मोटापा लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
मोटापा लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

मंगलवार, 1 मार्च 2022

आज से ही गर्म पानी पीने की आदत डालें,  इन 15 बीमारियों का है रामबाण इलाज

आज से ही गर्म पानी पीने की आदत डालें, इन 15 बीमारियों का है रामबाण इलाज

कहा जाता है कि व्‍यक्ति का शरीर में 70 प्रतिशत पानी ही होता है इसलिए हमारे शरीर में सबसे ज्‍यादा पानी की आवश्‍यकता होती है। अगर कोई व्‍यक्ति पानी पर्याप्‍त सेवन नहीं करता है तो उसे कई तरह की बिमारीयों का सामना करना सकता है इसलिए कहा गया है कि पानी हमारे स्‍वास्‍थ्‍य के लिए बेहद जरूरी है। 
 
लोगों के जहन में अक्‍सर ये सवाल आता है कि रोजाना कितना पानी पीना चाहिए, इसे लेकर हमेशा असमंजस की स्थिति बनी रहती है। इस मुद्दे पर कई साल तक बहस भी हो चुकी है वहीं ये भी जरूरी है कि शरीर में न तो पानी की कमी होनी चाहिए और न ही अति लेकिन वहीं आपको ये भी बता दें कि अगर आप दूषित पानी पीते हैं तो आपको अनेकों बिमारियाँ हो सकती है।
 


वहीं अगर सर्दीयों की बात करें तो एक आदत आपके जीवन शैली में बहुत जरूरी है क्‍योंकि माना जाता है कि अगर सर्दियों में आप रोजाना गर्म पानी पीते हैं तो आपके शरीर में कोई बीमारी नहीं उत्पन्न होगी साथ ही आज हम आपको गर्म पानी पीने के कुछ ऐसे फायदे बताने जा रहे हैं जो सच में बहुत ही लाभकारी साबित हुए है आइए जानते हैं कि कैसे एक महिला को गर्म पानी पीने के पॉजिटीव परिणाम मिले।
 

1. कीटाणु की समस्‍या-

गर्म पानी का सेवन करने से पानी के अंदर मौजूद सभी कीटाणु मर जाते है। साथ ही अगर आप वहीं पानी बिना गर्म करे पीते हैं तो कीटाणु आपके शरीर के अंदर प्रवेश डायरेक्‍त प्रवेश कर जाते हैं जो कि कई खतरनाक बिमारियों को जन्‍म दे सकते हैं इसलिए ध्‍यान रहे कि आप हमेशा पानी को गर्म करके ही पिये।

2. मोटापे की समस्‍या-

मोटापे से परेशान लोगों के लिए रोज़ सुबह खाली पेट गर्म पानी में निम्बू का रस डाल कर पीना बेहद फायदेमंद साबित होगा इसका असर आपको शुरवात के कुछ ही दिनों में दिखना शुरू हो जायेगा। जानकारी के अनुसार निम्बू में सिट्रिक अमल होता है। जो की सीधा मोटापे पर हमला करता है।
 

3. पाचन की समस्‍या-

वहीं अगर किसी व्‍यक्ति को खाना पचाने में समस्‍या होती है तो उसके लिए उसे बस रोज़ सुबह उठकर खाली पेट गर्म पानी में 2 चम्‍मच काला नमक मिलाकर पीना चाहिए ऐसा करने से वो स्‍वस्‍थ हो जाएगा।

4. गैस की समस्‍या-

वहीं अगर किसी व्‍यक्ति को गैस की समस्‍या है तो वो रोज़ सुबह गर्म पानी में तुलसी डाल कर पिये तो उसके शरीर से गैस की दिक्कत हमेशा से खत्म जाएगी।
 

5. खांसी की समस्या-

किसी व्‍यक्ति को खांसी की समस्या है तो आप पानी में अदरक डाल कर गर्म करले और उसका प्रतिदिन सेवन करे। इससे आपको खासी में आराम मिलेगा।

6. सर्दी-जुकाम से राहत -

कभी कभी ऐसा होता है की बिना मौसम भी आपको छाती में जकड़न और जुकाम शिकायत हो जाती है, तो ऐसे में आप गर्म पानी पीना किसी रामबाण से कम नहीं है. और गर्म पानी पीने से आपका गला भी ठीक रहता है.
 
ये भी पढ़िए : सोने से पहले कमरे में जलाएं सिर्फ 1 तेज पत्ता, फिर देखिये कमाल !

7. पीरियड्स बनाए आसान -

पीरियड्स का दर्द अक्सर महिलाओं के सभी कामों पर एक रोक लगा देता है ऐसे में गर्म पानी पीने से इस दर्द में राहत मिल सकती है. इस दौरान आप गर्म पानी से पेट की सिकाई भी कर सकती है निश्चित ही काफी लाभ मिलेगा.

8. बढ़ती उम्र थाम लें-

एक उम्र के बाद चेहरे पर पड़ने वाली झुर्रियां आपको परेशान करने लगती हैं तो अब चिंता करने की कोई बात नहीं है. आज से ही गर्म पानी पीना शुरू कर दीजिये और कुछ ही हफ्तों में आप इसका कमाल देखेंगे. त्‍वचा में कसाव आने लगेगा और आपकी स्किन चमकदार भी होने लगेगी.
 
ये भी पढ़िए : 'प्याज़ का रस' दोबारा बाल उगाने का रामबाण तरीका, जानिए कैसे?

9. बॉडी करे डिटॉक्‍स-

रोजाना गर्म पानी पीने से आपकी बॉडी डिटॉक्‍स होने लगती है  जिससे ये शरीर की सारी अशुद्धियां को आसानी से साफ कर देता है. क्योंकी गर्म पानी पीने से आपके शरीर का तापमान बढ़ने लगता है, जिसकी वजह से आपको पसीना आता है और इसके माध्यम से आपके शरीर की अशुद्धियां दूर हो जाती हैं.

10. बालों के लिए है फायदेमंद-

त्वचा के साथ साथ गर्म पानी का सेवन बालों के लिए भी बहुत फायदेमंद है. इससे बाल चमकदार बनते हैं और यह बालों की ग्रोथ के लिए के लिए भी बहुत अच्छा होता है.
 
ये भी पढ़िए : सिर्फ सात दिन में बवासीर की छुट्टी, आजमाकर देख लीजिए

11. पेट को रखे दुरुस्‍त-

गर्म पानी पीने से पाचन क्रिया भी अच्छी रहती है और गैस की समस्या में भी राहत देता है. खाना खाने के बाद एक कप गर्म पानी पीने की आदत जरूर डालें. ऐसा करने से खाना जल्‍दी पचेगा और पेट हल्‍का रहता है.

12. ब्‍लड सर्कुलेशन को रखे सही-

हमारे शरीर को सुचारू रूप से चलाने के लिए पूरी बॉडी में खून का संचार सही से होना बहुत जरूरी होता है और इसमें गर्म पानी पीना बहुत फायदेमंद रहता है.
 
ये भी पढ़िए : 99 प्रतिशत ब्लॉकेज को भी रिमूव कर देता है पीपल का पत्ता

13. जोड़ों का दर्द करे दूर-

गर्म पानी शरीर के जोड़ों को चिकना बनाता है और जोड़ों का दर्द भी कम करता है. हमारी मांसपेशियों का 80 प्रतिशत भाग पानी से बना हुआ है ऐसे में गर्म पानी पीने से मांसपेशियों की ऐंठन भी दूर होती है. 

डिसक्लेमर : दोस्तों, आयुर्वेदप्लस में दी गई जानकारी पाठकों के ज्ञानवर्धन के लिए है। अतः हम आप से निवेदन करते हैं की किसी भी उपाय का प्रयोग करने से पहले अपने चिकित्सक से सलह लें। हमारा उद्देश्य आपको जागरूक करना है। आपका डाॅक्टर ही आपकी सेहत बेहतर जानता है इसलिए उसका कोई विकल्प नहीं है।   

मंगलवार, 15 फ़रवरी 2022

जानिए उकडू अवस्था में बैठने से कई हैरान कर देने वाले फायदे

जानिए उकडू अवस्था में बैठने से कई हैरान कर देने वाले फायदे



दोस्तों आज हम आपके साथ बहुत ही दिलचस्प जानकारी शेयर करने वाले हैं. आज हम आपको बताएंगे कि कैसे एक सिंपल सी पोजीशन में बैठने मात्र से आप अपने शरीर को कई सारे फायदे पहुंचा सकते हैं. आप लोगो ने गाँव के लोगो को अक्सर उकडू अवस्था में बैठा देखा होगा. जहाँ एक तरफ गाँव में इस तरह से बैठना आम बात माना जाता हैं तो वहीँ यदि को व्यक्ति शहर में इस तरह से चार लोगो के बीच बैठ जाए तो लोग उसे अजीब निगाहों से देखते हैं.

वे उसे गवार समझने लगते हैं और कई बार उसका मजाक भी उड़ाते हैं. उकडू बैठने की वजह से कई बार साथ के लोग खुद की बेज्जती भी महसूस करते हैं. यदि उनकी जान पहचान का व्यक्ति ऐसा बैठ जाए तो उन्हें बड़ी शर्मिंदगी होती हैं और वो उसे सीधा बैठने के लिए टोक देते हैं.
 

