उल्टी रोकने के लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
उल्टी रोकने के लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

शनिवार, 5 मई 2018

सोने से भी कीमती यह चीज जिसे हम फैंक देते हैं, इसके बारे में जानकर दंग रह जाएंगे आप

सोने से भी कीमती यह चीज जिसे हम फैंक देते हैं, इसके बारे में जानकर दंग रह जाएंगे आप


संतरे हर किसी को पसंद होते  है लेकिन कुछ लोग इनको खाकर और इनके छिलके को फेंक देते हैं, क्योंकि वह नहीं जानते हैं कि इनसे कितना नुकसान होता है लेकिन इनके इतने फायदे होते है कि हर कोई इस बात को सुनकर दंग रह जायेगा इसके छिलके सोने की कीमत से कम नहीं होते हैं..बता दे कि संतरों के अलावा सभी फलों के छिलकों में पोषक तत्व मौजूद होते हैं, जो कि आपके सेहत के साथ -साथ चेहरे के लिए भी फायदेमंद होते  हैं आइये जानते हैं कैसे,….

-संतरे का छिलका आपके पाचनतंत्र को बेहतर बनाने के साथ-साथ आपके मेटाबॉलिज्म की गति को भी बढ़ाता है, जो मोटापा और कोलेस्ट्रॉल की समस्या भी दूर होती है.

-संतरे का छिलका एसि‍डि‍टी, हार्टबर्न, मतली, उल्टी आने जैसी समस्याओं को दूर करता है.

-यह छिलके ऑस्ट‍ियोपोरोसिस, कोलोन कैंसर जैसी बीमारियों से लड़ने में काफी मददगार होते हैं, साथ ही लिवर को स्वस्थ रखकर उसके बेहतर क्रियान्वयन में भी सहायक होते हैं।संतरे के छिलके में फ्लेवेनॉइड्स भी प्रचुर मात्रा में पाए जाते हैं,

-इसमें विटामिन सी होने के कारण यह  रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने में मदद करता है, साथ हीआपकी त्वचा के लिए भी अच्छा होता है.

-यदि आपके चेहरे पर ब्लैकहेड्स है तो संतरे  का छिलका को सूखाकर चेहरे पर रगड़ना चाहिए.यह  आपकी त्वचा को साफ, बेदाग और चमकदार बनाने का काम करता है।

बुधवार, 3 मई 2017

अगर आती है सफ़र के दौरान उल्टियाँ तो अपनाएँ ये नुस्खे, जरुर शेयर करें

अगर आती है सफ़र के दौरान उल्टियाँ तो अपनाएँ ये नुस्खे, जरुर शेयर करें


क्या आप को भी सफर के दौरान उल्टियां होने लगती है, इस वजह से आप सफर करने से डरती है तो अब आप बेफिक्र हो जाइए, क्‍योंकि हम आपको इस आर्टिकल के ज‍रिए 8 ऐसे घरेलू उपायों के बारे में बता रहे हैं। बता दे की जिन्‍हें आजमाकर सफर के दौरान उल्टियां से बचा जा सकता है। तो जानिए कौन से हैं ये 8 घरेलू उपाय..

1. नींबू सूंघे
जब भी किसी सफर के लिए निकलें, अपने साथ एक पका हुआ नींबू जरूर रख लें। जरा भी अजीब सा मन हो, तो इस नींबू को छीलकर सूंघे, ऐसा करने से आपको उल्टी नहीं आएगी।


2. लौंग पीसकर रखे
थोड़ी सी लौंग को भूनकर, इसे पीस लें और एक डिब्बी में भरकर रख लें। जब भी सफर में जाएं या उल्टी जैसा मन हो तो इसे सिर्फ एक चुटकी मात्रा में चीनी या काले नमक के साथ मुंह में रख लें। कुछ तुलसी के पत्ते भी अपने साथ रखें, इसे खाने से भी उल्टी नहीं आएगी।



3. नींबू और पुदीने का ज्‍यूस
इसके अलावा सफर में जाते वक्त एक बॉटल में नींबू और पुदीने का रस काला नमक डालकर रखें और सफर में इसे थोड़ा-थोड़ा पीते रहें।


4. इलायची
लौंग की तरह इलायची खाने से भी जल्‍दी राहत मिलती है। इसके अलावा सफर में निकलने से पहले भी इलायची वाली चाय पीकर आप सफर के लिए निकल सकते है।


