तोंद लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
तोंद लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

बुधवार, 21 फ़रवरी 2018

पेट की चर्बी को कम करने का हैरान करने वाला उपाय

पेट की चर्बी को कम करने का हैरान करने वाला उपाय


अनियमित और मसालेदार भोजन के अलावा आरामपूर्ण जीवनशैली के चलते तोंद/ पेट के निचले भाग की चर्बी एक वैश्विक समस्या बन गई है जिसके चलते डायबिटीज और हार्टअटैक का खतरा बढ़ जाता है। तोंद कई अन्य रोगों को भी जन्म देती है। इसके चलते व्यक्ति हमेशा शरीर में अच्छा फिल नहीं कर पाता।

कमर और पेट के आसपास इकट्ठा हुई अतिरिक्त चर्बी से किडनी और मूत्राशय में भी दिक्कतें होना शुरू हो जाती हैं। रीढ़ की हड्डी पर भी अतिरिक्त दबाव पड़ता है और जिसके चलते आए दिन कमर दर्द और साइड दर्द होता रहता है। अगर आप तोंद से छुटकारा पाकर फिर से उसे पेट बनाने की सोच रहे हैं तो यहां दिए जा रहे हैं ऐसे उपाय जिसे करने में आपको अतिरिक्त श्रम नहीं करना पड़ेगा। जरूरी नहीं कि सभी उपाय आप आजमाएं। किसी भी एक उपाय को नियमित करें तो 1 माह में लाभ नजर आने लगेगा।

पेट की चर्बी घटाना आसान है पर वहीं पर पेट के निचले भाग की चर्बी घटाना थोड़ा मुश्‍किल है। हमारी लाइफस्‍टाइल कुछ ऐसी हो चुकी है कि हम ना चाह कर भी अपने शरीर का वजन बढ़ाते चले जा रहे हैं। कुछ लड़कियों का पूरा शरीर देखने में पतला लगता है पर पेट काफी ज्‍यादा निकला होता है। लेकिन जब आप किलो भर वजन कम करने लगेगीं तो ‘बैली फैट’ अपने आप ही खतम होने लगेगा।

चमत्कारी उपाय जो पेट के निचले भाग की चर्बी कम करते है :

  1. दही को खाने से मोटापा कम होता है।तथा छाछ में कालानमक और अजवायन मिलाकर पीने से मोटापा कम होता है।
  2. आलू को उबालकर गर्म रेत में सेंकर खाने से मोटापा दूर होता है।
  3. 100 ग्राम कुल्थी की दाल प्रतिदिन सेवन करने से चर्बी कम होती है।
  4. 4 पीपल पीसकर आधा चम्मच शहद मिलाकर सेवन करने से मोटापा कम होता है।
  5. पालक के 25 ग्राम रस में गाजर का 50 ग्राम रस मिलाकर पीने से शरीर का फैट (चर्बी) समाप्त होती है। 50 ग्राम पालक के रस में 15 ग्राम नींबू का रस मिलाकर पीने से मोटापा समाप्त होता है।
  6. डिकामाली (एक तरह का गोंद) लगभग 1 ग्राम का चौथा भाग की मात्रा में गर्म पानी के साथ मिलाकर सुबह-शाम पीने से मोटापा कम होता है।
  7. पीपल 150 ग्राम और सेंधानमक 30 ग्राम को अच्छी तरह पीसकर कूटकर 21 खुराक बना लें। यह दिन में एक बार सुबह खाली पेट छाछ के साथ सेवन करें। इससे वायु के कारण पेट की बढ़ी हुई चर्बी कम होती है।
  8. पिप्पली के 1 से 2 दाने दूध में देर तक उबाल लें और दूध से पिप्पली निकालकर खा लें और ऊपर से दूध पी लें। इससे मोटापा कम होता है।
  9. जवाखार 35 ग्राम और चित्रकमूल 175 ग्राम को अच्छी तरह पीसकर चूर्ण बना लें। यह 5 ग्राम चूर्ण एक नींबू का रस, शहद और 250 ग्राम गुनगुने पानी में मिलाकर सुबह खाली पेट लगातार 40 दिनों तक पीएं। इससे शरीर की फालतू चर्बी समाप्त हो जाती है और शरीर सुडौल होता है। या फिर जौखार का चूर्ण आधा-आधा ग्राम दिन में 3 बार पानी के साथ सेवन करने से मोटापा दूर होता है।
  10. चित्रक की जड़ का बारीक चूर्ण शहद के साथ सेवन करने से पेट की बीमारियां और मोटापा समाप्त होता है।
  11. प्रतिदिन अनन्नास खाने से स्थूलता नष्ट होती है क्योंकि अनन्नास चर्बी को नष्ट करता है।

