाने बाद हमारे शरीर का तापमान सबसे अधिक होता है जब हमारा पेट भोजन को पचा रहा होता है इसलिए अगर अधिक प्यास लगी हो तो आप थोडा कम तापमान वाला पानी खाने के बीच में या थोडा पानी खाने के बाद पी सकते है लेकिन ठन्डे पानी से बिलकुल परहेज करें |

2. न करें धूम्रपान
सिगरेट पीना अपने आप में एक बुरी लत है, जिससे हार्ट और सांस संबंधी कई तरह की बीमारियां घर कर जाती हैं. पर एक्सपर्ट्स की मानें तो खाने के ठीक बाद स्मोक करना दस गुना खतरनाक हो सकता है. खाना खाने के बाद पी गई एक सिगरेट आमतौर पर पी गई 10 सिगरेट के बराबर नुकसान पहुंचाती है. साथ ही इससे कैंसर का खतरा भी काफी बढ़ जाता है।

3. फल खाने का समय हो सही
खाने के तुरंत बाद मीठा खाने के शौक़ीन कई बार ये ग़लती कर बैठते हैं मीठा खाने के चक्कर में वो फल खाना पसंद करते हैं। यूं तो फल को सेहत के लिए फ़ायदेमंद माना जाता है, लेकिन खाने के तुरंत बाद फल खाना नुक़सानदेह हो सकता है। इससे अपच, पेट में भारीपन या जलन, एसिडिटी की शिकायत हो सकती है। साथ ही फल खाने के साथ चिपक जाता है और उसे आंतों तक पहुंचने में देर लगती है, ऐसे में फल के सारे पोषक तत्व शरीर को नहीं मिल पाते। फल में बड़ी मात्रा में एसिड, ग्लूकोज़, फ्रक्टोज़, स्टार्च आदि होते हैं, जो खाना पचाने की प्रकिया को धीमा कर देते हैं। खाने से दो घंटे पहले या दो घंटे बाद फल खाना बेहतर होता है।

4. चाय से करें परहेज
चाय की पत्त‍ियों में उच्च अम्लीयता होती है. इससे प्रोटीन के पाचन पर असर पड़ता और वो आसानी से डाइजेस्ट नहीं हो पाता है. ऐसे में कोशिश करनी चाहिए कि खाने के एक से दो घंटे बाद ही चाय पिएं.

5. खाने के बाद बेल्ट ढीला न करें
अक्सर पसंद का खाना देख पर हम अपनी बेल्ट को ढीला कर देते हैं. इसका साफ मतलब ये है कि आप जरूरत से ज्यादा खा रहे हैं. ओवरईटिंग किसी भी लिहाज से अच्छी बात नहीं है. इसलिए कोशिश करें कि उतना ही खाएं जितने की भूख हो वरना ये अपच का कारण भी बन सकता है।

6. न नहाएं
नहाना एक शारीरिक क्रिया है. इस दौरान हाथ और पैर सक्रिय अवस्था में होते हैं जिससे इन अंगों का ब्लड फ्लो काफी बढ़ जाता है. इन अंगों में ब्लड फ्लो बढ़ने से पेट में रुधिर प्रवाह पर असर पड़ता है और पाचन क्रिया प्रभावित होती है।

7. तुरंत टहलने न जाएं
खाने के बाद टहलना एक अच्छी आदत है लेकिन खाने के तुरंत बाद टहलने से पाचन क्रिया पर असर पड़ता है. टहलने में हमारे शरर की एनर्जी बर्न होती है जबकि शरीर के अंदर पाचन क्रिया के लिए भी ऊर्जा की आवश्यकता होती है. ऐसे में खाने के कुछ देर बाद टहलना एक अच्छी क्रिया हो सकती है पर खाने के साथ ही टहलने निकल जाना उल्टा असर डाल सकता

शनिवार, 16 सितंबर 2017

अगर आप भी परेशान हैं पुरानी कब्ज से चिंता छोड़ अपनाएँ ये आसान घरेलू उपाय, जल्द मिलेगा लाभ

