फेंफडों में सूजन लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
फेंफडों में सूजन लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

रविवार, 2 जुलाई 2017

फेफड़ो में पानी या सूजन (Pleurisy) का घरेलू उपचार

फेफड़ो में पानी या सूजन (Pleurisy) का घरेलू उपचार


फेफड़ो में पानी या सूजन (Pleurisy) का घरेलू उपचार – फेफड़ों का हमारे शरीर में बहुत ही महत्वपूर्ण रोल है. जीवित रहने के लिए सांस लेना जरूरी है. सांस लेने के लिए स्वस्थ फेफड़े का होना अति आवश्यक है. हमारे शरीर में फेफड़ों का मुख्य कार्य वातावरण से ऑक्सीजन लेकर उसे रक्त परिसंचरण मे प्रवाहित करना और रक्त से कार्बन डाइऑक्साइड को शोषित कर उसे बाहर वातावरण में छोड़ना है.

फेफड़ो में पानी या सूजन (Pleurisy) के लक्षण

फेफड़ो में पानी या सूजन (Pleurisy) में फेफड़े के पर्दे में पानी भर जाता है. फेफड़ो में सूजन हो जाती हैं. रोगी को ज्वर होता है, सांस रुक-रुक कर आता है, छाती में दर्द रहता है आदि लक्षण होते है. आयुर्वेद में इसका उपचार बहुत ही आसान हैं. तो चलिए जानते है ये उपचार कौन से है.

फेफड़ो में पानी या सूजन (Pleurisy) का घरेलू उपचार

इस बीमारी में तुलसी के ताजा पत्तों का रस 15 ग्राम से 30 ग्राम हर रोज बढ़ाते हुए सुबह और शाम दिन में दो बार खाली पेट लेने से प्लूरिसी (Pleurisy) में शीघ्र लाभ होता है. बुखार दो तीन दिन में नीचे उतरकर सामान्य हो जाता है. आठ दस दिन में फेफड़े के पर्दे में भरा पानी सूख जाता है. किसी भी कारण से यह बीमारी क्यों न हो. बिना किसी अन्य बुरे प्रभाव के पक्का लाभ होता है. फेफड़ो और ह्रदय की अन्य बीमारियां और समस्याएं भी इससे ठीक हो जाती है.

नोट – इस रोग में ठंडा और कफ रहित आहार लें बल्कि हल्का व पचने वाला आहार लें.