सबसे पहले मोटापे से पीड़ित रोगी को समझना चाहिए कि जब तक आप अपने खान-पान में सुधार नहीं करेगें, तब तक आपका मोटापा दूर नहीं हो सकता है। सादा भोजन और व्यायाम शरीर में अधिक चर्बी को पिघलाता है। मालिश उसमें सहायता करती है और रोगी के शरीर मे कमजोरी नहीं आने देती है, साथ ही चर्बी घटने पर शरीर के मांस को ढीला नहीं पड़ने देती, बल्कि मालिश शरीर को मजबूत तथा आकर्षक बना देती है। इसलिए मोटापा कम करने वाले व्यक्ति को चाहिए कि वह अपने भोजन में सुधार करे तथा प्रतिदिन व्यायाम करें। ठण्डी मालिश मोटापा दूर करने में विशेष सहायता करती है, इसके अलावा तेल मालिश या सूखी मालिश भी की जा सकती है। वैसे तेल मालिश का उपयोग कम ही करें तो अच्छा है क्योंकि तेल की मालिश तभी अधिक लाभ देती है जब रोगी उपवास कर रहा हो।

रोगी को उबली हुई सब्जियां, क्रीम निकला हुआ दूध, संतरा, नींबू आदि खट्टे फल तथा 1-2 चपाती नियमित रूप से कई महीने तक लेनी चाहिए। रोगी को तली और भुनी हुई चीजों को अपने भोजन से पूरी तरह दूर रखना चाहिए। उपचार के दौरान रोगी को बीच-बीच में 1-2 दिन का उपवास भी रखना चाहिए। उपवास के दिनों में केवल नींबू पानी अधिक मात्रा में पीना चाहिए। इस प्रकार के भोजन व उपचार से कुछ दिनों तक तो रोगी को कमजोरी महसूस होगी, परन्तु कुछ दिनों के अभ्यास से जब शरीर इसका आदि हो जाएगा, तब रोगी अपने को अच्छा महसूस करने लगेगा।

रविवार, 8 अक्तूबर 2017

अगर आपकी भी चमड़ी है मोटी ,तो जानिये यह रामबाण नुस्खा

अगर आपकी भी चमड़ी है मोटी ,तो जानिये यह रामबाण नुस्खा


मोटापे से आज लगभग हर तीसरा आदमी परेशान है। शरीर पर खूब खाना-पीना बढ़ा के चर्बी चढ़ाना तो बहुत आसान है लेकिन उसे फिर घटाना हर एक के बस की बात नहीं है। हर बार कोई नया उपाय तलाश करके हम अपने शरीर को खराब कर लेता है और बाद मे परिणाम शून्य निकलता है। पैसे की बर्बादी के साथ हमारा समय भी खराब हो जाता है। ऐसे मे कोई घरेलू उपाय मिल जाए तो सोने पे सुहागा हो जाता है। घरेलू उपाय के दो फ़ायदे है जिसमे आपको ना तो बाहर किसी डॉक्टर के पास जाकर महंगी फीस देनी पड़ती और ना ही अँग्रेजी दवाई को लेना होता है। घरेलू उपाय की सारी चीजें आसानी से आपके घर या आसपास की दुकान पर सस्ते दाम मे मिल जाती है और उसे घर पर ही प्रयोग कर सकते हैं। आइए बात करते है कुछ घरेलू उपाय के बारे मे जो आपके बढ़ते पेट को कम करने मे आपकी मदद करेंगे।