लेकिन आपको जान हैरानी होगी कि उकडू अवस्था में बैठने से कई हैरान कर देने वाले फायदे होते हैं. गाँव में मजदूर और किसान वर्ग अक्सर इस अवस्था में बैठता हैं जिसकी वजह से वो हम शहरी लोगो की तुलना में ज्यादा मजबूत भी होते हैं. इसी बात को ध्यान में रखते हुए आज हम आपको बताएँगे कि किन किन कामो को करते समय आपको उकडू अवस्था में बैठना चाहिए. तो चलिए एक एक कर इन कामो के बारे में जानते हैं…

 

उकडू बैठ ये काम करेंगे तो होंगे कई फायदें :  

 

शौच करते समय: 

दोस्तों विज्ञान भी ये बात मानता हैं कि उकडू अवस्था में बैठ कर शौच करने से हमारा पाचन तंत्र मजबूत बनता हैं और पेट जल्दी साफ़ होता हैं. दरअसल हमारे आँतों की बनावट कुछ ऐसी होती हैं कि इस अवस्था में बैठने पर ये मल को हमारे शरीर से जल्दी बिना तकलीफ के बाहर निकाल देती हैं. ये तकनीक धीरे धीरे पश्चिमी देशों में भी पॉपुलर हो रही हैं.
 

इसलिए अगली बार से आपका पेट साफ़ ना हो तो वेस्टर्न टॉयलेट का इस्तेमाल करने की बजाए इस देशी तरीके को अपना लेना. पेट अच्छे से साफ़ हो जाएगा. जब आप इस तकनीक में शौच करने जाए तो पहले एक से डेढ़ लीटर पानी पी ले. इसके बाद इस पोजीशन में बैठ जाए और बीच बीच में पंजे के बल आगे आकर अपने दांत पीसे. ऐसा करने से बड़ी से बड़ी कब्ज भी ठीक हो जाएगी और पेट जल्दी साफ़ होगा.
 

दातुन करते समय : 

उकडू अवस्था में बैठ आप उंगलियों से दांतों की मालिश करे और अपने कंठ को साफ़ करे. ऐसा करने से आपका पाचन तंत्र मजबूत होगा, नेत्रों की ज्योति बढ़ेगी और बालों का झड़ना भी कम होगा.
 

खाना खाते समय : 

उकडू बैठ खाना खाने से खाना जल्दी पचता हैं. खाते समय इस अवस्था में बैठने से गुरुत्व नाभि में जाता हैं जिससे भोजन पचाने में आसानी होती हैं. साथ ही इससे एसिडिटी नहीं होगी, पेट बाहर नहीं निकलेगा और डकार आएगी. इस अवस्था में बैठ भोजन करने या दूध निकालने से महिलाओं को अधिक लाभ मिलता हैं. इससे एड़ी, कमर, जोड़ो का दर्द इत्यादि की समस्यां नहीं आती हैं.
 
डिसक्लेमर : दोस्तों, आयुर्वेदप्लस में दी गई जानकारी पाठकों के ज्ञानवर्धन के लिए है। अतः हम आप से निवेदन करते हैं की किसी भी उपाय का प्रयोग करने से पहले अपने चिकित्सक से सलह लें। हमारा उद्देश्य आपको जागरूक करना है। आपका डाॅक्टर ही आपकी सेहत बेहतर जानता है इसलिए उसका कोई विकल्प नहीं है।  

शनिवार, 5 मई 2018

सोने से भी कीमती यह चीज जिसे हम फैंक देते हैं, इसके बारे में जानकर दंग रह जाएंगे आप

सोने से भी कीमती यह चीज जिसे हम फैंक देते हैं, इसके बारे में जानकर दंग रह जाएंगे आप


संतरे हर किसी को पसंद होते  है लेकिन कुछ लोग इनको खाकर और इनके छिलके को फेंक देते हैं, क्योंकि वह नहीं जानते हैं कि इनसे कितना नुकसान होता है लेकिन इनके इतने फायदे होते है कि हर कोई इस बात को सुनकर दंग रह जायेगा इसके छिलके सोने की कीमत से कम नहीं होते हैं..बता दे कि संतरों के अलावा सभी फलों के छिलकों में पोषक तत्व मौजूद होते हैं, जो कि आपके सेहत के साथ -साथ चेहरे के लिए भी फायदेमंद होते  हैं आइये जानते हैं कैसे,….

-संतरे का छिलका आपके पाचनतंत्र को बेहतर बनाने के साथ-साथ आपके मेटाबॉलिज्म की गति को भी बढ़ाता है, जो मोटापा और कोलेस्ट्रॉल की समस्या भी दूर होती है.

-संतरे का छिलका एसि‍डि‍टी, हार्टबर्न, मतली, उल्टी आने जैसी समस्याओं को दूर करता है.

-यह छिलके ऑस्ट‍ियोपोरोसिस, कोलोन कैंसर जैसी बीमारियों से लड़ने में काफी मददगार होते हैं, साथ ही लिवर को स्वस्थ रखकर उसके बेहतर क्रियान्वयन में भी सहायक होते हैं।संतरे के छिलके में फ्लेवेनॉइड्स भी प्रचुर मात्रा में पाए जाते हैं,

-इसमें विटामिन सी होने के कारण यह  रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने में मदद करता है, साथ हीआपकी त्वचा के लिए भी अच्छा होता है.

-यदि आपके चेहरे पर ब्लैकहेड्स है तो संतरे  का छिलका को सूखाकर चेहरे पर रगड़ना चाहिए.यह  आपकी त्वचा को साफ, बेदाग और चमकदार बनाने का काम करता है।

मंगलवार, 1 मई 2018

रोज सुबह खाली पेट गुड़ और पानी का सेवन करने से होते हैं इतने फायदें

रोज सुबह खाली पेट गुड़ और पानी का सेवन करने से होते हैं इतने फायदें


हमारे देश में कई ऐेसे लोग हैं जिनको मीठा खाने का बहुत शौक होता है लेकिन कई लोग ऐसे होते हैं जो ये सोचते हैं कि मीठा खाने से मोटापा बढ़ता है. जिसके डर से वह मीठा नहीं खाते लेकिन आप मीठा खाने के शौक को पूरा करना चाहते हैं और अपनी हेल्थ के साथ समझौता नहीं करना चाहते तो गुड़ आपके लिए एक अच्छा  विकल्प है तो आइये जानते हैं गुड़ खाने के अनेकों फायदे.

गुड़ को पहले जमाने में कई लोग खाया करते थे कई लोग तो रोटी के साथ ही गुड़ का सेवन करते थे. गुड़ और चीनी दोनों ही गन्ने की मदद से बनाए जाते हैं लेकिन दोनों मे फर्क इतना है कि जब चीनी को बनाया जाता है तो गन्ने में जो तत्व मिले होते हैं जैसे आयरन, कैलशियम, पोटेशियम, फास्फोरस जैसे पोषक तत्व शामिल होते हैं जबकि गुड में विटामिन ‘ए’ और ‘बी’ भी पाए जाते हैं.

गुड़ खाने से कई फायदे होते हैं गुड़ को यदि रोज सुबह खाली पेट गर्म पानी के साथ खाया जाए तो उसके लाभ और भी बढ़ जाते हैं आपको बस इतना करना है कि सुबह उठते ही खाली पेट गुड़ के कुछ टुकड़े चबाने हैं और उसके बाद हल्का गर्म यानि गुनगुना पानी पीना है.  गुड़ और पानी लेने के बाद आधे घंटे तक कुछ नहीं खाना.

खाली पेट गुड़ और पानी पीने से होते हैं ये लाभ

कई लोगों को इतनी बीमारियां होती हैं कि रोज उनका पेट साफ नहीं होता जिसको लोग कब्ज कहते हैं. गुड़ और पानी का सेवन करने से कब्ज की शिकायत दूर हो जाती है.

2. जिन लोगों को हमेशा एसिडिटी या गैस की शिकायत हो रही है तो वो भी इस चीज का सेवन कर सकते हैं.

3. कई लोगों के हमेशा पेट में दर्द रहता है गुड़ और गर्म पानी का सेवन करने से इस समस्या से छुटकारा मिल सकता है.

4. खून भी साफ होता है

5. इसके सेवन से मांसपेशिया मजबूत होती हैं

6.  रंग साफ हो जाता है

7. ये शरीर में खून के प्रवाह यानी ब्लड सर्कुलेशन को सामान्य रखता है जिसके बीमरियां नहीं लगती.

8. शरीर की चर्बी को भी काम करता है.

सोमवार, 23 अप्रैल 2018

लोग माचिस की तीली कहकर चिढ़ाते है, तो मोटा होने के लिए अपनाएं ये अचूक तरीका

लोग माचिस की तीली कहकर चिढ़ाते है, तो मोटा होने के लिए अपनाएं ये अचूक तरीका


वजन बढ़ाने में आहार की महत्‍वपूर्ण भूमिका होती है। इस डाइट में जंक फूड और फास्ट फूड का सेवन करना शुरु कर देते है, ये चर्बी बढ़ाते तो है, लेकिन यह स्वास्थ्य के लिए काफी हानिकारक होते है। इसलिए ऐसे चीजों का सेवन करना चाहिए जो कि हेल्दी हो। जानिए ऐसी कौन सी चीजे है। जिनका सेवन करने से आपका वजन 1 माह में काफी हद तक बढ़ जाएगा। जेनेटिक प्रॉब्लम, सहीं खानपान न होना, हार्मोनल परिवर्तन आदि वजन होने के मुख्य कारण हो सकते है। कई ऐसे कारण भी होते है कि आप अधिक खाते है फिर भी आपका वजन नहीं बढ़ पाता है।

हम हमेशा यही बात सुनते है कि हर कोई मोटापे की समस्या से परेशान है। जिससे निजात पाने के लिए कई तरीके अपनाते है, लेकिन कुछ ऐसे लोग भी है जो दुबले-पतले और घटते वजन से परेशान है।

शहद और गर्म दूध
गर्म दूध के साथ शहद का सेवन करने से वजन बहुत जल्दी बढ़ता है। हर रोज सोने से पहले या नाश्ते में गर्म दूध के साथ एक चम्मच शहद का सेवन करें। इससे वजन भी तेजी से बढ़ता है और पाचन भी अच्छी तरह होता है। याद रखें जब तक आपकी पाचन क्रिया सही नहीं है आपका वजन नहीं बढ़ेगा।

