किडनी खराब लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
किडनी खराब लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

गुरुवार, 14 दिसंबर 2017

अगर सर्दियों में आप भी रोकते हो पेशाब तो संभल जाएँ, नही तो पछताओगे….

अगर सर्दियों में आप भी रोकते हो पेशाब तो संभल जाएँ, नही तो पछताओगे….


अगर आप भी पेशाब लगने के टाइम पर ना कर कुछ देर तक रोके रहते है तो हो जाए सावधान। आप बहुत बडी मुसीबत में पड सकते है। आज कल भागदौड की जिन्दगी में लोग अपनी नित्य क्रियाएं भी जल्दी जल्दी में करते है जिससे उनके स्वास्थ में असर पडता है। विज्ञान भी मानता है कि शौच का समय में न करना हमारे शरीर पर बुरा असर डालता है। आज हम आपको बताएगें कि पेशान को रोकना हमारे शरीर में क्या क्या बुरा प्रभाव डालता है.

क्यों नही रोकना चाहिए पेशाब, जाने…

हमे पेशाब लगती है हम उसे कुछ देर तक रोके रहते हैं और जब हम इसे आगे रोके नहीं रह सकते तब हम पेशाब करने जाते हैं। ये गलत है क्यूंकि इससे आपके ब्लैडर पर बुरा असर पड़ता है एवं ऐसा लगातार करने से आपकी किडनियां भी खराब हो सकती हैं।
अगर आप कम पानी पीते है तो यह आपके  शरीर पर बेहद बुरा प्रभाव डाल सकता है। जब आप पर्याप्त मात्रा में पानी पीते है तब आपके शरीर से गंदे पदार्थ सही तरीके से बाहर निकल पाते हैं। काम पानी पीने पर आपके पेशाब का रंग पीला हो सकता है। अगर ऐसा हो तो आपको और पानी पीने की आवश्यकता है। यूरीन को एक से दो घंटे रोकने के कारण महिलाओं व कामकाजी युवाओं में यूरीन संबंधी दिक्कतें आती है। जिसमें शुरूआत ब्लेडर में दर्द होता है। साथ ही 8 से 10 घंटे बैठ कर काम करने वाले युवा अक्सर यूरीन रोकने कि आदत डाल लेते है.जबकि यह बहुत गलत बात है.  जबकि इस दौरान किडनी से यूरिनरी ब्लेडर में पेशाब इकठ्ठा होता रहता है। हर एक मिनट में दो एमएल यूरीन ब्लेडर में पहुंचता है जिसे प्रति एक से दो घंटे के बीच खाली कर देना चाहिए।
ब्लेडर खाली करने में तीन से चार मिनट की देरी में पेशाब दोबारा किडनी में वापस जाने लगता हैए इस स्थिति के बार-बार होने से पथरी की शुरूआत हो जाती है। क्योंकि पेशाब में यूरिया और एसिड जैसे टॉक्सिक तत्व मौजूद होते हैं।अगर आप टाइट कपडे पहनकर ज्यादा देर तक पेशाब रोके रखते हैं तो इससे भी आपके ब्लैडर को नुक्सान पहुँच सकता है क्युकी इससे आपके ब्लैडर को फैलने की पर्याप्त जगह नहीं मिल पाती और आपके ब्लैडर पर अत्यधिक दबाव पड़ता है कुछ लोग यूरीन को कुछ मिनट के लिए तो कुछ से लंबे समय तक रोक कर रखते है। आप यूरीन कितनी देर तक रोक कर रखते हैं यह यूरीन की उत्‍पादन मात्रा पर निर्भर करता है। इसके अलावा यह हाइड्रेशन की स्थितिए तरल पदार्थ और ब्‍लैडर की कार्यक्षमता पर भी निर्भर करता है। लेकिन यूरीन को अक्‍सर रोककर रखने वाले लोग इसे पता लगाने की अपनी क्षमता को खो देते हैं। जितना लंबे समय तक आप यूरीन को रोककर रखेगें आपका ब्‍लैडर बैक्‍टीरियों को अधिक विकसित कर कई प्रकार के स्‍वास्‍थ्‍य जोखिम का कारण बन सकता है।

आप भी ना रोकें पेसाब. अगर आपको हमारी पोस्ट पसंद आई तो हमें जरुर बताये, इस पोस्ट को अधिक से अधिक शेयर करे ताकि बाकि लोग भी यह पढ़ सके.