5. काली मिर्च और काला नमक
नींबू को काटकर, इस पर काली मिर्च और काला नमक बुरककर चाटते रहें। यह तरीका भी आपको उल्टी आने से बचाता है।


loading...
6. पेपर बिछाकर बैठे
अगर आप बस में सफर कर रहे हैं और बस में आपको उल्टी होती है तो जिस सीट पर आप बैठें हैं, वहां सीट पर पहले एक पेपर बिछा लें और फिर इस पेपर पर बैठें।


7. जीरा पाउडर पीएं
जीरा पाउडर को पानी में मिलाकर घर से निकलने से पहले पी लें। इसे पीने से उल्‍टी, जी मचलाना जैसी समस्‍याएं सफर के दौरान नहीं होती है।


8. अदरक वाली चाय –
अदरक वाली चाय में एंटी इमेटिक के तत्‍व मौजूद होते है। जिससे कि उससे उल्‍टी या उबकाई आना बंद हो जाती है। अदरक से पाचन क्रिया भी दुरस्‍त होता है। और उल्‍टी आने की स्थिति रुक जाती है।

सोमवार, 3 अप्रैल 2017

उल्टी और दस्त के घरेलु उपचार

उल्टी और दस्त के घरेलु उपचार


उल्टी और दस्त के घरेलु उपचार घर के किसी भी छोटे बड़े सदस्य को उल्टी एवँ दस्त किसी भी वजह से हो सकते हैं जिनमें से बदहजमी सबसे मुख्य है। कभी-कभी सर्दी या गर्मी लगने, दूषित खानपान से भी उल्टी और दस्त की समस्या हो जाती है । 

* उल्टी होने पर नीँबू का रस पानी में घोल कर लेने से शीघ्र ही फायदा होता है । 
* आप एक दो लौंग, दालचीनी या इलायची मुहँ में रखकर चूसिये यह मसाले उल्टियाँ विरोधक औषधियों होने के कारण उल्टियाँ रोकने में बहुत ही मददगार साबित होते है। 
* तुलसी के पत्तों का एक चम्मच रस शहद के साथ लेने से उल्टी में लाभ मिलता है । 
* एक चम्मच प्याज का रस पीने से भी उल्टी में लाभ मिलता है । 
* गर्मियों में यदि बार बार उल्टियाँ आती है तो बर्फ चूसनी चाहिए । 
* पुदीने के रस को लेने से भी उल्टी में लाभ मिलता है । 
* धनिये के पत्तों और अनार के रस को थोड़ी थोड़ी देर के बाद बारी-बारी से पीने से भी उल्टी रुक जाती है । 
* 1/4 चम्मच सोंठ एक चम्मच शहद के साथ लेने से उल्टी में शीघ्र आराम मिलता है । 
* नींबू का टुकड़ा काले नमक के साथ अपने मुंह में रखने से आपको उल्टी महसूस नहीं होती है, रुक जाती है । 
* आधा चम्मच पिसे हुए जीरे का पानी के साथ सेवन करने से उल्टियों से शीघ्र छुटकारा मिलता है । 
* एक गिलास पानी में एक चम्मच एप्पल का सिरका डालकर पियें उल्टी में तुरंत आराम मिलेगा । 
* उल्टियाँ होने से 12 घंटो बाद तक ठोस आहार का सेवन न करें, लेकिन भरपूर मात्रा में पानी और फलों के रस का सेवन करते रहें। 
* तैलीय,मसालेदार,भारी और मुश्किल से पचनेवाले खाद्द्य पदार्थों का सेवन न करें इससे भी उल्टियाँ आती है । 
* पित्त की उल्टी होने पर शहद और दालचीनी मिलाकर चाटें । 
* हरर को पीसकर शहद के साथ मिलाकर चाटने से उल्टी बंद होती है| 
* खाना खाने के तुरंत बाद न सोयें। खाने के बाद टहलने की आदत डालें । जब भी सोयें तो अपनी दाहिनी बाज़ू पर सोयें। इससे आपके पेट के पदार्थ मुंह तक नहीं आयेंगे । 
* दही, भात, को मिश्री के साथ खाने से दस्त में आराम आता है। 
* एक एक चम्मच अदरक , नीबूं का रस काली मिर्च के साथ लेने पर भी दस्त में आराम मिलता है । 
* सौंफ और जीरे को बराबर-बराबर मिला कर भून कर पीस लें । इसे आधा-आधा चम्मच पानी के साथ दिन में तीन बार लेने से दस्तों में फायदा मिलता है । 
* केले, सेब का मुरब्बा और पके केले का सेवन करें दस्त में तुरंत आराम मिलेगा । 
* दस्त आने पर अदरक के टुकड़े को चूसे या अदरक की चाय पियें पेट की मरोड़ भी शांत होती है और दस्त में भी आराम मिलता है । 
* दस्त रोकने के लिए चावल के माड़ में हल्का नमक और काली मिर्च डालकर उसका सेवन करें दस्त रुक जायेंगे । 
* जामुन के पेड़ की पत्तियाँ पीस कर उसमें सेंधा नमक मिला कर 1/4 चम्मच दिन में दो बार लेने से दस्त रुक जाते है । 
* दस्त आने पर दूध और उससे बनी हुई चीजों का सेवन कतई भी ना करें । 
* दस्त आने पर दस्त के साथ शरीर के खनिज वा तरल पदार्थ बाहर निकलते है इनकी कमी पूरी करने के लिए O.R.S का घोल पियें ।