मुनक्का
रोजाना 10-12 मुनक्का गर्म पानी में रात को भिगों दे। दूसरे दिन इसका पानी पिएं और मुनक्का को भी खा लें। इससे कुछ ही दिनों में आपको फर्क नजर आने लगेगा।

मेथी दाने
रोजाना 2 चम्मच मेथी दानें एक गिलास पानी में डालकर कम के कम 5 घंटे के लिए भिगों दें। इसके बाद इसे छान लें और इस पानी में 2 चम्मच शहद डालकर रोजाना पिएं।

चना
रोजाना रात को सोने से पहले एक गिलास कच्चे दूध में एक मुट्ठी चने की दाल डालकर भिगों दें। दूसरे दिन 5-6 किशमिश और मिश्री डालकर इसे खाएं।

ड्राई फूट्स
रोजाना 4-5 काजू, 5-6 छुहारे और 2 बादाम एक गिलास दूध में डालकर उबालें और फिर इसमें 2 चम्मच मिश्री डालकर रोजाना सोने से पहले पिएं।

केला और दूध
केला और दूध आपकी वजन बढ़ाने में काफी मदद करता है। इसके लिए रोजाना खाली पेट 3-4 केले और आधा लीटर दूध का सेवन करें। कुछ ही दिनों में फर्क नजर आ जाएगा।

शुक्रवार, 23 मार्च 2018

जानिए बढ़े हुए पेट की चर्बी को कम करने के आसान उपाए, लड़कियां ध्यान से पढ़ें

जानिए बढ़े हुए पेट की चर्बी को कम करने के आसान उपाए, लड़कियां ध्यान से पढ़ें


आज के इस समय में सुंदर दिखना हर दुसरे इंसान का सपना है. ऐसे में की बीमारी अपने आप में एक बहुत गंभीर विषय बन चुकी है. बहुत सारे लोग अपने वजन बढ़ा लेते हैं मगर उस वजन को कम कर पाना उनके लिए एक चुनौती बन जाता है. मोटापा, पेट की चर्बी लड़कों के लिए ही नहीं बल्कि लड़कियों के लिए भी परेशानी का मुख्य कारण बन जाता है. इससे व्यक्ति की ख़ूबसूरती पर दाग लग जाता है. मोटापा इंसान की सुंदरता पर ही ऊँगली नहीं उठाता बल्कि, उसके लिए बिमारियों का घर बन जाता है.

आज की युवा पीढ़ी अपने खान पान के कारण मोटापे का अधिक शिकार हो रही है. ऐसे में पेट की बढ़ रही चर्बी अपने आप में बहुत बड़ी समस्या बनती जा रही है. इस चर्बी को घटाने के लिए बहुत सारे लोग जिम ज्वाइन करते हैं, एक्सरसाइज करते हैं और हर प्रकार के महंगे प्रोडक्ट्स का सेवन करते हैं, मगर इन सब के बावजूद भी उनका मोटापा कम नहीं हो पाता. मगर आज के इस आर्टिकल में हम आपको पेट की चर्बी गलाने के कुछ ऐसे घरेलू उपाए बताने जा रहे हैं जिन्हें अपना कर आप कुछ ही हफ़्तों में अपना लुक बदल सकते हैं. इसके लिए आपको ज्यादा पैसे खर्च करने की भी कोई जरूरत नहीं पड़ेगी. तो चलिए जानते हैं उन उपायों के बारे में.

शहद को एक प्रकार की आयुर्वेदिक औषधि माना जाता है. अगर आप हर रोज़ सुबह उठ कर खाली पेट नींबू और शहद के रस का मिश्रण पानी में मिला कर पी लें तो इससे कुछ ही दिनों में आप अपने वजन में कमी महसूस करने लगेंगे. इसके इलावा अगर आप 5 ग्राम जीरा पाउडर और शहद की कुछ बूंदे सुबह खाली पेट पानी में मिला कर सेवन करें तो इससे आपके वजन में तेज़ी से कमी आएगी. शहद, नींबू और जीरा तीनो मार्किट में आसानी से उपलब्ध हैं.

मोटे इंसानों के लिए नींबू एक वरदान की तरह सिद्ध हो सकता है. अगर आप हर रोज़ भोजन ग्रहण करने के साथ साथ नींबू का सेवन करें तो इससे कुछ ही दिनों में आपके पेट की चर्बी कम हो जाएगी. क्यूंकि, नींबू एकमात्र ऐसा पदार्थ है, जो शरीर से विषाक्त पदार्थों को नष्ट कर देता है तथा भोजन को गला कर पाचन योग्य बना देता है. इसलिए आज से नींबू का सेवन करना शुरू कर दें ताकि आपका मोटापा जल्दी दूर हो पाए.

सोमवार, 29 जनवरी 2018

शरीर के इन बिन्दु पर दबाव डालने से होता है मोटापा कम

शरीर के इन बिन्दु पर दबाव डालने से होता है मोटापा कम


मनुष्य का मोटापा और वजन बढ़ना एक बात नहीं है। किसी व्यक्ति के लिए मोटा शब्द का प्रयोग तब किया जाता है जब उसके शरीर में चर्बी की मात्रा काफी ज्यादा हो तथा उसका वजन भी उसके कद अनुसार कम से कम 20 प्रतिशत ज्यादा हो। मोटापा बढ़ने से हृदय तथा फेफड़ों जैसे भीतरी अंगों पर ही केवल असर नहीं पड़ता बल्कि मोटे व्यक्ति को मधुमेह, खून का दाब तथा जोड़ों में जलन आदि रोग होने की संभावना भी बढ़ जाती है।

कारण :

शरीर में मोटापा बढ़ने का सबसे प्रमुख कारण भोजन में अत्यधिक मात्रा में चर्बी बनाने वाले पदार्थ तथा श्वेतसारिक पदार्थों का सेवन करना है। मोटापा रोग किसी ग्रंथि की दोषपूर्ण अवस्था के कारण भी हो जाता है क्योंकि अगर शरीर की कोई ग्रंथि ठीक से काम नहीं करती तो आदमी चाहे कितने भी कम भोजन का सेवन क्यों न करे फिर भी उस व्यक्ति का वजन बढ़ता ही चला जाता है।
ये भी पढ़िए : शरीर के ये 4 पॉइंट्स दबाएं, तेजी से वजन घटाएं!
उपचार :
नियमित रूप से व्यायाम करने से काफी हद तक मोटापे से छुटकारा पाया जा सकता है। मोटापे से पीड़ित व्यक्ति अगर संतुलित भोजन का सेवन करे तो उसके वजन में अंतर आ सकता है। फिर भी वजन को सामान्य बनाए रखने के लिए पौष्टिक भोजन तथा चर्बी को कम करने वाले भोजन का सेवन करना चाहिए। भूख से ज्यादा भोजन कभी नहीं करना चाहिए तथा शर्करा और चर्बी वाले पदार्थों को भोजन में नहीं खाना चाहिए।
जहां तक हो सके तो नमक का इस्तेमाल भोजन में कम करना चाहिए यदि नमक खाना भी हो तो सेंधा नमक का इस्तेमाल करना चाहिए। रोगी को अपने भोजन में साग-सब्जी तथा हरा रस ज्यादा लेना चाहिए। रोगी को अंकुरित दालों का सेवन भी करते रहना चाहिए। अधिकतर गेहूं या चावल से बने पदार्थ ही खाने चाहिए। अपने भोजन की मात्रा को कम करते रहना चाहिए इससे चर्बी का बनना रुक जाता है। वैसे कहा जाए तो उतने ही भोजन का सेवन करना चाहिए जितनी की शरीर को आवश्यकता हो।

प्रतिदिन सुबह के समय में खाली पेट गुनगुने पानी में शहद और नींबू डालकर पिएं। सोने-तांबे-चांदी- के बर्तनों में पानी रखकर उसे गुनगुना करके पीने से शरीर की फालतू की चर्बी घट जाती है।

शरीर में मोटापे तथा चर्बी को घटाने के लिए :
मोटापा रोग हो जाने पर व्यक्ति को अपनी भूख को कम करने के लिए भोजन से आधा घंटे पहले कानों के तीनों बिन्दुओं पर अर्थात अपने दोनों कानों के पीछे अपने अंगूठे को रखकर, जोर से मसाज करनी चाहिए। इस तरह की क्रिया दिन में 2 बार करनी चाहिए। इससे भूख को कम करने में मदद मिलती है। इस क्रिया में अच्छी तरह से दबाव देने के लिए अंगूठे को कान के पीछे रखकर उंगलियों से बिन्दुओं पर दबाव देना चाहिए। इस क्रिया के साथ-साथ अपने भोजन में मिठाई, आइस्क्रीम, तले हुए नमकीन, चावल आदि को नहीं खाना चाहिए बल्कि इसकी जगह पर जितना हो सके हरी साग-सब्जियों का अधिक इस्तेमाल करना चाहिए। इसके साथ-साथ रोगी को फल आदि का सेवन भी करना चाहिए।

शुक्रवार, 19 जनवरी 2018

इस चाय से महज़ 15 दिन में मोटापा, चेहरे की झुर्रिया जैसी कई बीमारियों को ख़त्म कर सकते हैं

इस चाय से महज़ 15 दिन में मोटापा, चेहरे की झुर्रिया जैसी कई बीमारियों को ख़त्म कर सकते हैं


दौड़ लगा लगा कर, खाना कम खाकर और ना जाने कितने घरेलु उपाय करके जैसे की गरम पानी और निम्बू पी पी कर, रात में कम खाना खा कर, सलाद पर रह कर, फ़ास्ट कर के और ऊपर से ग्रीन टी का इस्तेमाल कर कर के परेशान हो गए हैं? तो एक बार फिर से आप चाय पीना शुरू कर दीजिये। अब आ गया है वाइट टी, जी हाँ सफ़ेद चाय जो अप आपका वजन कम करने वाला है और लोगो को घरों में एक और चाय की किस्म रसोई में आने वाली है अब आने वाले मेहमानों को अब सफ़ेद चाय भी पूछा जाने लगेगा। आज हम आपको सफ़ेद चाय के गुणों के बारे में बताने जा रहे हैं। व्‍हाइट टी या सफेद चाय भी हर्बल टी का एक प्रकार है।