रविवार, 8 अक्तूबर 2017

ये संकेत दिखाई दे तो समझ जाना आपकी किडनी फेल हो रही है

ये संकेत दिखाई दे तो समझ जाना आपकी किडनी फेल हो रही है


किडनी हमारे शरीर का सबसे महत्वपूर्ण अंग है। किडनी का काम शरीर से विषैले पदार्थों को बाहर निकालना होता है जिससे शरीर कई तरह की बीमारियों से दूर रहता है। ऐसे में किडनी का स्वस्थ होना बहुत जरूरी है लेकिन कई बार लाइफस्टाइल और गलत खान-पान के कारण किडनी पर बुरा असर पड़ता है।


किडनी खराब होने के बारे में पता लगाना थोड़ा मुश्किल होता है। ऐसे में जब शरीर में कुछ संकेत दिखाई दें तो समझ लेना चाहिए कि किडनी फेल हो रही है...

1. किडनी शरीर से विषैले पदार्थों को बाहर निकालने का काम करती है लेकिन जब किडनी खराब हो जाती है तो शरीर में फालतू पदार्थ जमा हो जाते हैं जिससे टिशू में सूजन आ जाती है और वजन बढ़ने लगता है।

2. अगर आपको सामान्य के हिसाब से यूरिन कम आता है तो समझ लेना चाहिए कि किडनी सही तरह से काम नहीं कर रही।
इसे भी पढ़ें : पांच दिनों में करें मोटापे को खत्म और किडनी की सफाई भी..
3. किडनी हमारे शरीर में हीमोग्लोबिन के स्तर को संतुलित रखती है लेकिन जब किडनी खराब हो जाती है तो शरीर में हीमोग्लोबिन का स्तर कम हो जाता है और एनीमिया की समस्या हो जाती है। ऐसे में खून की कमी होने पर व्यक्ति हर समय थकान महसूस करता है।

4. किडनी शरीर से फालतू पदार्थ बाहर निकालने का काम करती है लेकिन जब यह सही तरीके से काम नहीं करती तो विषैले पदार्थ बाहर नहीं निकल पाते और भूख कम लगने लगती है।

बुधवार, 16 अगस्त 2017

किडनी खराब करने वाली आदतें, जरुर शेयर करें

किडनी खराब करने वाली आदतें, जरुर शेयर करें


किडनी की बीमारियां एवं किडनी फेल्योर पूरे विश्व एवं भारत में खतरनाक तेजी से बढ़ रहा है। भारत में प्रत्येक 10 में से एक इंसान को किसी ना किसी रूप में क्रोनिक किडनी की बीमारी होने की संभावना होती है। हर साल करीब 1,50,000 लोग किडनी फेल्योर की अंतिम अवस्था के साथ नये मरीज बनकर आते हैं, जिन्हें या तो डायलिसिस या किडनी प्रत्यारोपण की आवश्यकता होगी। लेकिन क्‍या आप जानते हैं कि आपकी कुछ आम आदतें किडनी की सेहत बिगाड़ने के लिए जिम्मेदार होती हैं तो चलिये जानते हैं किडनी को ख़राब करने वाली आदतों के बारे में।

पानी कम पीना
पानी कम मात्रा में पीने से किडनियों को नुक़सान हो सकता है। पानी की कमी के चलते किडनी और मूत्रनली में संक्रमण होने का ख़तरा अधिक हो जाता है। जिससे पोषक तत्वों के कण मूत्रनली में पहुंचकर मूत्र की निकासी को बाधित करने लगते हैं। साथ ही किडनी में स्टोन की आशंका भी बढ़ जाती है। इसलिए दिनभर में क म से कम 2 से 3 लीटर पानी पीने की सलाह दी जाती है।

पानी ज्यादा पीना
अधिक पानी पीना भी किडनी की समस्या को निमंत्रित करता है, जैसे अगर किसी व्यक्ति को उसकी ताक़त से अधिक काम करने को देंगे तो वो भी एक दिन थक जायेगा. उसी प्रकार किडनी को 3 से 5 लीटर तक पानी नियमित देना चाहिए. ना 3 लीटर से कम न 5 लीटर से ज्यादा.

