मस्तिष्क लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
मस्तिष्क लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

शनिवार, 7 अक्तूबर 2017

आज ही ले आये ये फूल चुपचाप रख दे चाँदी की डिब्बी में तुरंत होगा चमत्कार

आज ही ले आये ये फूल चुपचाप रख दे चाँदी की डिब्बी में तुरंत होगा चमत्कार


ज्योतिष कहता है कि कुछ खास पेड़ के पौधों की जड़ या फूल को काम में लिया जाए तो कई समस्याओं का समाधान मिल सकता है. तथा वह आयुर्वेद कहता है कि हमारी प्रकृति में कुछ ऐसी चीज पाई जाती हैं जिनका हम सही प्रयोग करके गंभीर से गंभीर बीमारियों को दूर कर सकते हैं.यानी इन से अपना बचाव कर सकते हैं दोस्तों आज हम आपको ऐसी ही एक पेस्ट के बारे में बताने जा रहे हैं.

हमें जरुरत है किसी ऐसे चमत्कार की जो आसानी से मिल जाए और हमारे मस्तिष्क को ठीक कर दे. आयुर्वेद ने एक शानदार जड़ी-बूटी का उल्लेख किया गया है जिसको हम शंखपुष्पी के नाम से जानते है. इसका लैटिन नाम शंखपुष्पी है जो की हरिणपदी कुल परिवार से सम्बंधित है. इसका हिन्दी नाम शंखुलि है इंग्लिश में इसे शंखपुष्पी कहते है.

इसका नाम है शंखपुष्पी जिन लोगों की अक्सर धन की कमी चलती रहती है आर्थिक परेशानी चलती है. ऐसे लोगों के लिए शंखपुष्पी बहुत ही महत्वपूर्ण चीज है वास्तुशास्त्र के अनुसार रविवार के दिन पर शुभ मुहूर्त में शंखपुष्पी का फूल लाकर एक चांदी की डिबिया लें.

और चांदी के डिब्बे में बंद करके घर की तिजोरी में उसे रख दें ऐसा करने से धन वृद्धि होती है. और आर्थिक परेशानियों से मनुष्य को निजात मिलती है शंखपुष्पी को समान रुप से ब्रेन टॉनिक के नाम से भी जाना जाता है.

गुरुवार, 27 जुलाई 2017

सिगरेट से ज्यादा खतरनाक होता है अगरबत्ती का धुआं…

सिगरेट से ज्यादा खतरनाक होता है अगरबत्ती का धुआं…


सिगरेट हमारे स्वास्थ्य के लिए हानिकारक होती है ये हमने अक्सर सुना है| जो लोग सिगरेट का सेवन करते है उनको तमाम तरह की शारीरिक परेशानी का सामना करना पड़ता है| क्योंकि उससे निकलने वाला धुआं हमारे फेफड़े पर सीधा असर करता है|

इसीलिए सिगरेट पीने वालों को इसे पीने से रोका जाता है| लेकिन सिगरेट के धुएं के अलावा एक ऐसी चीज़ है जिसका प्रयोग हम डेली अपनी लाइफ में करते हैं| लेकिन उससे उठने वाला धुआं हमारे लिए सिगरेट के धुएं से भी अधिक खतरनाक है| जी हाँ|| हम बात कर रहे हैं अगरबत्ती की| अगरबत्ती का धुआं हमारी कोशिकाओं में आनुवंशिक स्तर पर गंभीर बदलाव लाता है|

यहां तक कि ये बदलाव कैंसर का मुख्य कारण बन जाता है| अगरबत्ती का धुआं फेफड़ों में जम जाता है और फेफड़ों के कैंसर में तब्दील हो जाता है| अगरबत्ती के धुएं में जो केमिकल होता है वो आपका डीएनए तक बदल सकता है| दमा व सांस की बीमारियां भी इस धुएं की देन हैं|

त्‍वचा और आंखे
ज्यादा देर तक अगरबत्ती के धुएं में रहने से स्किन प्रॉब्लम हो जाती है और आंखों में भी जलन होने लगती है| अगरबत्ती के धुएं में मौजूद केमिकल के संपर्क में आने से त्वचा और आंखों में जलन और खुजली होने लगती है, जिससे आंखे खराब हो जाती हैं|

मस्तिष्क
अगरबत्ती के धुएं की वजह से दिमाग की कोशिकाएं प्रभावित होती है जिससे सिरदर्द और माइग्रेन जैसी समस्या हो सकती है|

