भाग्य लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
भाग्य लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

सोमवार, 15 जनवरी 2018

अमावस्या को जन्मे बच्चे होते हैं मंदबुद्धि, जानिये जन्मतिथि से अपना व्यक्तित्व

अमावस्या को जन्मे बच्चे होते हैं मंदबुद्धि, जानिये जन्मतिथि से अपना व्यक्तित्व


अपने बारे में जानने के बारे में व्यक्ति बहुत उत्सुक रहता है। वह अपने स्वभाव और रुचियों से भलीभांति परिचित होता है, फिर भी उसके मन में कई तरह के प्रश्न उठते रहते हैं और उनका उत्तर पाने के लिए वह ज्योतिषीय सलाह लेता है।भविष्य, स्वभाव और रुचियों के बारे में जन्मकुंडली तो राज खोलती ही है, जन्म की तिथि से भी व्यक्ति के स्वभाव और गुणों के बारे में जानकारी हासिल की जा सकती है।

प्रत्येक माह में 15-15 दिन के दो पक्ष होते हैं, शुक्ल पक्ष और कृष्ण पक्ष। प्रतिपदा से अमावस्या तक कृष्ण पक्ष और फिर प्रतिपदा से पूर्णिमा तक शुक्ल पक्ष। कृष्ण और शुक्ल दोनों पक्षों में प्रथमा से चतुर्दशी तक चौदह तिथि, एक पूर्णिमा और एक अमावस्या। इस तरह एक माह में सोलह तिथियां होती हैं। इन सोलह तिथियों में जन्म लेने वाले व्यक्ति का अलग-अलग स्वभाव होता है।
#प्रतिपदा 
माह की प्रथम तिथि को जन्म लेने वाला व्यक्ति अक्सर बीमार रहता है। धन की कमी से जूझता रहता है,स्वयं का शरीर कमजोर होता है। श्रृंगार प्रेमी होता है।

# द्वितीया
माह की द्वितीया तिथि को जन्म लेने वाला पुरुष या स्त्री कमतर चरित्र वाले, परस्त्री या परपुरुष से संबंध रखने वाले, दूषित वाणी बोलने वाले, गलत लोगों की संगत में रहने वाले, दूसरों के प्रति दुराभाव रखने वाले। चोरी और धोखेबाजी करने में निपुण होते हैं।
# तृतीया
इस तिथि में जन्म लेने वाले व्यक्ति की बरकत नहीं होती । जितना कमाते हैं उतना खर्च कर देते हैं। आलसी, मंदबुद्धि किस्म के होते हैं। निर्धन, डरपोक, असंतोषी, हमेशा रोजगार की तलाश करने वाले होते हैं। इनके विचारों में कहीं भी ठोसपन नहीं होता।
# चतुर्थी
पंडित, विद्वान, बुद्धिमान, विशाल हृदय, दानी होते हैं। इनके पास धन तो होता है, लेकिन उसका पूर्ण उपभोग करने को लेकर चिंतित रहते हैं। पराक्रमी और इनके मित्रों की संख्या अधिक होती हैं। इनका रहन-सहन, पहनावा बहुत बढि़या होता है।

# पंचमी
धनी, किसी न किसी कला में माहिर, व्यापारी, पराक्रमी, माता-पिता की आज्ञा मानने वाले, शरीरिक सौंदर्य और सेहत का विशेष ध्यान रखने वाले, मालिश के शौकीन, प्रोफेशनल और अनेक प्रकार के बिजनेस की जानकारी रखने वाले होते हैं।

# षष्ठी 
माह के छठे दिन यानी षष्ठी तिथि को जन्म लेने वाले जातक घूमने-फिरने के शौकीन होते हैं। कई देशों और राज्यों की यात्रा करते हैं। हालांकि ये बदमिजाज भी होते हैं। अपने अहंकार की वजह से रिश्ते खराब कर लेते हैं। इसलिए इनके मित्र भी कम होते हैं। 

# सप्तमी 
धनवान, प्रतिभाशाली, कलाकार, दिखने में सुंदर होते हैं। समाज और परिवार में इनका मान-प्रतिष्ठा अच्छी होती है। इनकी संतानें किसी भी क्षेत्र में उल्लेखनीय कार्य करती हैं। अपने मधुर व्यवहार के कारण ये सभी के बीच लोकप्रिय होते हैं।