White Tea क्यों ?
आपने ग्रीन टी तो बहूत पिए होंगे और इसके बारे में जानते भी होंगे पर आज हम वाइट टी के बारे में बता रहे हैं। इसकी सुगंध लाजवाब होती है। वाइट टी में एंटीबैक्टीरियल गुण होते हैं और यह कोलेस्ट्रॉल और ब्लड प्रेशर को कम करने में सहायक है। इसमें कम कैफीन होता है। इसमें फिनोल की मात्रा अधिक होती है जो इलस्टिन और कोलेजन को मजबूत करता है और आपको झुर्रियों से बचाता है।

बढ़ते उम्र को रोकने में सक्षम
अगर आपके चेहरे पर झुरियां आने लगी है, तो अब व्‍हाइट टी पिने की आदत डाल लीजिये । क्यों की हाइट टी में एंटी एजिंग गुण होते है जो आपकी त्‍वचा को हमेशा जवां बनाए रखने में मदद करती है। इसके अलावा आपको हमेशा झुर्रियों से दूर रखती है। और आप जवान दिखने लगते हैं।

वजन घटाने में सहायक
व्‍हाइट टी कम प्रोसेसिंग के कारण इसमें ब्लैक और ग्रीन टी की तुलना में ज्यादा पोषक तत्व होते हैं। और इसमें एंटीऑक्सिडेंट्स का बेहतर स्रोत है जो की शारीर से टॉक्सिन निकालने में सहायक है। इसमें मौजूद यौगिक फैट बर्न करने में मदद करते हैं। और आपके चेहरे और शरीर की चर्बी अपने आप निकलने लगती है और आप स्लिम होने लगते हैं।

व्‍हाइट टी बनाने का तरीका
आप बाजार से लूज व्हाईट टी ले आयें उसके बाद एक चम्मच व्हाईट टी, आधा चम्मच अदरक पाउडर और कुछ नींबू रस को एक गिलास पानी में मिक्स कर लें। अगर आप अच्छा परिणाम चाहते हैं, इस चाय को रोजाना कम से कम 15 दिनों तक पिएं।

सोमवार, 15 जनवरी 2018

कैंसर से लेकर मोटापे तक कई बिमारियों को खत्म करता है गुलाब

कैंसर से लेकर मोटापे तक कई बिमारियों को खत्म करता है गुलाब


प्यार को इजहार करने या फिर किसी रूठें को मनाने के लिए अगर किसी चीज का सबसे ज्यादा प्रयोग किया जाता है तो वह है, गुलाब। जी हां गुलाब वो प्यारा सा फूल है, जो शायद दो दिलो को जोड़नें के काम आता है, वैसे तो इसकी सबसे ज्यादा आवश्यकता किसी को गिफ्ट देते समय ही आती है लेकिन क्या आपको पता है गुलाब के कई प्रकार के कार्य है जिनसे लोग अभी भी अनजान है। दुनिया भर में गुलाब की पत्तियों का उपयोग कई प्रकार की डिशेज बनाने में किया जाता है। इसके अलावा भी गुलाब की पत्तियां हेल्थ और शरीर के लिए भी काफी गुणकारी मानी जाती है। सुनकर चैंक गए ना ! लेकिन यह सत्य है। आज हम आपको गुलाब की पत्तियां के हेल्थ से जुड़ें हुए फायदों के बारें में बताने जा रहें है जिनके बारें में शायद आप भी वर्षो से अंजान रहें है.

आज की दुनिया में लोग सबसे ज्यादा मोटापे और उनसें जुड़ी हुई बिमारियों से परेशान है और ना जाने मोटापें को कम करने के लिए कितने ही प्रकार के उपयोग और प्रयोग करते रहते है। लेकिन क्या आपको पता है गुलाब से भी मोटापा कम किया जा सकता है !! दरअसल, गुलाब की पंखुड़ियों को रोजाना खाने से शरीर का मेटाबाॅलिज्म बढ़ता है जो शरीर के अंदर अनावश्यक चर्बी को नष्ट करने का कार्य करता है और इससे वजन कम करने में भी काफी मदद मिलती है।
इंसान सबसे ज्यादा अपने चेहरें से प्यार करता है खासतौर पर लड़कियां। आजकल सभी अपने चेहरें पर होने वालें पिंपल्स, दाग, झुर्रियों से बचना चाहते है। वैसे आपकी जानकारी के लिए बता दें कि गुलाब कि पंखुड़ियों में इन सभी परेशानियों का इलाज छिपा हुआ है। गुलाब की पंखुड़ियों को रोजाना चेहरें पर मलने से बाॅडी में मौजुद टाॅक्सिंस दूर होते है। इससे चेहरें और स्किन से जुड़ी हुई कई बिमारियों को ठीक करने में मदद मिलती है।
कई लोग यूरिन यानि पेशाब से जुड़ी परेशानियों को नजरंदाज कर देते है। जिससे भी कई बड़ी बिमारियों का जन्म लेना स्वभाविक है, ऐसे में किसी को भी यूरिन से जुड़ी बिमारियों को हल्के में नही लेना चाहिए। वैसे अगर इंसान रोज या सप्ताह में कुछ दिन भी गुलाब की पत्तियों का सेवन करें तो वह यूरिन से जुड़ी परेशानियों से बच सकत है, क्योकि गुलाब की पंखु़ि़ड़यों में डाइयूरेटिक गुण मौजूद होते है, जो शरीर पेशाब का पीला होना, पेशाब के दौरान जलन होना जैसी बिमारियों से मदद करता है।
जरा सा भी ज्यादा खाने या फिर किसी भी प्रकार की अपच के कारण शरीर का डाइजेशन खराब हो जाता है। जिससे पाइल्स जैसी बिमारियों का जन्म होता है। लेकिन अगर व्यक्ति रोज कुछ गुलाब की पंखुड़ियों का इस्तेमाल करें तो वह डाइजेशन बिमारियों से तो बच ही सकता है इसके अलावा कब्ज और पाइल्स से भी अपना बचाव कर सकता है, क्योकि गुलाब की पंखुड़ियों में काफी मात्रा मे फाइबर पाया जाता है, जो इन रोगो को नष्ट करने में मदद करता है।

आजकल भागदौड़ भरी जिंदगी में इंसान अपने कामकाज के बोझ में ही दबकर रह जाता है और उसके शरीर की एनर्जी बिलकुल खत्म ही हो जाती है। लेकिन अगर इंसान अपनी एनर्जी को बरकरार रखना चाहता है तो उन्हें गुलाब की पंखुड़ियों का इस्तेमाल करना चाहिए। दरअसल, गुलाब की पत्तियों में विटामिन सी पाया जाता है, जिनके रोज खाने से शरीर को एनर्जी मिलती ही है और दिनभर इंसान को एक्टिव बनाए रखने में भी मदद करता है।

वैसे तो आप सभी को भी पता ही होगा कि कैंसर की बिमारी कितनी खतरनाक और जानलेवा है। कैंसर का इलाज संभव है और अगर इंसान अपने इलाज के साथ-साथ गुलाब की पंखुड़ियों का इस्तेमाल करें तो वह कैंसर के खतरे को कम कर सकता है। दरअसल, गुलाब की पंखुड़ियों में पाॅलीफेनाॅल्स होते है, जो कैंसर जैसी गंभीर बिमारियों से बचाने में मदद करती है।

चोट लगने पर शरीर पर होने वालें जख्म जल्दी नही भरते है लेकिन सिर्फ गुलाब की पंखुड़ियों के इस्तेमाल से आप भी जख्मों को जल्दी भर सकते है। क्योकि गुलाब की पंखुड़ियों में एंटीसेप्टिक गुण होते है जो घाव को जल्दी भरने में और ठीक करने में मददगार है।

गुलाब की पंखुड़ियां वैसे तो कई गुणों से भरपूर है लेकिन इसके साथ ही यह कई प्रकार की बिमारियों के बढनें और इन बिमारियों के इनफेक्शन को खत्म करने में भी मदद करता है। दरअसल, गुलाब की पंखुड़ियों को रोज खाने से बाॅडी की इम्यूनिटी बढ़ती है जो शरीर के अंदर के मौजूद किटाणुओं को नष्ट करने और कई प्रकार की बिमारियों से बचाने में इफेक्टिव है।

एक निश्चित आयु सीमा के बाद से इंसान के शरीर में बदलाव शुरू हो जाते है और फिर शरीर ज्यादा जटिल बन जाता है इसके साथ ही अगर ढलती उम्र का सबसे ज्यादा असर कहीं देखने को मिलता है तो वह है पैर के घुटनें। जी हां पैर के घुटनें के साथ-साथ शरीर के किसी भी जोड़ के दर्द को खत्म करना एक चुनौतीपूर्ण कार्य है। लेकिन गुलाब की पंखुड़ियों में एंटी इंफ्लंमेटरी की भरपूर मात्रा होती है तो जोड़ों के दर्द को ठीक करने में काफी मददगार है।

शहरों में बढ़तें प्रदुषण की मार के कारण सांस से जुड़ी हुई कई प्रकार की बिमारियां पैदा होती है। इससे अस्थमा तक होने का डर रहता है। ऐसे में इंसान को गुलाब की पंखुड़ियों का इस्तेमाल करना चाहिए क्योकि गुलाब की पंखुड़ियों में एंटी बैक्टिरियल तत्व मौजूद होते है जो सांस से जुड़ी हुई बिमारियों को खत्म करने और उनके इनफेक्शन से बचाने में काफी मदद करता है।

गुरुवार, 11 जनवरी 2018

जापानियों के ये फॉर्मूले हैं बड़े असरदार, इन्हे अपनाने से आप भी कभी नहीं होंगे मोटे