पेट पर चर्बी की बढ़ी हुई परतों को कम करे मात्र कुछ समय मे :

मोटापा एक भयंकर बीमारी की तरह हमारी ज़िंदगी मे घुस चुका है। तला हुआ बाजार का भोजन खाने से सिर्फ जीभ का स्वाद हासिल होता है, बाद मे उससे होने नुकसान को हम हमेशा इग्नोर कर देते हैं। आज हम आपको ऐसे घरेलू उपाय बताने जा रहें जिनसे आपके पेट के चर्बी पहाड़ को कम करने मे मदद हासिल होगी

1. एक बर्तन मे एक नींबू निचोड़ कर उसका छिलका भी रख दें। अब इसमे एक गिलास पानी मिलाकर गैस पर रखकर गर्म करना शुरू कर दें। इसमे बारीक कटी हुई अदरक पीसकर और आधा चमच शहद भी मिला लें। हल्की आंच पर इसे रखे और पाँच मिनट बाद इसे ठंडा होने के लिए रख दें। फिर इसे छानकर सुबह खाली पेट इसका सेवन करें। ऐसा लगातार पंद्रह दिन तक करें और फिर उसके अगले दिन से आपको आपके मोटापे मे कमी होती हुई दिखनी शुरू हो जाएगी।
2. रात को खाना खाने के बाद एक चमच त्रिफला चूर्ण जरूर खाएं। अगली सुबह जब आप शोचलाय करने जाएंगे तो आपका पेट एक बार मे ही अच्छे तरह से साफ हो जाएगा। बिना पचा हुआ खाना मोटापे के लक्षण है और अगले दिन पेट साफ ना हो पाना इसे बढ़ावा देता है।
ये भी पढ़िए : ये 5 उपाय अपनाएं, बढ़ती तोंद को कहें बाय-बाय!

3. सफ़ेद नमक और चीनी से जितना जल्दी हो सके दूर हो जाइए। सफ़ेद नमक हमारी हड्डियों को कमजोर बनाता है और खाना पचाने वाले एंजाइम को निष्क्रिय कर देता है। इससे मोटापा बढ़ना शुरू हो जाता है। चीनी चर्बी बढ़ाने मे सबसे आगे है। मीठा खाने वाले लोगों पर चर्बी जल्दी चढ़ती है। इसीलिए इसका त्याग करें।

4. हरी मिर्च,प्याज और लहसुन का उपयोग ज्यादा मात्रा मे करना शुरू कर दें। ये तीनों चीजें मोटापे पर भारी पढ़ती हैं। मेहनत मजदूरी करने वाले इंसान इसकी बनी चटनी का खूब उपयोग करते है उसी वजह से उनके शरीर पर चर्बी का नाम भी नहीं होता है।
5. अगर आप फास्ट फूड खाना नहीं बंद कर पा रहे या चाहकर भी फास्ट फूड से दूर नहीं हो पा रहें है तो घबराने की जरूरत नहीं है। बस इनकी मात्रा कम कर दीजिये। हफ्ते मे तीन दिन की जगह सिर्फ एक दिन थोड़ा फास्ट फूड लेने से ज्यादा फर्क नहीं पड़ेगा। लेकिन फास्ट फूड खाने के बाद पानी और भोजन ना ही लें तो आपका काम आसान हो जाएगा। खाने के तुरंत बाद पानी पेट के अंदर सारे खाने पचाने के काम को ढीला कर देता है। इसीलिए खाने के तुरंत बाद पानी ना पीएं।