# अष्टमी
धर्मात्मा, दानी, सत्यवादी, धनवान, गुणवान, पराक्रमी, लेकिन कामी और परस्त्री या परपुरुष पर नजर रखने वाले होते हैं। इनके स्वभाव से लोग इनके करीब आते हैं, लेकिन अधिक समय तक इनके पास टिक नहीं पाते। ये जब क्रोध करते हैं तो किसी की नहीं सुनते।

# नवमी: 
नवमी तिथि में जन्म लेने वाले जातक कीर्तिवान होते हैं। इनकी कन्या संतानें अधिक होती हैं। विद्यावान और कला में निपुण होते हैं। शस्त्र विद्या में भी माहिर होते हैं। धार्मिक प्रवृत्ति वाले होते हैं। अनेक तरह के कार्यों से धन अर्जित करते हैं। 

# दशमी: 
धनवान, प्रतिभावान, धर्मकार्य के ज्ञाता, परिवार की भलाई के इच्छुक, कलाकार बनने की प्रबल इच्छा इनके मन में होती है। इन्हें यात्राएं करना पसंद होता है। भाई-बंधुओं, परिजनों से इनके संबंध अत्यंत मधुर होते हैं।

# एकादशी: 
ग्यारस तिथि में जन्म लेने वाले व्यक्तियों के विचार शुद्ध होते हैं और धर्म कार्य में इनका विशेष लगाव होता है। धनवान और नित गुरु की सेवा में लगे रहते हैं। इनकी अनेक संतानें होती हैं और ये सदा न्याय के रास्ते पर चलते हैं और दूसरों को भी सत्मार्ग पर चलने की सलाह देते हैं। 

# द्वादशी 
ये अपने जीवन में यात्राएं अधिक करते हैं। चाहे शौक से या कार्य के कारण लेकिन ये कभी एक जगह टिककर नहीं बैठते। विदेश यात्राएं भी करते हैं। इनका मन अत्यंत चंचल होता है। हमेशा कुछ नया सीखने की ललक इनके मन में होती है। 

# त्रयोदशी 
धनवान, विद्यावान, गुणी, पराक्रमी, दूसरों के काम में रुचि लेने वाले होते हैं। ऐसे व्यक्ति अपने अनुभवों का लाभ दूसरों को देने के प्रयत्न में लगे रहते हैं। अपनी अच्छी शिक्षा के कारण ये दूसरों का मार्गदर्शन करते हैं। लोगों के मन में इनके प्रति निष्ठा होती है। 

# चतुर्दशी 
ये व्यक्ति साहसी होते हैं। झूठ और धोखे से इन्हें सख्त नफरत होती है। शांत स्वभाव के होते हैं लेकिन मौका आने पर इनका क्रोध कहर ढा सकता है। गरीबों और साधु-संतों के लिए इनके मन में प्रेम होता है। इन्हें राजाओं के समान मान-सम्मान मिलता है।

# अमावस्या
अमावस्या तिथि के दिन जन्म लेने वाले जातक कम विद्या और बुद्धि वाले होते हैं। इनके दिल और दिमाग में सामंजस्य नहीं होने के कारण इनकी कथनी और करनी में बहुत अंतर होता है। मन में बातें दबाकर रखते हैं। कार्यों को धीमी गति से पूरे करते हैं।

# पूर्णिमा
इस तिथि पर जन्मे जातक बुद्धिमान, दिखने में सुंदर, अच्छा खान-पान और अच्छा पहनावा पसंद करते हैं। हालांकि इनकी कामवृत्ति तीव्र होती है और ये पराई स्त्री और पराए पुरुष से संबंध बनाते हैं। धन संपदा इनके पास होती है, लेकिन ये उसे संभालकर नहीं रख पाते।

शुक्रवार, 15 दिसंबर 2017

अगर आपके माथे पर बने ये 7 लकीरों तो आप है बहुत भाग्यशाली, ऐसे खोले किस्मत…

अगर आपके माथे पर बने ये 7 लकीरों तो आप है बहुत भाग्यशाली, ऐसे खोले किस्मत…


माथे की लकीरों का भी अपना ही महत्त्व है, माथे की लकीरें क्या कहती है जाने इसके बारे में अज हम आपको पूरी डिटेल बतायेंगे इसके बारे में. हम आपको अच्छे से बतायेंगे इसके बारे में कि इन रेखाओं का क्या महत्त्व होता है. तो चलिए शुरू करते है, देर किस बात कि…

माथे पर बने इन 7 लकीरों में छुपी है आपके किस्मत कि सुनहरी चाबी….