जापानियों के ये फॉर्मूले हैं बड़े असरदार, इन्हे अपनाने से आप भी कभी नहीं होंगे मोटे


आज के लोगों की सबसे बड़ी परेशानी है मोटापा और अनचाही चर्बी। जिसे देखों वह अपने मोटापे से परेशान है, इस परेशानी से छुटकारा पाने के लिए कोई घंटों जिम में बिताता है तो कोई घर पर ही हज़ारों पैतरे आज़माता है। लेकिन क्या आपने कभी ये सोचा है कि बिना किसी मेहनत और जद्दोज़हद के जापानी लोग इतने फिट कैसे होते हैं। अगर नहीं सोचा तो अब सोच लीजिए, तो चलिए आज हम आपको बताते हैं जापानी लोगों के फिट होने का राज़। जिसे अपनाकर आप भी बिना किसी मेहनत के बिल्कुल फिट हो जाएंगे। तो आइए जानते हैं कि इसके लिए आपको करना क्या होगा –

कम तेल वाला खाना
आपने देखा होगा कि जापानी लोग अक्सर बॉइल्ड यानी की उबला हुआ खाना खाते हैं, जसमें फैट की मात्रा काफी कम रहती है। और वज़न कंट्रोल में रहता है।
थोड़ा- थोड़ा खाना
थोड़ा- थोड़ा और रुक- रुककर खाने से पेट का हाजमा और मेटाबोलिज़्म संतुलित रहता है। जिससे की शरीरमें फैट नहीं बढ़ता।

ग्रीन टी का सेवन
जापानी लोग अक्सर ग्रीन टी का सेवन करते हैं। जिससे की शरीर में मौजूद अनचाही चर्बी तेजी से बर्न होती है और मोटापा कम होता है।
धीरे- धीरे खाना
धीरे- धिरे खाना खाने से भोजन को ठीक से पचने का वक्त मिल जाता है, जिससे की शरीर में फैट नहीं जम पाता।

मीठा कम खाना
मीठे खाद्य पदार्थो में फैट की मात्रा सबसे अधिक होती है, जो कि आपके मोटापे को तेजी से बढ़ाने में मदद करता है।

भरपेट नाश्ता
व्यक्ति को हमेशा सुबह का नाश्ता हेवी लेना चाहिए जिससे की दिनभर शरीर में ऊर्जा और फूर्ती बनी रहे। इससे आप ओवर डाइटिंग से भी बचे रहेंगे।

मंगलवार, 9 जनवरी 2018

गुरुवार, 14 दिसंबर 2017

शहद में मिलाकर खाएं लहसुन, तेजी से घटेगा मोटापा

शहद में मिलाकर खाएं लहसुन, तेजी से घटेगा मोटापा


वैसे तो रोज लहसुन खाने के कई फायदे हैं। लेकिन लहसुन को अगर शहद के साथ खाएं तो इसके हेल्थ बेनिफिट्स और बढ़ जाते हैं. इस कॉम्बिनेशन को रोज सुबह खाली पेट खाने से मोटापा तेजी से कम होने लगता है. शहद के साथ लहसुन खाने के 7 फायदे

मोटापा करे कम – लहसुन में शहद मिलकर खाने से फैट बर्निंग की प्रोसेस तेज होती है जिससे मोटापा ख़त्म होता है और वजन कम होता है.
दिल की बिमारियों में – इससे कोलेस्ट्रोल कम होता है. कोलेस्ट्रोल हमारे शरीर में रक्त को मोटा करता है जिससे हमारे शरीर में हार्ट के रोग होने शुरू हो जाते हैं और सबसे खतरनाक रोग हार्ट अटैक भी आ सकता है, तो लहसून के साथ शहद मिलकर खाने से शरीर में दिल की बिमारियों का खतरा कम हो जाता है
किडनी लीवर में – इससे बॉडी के टोक्सिंस दूर होते हैं यह किडनी, लीवर प्रॉब्लम से बचाता है.

स्किन में – इसमें मौजूद एंटीओक्सिडेंटस स्किन सेल्स को रिजनरेट करते हैं. इससे स्किन की चमक बढती है और पिंपल्स दूर होते हैं
शरीर की कमजोरी – इन दोनों में कार्बोहाइड्रेट्स होते हैं इससे कमजोरी दूर होती है बॉडी को एनर्जी मिलती है

कब्ज में – लहसुन और शहद दोनों में फिबेर्स होते हाँ इससे कब्ज जैसी पेट की प्रॉब्लम दूर होती है.

सर्दी खांसी – लहसून में शहद मिला कर खाने से बॉडी की इमुनिटी बढती है. यह सर्दी- खांसी जैसे इन्फेक्शन से बचाता है

शनिवार, 2 दिसंबर 2017

सोडा के पीने से शरीर पर दुष्प्रभाव जिसे पढ़ कर आप सोडा कभी नहीं पियेंगे

सोडा के पीने से शरीर पर दुष्प्रभाव जिसे पढ़ कर आप सोडा कभी नहीं पियेंगे


सोडा शरीर के लिए घातक होता है । इसके दुष्परिणाम थोड़ी  देर में नज़र आने लगते है क्योकि सोडा से शुगर की मात्रा बढ़ जाती है जो सीधे स्पाइरल के नीचे जाता है।

10 मिनट बाद
12 औंस सोडा में 10 छोटे चम्मच चीनी होती है जो पुरे दिन के चीनी सेवन के बराबर है । इसमें फास्फोरिक एसिड और अन्य प्रकार के रस मिले होते है जो चीनी की मिठास को कम कर देते है और यह पीने में स्वादिष्ठ लगता है  ।


फास्फोरिक एसिड क्या है?
फास्फोरिक एसिड हमारे दांतो की ऊपरी सतह को नष्ट करता है । इसके ज्यादा सेवन से शरीर कैल्शियम (जो हड्डियों को मजबूत करता है) को पूरी तरह से सोख नहीं कर पाता जिससे हड्डिया कमज़ोर होती हैं।

20 मिनट बाद
सोडा बहुत तेज़ी से पेट की आंतो तक पहुचंता है । जिस कारण शुगर बढ़ जाती है । शुगर के स्तर को नियंतरण करने के लिए शरीर में मौजूद इन्सुलिन फट जाती है । लिवर रक्तपर्वाह में ग्लूकोस की मात्रा को बढ़ाता है और इसका संग्रह करता है । शुगर चर्बी को बढ़ाता है । शरीर को मोटा करता है ।

क्या आप जानते  है?
सोडा में मौजूद चीनी या तो उच्च फ्रुक्टोसे कॉर्न सिरप या सुक्रोस है, जो लगभग 50% ग्लूकोस और 50%  फ्रुक्टोसे  में टूट जाते हैं और रक्त प्रवाह में मिल जाते हैं । जिससे विभिन्न प्रकार की बीमारिया हो सकती हैं । जैसे मोटापा , ह्रदय रोग, मधुमेह, आदि ।
30 मिनट बाद
धीरे धीरे कैफैने का प्रभाव नज़र आता है । आँखों की पुतली फैलने लगती है । रक्त चाप बढ़ जाता है । जिगर में चीनी की अधिक मात्रा होने से ह्रदय और शवसन दर में वृद्धि होने लगती है । अगर आप थके हुए भी है तो भी आपको थकान महसूस नहीं होती क्योकि कैफैने मस्तिष्क के एडनोसिस रिसेप्टर्स को रोकता है  ।


40 मिनट बाद
आपका डोपामाइन (यह एक दिमागी हॉर्मोन है, जो शरीर में होने वाली गतिविधियों को नियत्रिंत करता है ।) का स्तर असामान्य रूप से बढ़ता है । यह दिमाग के आनद केन्द्रो पर प्रभाव डालता है । यह एक प्रकार से कोकीन, एम्फ़ैटेमिन और हीरोइन द्वारा उत्पादित जैसा होता है ।

50 मिनट बाद
कैफैन की मूत्रवर्ध्क गूढ़ के कारण पेशाब आता है । यह शरीर को जोड़ने वाले तत्व जैसे मैग्नीशियम, जस्ता और कैल्शियम को खाली करता है । यह तत्व हड्डियों के लिए आवश्यक है । साथ ही साथ एलेक्ट्रोलाइट , सोडियम और पानी की मात्रा भी कम करता है । साधारण पेय की तुलना में कैफैन के सेवन के 2 घंटे बाद शरीर के मूत्र उत्पादन में कैल्शियम , सोडियम मैग्नीशियम, पोटैशियम, क्लोराइड और क्रिएटिनिन का स्तर बढ़ जाता है।

60 मिनट बाद
पाचक ग्रंथि में रक्त शर्करा की मात्रा बढ़ जाती है । रक्त शर्करा को संतुलित करने के लिए इन्सुलिन फटती है । कैफैन भी मूत्राशय में सक्रिय होने के कारण बार बार बाथरूम जाना पड़ता है ।
इन्सुलिन का महत्व
इन्सुलिन शरीर की कोशिकाओं में उपलबध चीनी या ग्लूकोस की मात्रा को नियंत्रित करता है । खून में चीनी की ज्यादा मात्रा होने पर यह ग्लूकोस को सामान्य स्तर पर लता है।

1 घंटे बाद
शरीर थका हुआ, आलसी, कठोर, मुँह सूखने लगता है मानो प्यास लगी है । दोबारा सोडा इन्सुलिन का महत्व पीने की चाह होती है । खास कर तब जब हमने डाइट सोडा पिया हो ।
डाइट सोडा में पायी जाने वाली कृत्रिम चीनी दिमाग की लत केन्द्रो को प्रभावित करती है । जिस कारण बार बार इसके सेवन का मन करता है ।

