कैल्शियम की कमी लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
कैल्शियम की कमी लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

गुरुवार, 30 नवंबर 2017

नमक खाने वाले हो जाएं सावधान, इन गलतियों से टूट सकती है हड्डियां

नमक खाने वाले हो जाएं सावधान, इन गलतियों से टूट सकती है हड्डियां


हेल्दी रहने के लिए हड्डियों का स्ट्रॉन्ग होना बेहद जरूरी है। बढ़ती उम्र में हड्डियों को हेल्दी बनाए रखने के लिए सही डाइट के साथ-साथ लाइफस्टाइल भी हेल्दी होनी चाहिए। कई लोग जाने-अनजाने में खुद ही अपनी हड्डियों को नुकसान पहुंचाते हैं। फिजियोथैरेपिस्ट डॉ. गीतेश अमरोहित बता रहे हैं कुछ ऐसी आदतों के बारे में जो आपकी हड्डियों की कमजोरी के लिए जिम्मेदार बन सकती हैं। इन्हें अवॉइड करेंगे, तो बढ़ती उम्र में भी हड्डियां मजबूत रहेंगी।

ज्यादा नमक खाने से
जो लोग ज्यादा नमक या साल्टी फ़ूड खाते हैं, उनकी बॉडी से कैल्शियम यूरिन के जरिए बाहर निकल जाता है इससे हड्डियाँ कमजोर हो सकती है और चोट लगने पर टूट सकती है
बंद कमरे में ज्यादा समय बिताने से
जो लोग रोज़ लम्बे समय तक बंद कमरे में काम करते हैं वे पर्याप्त सनलाइन नही ले पाते हैं ऐसे में विटामिन D की कमी होने लगती है, जिससे हड्डियाँ कमजोर हो सकती हैं
ज्यादा शराब पीने से
ज्यादा शराब पीने वाले लोगों की बॉडी में कैल्शियम एब्जोर्ब करने की क्षमता घटने लगती है ऐसे में हड्डियों से कैल्शियम कम होता है, जिससे वे कमजोर होती है 
ज्यादा कॉफ़ी पीने से
रोज ज्यादा मात्रा में कॉफ़ी पीने से इसमें मौजूद कैफीन कैल्शियम का लेवल घटाता है ऐसे में हड्डियाँ कमजोर हो सकती है.
ज्यादा स्मोकिंग करने से
जो लोग ज्यादा सिगरेट पीते हैं, उनके बोन्स को नुकसान पहुचाता है इसके कारण हड्डियाँ कमजोर होने लगती हैं और चोट लगने पर टूट सकती हैं

ज्यादा फैट बढ़ाने से
जिन लोगों का फैट ज्यादा होता है, उनकी पैरों की हड्डियों पर ज्यादा प्रेशरपड़ने लगता है इसके कारण वे कमजोर होने लगती है और थोड़ी सी चोट लगने से टूट सकती है 

मंगलवार, 21 नवंबर 2017

शरीर में दिखें ये लक्षण तो समझिए कैल्शियम की कमी है

शरीर में दिखें ये लक्षण तो समझिए कैल्शियम की कमी है


शरीर के लिए जरूरी पोषक तत्वों में एक कैल्शियम भी है जो शरीर के विकास में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। हड्डियों को और दांतो की मजबूती के लिए कैल्शियम जरूरी पोषक तत्व है। हर किसी को एक दिनभर में कैल्शियम की एक निश्चित मात्रा की जरूरत होती है। एक स्वस्थ्य मनुष्य को दिन भर में 1000 से 1200 मिली ग्राम कैल्शियम की आवश्यकता होती है। वहीं गर्भवती महिलाओं को पूरे दिन में 1200 से 1300 मिली ग्राम कैल्शियम की आवश्कता होती है। आजकल न सिर्फ बूढ़ों में बल्कि जवान और बच्चों में भी कैल्शियम की काफी कमी देखी जा रही है। हम बता रहे हैं कुछ लक्षण जिनसे आप जान पायेंगे कि आपके शरीर में कैल्शियम की कमी है।

1. हड्डियों में कमजोरी : कैल्शियम हड्डियों के बनने में मदद करता है और इसकी कमी होने पर इसका पहला लक्षण हड्डियों पर दिखाई देता है। कैल्शियम की कमी से हड्डियां कमजोर हो जाती हैं और फ्रैक्चर होने की संभावना बढ़ जाती है। कैल्शियम कमी से उम्र के साथ आस्टियोपेरोसिस का होने का खतरा भी बढ़ जाता है।
2. मांसपेशियों में खिंचाव : मसल्स के निर्माण में कैल्शियम की अहम भूमिका होती है। शरीर में कैल्शियम की कमी होने पर इसका सीधा असर मांसपेशियों पर पड़ता है और उनमें खिंचाव होने लगता है। इसकी कमी से खासतौर पर जांघों और पिंडलियों में असहनीय दर्द होता है।