6. घी, मलाई और मक्खन से दूर रहने मे ही भलाई है। अगर आप सप्ताह मे चार दिन व्यायाम करते हैं और दो दिन मलाई या मक्खन का सेवन कर लेते है तो आपकी सारी मेहनत बेकार हो जाती है। आपके पेट पर बढ़ी हुई चर्बी की परतें वसा का जमाव है जो घी और मक्खन खाने से आती है। इसीलिए इनसे दूर रहें।
7. जूस जब भी पिये तो बिना छना हुआ लें। ना ही उसके अंदर शुगर सिरप डलवाना चाहिए। मौसमी का बिना छना हुआ जूस पंद्रह दिनों मे आपके मोटापे पर रोकथाम लगा देगा। जब भी खाना खाएं उसके तुरंत बाद सीधा बेड पर ना लेट जाएँ। ऐसे मे आप खुद मोटापे को निमंत्रण देते है। ऐसा करने से खाना पचाने की प्रक्रिया बहुत ज्यादा ढीली पड़ जाती है और फिर हमारा दूसरी बार खाना खाने का समय आ जाता है लेकिन पहले खाया हुआ खाना अभी तक नहीं पचा होता है।

सोमवार, 2 जनवरी 2017

तोंद का नामो निशान मिटा देगा यह 1 गिलास जूस, आजमाकर देख ले

तोंद का नामो निशान मिटा देगा यह 1 गिलास जूस, आजमाकर देख ले


यदि आप अपनी बढ़ी हुई तोंद को लेकर परेशान हैं और आपकी फिजिकल फिटनेस खराब हो रही है तो मायूस होने की जरूरत नहीं। हम आपको बता रहे हैं एक ऐसा देशी उपचार जिससे कुछ ही दिनों में आपकी तोंद खत्म हो जाएगी और आप हो जाएंगे फिट। बस हर रोज रात में आपको नियमित रूप से एक गिलास जूस पीना है जो टमी के फैट को बर्न कर स्लिम एंड ट्रिन बना देगा।

➡ यह जूस ही क्यों :

सोने से पहले पिएं यह जूस तोंद घटाने में खीरे का जूस काफी लाभदायक माना गया है। यह पेट को साफ करने के साथ ही चर्बी खत्म करता है। इसका जूस बनाने के लिए दो खीरे, दो छोटे चम्मच नीबू का रस, अदरक का एक छोटा टुकड़ा, दो छोटे चम्मच चीनी, एक छोटा चम्मच- भुना जीरा पाउडर, तीन से चार पुदीना पत्ती, काले व सफेद नमक की जरूरत होती है।

➡ बनाने की विधि :
ऐसे बनाएं खीरे का जूस-खीरे को धो लें और छोटे- छोटे टुकड़े कर छिलके सहित जूसर में डालें। अदरक और पुदीना भी जूसर में डाल दें और जूस निकाल लें। इसमें चीनी, नींबू का रस, भुना जीरा पाउडर, काला व सफेद नमक अपने स्वादानुसार डालकर अच्छी तरह हिलाएं। इससे एक गिलास खीरा जूस तैयार हो जाएगा। इस जूस का सोने से पहले सेवन करें। करीब 15 दिन तक इसका उपयोग करने पर आपको खुद ही अपनी तोंद के आकार प्रकार में फर्क समझ में आ जाएगा। तोंद पहले की तुलना में काफी कम हो जाएगी और लिवर भी मजबूत होगा।

बुधवार, 2 नवंबर 2016

नौकासन आसन के अद्भुत फायदों को जानकार दंग रह जायेंगे, जरुर शेयर करें

नौकासन आसन के अद्भुत फायदों को जानकार दंग रह जायेंगे, जरुर शेयर करें


आज के समय में बहुत से लोग पेट से जुड़ी समस्याओं से परेशान है| इसके पीछे का कारण है  गलत दिनचर्या जैसे की व्यायाम ना करना, समय पर खाना ना खाना, या असंतुलित और तले-गले पदार्थो का सेवन करना है| इन सभी कारणों से खाने का पाचन सही नहीं हो पाता है और शरीर को कई तरह की बीमारियो का सामना करना पढता है| यही नहीं डाइजेशन ठीक से ना होने के कारण शरीर का खाना ऊर्जा में कन्वर्ट होने की बजाय चर्बी में बदलने लगता है| और देखा जाये तो आज हर तीसरा चौथा व्यक्ति अपनी बढ़ती तोंद के कारण तनाव में है| इन सभी परेशानियों से बचने के लिए हमें योग करना चाहिए| योग के अंतर्गत नौकासन पाचनतंत्र को सुचारू रखने के लिए सबसे बेहतर है|