अतः सोडा का सेवन शरीर को कोई भी पोषक तत्व नहीं देता अपितु शरीर में उपलब्द पोषक तत्वों को नष्ट करता है । इसका स्वाद अच्छा लगता है । धीरे धीरे शरीर को इसकी आदत हो जाती है । शरीर में विभिन्न प्रकार की बिमारियां घर कर लेती है ।

रविवार, 26 नवंबर 2017

शरीर में भरी पड़ी गंदगी का कीजिये सुपड़ा-साफ़, पिएं सोने से पहले सिर्फ 1 गिलास

शरीर में भरी पड़ी गंदगी का कीजिये सुपड़ा-साफ़, पिएं सोने से पहले सिर्फ 1 गिलास


शरीर के हर एक अंग को सफाई की आवशकता होती है। शरीर के कई अंग विषैले तत्वों को सोख लेते है , जब शरीर के किसी अंग में विषैले तत्वों की संख्या हद से बड जाती है तो शरीर के कई हिस्से अपना काम करना बंद कर देते है नतीजे में शरीर को कई बीमारियाँ लग जाती है। एक स्वस्थ्य जिंदगी का सबसे बड़ा राज यह है कि अपने शरीर से विषैले तत्वों को निकाला जाए जिसे हम Detoxification कहते है। इसलिए अब तक आप अपने शरीर के साथ जो बुरा करते आए हैं, उन्हें सुधार लें।
  • एंटी-ऑक्सीडेंट की आदत डालें डीटाक्सीफाइ का सबसे अच्छा तरीका यह है कि आप ज्यादा से ज्यादा फल और हरी सब्जियां खाएं। इससे लीवर एंजाइम सक्रिय होंगे और शरीर में मौजूद नुकसानदायक पदार्थो को बाहर निकालने में मदद करेंगे।
  • ऑर्गेनिक प्रोडक्ट का चयन करें कीटनाशक दवाइयों और विषैले तत्वों के खतरे से बचने का सबसे अच्छा तरीका है कि ऑर्गेनिक फूड का सहारा लिया जाए।

  • हर्बल चाय का सेवन करें पाचन तंत्र की समस्या से निजात पाने के लिए ग्रीन टी या कैमोमाइल टी का सेवन करें। इससे नींद भी अच्छी आएगी। ये चाय शरीर में रक्त संचार को भी बढ़ाता है, जो शरीर से विषैले तत्वों को हटाने में मददगार होते हैं।
  • खुद का एंटी-ऑक्सीडेंट बनाएं ज्यादा से ज्यादा लहसुन और अंडे खाएं। ये सल्फ्यूरिक तत्वों से भरपूर होते हैं। ये तत्व शरीर में ग्लूथाथीओन नामक एंटी-ऑक्सीडेंट के निर्माण में सहायक होते हैं। ये शरीर में मौजूद रसायन और भारी धातु सहित अन्य विषैले तत्वों को भी बाहर निकाल देते हैं।
  • लेमन जूस पीएं एक ग्लास लेमन जूस पीने से न सिर्फ शरीर शुद्ध होता है, बल्कि इससे शरीर में क्षार की मात्रा भी बढ़ती है। यह एक सर्वश्रेष्ठ डीटाक्स ड्रिंक है। इसलिए ताजे लेमन जूस पीने पर ज्यादा ध्यान दें।
  • चीनी को कहें ना अगर आप अपने शरीर के मेटाबोलिज्म को बढ़ाना चाहते हैं और इसे विषैले तत्वों से दूर रखना चाहते हैं, तो चीनी सेवन की मात्रा घटा दीजिए। हर तरह के मीठे से जहां तक हो सके दूरी बनाइए।
  • ज्यादा पानी पीएं हर दिन करीब 8-12 ग्लास पानी पीएं। इससे शरीर में मौजूद विषैले तत्व मूत्र और पसीने के रास्ते से बाहर निकल जाएंगे।
  • हल्का खाना खाएं लगातार हल्का आहार लें और करीब एक महीने तक शराब से दूर रहें। इस विधि से न सिर्फ आपकी ऊर्जा बढ़ेगी, बल्कि इससे आपके वजन के साथ-साथ कोलेस्ट्रोल और ब्लड शुगर का स्तर भी कम होगा।

  • मसाज करवाएं अपने शरीर का अच्छे से मसाज करवाएं। इससे भी विषैले तत्वों से निजात मिलेगा।
  • हर दिन 45 मिनट व्यायाम करें अपने दिन की शुरुआत ब्रिस्क वॉकिंग, रनिंग, जॉगिंग या साइकलिंग से करें। इससे शरीर के साथ-साथ दिमाग को भी लाभ पहुंचेगा।
  • गहरी सांस लें गहरी सांस लें। इससे स्वास्थ्य बेहतर होने के साथ-साथ पूरे शरीर में ऑक्सीजन का भी अच्छे से संचार होगा।
  • नाक की करें सफाई हम एक ऐसे वातावरण में रहते हैं, जो धूल और प्रदुषण से भरे पड़े हैं। इससे आपको एलर्जी हो सकती है। इससे बचने के लिए अपने नाक को नियमित रूप से धोएं। ऐसा करने पर वायु प्रदुषक से छुटकारा मिलेगा और नींद भी अच्छी आएगी।
  • योग करें योग न सिर्फ डीटाक्सीफाइ में मददगार होता है, बल्कि इससे दिमाग को भी फायदा पहुंचता है। हर सुबह आप कुछ साधारण योग करके भी अपने शरीर के विषैले तत्वों से छुटकारा पा सकते हैं।
  • जूस पीएं ताजे फलों और सब्जियों के जूस पीने की मात्रा को बढ़ाएं।
  • आराम भी करें आलस्य और सुस्ती से छुटकारा पाने के लिए जरूरी है कि आप पर्याप्त नींद लें। इस बात को सुनिश्चित करें कि आप हर दिन 8 घंटे की नींद लेते हों।
  • एक्स्फोलीएट अपने त्वचा से विषैले तत्व निकालने के लिए स्किन एक्स्फोलीएट करें। इससे शरीर का रक्त संचार भी बेहतर होगा।
  • कुछ आदतों को छोड़ें अगर आप सिगरेट और शराब का अधिक सेवन करते हैं, तो यह आदत छोड़ दें। यहां तक की थोड़ा सिगरेट पीना भी शरीर के लिए नुकसानदायक होता है। इसके अलावा, अगर आप शराब पीते हैं, तो इसे जहां तक हो सके, कम से कम पीएं।

सिर्फ 6 घंटो में शरीर का ये डेटॉक्स ड्रिंक कर देगा गंदगी का सफाया :


आवश्यक समग्री :
  • 1/3 कप पानी
  • 1 अदरक
  • 1 खीरा
  • 1 गुथी धनिया
  • ½ नीम्बू
बनाने की विधि और सेवन करने का तरीका : 
पहले धनिये को कद्दूकस कर लीजिये तांकि यह एक चमच रह जाए। खीरे को टुकड़ों में काट लीजिये। सारी समग्री को एकसाथ ब्लेंडर में डाल कर मिक्स कर लीजिये। यह एक झागदार मिश्रण में तब्दील हो जाएगा (आप चाहें तो इसमें शहद भी डाल सकते हो स्वाद के लिए)। रोजाना सोने से पहले इस ड्रिंक का सेवन आपको विषैले तत्वों से मुक्त कर देगा। कुछ ही दिनों में आपको फायदा हो जायेगा।

शनिवार, 18 नवंबर 2017

सांस लेने में तकलीफ कहीं इन बीमारियों का संकेत तो नहीं

सांस लेने में तकलीफ कहीं इन बीमारियों का संकेत तो नहीं


आजकल के टाइम में हर किसी को कोई न कोई बीमारी होना तो आम बात है। ज्यादातर लोगों को बीमारियों के बारे में पता नहीं चलता, जिससे छोटी बीमारी भी बढ़ जाती है लेकिन शरीर की कई बीमारियों के बारे में अब सांस लेने के तरीके से पता लगाया जा सकता है। हाल ही में हुए एक शोध में बताया गया है कि सास लेने के तरीके से बीमारियों के कई बीमारियों के बारे में पता चलता है। सांस लेने से कैंसर, शूगर, गुर्दे और दिल की बीमारियों का पता लगता है। आइए जानते है कि किस तरह सांस लेने से इन बीमारियों के बारे में समय रहते जान सकते है।

1. पेट का कैंसर
सांस का टेस्ट करके पेट के कैंसर का पता लगाया जाता है। अगर आपको लगातार बिना किसी कारण के सांस लेने में तकलीफ हो रही है तो आपको तुरंत ही डॉक्टर के पास जाकर चेकअप करवाना चाहिए। अक्सर पेट के कैंसर के कारण सांस लेने में तकलीफ होने लगती है।
2. दिल की बीमारीयां
अगर आपको सांस फूलना, चक्कर आना, थकान और सीने में दर्द होता है तो यह पल्मोनरी हाइपरटेंशन का संकेत हो सकता है। इस बीमारी में फेफड़े में जानी वाली आर्टरी में ब्लड प्रेशर बढ़ जाता है। जिससे आपको दिल से संबंधित बीमारियां हो सकती है।
3. गुर्दे का फेल होना
अगर आपको सांस लेने में तकलीफ हो रही है तो ये गुर्दे फेल होने का संकेत हो सकता है। गुर्दे के फेल हो जाने से रक्त में यूरिया का स्तर बढ़ जाने से मुंह में अमोनिया ब्रेथ के कारण मुंह से बदबू आने लगती है। इसके साथ ही इससे आपके मुंह का स्वाद भी खराब हो जाता है। रोग के बढ़ जाने पर सांस लेने में दिक्कत महसूस होने लगती है। 
4. डायबटीज
डायबटीज के मरीज जिन ग्लूकोमीटर्स के लिए जिन स्ट्रिप्स का इस्तेमाल करते है वो एक बार इस्तेमाल करके फैंक देना चाहिए। इससे आपको डायबटीज के साथ-साथ अस्थना होने का भी डर रहता है। इसके अलावा इसके दोबारा इस्तेमाल से सांस लेने में तकलीफ होने लगती है।