मंगलवार, 3 जनवरी 2017

यदि यात्रा के दौरान होती है 'उल्टी' तो आजमायें ये उपाय

यदि यात्रा के दौरान होती है 'उल्टी' तो आजमायें ये उपाय

यात्रा के दौरान अगर उल्टी होने लगे तो सारे सफ़र का मज़ा किरकिरा हो जाता है। कुछ लोगों को बस या कार के अंदर सफ़र बहुत ही मुश्किल हो जाता है, क्योंकि इस दौरान जी मचलना या उल्टी होना बहुत बुरा होता है।

यात्रा के दौरान जी मचलना और उल्टी होने को 'मोशन सिकनेस' भी कहा जाता है। इसकी बड़ी वजह शारीरिक और भावनात्मक कमज़ोरी हो सकती है। यात्रा के दौरान आँखों के सामने बदलते दृश्य भ्रम पैदा करते हैं, जिसके कारण जी मचलाने लगता है।

यहाँ दिए गए उपायों के करने के बाद आप यात्रा में होने वाली इस समस्या से निजात पा लेंगे।

आगे वाली सीट पर बैठिये

अगर संभव हो तो आगे वाली सीट पर ही बैठिये। ऐसा करने पर आपको उल्टी नहीं आएगी।

ताज़ी हवा

बस में सफ़र करने पर यदि आपको ताज़ी हवा नही मिल रही है तो आपको मितली आ सकती है। इससे बचने के लिए खिड़की वाली सीट लीजिये और हवा अंदर आने दीजिये।

बहुत ज़्यादा खाना न खाएं

सफ़र के तुरंत पहले अगर आप बहुत अधिक भोजन कर लेते हैं तो यह आपकी उल्टी का कारण बन सकता है। इसके साथ ही यह में ध्यान रखें कि आपका पेट एकदम खाली न हो।

सौफ़ का प्रयोग

अगर यात्रा के दौरान जी मचलने लग जाए तो थोड़ी सी सौफ़ मुंह में रख कर चबाने लगें।

पुदीने की पत्तियां

पुदीने की ताज़ी पत्तियों को चबाने से आपको उल्टी रोकने में काफी हद तक मदद मिल सकती है।

अदरक का प्रयोग

अदरक उल्टी रोकने में बहुत उपयोगी होता है। एक चम्मच अदरक के रस में नीम्बू का रस मिला कर पी लें। इससे आपको उल्टी में काफी राहत मिलेगी।

लौंग का प्रयोग

उल्टी आने पर लौंग बहुत कारगर है। यात्रा के दौरान लौंग अपने साथ रखें और जी मचलाने पर मुंह में रख कर चूसें।

दवाई का प्रयोग

'मोशन सिकनेस' यानि यात्रा के दौरान होने वाली उल्टी से बचने के लिए डॉक्टर की सलाह पर दवाइयों की भी मदद ली जा सकती है।

गुरुवार, 6 अक्तूबर 2016

बार-बार उल्टी से पेट और आँते खींचकर आने लगे है बाहर, तो ये रामबाण घरेलु उपाय अपनाएँ और शेयर करे

बार-बार उल्टी से पेट और आँते खींचकर आने लगे है बाहर, तो ये रामबाण घरेलु उपाय अपनाएँ और शेयर करे


अधिकतर समय उल्टी का रोग कोई स्वतंत्र रोग ना होकर किसी अन्य रोग का लक्षण होता है । पेट के अधिकतर रोग जैसे कि अम्लपित्त, भोजन की विषाक्तता, अजीर्ण में, इनके अलावा पेट में कैंसर या टी०बी० का रोग होने पर, पित्त की पथरी के रोग में शरीर में पानी की कमी होने पर, तेज बुखार, चक्कर, दिमाग में चोट लगने आदि रोगों में उल्टी की समस्या प्राःय हो ही जाती है । कुछ लोगों को सफर के दौरान और कुछ घृणित बात या वस्तु दिखाई देने अथवा याद आने मात्र से भी उल्टी की समस्या हो जाती है हालाँकि यह ऐसी अवस्था में यह उल्टी कोई विशेष समस्या नही पैदा करती है। 
उल्टी का सिर्फ एक ही लक्षण हो सकता है कि मुँह के रास्ते, खाया हुया समस्त खाद्य पदार्थ अधपची अवस्था में पेट से बाहर निकल जाता है।