दिल
स्वस्थ शरीर के लिए दिल का तंदुरुस्त होना भी बहुत जरूरी है| ऐसे में जब रोजाना अगरबत्ती का धुआं सांस के साथ शरीर में जाता है तो इससे दिल की कोशिकाएं सिकुड़ना शुरू हो जाती हैं जिससे हार्ट अटैक होने का खतरा बढ़ जाता है|

सोमवार, 17 जुलाई 2017

अगर आप चाहते है कंप्यूटर जैसा तेज दिमाग तो अपनाये ये आसान उपाय

अगर आप चाहते है कंप्यूटर जैसा तेज दिमाग तो अपनाये ये आसान उपाय


ड्राई फ्रूट्स हमारे शरीर और दिमाग के लिए बहुत ही ज्यादा लाभदायक होता हैं। इसका सेवन करने से शरीर तो बहुत बेहतर होता ही है साथ ही दिमाग भी बहुत ज्यादा तेज होता है। प्रोटीन, कैलोरी और कार्बोहाइड्रेट समेत कई अन्य पोषक तत्वों से भरपूर मेवा वजन घटाने में भी बहुत ज्यादा मदद करता है। यही नहीं ये हृदयरोग, डायबिटीज और उच्च रक्तचाप के खतरों से भी निजात दिलाता हैं। आइए शरीर को उर्जा प्रदान करने वाले इन फ्रूट्स के बारे में बात करते हैं।

काजू
काजू को उर्जा का एक बहुत ही अच्छा स्रोत माना जाता है। इसका प्रतिदिन सेवन करने से थकान भी दूर होता है। तंत्रिका तंत्र, हड्डियों और प्रतिरक्षा प्रणाली को यदि आप मजबूत करना चाहते हैं तो काजू का सेवन करते रहिए क्योंकि इसमें कॉपर की बहुत भरपूर मात्रा पाई जाती है।

पिश्ता
एक अध्ययन के अनुसार रोजाना 60 पिश्ते खाने से ब्लड शुगर कंट्रोल में रहता है। पोटेसियम और एंटीऑक्सीडेंट की भरपूर मात्रा पिश्ता को सेवन टाइप टू डायबिटीज में काफी फायदेमंद माना जाता गया है।

अखरोट
निरंतर अखरोट के सेवन से धमनियों के ब्लॉकेज को ठीक किया जा सकता है। अध्ययन बताते हैं प्रतिदिन मुट्ठी भर अखरोट आपके शरीर को मिनरल्स, एंटीऑक्सिडंट, विटामिन्स और प्रोटीन्स प्रदान करते हैं जो ब्रैस्ट कैंसर, कोलोन कैंसर और प्रोस्टेट कैंसर से बचाव करता है।

बादाम
विटामिन ई, मैग्नीशियम और कैल्शियम से भरपूर बादाम हमेशा से ही लोगों के लिए पसंदीदा ड्राई फ्रूट रहा है। इसका निरंतर सेवन करने से रक्तचाप कम करने और हड्डियों को मजबूत करने में मदत मिलती है। अमेरिका में हुए एक अध्ययन के मुताबिक रोजाना 42 ग्राम बादाम का सेवन करने से बैड कॉलेस्ट्रोल कम होता है, जिससे हृदयरोग और उच्च रक्तचाप नियंत्रित होता है।

किशमिश
किशमिश खाने से शरीर को ऊर्जा मिलती है। यह कैल्शियम का एक अच्छा स्रोत है। इसके सेवन से हड्डियां मजबूत होती हैं। किशमिश में फाइबर होता है जो कब्ज जैसी समस्याओं को शरीर से दूर रखता है। इसके अलावा किशमिश खाने से गुर्दे की पथरी, एनीमिया, दांतों में कैविटी आदि रोग नहीं होते। इसमें ग्लूकोस और फ्रक्टोज़ पाया जाता है, जिससे शरीर को ऊर्जा मिलती है और वजन भी बढ़ता है।

