आवाज ठीक से ना निकलना लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
आवाज ठीक से ना निकलना लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

रविवार, 16 अप्रैल 2017

जानिए लेरिंगाइटिस (आवाज का विकार) के लिए घरेलू उपचार

जानिए लेरिंगाइटिस (आवाज का विकार) के लिए घरेलू उपचार


गले में हल्का दर्द और आवाज ठीक से ना निकलना को लोग, सोर थ्रोट (गले में खराश) समझने लगते है| आपको अगर ऐसी कोई समस्या हो रही हो तो कंफ्यूज मत होइए|

गले में लेरिंगाइटिस एक गंभीर समस्या है I यह समस्या 3 दिनों से लेकर 3 सप्ताह तक रहती है| और कभी कभी तो यह 3 हफ्तों से अधिक समय तक रहती है, क्योकि यह एक आवाज का विकार है जिसे डिस्फ़ोनिया कहा जाता है।  इसमें व्यक्ति को ऐसा लगता है जैसे उसके बोलने की क्षमता कम हो गयी हो| इसमें होने पर आवाज की ध्वनि बहुत कम हो जाती है और बहुत ज्यादा फटी फटी निकलती है| और कुछ कुछ केसेस में तो आवाज़ निकलना पूरी तरह से बंद हो जाती है|

इसके लक्षणों की बात करे तो इसका मुख्य लक्षण तो यही है की व्यक्ति बोल नहीं पाता, इसके अलावा गले में कफ, दर्द, निगलने में परेशानी होती है| आज के लेख में हम इसके उपचार के लिए बता रहे है

जाने इस विकार के लक्षण और उपचार

लेरिंगाइटिस कैसे होता है?
  • वोकल कॉर्ड जिन्हें larynx कहा जाता है उनमे सूजन आने पर|
  • वोकल कॉर्ड पर ज्यादा तनाव पढ़ने पर या वायरल और बैक्टीरियल इन्फेक्शन के कारण|
लेरिंगाइटिस का सबसे आम लक्षण आवाज का कर्कश या कमजोर होना है। कभी-कभी तो लोग बिल्कुल भी बात नहीं पाते| अक्सर यह गले में खराश और सुखी खाँसी के साथ होता है ज्यादातर मामलों में यह समय के साथ ठीक हो जाता है और इसके गंभीर परिणाम नहीं होते हैं। कुछ आसान प्राकृतिक उपचार के साथ आप इस दर्द और सूजन से छुटकारा पा सकते हैं और अपनी आवाज को ठीक कर सकते है|आईये इसके घरेलू उपचार के बारे में जानते है
1. अदरक
  • अदरक के गले के लिए फायदों से तो आप सभी परिचित है| लेरिंगाइटिस में भी यह बहुत फायदेमंद है| यह गले के श्लेष्म झिल्ली की सूजन को दूर करता है|
  • इस्तेमाल के लिए बारीक कटे हुए ताजे अदरक कप 10 मिनट के लिए पानी के साथ एक बंद पैन में उबाल ले| इसके बाद पानी को छान ले और ठंडा होने के लिए रख दे| फिर इसमें नीबू का रस डाले|
  • आप चाहे तो इसे मीठा करने के लिए इसमें शहद भी डाल सकते है| इस अदरक की चाय की दिन में कई बार पिए|
  • आप चाहे तो सिर्फ अदरक के टुकड़े को चूस लिया करे, या फिर अदरक के छोटे टुकड़ो को चबाकर भी खा सकते है|
2. गरम नमक वाला पानी
गरम नमक वाला पानी बैक्टेरिया को मारता है साथ ही साथ गले की सूजन को दूर करने में भी मदद करता है|
प्रयोग के लिए एक ग्लास गर्म पानी ले और उसमे एक चम्मच नमक डालकर हिलाले| फिर इस पानी से गार्गल करे| यह बहुत ही प्रभावी Laryngitis Remedies में से एक है|

3. लहुसन
  • लहुसन की दो से तीन कलियों को मुह में रखकर इसको चूसे| पहले इसे दांतो से चबा ले और फिर हल्का हल्का खाने की भी कोशिश करे|
  • ऐसा दिन में तीन से चार बार करने की कोशिश करे|
  • इसमें मौजूद एंटी माइक्रोबियल गुण बैक्टीरिया को मारते है और इन्फेक्शन को जड़ से ख़तम करते है|
4. सेब का सिरका
  • सेब के सिरके में एंटी माइक्रोबियल गुण होते है| जो इन्फेक्शन से लड़ने में तो मददगार होते ही है साथ ही साथ लेरिंगाइटिस को भी ठीक करते है|
  • प्रयोग के लिए आधे कप पानी में दो चम्मच रॉ एप्पल साइडर विनेगर याने की सेब का सिरका डाले, फिर उसमे एक चम्मच शहद डाले| इसको दिन में दो बार पिए|
  • गरम पानी में एक चम्मच रॉ एप्पल साइडर विनेगर डाले, फिर इसके पानी से गरारे करे| इससे आपको रिलीफ जरूर मिलेगा|
5. सूप
यदि आप सूप पीना पसंद करते हैं, तो यह आपके लिए बहुत अच्छा है| क्योकि इस समय आपको जितना हो सके उतना सूप पीना है| लेकिन सोडियम युक्त सूप लेने से बचे|

6. हरी चाय
ग्रीन टी भी गले की सूजन को दूर करने के लिए एक अच्छा विकल्प है| आप दिन में दो बार ग्रीन टी का इस्तेमाल कर सकते है|

7. नीबू
  • नीबू के अंदर मौजूद गुण बैक्टीरिया को मारने में मदद करते है| यह लेरिंगाइटिस के लक्षणों को तो दूर करता ही है साथ ही साथ बलगम को भी ढीला करता है|
  • प्रयोग के लिए एक गिलास गुनगुने पानी में एक नीबू का रस निचोड़िये और एक चम्मच नमक डाले| इस पानी को रोज सुबह पिए|
  • आप चाहे तो नीबू वाले पानी से गरारा भी कर सकते है| इससे भी गले को काफी हद तक राहत मिलती है|
8. किशमिश
1/4 कप किशमिश को एक कप पानी में उबाल ले| इस मिश्रण को दिन में तीन से चार बार पिए|

9. लौंग
  • एक चम्मच शहद और लौंग के तेल के तीन चार बूंदो को मिक्स करले| इसे दिन में तीन से चार बार पिए|
  • इससे गले को गर्मी मिलती है और गले की सिकाई होती है|
  • लौंग और शहद में एंटीऑक्सीडेंट्स के साथ साथ एंटी-इंफ्लेमेटरी और एंटीसेप्टिक गुण मौजूद होते है|
  • यह इन्फेक्शन को दूर करके, गले को ठीक करने का काम करता है|
लेकिन यदि इसके बावजूद भी आपको परेशानी बनी रहती है तो आपको डॉक्टर के पास जाना चाहिए| आइये जानते है चिकित्सक को कब दिखाना है|

सारे उपचारो के बाद भी दर्द मौजूद है
  • 3 दिन से ज्यादा हो गया आपकी हालत बुरी है|
  • आपको साँस लेने में परेशानी हो रही है और आपको बुखार भी आ गया है|
  • आपको खांसने पर खून आ रहा हो|
  • इसके अलावा आपको और कोई परेशानी हो रही हो तब भी चिकित्सक की मदद ले|