कोल्ड ड्रिंक्स पीना.
कोल्ड ड्रिंक्स में पाए जाने वाले केमिकल किडनी ख़राब करने के लिए बहुत अधिक जिम्मेवार हैं, इनके सेवन से बचना चाहिए.

धूम्रपान एवं तम्बाकू सेवन
धूम्रपान एवं तम्बाकू का सेवन से कई गंभीर समस्याएं तो हो ती ही हैं (विशेषकर फेफड़े संबंधी रोग) लेकिन इसके कराण ऐथेरोस्कलेरोसिस रोग भी होता है। जिससे रक्त नलिकाओं में रक्त का बहाव धीमा पड़ जाता है और किडनी में रक्त कम जाने से उसकी कार्यक्षमता घट जाती है। इसलिए धूम्रपान और तंबाकू का सेवन ना करें।

सुबह उठकर पेशाब ना जाना
देखिये रात भर में मूत्राशय पूरी तरह मूत्र से भर जाता है, जिसे सुबह उठते ही खाली करने की ज़रूरत होती है। लेकिन जब आलस की वज़ह से लाग मूत्र नहीं त्यागते और काफी देर तक उसे रोके रहते हैं तो आगे चलकर यह किडनी को भारी नुकसान पहुंचाता है।

पेशाब को रोकना
पेशाब को रोकना नहीं चाहिए, पेशाब से शरीर के सभी गंदे पदार्थ मूत्र मार्ग से शरीर से बाहर निकलते हैं. इसलिए किसी भी हालत में पेशाब को नहीं रोकना चाहिए.

नमक का अधिक सेवन
यह सत्य है कि नमक हमारे भोजन के स्वाद को बढाता है, लेकिन अधिक मात्रा में इसका सेवन उल्टा प्रभाव ड़ालता है। हमारे द्वारा भोजन के माध्यम से खाया गया 95 प्रतिशत सोडियम गुर्दों द्वारा मेटाबोलाइज़्ड होता है। इसलिए नमक का अनावश्यक रूप से अधिक मात्रा में सेवन गुर्दों की क्रियाशीलता को बढ़ाकर उनकी शक्ति को क्षीण करता है।

हाई बीपी के इलाज में लापरवाही
उच्च रक्तचाप अर्थात हाई बीपी के इलाज में लापरवाही किडनी समस्या का बड़ा कारण होती है। इसलिए हमेशा उचित समय पर अपना बीपी नापकर नियंत्रित रखें क्योंकि यह क्रोनिक किडनी की बीमारियों के लिये दूसरे नंबर पर आने वाला कारण होता है।

शुगर के इलाज में कोताही करना
मधुमेह के शिकार लगभग तीस प्रतिशत लोगों को किडनी की बीमारी हो ही जाती है और किडनी की बीमारी से ग्रस्त एक तिहाई लोग मधुमेह पीड़ित हो जाते हैं। इससे यह बात तो तय है कि इन दोनों समस्याओं का आपस में ताल्लुक है। इसलिये खून में शक्कर की मात्रा को नियंत्रित रहना आवश्यक होता है। साथ ही खान-पान को भी नियंत्रित रखना चाहिए।