5. मोटापा
मोटापे में अक्सर शारीरिक गतिघ्विधियां करने में दिक्कत आ जाती है। गले और छाती के आसपास जमा अतिरिक्घ्त चर्बी के कारण मोटे लोगों को सांस लेने में दिक्कत हो जाती है। इन लोगों की सांस में मेथेन और हाईड्रोजन गैस की मात्रा बढ़ जाने के कारण वो ठीक से सांस नहीं ले सकते। 

कई बीमारियों की एक दवा है, तांबे के बर्तन में पानी पीना

कई बीमारियों की एक दवा है, तांबे के बर्तन में पानी पीना


पानी पीना सेहत कई बीमारियों  की एक दवा है, तांबे के बर्तन में पानी पीना के लिए बहुत फायदेमंद माना गया है। डाॅक्टर स्वस्थ रहने के लिए हर इंसान को दिनभर में 8-10 गिलास पानी पीने की सलाह देते है। धातुओं के बर्तन में रखा हुआ खाना प्राचीन समय से सेहत के लिए फायदेमंद माना गया है और इसमें तांबे के बर्तन को बहुत शुद्ध माना गया है। आपने कई घरों में देखा होगा कि लोग तांबे के बर्तन में पानी पीते हैं।

आयुर्वेद में कहा गया है कि सुबह के समय तांबे के बर्तन में पानी पीना काफी लाभदायक होता है। इससे शरीर के कई रोग बिना दवा के ही ठीक हो जाते हैं। इसके लिए तांबे के बर्तन में पानी को कम से कम आठ घंटे के लिए रखा होना चाहिए। जब पानी को तांबे के बर्तन में रखा जाता है तो तांबा पानी में उतर आता है और उसके सारे अच्छे तत्व उस पानी में मिल जाते हैं जिससे शरीर के जहरीले तत्व बाहर निकल जाते है।आइए, इससे सेहत को होने वाले लाभों के बारे में जानते है...

1. बुढ़ापा को दूर करता
यदि आप तांबे के बर्तन में जल को रखकर पीएं तो इससे त्वचा का ढीलापन, झुर्रियां आदि दूर हो जाते है। डेड स्किन भी निकल जाती है और चेहरा हमेशा चमकता हुआ दिखाई देता है।
2. गठिया में फायदेमंद
गठिया की शिकायत होने पर तांबे के बर्तन में रखा हुआ पानी पीने से लाभ मिलता है। तांबे के बर्तन में ऐसे गुण होते हैं, जिससे शरीर में यूरिक एसिड कम हो जाता है और गठिया व जोड़ों में सूजन के कारण होने वाले दर्द में आराम मिलता है।
3. एनीमिया की समस्या को खत्म करता
एनीमिया यानि खून की कमी एक ऐसी समस्या है जिससे अधिकतर लोग परेशान हैं।  यह शरीर के लिए जरूरी पोषक तत्वों को इकट्ठा करने का काम करता है। इसीलिए तांबे के बर्तन में रखे पानी को पीने से खून की कमी दूर हो जाती है।
4. मोटापे को कंट्रोल करता
यदि कोई भी व्यक्ति वजन घटाना चाहता है तो एक्सरसाइज के साथ ही उसे तांबे के बर्तन में रखा हुआ पानी पीना चाहिए। इस पानी को पीने से फैट कम हो जाता है। शरीर में कोई कमजोरी भी नहीं आती।

5. पाचन क्रिया के लिए वरदान
एसिडिटी हो या गैस या फिर पेट की कोई दूसरी समस्या, तांबे के बर्तन का पानी अमृत की तरह काम करता है। इससे पाचन की सभी समस्याएं दूर हो जाती है।

सोमवार, 6 नवंबर 2017

हरी पत्तेदार सब्ज़ियों में छुपा है आपकी सेहत का राज़, खुद जानिए कैसे !

हरी पत्तेदार सब्ज़ियों में छुपा है आपकी सेहत का राज़, खुद जानिए कैसे !


सर्दियों के मौसम में हरे पत्तेदार सब्ज़ियां भी बाजार में खूब देखी जाती है। ठंडे मौसम में पत्तेदार सब्जियों और मौसमी फलों की आवक बढ़ जाती है। ऐसे में हरे पत्तेदार सब्ज़ियां खाने से परहेज नहीं करना चाहिए। सेहत के हिसाब से हरी सब्जियां सेहत के लिए बहुत लाभदायक है। साथ ही ये आपकी  खूबसूरती में भी इज़ाफ़ा करती है। पालक, बथवा, methi पत्तेदार प्याज़ चोलाई ये सभी सब्ज़ियां शरीर में आयरन की मात्रा बढ़ती है। और रक्तचाप को भी नियंत्रित रखती है।

जानिए क्या क्या गुण है इन हरी पत्तेदार सब्ज़ियों में-

पालक - हरी पत्तेदार सब्जियों में पालक प्रमुख है। यह आपके शरीर में लौह तत्व की कमी को पूरा करती है। खास तौर से महिलाओं के लिए पालक बहुत फायदेमंद है। महिलाओं में लौह तत्व की कमी अधि‍क होती है और उन्हें इसकी आवश्यकता होती है। इसके अलावा यह आपके शरीर में वि‍टामिन ए, कैल्श‍ियम और अन्य पोषक तत्वों की आपूर्ति भी करेगी।
मेथी - फॉलिक एसिड, मैग्नीशियम, जिंक, कॉपर, कार्बोहाइड्रेट, फास्फोरस, प्रोटीन, कैल्शि‍यम और आयरन से भरपूर मेथी आपकी सेहत के लिए बेहद फायदेमंद है। यह आपकी शारीरिक तकलीफों को दूर कर मोटापे को कम करने में भी मदद करती है।
मूली - मूली का प्रयोग आप सलाद के लिए करते हैं, लेकिन इसके पत्ते भी बहुत पौष्ट‍िक होते हैं। इसकी पत्त‍ियों की सब्जी बनाकर खाई जाती है, जो ठंड में सर्दी से बचाने में मदद करती है। इसके अलावा इससे इससे शारीरिक दर्द और अन्य तकलीफों से निजात मिलती है।  
हरे प्याज - प्याज  के हरे पत्तों की आवक भी ठंड में खूब होती है। यह अन्य पोषक तत्वों के साथ ही रोग प्रतिरोधी गुणों से भरपूर होता है और प्रतिरोधक क्षमता में इजाफा करता है। यह आंखों और त्वचा के अलावा पाचनतंत्र के लिए भी फायदेमंद है।

करेला - स्वाद में भले ही करेला कड़वा हो लेकिन इसके फायदे बहुत है। यह न केवल आपके खून को साफ करता है, बल्कि पेट से जुड़ी परेशानियों को खत्म कर पाचन में मदद करता है। यह रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाकर आपको बीमारियों से बचाता है।

शनिवार, 4 नवंबर 2017

इमली के इतने सारे फ़ायदे जानकार हैरान रह जायेंगे आप

इमली के इतने सारे फ़ायदे जानकार हैरान रह जायेंगे आप


खट्टा मिठ्ठा स्वाद होने के कारण इमली का नाम सुनते ही मुंह में पानी आ जाता है। इसका इस्तेमाल खाना बनाने, पानीपुरी का पानी और चटनी आदि बनाने के लिए किया जाता है। इमली खाना बनाने के ही नहीं बल्कि सेहत के लिए भी बहुत फायदेमंद है। इसमें मौजूद आयरन,फाइबर,मैगनीज,कैल्शियम,फॉस्फोरस से कई तरह की बीमारियां दूर रहती है। तो आइए जानते है रोजाना इमली के गुण किस तरह से शरीर को क्या-क्या फायदे दे सकते है।

कैंसर के लिए फायदेमंद :-
पानी में 2-3 इमली को कुछ देर भिगो दें और रोजाना सुबह इसका सेवन करें। इसमें एंटीऑक्सीडेंट और टारटरिक एसिड भरपूर मात्रा में होते है। जिससे शरीर में कैंसर सेल्स नहीं बढ़ते और कैंसर जैसी बीमारी दूर रहती है।
बुखार में असरदार :-
बुखार ग्रस्त रोगी को 15 ग्राम इमली के फल का रस देने से फिवर जल्दी उतर जाता है। इसके अलावा इसमें मौजूद विटामिन ई, बी, सी इम्यून सिस्टम को ठीक रखते है। जिससे पेट से जुड़ी समस्याए नहीं होती।
गले की खराश में लाभकारी :-
इमली की पत्तियों का रस निकालकर पीने पर गले की खराश से राहत मिलती है इस प्रयोग को गले में टॉन्सिल होने की दशा में नही करना चाहिये क्योंकि कई बार इमली गले में टॉन्सिल की समस्या को बढ़ा देती है ।

चेहरे को सलोना बनाने के लिये :-
इमली और साबुत हल्दी को पानी में भिगो कर इसका पेस्ट बना लें। कर इसका पेस्ट बना लें। इस पेस्ट को नियमित रुप से चेहरे पर लगाने से सांवलापन दूर होता है।
मोटापे से छुटकारा पाने के लिये :-
रोजाना सुबह एक इमली खाने पर मोटापा दूर होता है। इसमें मौजूद हाइड्रोसिट्रिक शरीर में बनने वाले फैट को धीरे-धीरे कम करते है। इसके साथ ही इसमें आयरन और पोटेशियम होते है जो ब्लड प्रैशर को कंट्रोल में रखते है।

डायबिटीज करे कंट्रोल :-
एक छोटा गिलास इमली का जूस पीने से शुगर लेवल कंट्रोल में रहता है। यह शरीर में कार्बोहाइड्रेट्स को इकट्ठा नहीं होने देती। जिससे शुगर लेवल नहीं बिगड़ता। इसके अलावा इमली रेड ब्लड सेल्स बनाने में भी मदद करती है।