3. नाखूनों का कमजोर होना : आपके नाखून भी एक तरह की हड्डियां ही होती हैं इन्हें भी बढ़ने और मजबूत होने के लिए कैल्शियम की जरूरत होती है। कैल्शियम की कमी से नाखून कमजोर होने लगते हैं और आसानी से टूट जाते हैं। शरीर में कैल्शियम की कमी होने पर नाखूनों पर सफेद निशान दिखने लगते हैं।
4. दांतों का कमजोर होना : शरीर में मौजूद 99 प्रतिशत कैल्शियम हड्डियों और कैल्शियम की कमी से दांतों में दर्द और झनझनाहट होने लगती है और दांत कमजोर होकर टूटने लगते हैं। छोटे बच्चों में कैल्शियम की कमी से दांत देर से निकलते हैं।

5. थकान : कैल्शियम की कमी से हड्डियों और मांसपेशियों में दर्द रहने की वजह से शरीर में थकान होने लगती है। इस वजह से नींद न आना, डर लगना और तनाव जैसी समस्याएं होने लगती हैं। महिलाओं में बच्चे के जन्म के बाद अक्सर कैल्शियम की कमी हो जाती है और वे थकान महसूस करने लगती हैं।
6. मासिक धर्म में अनियमितता : महिलाओं में कैल्शियम की कमी की वजह से मासिक धर्म देर से और अनियमित तौर पर होता है। मासिक धर्म से पहले कैल्शियम की कमी के कारण ज्यादा दर्द होता है और खून भी ज्यादा आता है। कैल्शियम महिलाओं के गर्भाशय और ओवेरियन हार्मोन्स के विकास में मदद करता है।

7. जल्दी-जल्दी बीमार पड़ना : कैल्शियम रोग प्रतिरोधक क्षमता को बनाए रखने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। इसके अलावा ये श्वसन तंत्र ठीक रखता है और आंतों के संक्रमण को रोकता है। कैल्शियम की होने पर व्यक्ति जल्दी जल्दी बीमार पड़ने लगता है।

8. बालों का झड़ना : बालों के विकास में कैल्शियम की महत्वपूर्ण भूमिका होती है। इसकी कमी से बाल झड़ने लगते हैं और रुखे हो जाते हैं। अगर आपको ऐसी समस्या है तो ये शरीर में कैल्शियम की कमी का संकेत हो सकती है।

बुधवार, 31 मई 2017

अगर आप को भी है कैल्शियम की कमी तो करें ये उपाय

अगर आप को भी है कैल्शियम की कमी तो करें ये उपाय


कैल्शियम की कमी अक्सर हमरे शारीर को कमज़ोर बना देती है और हमारी हड्डियों की ताकत को कम कर देती है जिसकी वजह से हड्डियों में होने वाले रोग बढ़ जाते हैं। रिसर्च के मुताबिक 30 साल की उम्र के बाद बॉडी डाइट में से कैल्शियम की अपूर्ति आसानी से नहीं कर पाती।

वैसे तो शरीर में कैल्शियम की कमी के कई कारण हो सकते हैं लेकिन जरूरत से ज्यादा मीठे का सेवन करने से भी कैल्शियम की कमी होना शुरू हो जाता है। गर्भवती और बच्चों को दूध पिलाने वाली औरतों को कैल्शियम की बहुत जरूरत होती है। इसके लिए जरूरी है कि अपनी डाइट का ख्याल रखें और अच्छा भोजन खाएं। सुबह नाश्ते में स्प्राउट अनाज शामिल करने से कैल्शियम की कमी पूरी हो जाती है।

1. निम्बू पानी पिए -- इससे शरीर में पानी की कमी दूर हो जाती है।
2. अदरक और चाय पिए -- पानी में अदरक डाल कर उबाल लें। जब यह आधा रह जाए तो इसे चाय की तरह पीएं.
3. जीरे पानी का सेवन -- रात को 2 गिलास पानी में जीरा भिगोकर रख लें और सुबह इस पानी को तब तक उबालें जब तक यह आधा न रह जाए।
4. बादाम और अंजीर का इस्तेमाल करें -- रोजाना रात को 4 बादाम और 1 अंजीर को पानी में भिगोकर रख दें। सुबह खाली पेट इनको चबाकर खाएं।
5. सोयाबीन खाएं -- सोयाबीन से कैल्शियम और प्रोटीन की कमी दूर हो जाती है। यूरीक एसीड के रोगी को इसे खाने से परहेज करना चाहिए।
6. सुबह की धुप लें -- हर रोज सुबह 10 मिनट धूप में जरूर बैठे.