बुध रेखा
भौहों (आएब्रोज) के ठीक बीचो-बीच बनती हैं ये रेखाएं. बुध रेखा व्यक्ति के तेज दिमाग की ओर इशारा करती है. जिस व्यक्ति की यह बुध रेखा भौहों के इस बीच के स्थान से लेती हुई दोनों ओर कानों तक जाती है, वह बेहद बुद्धिमान कहलाता है. धन के मामले में भी धुरंधर होते हैं ये लोग, कभी अपना आर्थिक नुकसान नहीं होने देते.
शुक्र रेखा
यह रेखा कई बार माथे के ठीक बीचो-बीच होती है. जिन लोगों की यह रेखा स्पष्ट दिखाई देती है वे दुनिया घूमने-फिरने के शौकीन होते हैं. ये लोग काफी भाग्यशाली भी होते हैं. यह रेखा जितनी गहरी होगी, उतना ही उस इंसान का भाग्य (Luck) तेज होगा. इस रेखा का अधिक गहरा होना उस व्यक्ति का प्यार में रोमांटिक होने का संकेत भी देता है. लेकिन इस रेखा का ना के बराबर दिखना व्यक्ति को भाग्यहीन बनाता है.
मंगल रेखा
शुक्र रेखा से ही थोड़ा ऊपर होती है मंगल रेखा. यह रेखा अमूमन माथे के बीचो-बीच ही बनी होती है. अगर यह रेखा किसी व्यक्ति के माथे पर स्पष्ट हो तो यह उसके भीतर के जुनून, कुछ जीतकर दिखाने की लालसा को दर्शाती है. स्वभाव की बात करें तो गहरी मंगल रेखा वाले लोग दिल के बुरे नहीं होते.
गुरु रेखा
अब मंगल रेखा के ऊपर है गुरु रेखा, जो व्यक्ति के सामाजिक स्वभाव के बारे में बताती है. वह खुद से कितना जुड़ा है यह बताती है. जो लोग बेहद आध्यात्मिक होते हैं, उनकी गुरु रेखा स्पष्ट दिखाई देती है. पापी स्वभाव वाले लोगों की यह रेखा नाम मात्र ही दिखाई देती है. लेकिन इस रेखा का गहरा होना थोड़ा नुकसान वाला भी है. क्योंकि अध्यात्म के प्रति अति रुझान इन लोगों को भोग विलास से दूर कर देता है. फलस्वरूप इन लोगों को धन पाने की कोई खास इच्छा नहीं होती. शायद सामाजिक जरूरतों के हिसाब से ही धन कमाते होंगे. इन लोगों के स्वभाव की एक और खास बात यह है कि ये जिद्दी भी होते हैं.

शनि रेखा
गुरु रेखा से ठीक ऊपर और माथे के बिल्कुल ऊपर दिखाई देती है शनि रेखा. इस रेखा का गहरा और स्पष्ट होना व्यक्ति को धनवान बनाता है, क्योंकि ऐसे रेखा वाले लोग स्वभाव से ही धन कमाने की इच्छा रखते हैं. इन्हें दुनिया की हर वो चीज चाहिए जिसकी ये कामना करते हैं. और उसे पाने के लिए हर संभव प्रयास भी करते हैं. लेकिन दुख इस बात का है कि गहरी शनि रेखा वाले लोग काफी कम पाए जाते हैं. क्योंकि यह रेखा माथे के ठीक ऊपरी तरफ, सिर से थोडा ही नीचे होती है, इसलिए यह अधिक लंबी नहीं होती. अमूमन लोगों में यह रेखा दिखाई नहीं देती.

चंद्र रेखा
हमारी बाईं ओर की आइब्रोज के ठीक ऊपर होती है चंद्र रेखा. यह रेखा बताती है कि व्यक्ति कितना धनवान होगा. अगर यह रेखा स्पष्ट है, कहीं से टूटी हुई नहीं है, तो ऐसा व्यक्ति धनवान होता है. लेकिन थोड़ी भी बिगड़ी हुई यह रेखा जीवन में आर्थिक संकट पैदा करती है. लेकिन गहरी चंद्र रेखा वाले लोग जीवन में सफल होते हैं. ये लोग ज्यादातर कला के क्षेत्र में नाम कमाते हैं.

सूर्य रेखा
चंद्र रेखा से ठीक उलटी दिशा में दाईं आइब्रोज के ऊपर होती है सूर्य रेखा. अगर यह रेखा स्पष्ट और गहरी है तो यह व्यक्ति के भाग्य को तेज बनाती है. लेकिन इसका उपस्थित ना होना या फिर हल्का होना जीवन में कई रुकावटें पैदा करता है.