ज्यादा मात्रा में पेनकिलर लेना
डॉक्टर की सलाह के बिना दवाओं की खरीद से बचें। बिना डॉक्टर की सलाह के दुकान से पेनकिलर दवाएं खरीदकर उनका सेवन किडनी के लिये खतरनाक हो सकता है। सामान्य दवाएं जैसे नाम स्टेरराईट एंडी इन्फेलेमेटरी दवाएं (इब्यूप्रोफेन) आदि के नियमित रूप से सेवन करने से वे किडनी को नुकसान पहुंचा कर पूरा तरह खराब भी कर सकती है।

अन्य नुकसानदेह आदतें

किडनी को खराब करने में कुछ अन्य आदतें जैसे, बहुत ज्यादा शराब पीना, पर्याप्त आराम न करना, सॉफ्ट ड्रिंक्स और सोडा ज्यादा लेना, देर तक भूखा रहना या दूषित भोजन करना, हाईपरटेंशन का इलाज ना कराना तथा बहुत ज्यादा मांस खाना भी कुछ ऐसी आदते हैं जिनकी वजह से किडनी को भारी नुकसान पहुंचता है।

गुरुवार, 6 जुलाई 2017

हर रोज अगर पी रहे हैं यह ड्रिंक, तो गल जाएंगी हड्डियां

हर रोज अगर पी रहे हैं यह ड्रिंक, तो गल जाएंगी हड्डियां


हाल ही में एक अध्ययन में यह बात सामने आई है कि अमेरिकी लोग पहले की तुलना में अधिक सोड़ा पी रहे हैं। बड़े पैमाने पर बनाया गया सोडा हड्डियों को अंदर और बाहर से गला देता है और यह बात वैज्ञानिक रूप से साबित हो चुकी है। रेगुलर सोडा ब्रांड की हर कैन में 11 चम्मच तक शुगर होती है। सोडा के स्वास्थ्य पर पड़ने वाले कुछ नकारात्मक प्रभाव यहां दिए गए हैं...

किडनी खराब होने का खतरा
प्रति सप्ताह एक क्वाटर सोडा पीने से गुर्दे की पथरी होने का खतरा 15 प्रतिशत तक बढ़ जाता है। इसके अलावा, डाइट कोला से गुर्दे के खराब होने की आशंका दो गुना बढ़ जाती है।


डायबिटीज
यह काफी स्पष्ट है कि सोडा में शुगर का स्तर अधिक होने से डायबिटीज का खतरा बढ़ जाता है। शुगर पैंक्रियाज पर बहुत दबाव डालती है और इसलिए शरीर की जरूरत के लिए इंसुलिन की आपूर्ति नहीं हो पाती है।


ओबेसिटी
आर्टिफिशियल स्वीटनर से वजन बढ़ने की संभावना बढ़ जाती है। यहां तक ​​कि हर दिन एक कैन शुगरी ड्रिंक से हर महीने करीब एक पाउंड वजन बढ़ सकता है।


दिल की बीमारी
एक से अधिक शीतल पेय पीने से मेटाबॉलिक सिंड्रोम होने का खतरा बढ़ जाता है।


ऑस्टियोपोरोसिस
शीतल पेय में मौजूद फास्फोरिक एसिड का संबंध ऑस्टियोपोरोसिस (हड्डियों के खोखला होने) से जुड़ा हुआ है। यह एसिड फॉस्फेट के स्तर को बढ़ाता है और हड्डियों में कैल्शियम का स्तर कम करता है।


हाई ब्लड प्रेशर
सोडा के ज्यादा सेवन से ब्लड प्रेशर बढ़ जाता है। इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि सोडा रेगुलर है या डाइट।


दमा
एक अध्ययन के अनुसार, दक्षिण ऑस्ट्रेलिया में रहने वाले वयस्कों में शीतल पेय और अस्थमा / सीओपीडी के बीच सीधा संबंध पाया गया।

