पथरी के लक्षण लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
पथरी के लक्षण लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

मंगलवार, 31 अक्तूबर 2017

पथरी की समस्या के लक्षण हैं ये इनको नजरअन्दाज मत करना

पथरी की समस्या के लक्षण हैं ये इनको नजरअन्दाज मत करना


पथरी की समस्या आजकल आम सुनने को मिल जाती है। किडनी स्टोन यानी की गुर्दे की पथरी का दर्द असहनीय होता है। इसके मरीजों की संख्या लगातार बढ़ती जा रही है। गुर्दे की पथरी का सबसे बड़ा कारण हमारा गलत खान-पान और कम पानी की आदत है। गुर्दे की पथरी दर्द के साथ कई सारी परेशानियों को भी न्यौता देती है लेकिन पथरी होने से पहले हमारा शरीर कई संकेत देने लगता है जिन्हें हम लोग अक्सर नजरअंदाज करके बैठ जाते है। हम आपको उन्हीं संकेतों के बारे में बताएंगे जिनके अनदेखा बिल्कुल न करें।

यूरिन के दौरान तेज दर्द होता है
गुर्दे की पथरी से पीड़ित मरीज को यूरिन के दौरान तेज दर्द की शिकायत रहती है। दरअसल, ऐसा तब होता है जब गुर्दे की पथरी मूत्रमार्ग से होकर मूत्राशय में जाती है। ऐसे में मूत्रमार्ग में संक्रमण भी हो जाता है । कई बार पथरी तो आकार में बहुत छोटी होती है लेकिन वो बहुत ज्यादा इन्फेक्शन बना देती है जिसके कारण भी तेज दर्द रहने लगता है ।
पीठ दर्द :-
कमर और उसके निचले हिस्से यानी पसलियों के नीचे दर्द होना भी गुर्दे की पथरी का संकेत है। यह दर्द धीरे-धीरे पेट और जांघ के बीच के भाग में जा सकता है जिस दौरान तेज दर्द होता है । ऐसा प्रायः उस अवस्था में होता है जब पथरी गुर्दे में फँसी होती है और आगे खिसकने की ताकत लगा रही होती है ।
पेशाब में खून :-
पथरी के मरीज का मूत्र अक्सर गुलाबी, लाल या भूरे रंग में आने लगता है। जब पथरी के कारण मूत्रमार्ग ब्लॉक हो जाता है तो यूरिन के दौरान रक्त आने लगता है। कई बार जब पथरी काँटे दार होती है तो वो आगे खिसकने के दौरान मूत्र मार्ग में जख्म बना देती है जिसमें से खून का रिसाव होने लगता है । इस दशा में तेज जलन का भी अहसास मूत्र करते समय होता है ।
मतली और उल्टी :-
अगर पेट में गड़बड़ और मतली जैसा महसूस हो तो यह भी किडमी स्टोन का संकेत हो सकता है। इस दौरान उल्टी की समस्या भी हो सकती है। उल्टी के जरिए हमारा शरीर के भीतर की गंदगी बाहर निकलती है लेकिन इसका यह मतलब नही है कि गुर्दे की पथरी उल्टी के द्वारा बाहर निकल जायेगी ।
बुखार :-
बुखार और ठंड लगना भी इसका संकेत है। इसलिए ऐसी स्थिति न अनदेखा न करते हुए तुरंत डॉक्टर की सलाह लें। दरअसल, गुर्दे में पथरी होने पर शरीर का तापमान काफी बढ़ जाता है और बुखार महसूस होने लगता है। गुर्दे की पथरी जब काफी समय तक एक ही जगह पर पड़ी रहकर संक्रमण पैदा करने लगती है तब इन्फेक्शन के कारण ठण्ड लगकर बुखार आने लगता है ।

अधिक सूजन :-
जब पथरी की समस्या काफी विकराल हो जाती है तो इसके कारण गुर्दे अपना काम करना बन्द करने लगते हैं तब इस दशा में शरीर में खास तौर पर पैर के टखनों के पास सूजन चढ़ने लगती है जो स्पष्ट रूप से दिखाई देती है । पेट या शरीर के अन्‍य हिस्‍सों में सूजन आना और साथ ही मूत्राशय में दिक्‍कत आने लगे तो यह गुर्दे की पथरी का लक्षण है।