शनिवार, 15 जुलाई 2017

अगर याददाश्त को रखना है चुस्त दुरूस्त तो अपनाएं ये घरेलू नुस्खें

अगर याददाश्त को रखना है चुस्त दुरूस्त तो अपनाएं ये घरेलू नुस्खें


मनुष्य का दिमाग ही उसे इस धरती पर दूसरे जीव जंतुओं से अलग बनाता है। मनुष्य के दिमाग से तेज़ कुछ नहीं जिस मनुष्य के पास जितना तेज़ दिमाग है वो उतनी ही तरक्की करता है। अगर हम हेल्दी और एक्टिव रहना चाहते हैं तो सबसे पहले अपने ब्रेन को एक्टिव रखना होगा। आज के जमाने में अगर आपके पास ख़ूबसूरती के साथ एक अच्छा दिमाग है तो समझिए सोने पर सुहागा है।

अपने दिमाग को स्वस्थ रखने के लिए सही खान-पान, एक्सरसाइज, पूरी नींद, शांत चित रहना तो जरुरी है ही पर कुछ घरेलू नुस्खों की मदद से हम अपने मस्तिष्क को एक्टिव और याददाश्त को बढ़ा भी सकते हैं।
  • थोड़े से अशोक के पेड की छाल और ब्रह्मी के चूर्ण को बराबर मात्रा में लेकर एक चम्मच सुबह और शाम थोड़े से दूध के साथ रोज लेने से मस्तिष्क तेज होता है।
  • शहद (Honey) के साथ लगभग एक चौथाई ग्राम चांदी (Silver) की भस्म सुबह-शाम खाने से हमारे मस्तिष्क का विकास अच्छे से होता है और स्मरण शक्ति भी बढ़ती है।
  • एक गिलास में थोड़ी सी मिश्री और 2 छुहारे डालकर अच्छे से धीमी आंच पर उबालकर रोज पीने से बुध्दि तेज़ होती है।
  • कालीमिर्च और मिश्री की बराबर मात्रा को रोज एक गिलास दूध के साथ पीने से भी मस्तिष्क तेज होता है।
  • थोड़े से पपीते के गूदे को मिक्सर में डालकर बारीक़ पीस लें। इस मिक्सचर को एक गिलास दूध के साथ उबालें और कम से कम तीन चार बार उफान आनें दे, फिर इसे नीचे उतारकर एक चम्मच देशी घी और स्वादानुसार चीनी मिलाएं। ठंडा होने के बाद जब यह पीने लायक हो जाए तब इसको पीएं। इसका सेवन कम से कम 15 दिन से 40 दिन तक करने से स्मरण शक्ति काफी अधिक बढ़ जाएगी। प्रातःकाल खाली पेट इस दूध को पीने से काफी लाभ होगा। इस दूध को पीने के बाद दो घंटे तक कुछ न खाएं।
  • मछली के तेल में पाया जाने वाला ओमेगा-3 दिमाग के लिए काफी अच्छा माना जाता है। इसलिए आप अपने भोजन में मछली का सेवन कर सकते हैं अगर आप मछली का सेवन नहीं करते हैं तो आजकल बाजार में मछली के तेल के कैप्सूल भी आसानी से मिलते हैं। रोज आप इन कैप्सूल का प्रयोग कर अपनी याददाश्त बढ़ा सकते हैं।
  • दही में पाया जाने वाला एमिनो एसिड आपको तनाव से दूर रखता है जिसकी वजह से हमारा मस्तिष्क improve होता है। इसलिए रोज अपने खाने में दही को शामिल कर दिमाग को तेज बना सकते हैं।
  • कुछ बादाम लेकर उसे पानी में एक दिन के लिए भिगो दें। अगले दिन इन बादाम के छिलके उतार कर अच्छे से पीस लें और इसमें कुछ पीसी हुई काली मिर्च मिला लें और रोज इसका सेवन करें।
  • दो अखरोट, चार बादाम और चार पांच मुनक्का को बारीक़ पीस कर रोज एक गिलास दुध में मिलाकर पीने से याददाश्त बहुत तेज हो जाती है।
  • आंवला के मुरब्बे को गाय के दुध के साथ सुबह खाली पेट लेने से दिमाग तेज होता है।
  • थोड़े से आम के रस और अदरक के रस को दूध में मिलाकर पीने से याददाश्त बढ़ती है।

शुक्रवार, 21 अप्रैल 2017

राजमा खाए और इन बीमारियों को तुरंत दूर भगाए

राजमा खाए और इन बीमारियों को तुरंत दूर भगाए


राजमा एक ऐसी पसंदीदा सब्जी है जो सिर्फ हमारे देश में ही नहीं बल्कि विदेशों में खूब चाव से खाई जाती है. ज्यादातर राजमा सादे उबले हुए चावल या प्लॉव के साथ पसंद किया जाता है. राजमा चावल का कॉम्बिनेशन बहुत फायदेमंद होता है.  राजमा वाकई में बहुत टेस्टी डिश है.