इमली के गुण की भरपूर जानकारी वाला यह लेख आपको अच्छा और लाभकारी लगा हो तो कृपया लाईक और शेयर जरूर कीजियेगा । आपके एक शेयर से ही किसी जरूरतमंद तक सही जानकारी पहुँचती है और हमको भी आपके लिये और बेहतर लेख लिखने की प्रेरणा मिलती है । इस लेख के समबन्ध में आपके कुछ सुझाव हों तो कृपया कमेण्ट के माध्यम से हमको जरूर सूचित करें ।

सोमवार, 30 अक्तूबर 2017

खाली पेट पानी पीने के हैं ये लाभ, जिनको आप अनदेखा नहीं कर सकते

खाली पेट पानी पीने के हैं ये लाभ, जिनको आप अनदेखा नहीं कर सकते


पानी पीना बहुत जरूरी है। इससे शरीर को विषैले पदार्थ बाहर निकल जाते हैं और बीमारियां भी दूर रहती हैं। दिन की शुरूवात सुबह एक गिलास पानी से की जाए तो सारा दिन अच्छा बीतता है। इस बात का ख्याल रखें कि सुबह पानी पीने के एक घंटे बाद कुछ न खाएं और सारा दिन 8-10 गिलास पानी का सेवन जरूर करें। इस लेख में हम आपको बता रहे हैं सुबह खाली पेट पानी पीने के पाँच लाभ जो कि आपके बहुत काम आयेंगें ।

खाली पेट पानी पीने से होता है पेट साफ  : - 
यह सबसे पहला लाभ है जो आपको रोज सुबह के समय खाली पेट ही पानी पीने से मिलता है । सुबह खाली पेट 1 गिलास पानी पीने से पेट साफ हो जाता है और शौच जाने के बाद शरीर में हल्कापन महसूस होने लगता है । जिसके कारण खाये गये भोजन से शरीर पोषक तत्व आसानी से ग्रहण तक लेता है और पाचन प्रक्रिया भी बेहतर रहती है।
खाली पेट पानी पीने से त्वचा बनती है चमकदार :-
किसी भी बड़े से बड़े डॉक्टर अथवा ब्यूटी एक्स्पर्ट से पूछ लो वो यही बोलेंगे कि त्वचा को स्वस्थ और चमकदार बनाने के लिये पानी खूब पियों । सुबह के समय खाली पेट रहने पर पानी पीने से शरीर को एकदम से हल्का पसीना आता है जिससे त्वचा के बन्द रोम छिद्र खुल जाते हैं और उनमें फँसे हुए विभिन्न विषैले तत्व बाहर निकल जाते हैं । यह त्वचा को साफ और चमकदार बनाने के लिये बहुत उपयोगी है । इसलिये कहते हैं कि त्वचा को चमकदार बनाने रखने के लिए भी खाली पेट पानी पीना बहुत जरूरी है। इससे खून साफ होता है और त्वचा से जुड़ी परेशानियां भी दूर हो जाती है।
खाली पेट पानी पीना मोटापा करें कम :-
सुबह के समय खाली पेट पानी पीने से शरीर का मैटाबॉलिज्म बढ़ता है । जिससे अतिरिक्त चर्बी पिघलने लगती है और मोटापा कम होने लगता है । इसके पीछे सबसे बड़ा कारण यह है कि पानी सुबह खाली पेट पीने से आँतों में सँचित मल आसानी से बाहर निकल जाता है और जिनको पुरानी कब्ज की समस्या रहती है उनको भी लाभ मिलता है । जब आँते साफ रहती हैं तो शरीर का मेटाबॉलिज्म उन्नत होता है जिस कारण से शरीर पर चढ़ी अतिरिक्त चर्बी खत्म होने लगती है ।
खाली पेट पानी पीने से भूख बढ़ती है :-
सुबह खाली पेट पीने से पेट साफ रहता है और पाचक अग्नि प्रदीप्त होती है जिस कारण से आमाशय में पाचक रसों का निर्माण सुगमता से होता है और भूख खुलकर लगती है । जिन लोगों को भूख कम लगने की समस्या रहती है उनके लिये रोज सुबह के समय पानी पीना बहुत ही ज्यादा लाभकारी रहता है ।
खाली पेट पानी पीने से रहती हैं बीमारियां दूर :-
सुबह के समय पानी खाली पेट पीने से पेट के सभी अंगों का निर्मलीकरण और शुद्धिकरण होता है जिस कारण से पेट के सभी अंगों में बसे टॉक्सिन्स साफ हो जाते हैं जिससे खाली पेट पानी के सेवन करने से डायरिया,किडनी से जुड़ी परेशानियां,गठिया,सिर दर्द,पेट की गैस आदि बीमारियां दूर रहती हैं।

रविवार, 22 अक्तूबर 2017

रात को खाने के बाद लें सिर्फ 1 चुटकी काला जीरा, फिर देखें कमाल

रात को खाने के बाद लें सिर्फ 1 चुटकी काला जीरा, फिर देखें कमाल


पतला होना यानि की मोटे शरीर से स्लिम-ट्रिम होना कौन नहीं चाहता और इसके लिए लोग खासी मशक्त भी करते हैं। सुबह-सुबह उठकर जिम जाना कई किलोमीटर तक भाग-भागकर पसीना बहाना तब जाकर कहीं इस मोटापे से छुटकारा मिलने के आसार नज़र आते हैं। और उसके बाद वही उबला हुआ बेस्वाद खाना। कभी आपने सोचा तो जरूर होगा कि क्या किसी हाजमे को छीक करने वाले चूरन की तरह इस मोटी चर्बी वाले शरीर के लिए भी कोई चूरन बना होता तो क्या बात होती। खैर अभी भी कुछ नहीं बिगड़ा है, क्योंकि अभी भी एक ऐसी चीज़ है जिसे चुटकी भऱ खाने के बाद आपको किसी भी जिम में पसीना बहाने की जरूरत नहीं महसूस होगी। खासकर लड़कियों को जिनके लिए अपने पूरे दिन का शेड्यूल मैनेज करना बहुत ही मुश्किल होता है।

यकीन मानिए इसे खाने के बाद आपको किसी भी तरह का साइड इफेक्ट नहीं होगा। यह हर तरह से फायदेमंद है। दरअसल हम बात कर रहे है खाने में इस्तेमाल होने वाले काले जीरे की, जिसे अक्सर पेट दर्द में भी हम खा लिया करते है। रसोई घर में ज्यादातर इसका इस्तेमाल होता है औऱ यह आसानी से आपको हर में मिल जाएगा।
इसके बाद भी कोई बड़ा बदलाव नहीं हासिल होता उन्हें, लेकिन अब जीरा वजन कम करने में आपकी मदद करेगा। खाने के स्वाद को बढ़ाने वाला जीरा, खासतौर से दाल में डालने वाला जीरा हर किसी को पसंद है। कुछ लोग चावल पकाते समय भी जीरे का प्रयोग करते हैं, क्योंकि इसके खुशबू भी काफी अच्छी लगती है जो पकवान की सुगंध को बढ़ा देती है।
वजन कम करने के साथ साथ यह बहुत सारी अन्य बीमारियों से भी बचाता है, जैसे कोलेस्ट्रॉल कम करता है, हार्ट अटैक से बचाता है, स्मरण शक्ति बढ़ाता है, खून की कमी को ठीक करता है, पाचन तंत्र ठीक कर गैस और ऐंठन ठीक करता है।
दो बड़े चम्मच जीरा एक गिलास पानी मे भिगो कर रात भर के लिए रख दें। सुबह इसे उबाल लें और गर्म-गर्म चाय की तरह पियें। बचा हुआ जीरा भी चबा लें। इसके रोजाना सेवन से शरीर के किसी भी कोने से अनावश्यक चर्बी शरीर से बाहर निकल जाती है। लेकिन ऐसी भी होता है कि कई लोगों को इसका टेस्ट पसंद नहीं आता वो इसे सादा खाना पसंद नहीं करते तो आप एक काम कर सकते हैं कि जब भी कुछ पकायें तो जीरा पाऊडर उसमे मिला लिजिए। इसका इस्तेमाल खाने में रोजाना करें तो ज्यादा बेहतर है।
इसके अलावा़ आप 5 ग्राम दही में एक चम्मच जीरा पाउडर मिलाकर यदि इसका रोज़ाना सेवन करें, एक हफ्ते के अंदर-अंदर आपको फर्क महसूस होने लग जाएगा।

3 ग्राम जीरा पाउडर को पानी में मिलाएं इसमें कुछ बूंदें शहद की डालें फिर इसे पी जाएं। वेजिटेबल यानि सब्जियों के उपयोग से सूप बनाएं, इसमें एक चम्मच जीरा डालें। या फिर ब्राउन राइस बनाएं इसमें जीर डालें यह सिर्फ इसका स्वाद ही नहीं बढ़ाएगा बल्कि आपका वजन भी कम करेगा।
अदरक और नींबू दोनों जीरे की वजन कम करने की क्षमता को बढ़ाते हैं। इसके लिए गाजर और थोड़ी सब्ज़ियों को उबाल लें इसमें अदरक को कद्दूकस यानि कि बिल्कुल बारीक कर लें, साथ ही ऊपर से जीरा और नींबू का रस डालें और इसे रात में खाएं।

जीरे में मौजूद पोषक तत्व और एंटीऑक्सीकडेंट आपकी पाचन शक्ति को बढ़ाता है, जिससे पेट की चर्बी कम करने में मदद मिलती है। यह चर्बी ही तो मोटापे को दावत देती है। जिसे जीरा आसानी से खत्म कर देता है।इसके अलावा जीरा खाने को पचाने में मदद करता है जिससे गैस कम बनती है। जीरा गैस को बनने से रोकता है जिससे पेट और आंतों में अच्छे से खाना पच जाता है।