इसका रोजाना अभ्यास करने से पेट से जुड़ी सभी समस्याएं दूर होती हैं और पेट की चर्बी कम करने में भी यह मददगार है| नौकासन को अंग्रेजी में बोट पोज़ के नाम से जाना जाता है| हमें नाम से ही यह बात ज्ञात हो रही है कि इस आसन में शरीर को नाव की तरह आकर में रखकर योग का अभ्यास किया जाता है| इस आसन का नियमित अभ्यास करने से आपके पेट और कमर पर चर्बी जमा नहीं होती है| इससे आपके लोवर एब्स की मांसपेशियां टाइट रहती हैं|   

नौकासन का अभ्यास करते वक्त आपकी कमर, हिप्स, पैर और पेट मूल रूप से शामिल होते हैं| इस योग मुद्रा को करते वक्त इन सभी अंगों का व्यायाम होता है| नौकासन शरीर के अंगो में दृढ़ता और संतुलन लाने का काम करता है| यदि आप सेहत से जुड़ी किसी भी गंभीर समस्या से पीड़ित हैं तो पहले डॉक्टर से परामर्श ले और इसके बाद ही इसका अभ्यास शुरू करें|

नौकासन करने की विधि

  • नौकासन की शुरुवात करने के लिए सबसे पहले शवासन की मुद्रा में लेट जाएँ।
  • इसके पश्चात अपनी एड़ी और पंजे को मिलाये और आपके दोनों हाथ कमर से सटा कर रखिये|
  • इस वक्त आपको हथेलियाँ जमीन पर तथा गर्दन को सीधी रखना है|
  • अब अपने दोनों पैर, गर्दन और हाथों को धीरे-धीरे एक साथ उपर की और उठाये|
  • आखरी में अपने पूरे शरीर का वजन नितंब के ऊपर कर दे|
  • इस मुद्रा में 30-40 सेकंड रुकने तक रुके।
  • अब धीरे-धीरे वापिस उसी अवस्था में आ कर शवासन की अवस्था में लेट जाएँ।
  • इस आसन का अभ्यास आप चार से पांच बार कर सकते है|

नौकासन के लाभ

  • शरीर को सुडौल बनाने के लिए नौकासन बहुत ही फायदेमंद होता है।
  • जिन लोगो को नींद बहुत ज्यादा आती हो उन लोगो के लिए नौका आसन सहायक है।
  • इस आसन को करने से रीढ की हड्डियां सीधी और मजबूत होती हैं|
  • शाररिक अंगो में संतुलन बनाये रखने के लिए उत्तम योग माना जाता है|
  • नौकासन करने से ध्यान और आत्मबल बढ़ता है| स्टूडेंट्स के लिए यह आसन बहुत ही फायदेमंद है|
  • इससे पाचन क्रिया, छोटी-बड़ी आँत में लाभ मिलता है और हर्निया रोग में भी यह आसन लाभप्रद है|
  • इस आसन का अभ्यास करने से पेट की मांसपेशियां संतुलित होती है जिससे पाचन तंत्र सुधरता है|
  • जो लोग अपने कंधों और कमर की चर्बी को घटाना चाहते है उनके लिए यह व्यायाम बेहद फायदेमंद है।
  • रीढ की हड्डियां सीधी और मजबूत होती हैं| शाररिक अंगो में संतुलन के लिए इसे उत्तम योग माना जाता है|
  • इस आसन का अध्यात्मिक लाभ भी है| इस आसन को करते वक्त इष्ट देव के मंत्रों का जप करने से त्वरित लाभ प्राप्त होता है।
  • इस आसन में अँगूठे से अँगुलियों तक का खिंचाव होता है जिससे शुद्ध रक्त तीव्र गति से प्रवाहित होता है और काया निरोगी होती है|