➡ उल्टी के रामबाण घरेलु उपाय :

उल्टी का होना चूःकि बहुत से अन्य रोगों का लक्षण होता है अतः सही मायने में उस प्रधान रोग का पता लगाकर उसकी ही चिकित्सा करनी चाहिये जिस कारण से उल्टी हो रही है । स्थिति बहुत गम्भीर होने पर चिकित्सक को जरूर दिखाना चाहिये और यदि स्थिति ज्यादा गम्भीर नही है तो इन निम्नलिखित प्रयोगों से लाभ उठाया जा सकता है।
  • दो लौंग पानी में उबालकर ठण्डा करके पीने से उल्टी की समस्या में बहुत अच्छा लाभ होता है।
  • उल्टियॉ ज्यादा हो रही हैं तो तुलसी के बीजों को शहद में मिलाकर खूब चबा चबा कर खाने से बहुत अच्छा लाभ मिलता है । यह प्रयोग बच्चों के लिये भी एक दम सुरक्षित है।
  • पुदीने के पत्तों को नीम्बू के रस में भिगोकर खाने से उल्टी का वेग रुक जाता है । यह घर घर में सदियों से प्रयोग किया जाने वाला बहुपरीक्षित सफल प्रयोग है। 
  • बस में सफर के दौरान जिन लोगों को उल्टी की समस्या होती है उन लोगों को सफर से एक घण्टा पहले 2-3 लौंग चूस लेनी चाहिये । सफर के दौरान भी हर 2-2 घण्टे के अंतर पर एक दो लौंग चूस लेनी चाहिये।
  • उल्टी के पुराने रोगी को रोज सुबह शाम अनार का रस पिलाना चाहिये।
  • करीपत्ते को खूब चबा चबा कर खाने से भी जी साफ होता है और उल्टी से आराम मिलता है ।

शुक्रवार, 19 अगस्त 2016

क्या आप को करेला खाने का सही तरीका आता है

क्या आप को करेला खाने का सही तरीका आता है

करेला कैसे खाएं :

एक स्वस्थ शरीर में छ: रस होने चाहिए, ये रस हैं- मीठा, खारा, खट्टा, तीखा, कषाय और कड़वा। इनमें से पांच रस तो हम सभी बहुत खाते हैं लेकिन कड़वा नहीं खाते हैं। करेले का छिलका नहीं उतारना चाहिए और उसका कड़वा रस नहीं निकालना चाहिए। 10 से 15 दिन में एक बार करेला खाना सेहत के लिए अच्छा है।

करेला के फायदे :

करेले में अन्य सब्जी या फल की तुलना में अधिक औषधीय गुण पाये जाते हैं। यह खाने के बाद आसानी से पच जाता है। करेले में काफी मात्रा में प्रोटीन, कैल्शियम, कार्बोहाइड्रेट,फास्फोरस और विटामिन पाया जाता है।

करेला खाने के लाभ :-

1- लीवर संबंधी बीमारियों में करेला काफी फायेमंद है।
2- करेला खून साफ करता है और हीमोग्लोबिन बढ़ाता है।
3- करेला पाचन शक्ति को दुरुस्त करता है जिससे भूख बढ़ती है।
4- दमा के मरीज को बिना मसाले की छौंकी हुई करेले की सब्जी खिलानी चाहिए।
5- करेले के रस को नींबू के रस के साथ पानी में मिलाकर पीने से वजन कम होता है।
6- करेले ठंडा होता है, इसलिए यह गर्मी से पैदा हुई बीमारियों के उपचार के लिए फायदेमंद है।
7- लकवा के मरीजों के लिए करेला बहुत फायदेमंद होता है। उन्हें कच्चा करेला खिलाना चाहिए।
8- कफ होने पर करेले का सेवन करना चाहिए। करेले में फास्फोरस होता है जिससे कफ दूर होता है।
9- मधुमेह यानि डायबिटीज के लिए तो करेला रामबाण इलाज है। इससे शुगर लेवल नियंत्रित रहता है।
10- पीलिया के रोगियों के लिए भी करेला बहुत फायदेमंद है। उन्हें पानी में करेला पीसकर खाना चाहिए।
11- उल्टी, दस्त या हैजा होने पर करेले के रस में थोड़ा पानी और काला नमक डालकर पीने से फायदा होता है।
12- बवासीर होने पर एक चम्मच करेले के रस में आधा चम्मच शक्कर मिलाकर एक महीने तक खाएं, फायदा होगा।
13- गठिया रोग होने या हाथ-पैर में जलन होने पर करेले के रस से मालिश करना चाहिए। इससे बहुत आराम मिलेगा।
14- जलोदर रोग होने पर आधा कप पानी में 2 चम्मच करेले का रस मिलाकर रोजाना तीन-चार बार पिएं, कुछ ही समय में फायदा दिखाई देगा।