बुधवार, 5 जुलाई 2017

इन लोगों के लिए खतरनाक है हल्दी, जरुर शेयर करें

इन लोगों के लिए खतरनाक है हल्दी, जरुर शेयर करें


हल्दी एक ऐसा मसाला है जिसका इस्तेमाल सब्जी का स्वाद और रंग बढ़ाने में किया जाता है। इसके अलावा हल्दी में कई तरह के एंटी-बैक्टीरियल गुण होते हैं जो सेहत के लिए काफी फायदेमंद होते हैं लेकिन सभी लोगों के लिए हल्दी का सेवन करना फायदेमंद नहीं होता क्योंकि इसे पचाना थोड़ा मुश्किल होता है। आइए जानिए किन लोगों को हल्दी का अधिक सेवन करने से नुकसान हो सकता है।

किडनी प्रॉब्लम
जिन लोगों को किडनी से जुड़ी कोई समस्या हो उन्हें खाने में हल्दी का कम सेवन करना चाहिए क्योंकि इसमें मौजूद ऑक्जेलेट्स किडनी को नुकसान पहुंचाते हैं।

सर्जरी होने पर
हल्दी का सेवन करने से खून पतला होता है। ऐसे में जिन लोगों की अभी-अभी सर्जरी हुई हो या होने वाली हो उन्हें हल्दी का सेवन नहीं करना चाहिए।

खून की कमी
इसके सेवन से शरीर में आयरन अब्जॉर्बशन बढ़ जाता है जिससे शरीर में खून की कमी हो जाती है और एनीमिया की समस्या हो सकती है।

पाचन क्रिया
हल्दी में मौजूद करक्यूमिन गैस और एसिडिटी की समस्या पैदा करता है। ऐसे में जिन लोगों की पाचन शक्ति कमजोर हो उन्हें इसका सेवन नहीं करना चाहिए।

पत्थरी की समस्या
इसका अधिक सेवन करने से ब्लैडर की कई समस्याएं हो जाती हैं। इसके अलावा हल्दी में मौजूद ऑक्जेलेट गुर्दे में पत्थरी पैदा करता है।

पीरियड्स प्रॉब्लम
माहवारी के दिनों में हल्दी का कम सेवन करना चाहिए क्योंकि इससे खून पतला होता है जिससे पीरियड्स के दिनों में अधिक ब्लीडिंग होती है।

गुरुवार, 22 जून 2017

आपकी किडनी को फेल कर सकती है हर रोज की ये छोटी-छोटी लापरवाही !

आपकी किडनी को फेल कर सकती है हर रोज की ये छोटी-छोटी लापरवाही !

Bad Habits that can Damage Your Kidney
नमस्ते दोस्तों, 
आयुर्वेदप्लस साईट पर आपका हार्दिक स्वागत है, आज हम आपको इस आर्टिकल के माध्यम से बताने जा रहे हैं वो छोटी - छोटी गलतियाँ जो आपकी किडनी को फ़ैल (Bad Habits that can Damage Your Kidney) कर सकती हैं !

गलतियाँ जो किडनी के लिए घातक है – मॉडर्न लाइफस्टाइल और भागदौड़ भरी जिंदगी में लोग सिर्फ करियर में सक्सेस पाने और कम समय में ढेर सारे पैसे कमाने के पीछे लगे हुए हैं. ऐसे में किसी के पास भी इतना समय नहीं है कि वो अपनी सेहत और खान-पान का ख्याल रख सकें.

कम समय में ज्यादा पाने की चाहत में हम अपनी रोजमर्रा की जिंदगी में कई ऐसी गलतियां कर बैठते हैं जो हमारी नजर में बहुत छोटी होती है लेकिन ये लापरवाही हमारी किडनी की इतनी बड़ी दुश्मन बन सकती है कि इससे हमारी किडनी तक फेल हो सकती है. तो चलिए आज हम आपको बताते हैं हर रोज होनेवाली उन छोटी-छोटी गलतियाँ जो किडनी के लिए घातक है.

गलतियाँ जो किडनी के लिए घातक है (Bad Habits that can Damage Your Kidney) –

1- कम पानी पीना
भरपूर मात्रा में पानी पीने से शरीर में हमारी किडनी सही तरीके से काम करती है और शरीर में मौजूद विषैले पदार्थ आसानी से बाहर निकल जाते हैं. लेकिन शरीर में पानी की कमी होने से किडनी उन जहरीले तत्वों को अवशोषित कर लेती है जिसकी वजह से किडनी कुछ ही समय में खराब होने लगती है.