आपको यह पोस्ट कैसी लगी हमें जरुर बताएं. इस पोस्ट को अधिक से अधिक शेयर करे ताकि सबको यह जानकारी मिल सके…

मंगलवार, 7 नवंबर 2017

आपके घर में मौजूद हैं ये चीज़ें जो चमका सकती है आपकी क़िस्मत

आपके घर में मौजूद हैं ये चीज़ें जो चमका सकती है आपकी क़िस्मत


हर कोई ये चाहता है कि मां लक्ष्मी उस पर प्रसन्न हो जाएं, लक्ष्मी गणेश की पूजा का महत्व हर किसी को पता है। पूजा किस तरह से करनी चाहिए, क्या करना चाहिए, क्या नहीं करना चाहिए, किन चीजों से आपकी किस्मत बदल सकती है, इन सबके बारे में हम आपको बताएंगे, फिलहाल हम आपको बता रहे हैं उन चीजों के बारे में जो आपकी किस्मत को चमका सकती हैं। इनको पूजा घर में स्थान दें और फिर देखिए कि कैसे आपकी जिंदगी में बदलाव आता है। हम आपको ऐसी वस्तुओं के बारे में बताएंगे जिनको घर पर रखने से आपकी किस्मत बदल जाएगी।

कुबेर भगवान की प्रतिमा
कुबेर भगवान को धन का देवता माना जाता है, कुबेर यक्ष और गंधर्वों के स्वामी हैं। कहा जाता है कि पूरे संसार के धन की रक्षा कुबेर ही करते हैं। इनकी प्रतिमा घर में उत्तर दिशा की तरफ रखें। इस बात का खास ख्याल रखें कि जहां प्रतिमा रखी वहां की साफ-सफाई रोज की जाए। कुबेर भगवान आपके घर में धन की कमी कभी नहीं होने देंगे।
दक्षिणावर्ती शंख
ज्योतिष में दक्षिणावर्ती शंख का खास महत्व है। इसे घर के पूजा के स्थान या फिर तिजोरी में रखने से मां लक्ष्मी प्रसन्न होती हैं। दक्षिणावर्ती शंख से भगवान विष्णु का अभिषेक करने से सभी प्रकार के सुख प्राप्त होते हैं। साधक को किसी चीज की कमी नहीं होती। मां लक्ष्मी को प्रसन्न करने के लिए ये बहुत ही खास उपाय है। 
लक्ष्मी माता की चरण पादुकाएं
मां लक्ष्मी को धन की देवी कहा जाता है। मां लक्ष्मी की चरण पादुकाएं जो चांदी से बनी हों उनको वहां पर रखें जहां धन रखते हैं। ध्यान रखें कि इसकी दिशा धन स्थान की ओर जाती हुई रहे। इसका मतलब है कि लक्ष्मी सदैव आपके धन स्थान में ही निवास करे। ये बहुत ही खास और अचूक उपाय है। चांदी की चरण पादुकाएं काफी महत्व रखती हैं।
श्रीयंत्र
श्रीयंत्र का महत्व तो आप जानते ही होंगे, घर में समृद्धि के लिए इस यंत्र को रखा जाता है। शास्त्रों में भी श्रीयंत्र की विशेष महिमा बताई गई है। इसे यंत्रराज कहा जाता है। इस यंत्र को धन वृद्धि, धन प्राप्ति, फंसा हुआ धन पाने के लिए, लोन हासिल करने में सहायक होता है। इसकी स्थापना घर के पूजन कक्ष में करनी चाहिए। इस यंत्र की पूजा करने का विशेष महत्व माना गया है।
मोती शंख
आपने शायद इसके बारे में नहीं सुना होगा, इसका कारण ये है कि मोती शंख बहुत ही दुर्लभ प्रजाति का शंख माना जाता है। शास्त्रों के मुताबिक ये शंख बहुत ही चमत्कारी होता है। ये दिखने में बहुत ही सुंदर होता है। इसे घर में रखने से धन-संपत्ति बढ़ती है और परिवार वालों के बीच सामंजस्य बना रहता है। इसे अपनी तिजोरी में रखें। मोती शंख हालांकि मुश्किल से मिलता है,
पारद लक्ष्मी प्रतिमा
ये भी एक अचूक उपाय है घर में समृद्धि लाने का, तंत्र शास्त्र में पारद से निर्मित देव प्रतिमाओं का खास महत्व माना गया है। घर में पारद से बनी लक्ष्मी प्रतिमा रखने से बहुत फायदा होता है। इस प्रतिमा को पूजा घर में रखें। उसके बाद शुद्ध मन से इनकी पूजा करें। पारद लक्ष्मी प्रतिमा की पूजा करने से बुरी नजर नहीं लगती है। घर से नेगेटिव शक्तियां चली जाती हैं।