मंगलवार, 9 अगस्त 2016

उल्टी रोकने के घरेलू उपाय

उल्टी रोकने के घरेलू उपाय


जरूरत से ज्यादा खा लेने से, ज्याटदा शराब पी लेने से, गर्भावस्थाु, पेट की गड़बड़ी, कोई बीमारी, एसिडिटी, ट्रैवलिंग के समय या फिर माईग्रेन में किसी को उल्टी होना बहुत आम बात है क्योंकि आपका शरीर पूरी तरह से खाए गए भोजन को पचा नहीं पाता है या फिर ऐसे में फूड प्वॉकइज़निंग भी एक कारण हो सकती है।

अगर इंसान को ज्याीदा उल्टियां हो रही हो, तब बात गंभीर हो सकती है। ऐसे में शरीर में पानी की कमी हो जाना स्वभाविक है, बेस्ट ऑप्शन है आपके लिए यही होगा कि आप डॉक्टहर से सलाह लें और फिर दवाईयां या फिर ग्लू कोज़ की ड्रिप चढ़वाएं। आपको यह बात जानकर शायद हैरानी होगी कि हमारे घर में कुछ प्राकृतिक चीज़े हैं, जिनकी मदद से हम अपना इलाज खुद भी कर सकते हैं।

 उल्टी रोकने के घरेलू उपाय :

अदरक
क्या आपको अकसर सफर के दौरान उल्टीक महसूस होती है, तो आप अदरक की चाय पी कर ही अपनी यात्रा के लिए घर से निकलें। आप चाहे तो उल्टीस महसूस होने पर थोड़ा सा अदरक का टुकड़ा अपने मुंह के अंदर रख ले और धीरे-धीरे चबाते रहें।

पुदीने की पत्तीआ
उल्टी रोकने का एक और तरीका है पुदीने की चाय बनाकर पी लें। पुदीने की पत्तितयों के सेवन से भी उल्टी को रोका जा सकता है।

सिरका
घर में मौजूद सिरका और काला नमक मिला लें और फिर चाटते रहें, इससे उल्टियां रुक जाती है।

दालचीनी
आप चाहें तो दालचीनी भी डाल कर चाय बना सकते हैं। इसके लिए आप थोड़ी सी दालचीनी का टुकड़ा पानी में उबाल लें और फिर उसमें शहद मिला लें।

चावल का पानी
खाली पेट में हाइपर एसिडिटी बनने की वजह से भी उल्टीे होने लगती है। ऐसे में आप चावल को पानी में उबाल लें और फिर उसके पानी को निकाल कर ठंडा कर के पी लें।

प्याज का रस
एक प्याीज के रस को घिस कर उसका रस किसी बरतन में निकाल लें। अब इस रस में थोड़ी सी काली मिर्च डालिए और इसका एक-एक चम्मीच हर दो घंटे पर पीते रहें।

बर्फ
बार-बार उल्टी हो रही हो तो, बर्फ चूसना शुरु कर दें।

नींबू
नींबू के एक टुकड़े में काला नमक मिला ले और फिर अपने मुंह में रख लें। आपको उल्टी का एहसास नहीं होगा।

शहद

एक ग्लास पानी में शहद मिलाकर पीने से भी उल्टियां रुकने में मदद मिलती है।

लहसुन
अगर यात्रा के दौरान आपकी उल्टिनयां रूकने का नाम नहीं लेती हैं, तो लहसुन की दो कलियां चबाने से आपको बहुत आराम मिलेगा।

इलायची

उल्टीप जैसे ही आपको महसूस हो, उसी समय दो इलायची निकाल कर खा लें, आराम जल्द मिलेगा। इससे आपकी पेट की एसिडिटी भी शांत हो जाएगी और खाना हजम होने में भी आसानी होगी।