नौकासन मे सावधानियां:- 

  • यदि कोई व्यक्ति अनिंद्रा और हृदय से सम्बन्धी रोग से पीड़ित हैं तो उसे इस योग का अभ्यास नहीं करना चाहिए| इसके अतिरिक्त शरीर के पिछले भाग में किसी तरह की तकलीफ या फिर पेट में किसी तरह की परेशानी हो तब भी नौकासन का अभ्यास नहीं करना चाहिए|
  • यदि आप भी उपरोक्त लाभ पाना चाहते है तो नौकासन करे| नौकासन करते वक्त अपने दोनों पैरों को एक समान स्थिति में रखना चाहिए| इसके अतरिक्त इस मुद्रा के दौरान आपके शरीर के पीछले भाग और मेरूदंड बिल्कुल सीधा होना चाहिए| अपने पैरों को सीधा रखने के लिए योग के दौरान छाती और शरीर के पीछले भाग को झुकाना नहीं चाहिए| यदि आपको नहीं समझ आ रहा है की आप नौकासन में बैठे है या नहीं तो शरीर अंग्रेजी के V के समान होने पर आप समझ सकते हैं कि आप बिल्कुल सही मुद्रा में बैठे है|

बुधवार, 5 अक्तूबर 2016

मोटी से मोटी तोंद को भी होना पड़ेगा फुटबॉल से गेंद, सिर्फ 1 ग्लास रात को पिए, फिर देखे कमाल

मोटी से मोटी तोंद को भी होना पड़ेगा फुटबॉल से गेंद, सिर्फ 1 ग्लास रात को पिए, फिर देखे कमाल


हम लोग अक्सर अपनी निकलती हुई तोंद से परेशान रहते हैं और उसे कम करने के लिए कई तरह के जतन करते हैं। लेकिन अब आपको बहुत ज्यादा परेशान होने की जरूरत नहीं है। हम आपको बताने जा रहे हैं कि कैसे आप इस आसान से बनने वाले जूस का सोने से पहले सेवन करके कर सकते हैं तोंद को गुड-बाय। चाहे मोटी से मोटी तोंद ही क्यों ना हो सिर्फ 1 ग्लास रात को पीने से वो हो जायेगी फुटबॉल से गेंद। 

सोने से पहले खीरे के जूस का सेवन करें। खीरे का जूस पेट को साफ करता है। इसके साथ ही यह फैट भी नहीं बढ़ाता है। इसमें कैलोरी की मात्रा बहुत कम होती है और और आपकी निकलती हुई तोंद को कंट्रोल करने में काफी लाभदायक होता है।

➡ खीरे के जूस की सामग्री :

– दो खीरे
– दो छोटे चम्मच नींबू का रस  
– अदरक का एक छोटा टुकड़ा  
– दो छोटे चम्मच चीनी  
– एक छोटा चम्मच- भुना जीरा पाउडर 
– तीन से चार पुदीना पत्ती 
– काला व सफेद नमक स्वादानुसार 

➡ खीरे का जूस बनाने की विधि :

खीरे को धोलें और छोटा छोटा काट कर छिलके सहित जूसर में डालें। अदरक और पुदीना भी जूसर में डाल दें और जूस निकाल लें। इसमें चीनी, नींबू का रस, भुना जीरा पाउडर, काला व सफेद नमक स्वादानुसार डालकर अच्छी तरह हिलाएं। फिर 1 ग्लास झट से गटक (पीना) जाए और इसका कमाल देखे, देखते ही देखते तोंद हो जायेगी फिट एंड फाइन।