राजमा की सबसे बड़ी खासियत ये है कि अगर इसे बनाते वक्त आपके पास कोई विशेष प्रकार का मसाला या बटर नहीं भी है तब भी इसका टेस्ट बहुत लाजवाब बनता है इन्हें किडनी बीन्स के नाम से भी जाना जाता है. जिस तरह भारत में राजमा बहुत पसंद किया जाता है उसी तरह मैक्सिकन फूड में भी ये प्रमुख रूप से इस्तेमाल किया जाता है.

राजमा में भारी मात्रा में आयरन, मैग्नीशियम और फायबर मौजूद होता है. राजमा में इतनी कैलोरी होती है कि इसे किसी भी उम्र का व्यक्ति खा सकता है जिससे फायदा होता है. जो लोग एक हेल्दी तरीके से वजन कम करना चाहते हैं वो लंच में राजमा का सूप या सलाद के रूप में सेवन कर सकते हैं,  इसके अलावा राजमा में इतनी क्षमता होती है कि ये हमारे शरीर में तेजी से मेटाबॉलिज्म और ऊर्जा बढ़ाने का काम भी करता है. राजमा शरीर में ऑक्सीजन के सर्कुलेशन को भी बढ़ाता है.

राजमा के फायदे 

कब्ज़ की बिमारी:
राजमा उनलोगों  के लिए बहुत फायदेमंद है  लोगों को पाचन या कब्ज की बीमारी है, उन लोगों के लिए राजमा का सेवन करना बहुत अच्छा है,  बस राजमा को बनाते वक्त उसे सही से पकाना ना भूलें अन्यथा यह आपके लिए हानकारक हो सकता हैं और पेट दर्द का कारण बन सकता है, राजमा खाने से पाचन क्रिया अच्छी होती है जिसके कारण यह कब्ज़ की शिकायत को खत्म करता है.

मस्तिष्क के लिए:
राजमा में विटामिन ‘बी’ भी पर्याप्त मात्रा में होता है इसके अलावा यह जो मस्तिष्क की कोशिकाओं के लिए बहुत जरूरी है यह मस्तिष्क के स्वस्थ्य के लिए बेहतरीन माना जाता हैं इसके आलावा सर दर्द में भी फायदेमंद होता हैं, इससे मस्तिष्क की कोशिकाए सक्रीय रहती हैं.

शुगर लेवल को कंट्रोल करे:
अगर आप डायबिटीज से पीड़ित हैबं तो आपको राजमा का सेवन करना चाहिए इससे आपके ब्लड में शुगर की मात्रा सामान्य रहेगी राजमा में मौजूद प्रोटीन और फाइबर ब्लड शुगर लेवल को कंट्रोल करते हैं.

नर्वस सिस्टम में फायदेमंद:
अगर आपको नर्वस सिस्टम से रिलेटेड कोई  बिमारी हैं तो यह उसमे काफी फायदेमंद होता हैं राजमा में विटामिन ‘के’ पाया जाता है. जो नर्वस सिस्टम को बूस्ट करने का काम करता है और आपकी साड़ी परेशानियों को खत्म करता हैं.

दिल से जुड़ी बीमारियों:
राजमा दिल से जुड़ी बीमारियों से लड़ने में भी सहायक होता है अगर आप अपना दिल स्वस्थ रखना चाहते हैं तो आपको राजमा का सेवन करना चाहिए इसमें पाए जाने वाले विटामिन और ओमेगा फैटी एसिड आपके दिल के लिए बेहतरीन माने जाते है.

गंदगी बाहर निकलती है:
राजमा खाने से शरीर के अंदर मौजूद गंदगी बाहर निकलती है यह हमारे शरीर को डेटोक्स करता हैं और साड़ी गन्दगी को बहार कर आपको बीमारियों से बचाता है कि इसमें मॉलिबडेनम पाया जाता है जिसका काम बॉडी को डिटॉक्सीफाई करना है.

डायबीटिज:
जसिया के हम पहले बता चुके है की यह आपकी सेहत के लिए तो फायदेमंद है ही साथ में यह डायबिटीज  के मरीजों के ​लिए भी राजमा का सेवन काफी मददगार है.