अगर आप भी परेशान हैं पुरानी कब्ज से चिंता छोड़ अपनाएँ ये आसान घरेलू उपाय, जल्द मिलेगा लाभ


इंसान को अपने जीवन में कई तरह की शारीरक समस्याओं का सामना करना पड़ता है। इनमें से कुछ बहुत ज्यादा गंभीर बीमारी होती है तो कुछ साधारण बीमारी, जो लगभग हर किसी को होती है। हालांकि समय पर इलाज से इससे पूरी तरह से मुक्ति पायी जा सकती है। इनमें से ही एक बमारी है कब्ज। यह एक बहुत ही आम समस्या है, जिससे हर दूसरा आदमी परेशान रहता है। कब्ज की समय गलत खान-पान, पानी की कमी और रात को खाना खाने के बाद तुरंत सो जाने की वजह से होता है. 

कब्ज का इलाज सही समय पर है बहुत जरुरी:
इस वजह से पेट अच्छे से साफ़ नहीं होता है और अफारा और एसिडिटी की समस्या हो जाती है। सही समय पर कब्ज का इलाज ना करने पर यह बबासीर और पेट के अल्सर का कारण भी बन जाता है। कुछ ऐसे घरेलू उपाय हैं, जिन्हें अपनाकर पेट के अल्सर से मुक्ति पायी जा सकती है। आइये आज हम आपको बताते हैं ऐसे ही कुछ आसान तरीकों के बारे में जो आपके पुराने से पुराने कब्ज को पल भर में ठीक कर देता है।

कब्ज से मुक्ति पाने के लिए अपनाएँ ये:

*- अमरुद:
अमरुद पेट के लिए बहुत ही अच्छा फल होता है। यह आपके पेट को साफ़ करने में मदद करता है। हर रोज सुबह-सुबह अमरुद के साथ सेंधा नमक लगाकर खाने से कब्ज की समस्या दूर होती है। रात को अगर खाना हो तो रात के खाने से पहले ही अमरुद खाएं, खाना खाने के बाद अमरुद खाने से कब्ज की समस्या और बढ़ जाती है।
*- छुआरा:
जो लोग कब्ज की पुरानी बिमारी से ग्रस्त हैं, उन्हें हर रोज छुआरा खाना चाहिए। हर सुबह तीन से चार छुआरों को खाने के बाद गर्म पानी पिएं। ऐसा करने से आपका पेट पूरी तरह साफ़ हो जायेगा। रात को सोते समय आप छुआरे वाला दूध भी पी सकते हैं।

*- निम्बू:
कब्ज में निम्बू बहुत ही फायदा करता है। हर रात सोने से पहले एक गिलास गुनगुने पानी में एक निम्बू का रस मिलायें और उसका सेवन करें। ऐसा करने से सुबह पेट अच्छे से साफ़ हो जायेगा और आप तरोताजा भी महसूस करेंगे। हर रोज इसका इस्तेमाल करने से कब्ज से हमेशा के लिए छुटकारा मिल जायेगा।
यह भी पढ़िए: रात को नहीं खानी चाहिए ये 10 चीजें
*- सेब:
सेब में भरपूर मात्रा में एंटी-ऑक्सीडेंट मौजूद होता है, यह पेट साफ़ करने में मदद करता है। कब्ज की समस्या से परेशान व्यक्ति को हर सुबह खली पेट एक सेब का सेवन करना चाहिए।

*- बेकिंग सोडा:
रात को सोने से पहले एक चौथाई कप गुनगुने पानी में एक चम्मच बेकिंग सोडा मिलाकर पिएं। जब आप सुबह उठेंगे तो आपका पेट बिना किसी परेशानी के अच्छी तरह साफ़ हो जायेगा। कुछ दिन ऐसा ही करने से कब्ज हमेशा के लिए दूर हो जायेगा।