कौड़ी
कौड़ी के बारे में आप को पता ही होगा, ये समुद्र से निकलती हैं, दिखने में ये बेहद साधारण होती हैं, परंतु इसका प्रभाव बहुत ज्यादा होता है। बता दें कि लक्ष्मी जी समुद्र से ही उत्पन्न हुई हैं और कौडिय़ां भी समुद्र से निकलती हैं। माना जाता है कि कौड़ियों में धन को अपनी तरफ आकर्षित करने की ताकत होती है। इसे तिजोरी में रखना काफी फायदेमंद होता है।

कमल के गट्टे
ये तो आप को पता ही होगा कि मां लक्ष्मी कमल के फूल पर विराजमान रहती हैं। इसलिए कमल गट्टे का काफी महत्व माना जाता है। कमल गट्टा कमल से निकलने वाला बीज है। इस बीज को काफी चमत्कारी माना जाता है। इसे घर के पूजन स्थान पर रखने से मां लक्ष्मी प्रसन्न होती हैं। आपकी किस्मत बदलने में सक्षम हैं कमल गट्टे

छोटे नारियल
ये नारियल आम नारियल ये नारियल आकार में छोटे होते हैं। तंत्र-मंत्र में इसका खास महत्व है। इसे श्रीफल भी कहते हैं मां लक्ष्मी का फल माना जाता है। इसकी विधि-विधान से पूजा कर के लाल कपड़े में बांधकर ऐसी जगह पर रखना चाहिए जहां किसी की नजर इस पर न पड़े। इस उपाय से मां लक्ष्मी अति प्रसन्न होती हैं। तो ये कुछ वस्तुएं हैं जिनको घर में रखिए, मां लक्ष्मी प्रसन्न हो जाएंगी।

शनिवार, 21 अक्तूबर 2017

किस्मत साथ नहीं देती तो इस चीज़ को सदा अपने पास रखें, भाग्य जरूर साथ देगा !!

किस्मत साथ नहीं देती तो इस चीज़ को सदा अपने पास रखें, भाग्य जरूर साथ देगा !!


जीवन में हर इंसान सफलता पाना चाहता है और सफलता पाने में मेहनत के साथ साथ भाग्य का भी साथ देना बेहद जरूरी होता है। अगर आप मेहनत बहुत करते है लेकिन आपका लक या भाग्य आपके साथ नहीं है तो आपको उम्मीद के मुताबिक सफलता नहीं मिलती है। इसीलिए ज्योतिष में कुछ ऐसे उपाय बताये गए है जिन्हें अपनाकर हम भाग्य को अपने अनुकूल बना सकते है। भाग्य अनुकूल होगा तो आपको इच्छानुसार परिणाम मिलने लगते है।

1. यदि कोई जॉब हासिल करना चाहते है तो इंटरव्यू देने जाते वक़्त अपने पर्स में पीपल की पत्ती को रखकर जाना चाहिए। माना जाता है कि पीपल की पत्ती में विष्णु भगवान का वास होता है। लेकिन इसे अपनी जेब में या पर्स में रखते समय इस बात का ध्यान रखना चाहिए कि ये बिल्कुल भी कटे और मुडें नही।

2. ज्योतिष शास्त्र के अनुसार यदि आपका भाग्य आपका साथ नहीं दे रहा हो हर बार आपका Bad Luck चल रहा हो तो हमेशा अपने जेब में मोर का पंख रखना चाहिए। इसे लाल या पीले कलर के सिल्क कपडे में रखना चाहिए।

3. ज्योतिष के अनुसार अगर आप कोई ख़ास और महत्वपूर्ण काम करने के लिए जा रहे है तो चार लौंग की पत्तियों को अपनी जेब में रखकर बाहर निकलें। मान्यता है कि इससे भाग्य साथ देने लगता है।

4. यदि कोई व्यक्ति तनाव या टेंशन में रहता है और सदा नकारात्मक विचार उसके मन में रहते है तो ऐसे में उसे सफ़ेद रंग का पत्थर सदा अपने पास रखना चाहिए। ज्योतिष के अनुसार इससे भाग्य भी साथ देगा और सकारात्मकता भी आएगी।अगर आपको सुबह सुबह कोई कमाई हो और उसमें सिक्का मिले तो उसे कभी खर्च न करें और अपने पास रखें, माना जाता है की यह सिक्का और धन को अपनी और आकर्षित करता है।