2- ज्यादा नमक खाना
जिस तरह से नमक बेस्वाद खाने में भी स्वाद जगा देता है ठीक उसी तरह से ये स्वस्थ शरीर के लिए बेहद जरूरी है. लेकिन नमक शरीर को तभी फायदा पहुंचाता है जब इसका सेवन सीमित मात्रा में किया जाए.
लेकिन अगर हम अधिक मात्रा में नमक का सेवन करने लगे तो यह ब्लडप्रेशर को बढ़ावा देती है, जिसका सीधा असर हमारी किडनी पर पड़ता है.

3- ज्यादा प्रोटीन खाना
हमारे शरीर के लिए प्रोटीन बेहद जरूरी है लेकिन हर रोज ज्यादा प्रोटीन युक्त खाना खाने से किडनी पर बूरा असर पड़ता है. अगर आप अपनी किडनी को लंबे समय तक सेहतमंद बनाए रखना चाहते हैं तो फिर ज्यादा प्रोटीन वाले भोजन से बचना चाहिए.


4- ब्लैक कॉफी और चाय
ज्यादातर लोग अपने आप को फिट रखने के लिए बिना दूध वाली चाय और कॉफी का सेवन करते हैं. लेकिन वो इस बात से अंजान होते हैं कि इसका ज्यादा सेवन करना किडनी के लिए नुकसानदायक हो सकता है. ब्लैक टी या कॉफी का ज्यादा सेवन करने से ब्लड प्रेशर बढ़ता है जो हमारी किडनी को पूरी तरह से खराब कर सकती है.

5- पेनकिलर का इस्तेमाल
अधिकांश लोग शरीर में होनेवाली छोटी-मोटी परेशानियों के लिए पेनकिलर्स का सहारा लेते हैं. चाहे शरीर की थकान हो, दर्द हो या फिर हल्का बुखार हो इससे छुटकारा पाने के लिए लोग पेनकिलर का इस्तेमाल करते हैं. लेकिन हम आपको बता दें कि पेनकिलर्स का ज्यादा इस्तेमाल हमारी किडनी पर बहुत बुरा असर डालता है. इसलिए पेनकिलर्स का इस्तेमाल कम करें या ना करें.

6- यूरिन को देर तक रोकना
कई बार लोग जब घर से बाहर होते हैं तो ऐसे में जब उन्हें पेशाब आती है तो वो उसे देर तक रोकने की कोशिश करते हैं खासकर महिलाएं शर्म के मारे घंटों तक यूरिन को रोककर रखती हैं. लेकिन हम आपको बता दें कि आपकी इस आदत का खामियाजा आपकी किडनी के लिए नुकसानदेह हो सकती है. इससे आपकी किडनी खराब हो सकती है.

ये है गलतियाँ जो किडनी के लिए घातक है – आप भी आए दिन इस तरह की छोटी-छोटी लापरवाही करते हैं तो फिर समझ लीजिए की ये आपकी किडनी के लिए खतरे की घंटी है जो आपकी किडनी को खराब करके आपको गंभीर रुप से बीमार कर सकती है.

शनिवार, 27 मई 2017

किडनी को पूरी तरह फेल कर सकती हैं आपकी ये 10 आदतें

किडनी को पूरी तरह फेल कर सकती हैं आपकी ये 10 आदतें


किडनी यानि गुर्दा,यह हमारे शरीर का बहुत ही खास हिस्सा होता है। अगर इसे किसी तरह का कोई नुकसान हो जाए तो इंसान की जिंदगी ही रूक जाती है। किडनी हमारे शरीर में से विषैले पदार्थों को बाहर निकाले का काम करती है। लेकिन कुछ लोग ऐसे हैं जो जाने-अनजाने में कुछ ऐसी आदतों को अपना लेते हैं जो उनकी किडनी को काफी नुकसान पहुंचाती हैं। जिससे बाद में किडनी खराब होने पर उन्हें कई तरह की समस्याओं का सामना करना पड़ता है। इसलिए आज हम आपको उन आदतों के बारे में बताने जा रहे हैं जो किडनी फेल होने की वजह बन रही हैं।


1. भरपूर पानी न पीना
किडनी हमारे खून को साफ करके शरीर से सारा वेस्ट बाहर निकालने का काम करती है। जब आप पूरी मात्रा में पानी नहीं पीते तो यही विषैले तत्व शरीर में इकट्ठे होने शुरू हो जाते है,जो कि शरीर को कई बीमारियां देते है।
2. नमक की मात्रा अधिक लेना
शरीर को ठीक से काम करने के लिए नमक या सोडियम की जरूरत होती है।लेकिन कुछ लोग बहुत ज्यादा नमक खाते हैं जिससे ब्लड-प्रैशर बढ़ जाता है और उसका सीधा असर हमारी किडनी पर होता है। रोज हमें अपनी डाइट में 5 ग्राम नमक से अधिक नहीं लेना चाहिए।

3. चीनी को कम करें
कुछ लोग अपनी डेली डाइट में 2 या इससे भी अधिक चीनी मिले ड्रिंक लेते है,जिससे उनके यूरिन लेवल में प्रोटीन की मात्रा अधिक हो जाती है। जोकि ये संकेत होता है कि हमारी किडनी अपना काम अच्छे से नहीं कर रही।

4. विटामिन और मिनरल्स की कमी
अच्छी सेहत और बढ़िया किडनी के लिए जरूरी है कि ताजी सब्जियों और फलों से भरपूर साफ डाइट ली जाए। डाइट में होने वाली कमियों से किडनी में पत्थरी होने का खतरा बढ़ जाता है। विटामिन बी 6 और मैग्नीशियम का अापकी डाइट में होना ,गुर्दे की पत्थरी के जोखिम को काफी कम करता है।

loading...

5. प्रोटीन अधिक मात्रा में लेना
प्रोटीन को अधिक मात्रा में लेना या फिर डाइट में रेड मीट का अधिक सेवन से हमारी किडनी पर दबाब बढ़ जाता है। इसका मतलब कि अब गुर्दे को काम करने के लिए अधिक जोर लगाना पड़ेगा। जो कि उसके समय से पहले खराब होने का संकेत है।

6. काफी की आदत

नमक की तरह काफी भी ब्लड-प्रैशर बढ़ाती है, जिससे गुर्दे पर बहुत ही दबाब पड़ता है। काफी का अधिक मात्रा में सेवन किडनी पूरी तरह खराब होने का कारण बन सकता है।

7. पेनकिलर दवाओं का अधिक सेवन
कुछ लोग छोटे मोटे दर्द के लिए दर्द निवारक दवाओं का बहुत सेवन करते हैं। लेकिन ये सब दवाएं हमारी किडनी को पूरी तरह खराब कर देती है।


8. शराब का सेवन
कुछ समय बाद एक गिलास बीयर लेने में कोई नुक्सान नहीं है। लेकिन कुछ लोग एक ड्रिंक के बाद नहीं रूकते और अधिक शराब का सेवन किडनी और लीवर दोंनों को खराब कर देता है।

9. बाथरूम रोककर रखना
अधिकतर लोग जब बाहर जाते हैं तो पब्लिक बाथरूम यूज नहीं करते और बाथरूम को रोककर रखते हैं। जोकि किडनी खराब होने का एक बड़ा कारण बन सकता है। इससे किडनी पर दबाब पड़ता है। इसलिए यूरिन रोके नहीं।

10. पूरी नींद
रात को आराम करना हमारी सेहत के लिए बहुत ही जरूरी है। भरपूर नींद न लेना कई बीमारियों को न्योता देता है। सोते हुए हमारा शरीर डैमेज सेल्स को ठीक करता है। किडनी को स्वस्थ रखने के लिए भरपूर नींद सोएं।