नशा लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
नशा लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

सोमवार, 30 अक्तूबर 2017

जामुन के पत्तों का सेवन कर लिया तो कई बीमारियाँ हो जाएगीं रफूचक्कर

जामुन के पत्तों का सेवन कर लिया तो कई बीमारियाँ हो जाएगीं रफूचक्कर


जामुन का फल तो आपने जरूर खाया होगा लेकिन इतना भी तय है कि जामुन के पत्तों का कभी भी सेवन नही किया होगा । इस लेख में हम आपको बता रहे हैं कि किस प्रकार जामुन के पेड़ के पत्ते हमारे स्वास्थय के लिये अनमोल सिद्ध हो सकते हैं यदि उनको उचित प्रकार से सेवन किया जाये । चलिये जानते हैं एक बहुत ही अच्छी जानकारी के बारे में ।

1. यदि किसी को बवासीर की बीमारी हो तो जामुन के पत्तो को पीसकर गाय के ताजा दूध के साथ मिलाकर पीने से बवासीर की समस्या दूर हो जाती है।
2. जामुन के पत्तो का उपयोग हमारी पाचन क्रिया को ठीक करने के लिए भी किया जाता है।

3. यदि किसी को दाँतो या मसूड़ों से सम्बंधित कोई समस्या हो तो इसके लिए जामुन के पत्तों को सूखाकर जला लें फिर इसकी राख को मंजन के रूप में दाँतों और मसूड़ों पर हल्के हाथों से मालिश करें इससे दाँत और मसूड़े मजबूत हो जाएगें।
4. यदि किसी व्यक्ति को अफीम का नशा हो गया हो और उतर नहीं रहा हो तो उस व्यक्ति को जामुन के पत्तो का रस पानी में मिला कर पिलाने से नशा जल्दी ही उतर जाता है।

5. जामुन के पत्तो को यदि चबा-चबाकर खाया जाए तो इससे मुँह की दुर्गन्ध दूर हो जाती है।

सोमवार, 1 मई 2017

इन आर्युवैदिक नुस्खों से मिलेगी धूम्रपान छोड़ने में मदद, शेयर करें

इन आर्युवैदिक नुस्खों से मिलेगी धूम्रपान छोड़ने में मदद, शेयर करें


सिगरेट की डिब्‍बी या सिनेमा हॉल में आने वाले विज्ञापन, 'सिगरेट आपके फेफड़ों में टार को जमा देता है' को देखकर आपके मन में आता होगा कि मैं इसे हमेशा के लिए 'छोड़ दूंगा'। लेकिन क्‍या सच में आप ऐसा कर पाते हैं? यहां तक कि आप कितनी बार सिगरेट छोड़ने इरादा कर चुके होगें। लेकिन, शायद ये बातें कुछ दिनों में गायब भी हो जाती हैं।

आयुर्वेदिक तरीके से धूम्रपान छुड़ाएं

धूम्रपान एक ऐसी जानवेला आदत है जिससे छुटकारा पाना ना केवल मुश्किल है बल्कि इस आदत को छोड़ना हर किसी के बस में नहीं। भले ही इसे छोड़ना बहुत ही मुश्किल है लेकिन नामुमकिन नहीं। जी हां आयुर्वेदिक उपायों की मदद से आप धूम्रपान की आदत को न केवल छोड़ सकते हैं बल्कि इसका असर आपको केवल 5 मिनट में असर दिखना शुरू हो जाएगा।

अदरक
अदरक के छोटे-छोटे टुकड़े करके उसमें थोड़ा सा काला नमक और थोड़ा सा ही नींबू मिलाकर धूप में सूखा लें। जब यह सूख जाये तो इसे अपनी जेब में रख लें। जब भी सिगरेट की तलब लगे तो थोड़ी सी मात्रा में मुंह में रख लें। अदरक में मौजूद सल्‍फर सिगरेट या किसी भी नशीले पदार्थ की तलब को दूर करता है। और आपको इस उपाय को करने के बाद 5 मिनट में ही असर दिखने लगेगा।

आंवला
अदरक की तरह आंवला भी धूम्रपान की तलब को दूर करने में मदद करता है। इसके लिए आंवले के टुकड़ों में नमक मिलाकर सूखा लें। धूम्रपान की इच्‍छा होने पर इन टुकड़ों को चूसें। इसमें मौजूद विटामिन सी निकोटीन लेने की इच्‍छा कम करता है।

लाल मिर्च
लाल मिर्च में कैप्साइसिन के अलावा विटामिन सी भी मौजूद होता है, जो श्‍वसन प्रणाली को मजबूत और धूम्रपान की लालसा को कम करती है। इस मसाले को अपने खाने में प्रयोग करने के साथ ही आप इसका इस्‍तेमाल 1 गिलास पानी में चुटकी भर मिलाकर भी कर सकते हैं। इससे आपको तुरंत राहत मिलती है और यह उपाय लंबे समय तक काम करता है।


शहद
धूम्रपान ही नहीं किसी भी तरह के नशे को दूर करने के लिए शहद बेहद ही उपयोगी औषधि है। शहद में विटामिन, एंजाइम और प्रोटीन भरपूर मात्रा में होते हैं जो धूम्रपान की तलब को छुड़वाने में मदद करते हैं। हमेशा शुद्ध शहद का प्रयोग करें क्‍योंकि इसका अच्‍छा प्रभाव पड़ता है।

मुलेठी
अपनी शर्ट की जेब में सिगरेट की जगह मुलेठी रखें। जब भी धूम्रपान का मन करें तो आप मुलेठी को अच्‍छे से चबा लें, आपकी धूम्रपान की इच्‍छा कम हो जाएगी। और इससे आपका पेट भी ठीक रहेगा।

तो देर किस बात की, अगर आप भी धूम्रपान छोड़ना चाहते हैं तो आज ही अपनाएं इनमें से किसी भी एक आयुर्वेदिक तरीके को और फिर देखें असर!

शनिवार, 3 दिसंबर 2016

इन 5 तरीको के नशे से सिर्फ आपको भगवान ही बचा सकते है

इन 5 तरीको के नशे से सिर्फ आपको भगवान ही बचा सकते है


1. हेरोइन

हेरोइन को सबसे ज्यादा लत वाला नशा बताया जाता है। आपको बता दें की हेरोइन की खुराक जैसे ही हमारे शरीर में जाती है हमारे मस्तिष्क में डोपामाइन (हार्मोन) का स्तर 200% तक पहुंच जाता है। हेरोइन का नशा इतना खतरनाक है कि अगर ज़्यादा मात्रा में नशा कर लें तो जान भी जा सकती है।

2. शराब

शराब का नशा दुनिया का दूसरा सबसे ज्यादा लत वाला नशा है। शराब से मस्तिष्क का डोपामाइन स्तर 40% से 360% तक बढ़ जाता है जो हमारे दिमाग और शरीर दोनो के लिए बेहद नुकसानदेह है।

3. कोकेन

कोकेन का नशा दुनिया का तीसरा सबसे ज्यादा लत वाला नशा है। एक प्रयोग में ये भी पाया गया की कोकेन डोपामाइन के स्तर को करीब 3 गुना से ज्यादा बढ़ा देता है। कोकेन का सेवन करने वाले लोग इसके इतने आदि हो जाते हैं कि उनका जीवन इसी पर निर्भर रह जाता है। कोकेन की लत से छुटकारा पाना बहुत मुश्किल हो जाता है। दुनिया भर में अनुमानित करीब 1 करोड़ से 2 करोड़ लोग कोकीन का सेवन करते हैं।

4. बार्बीचुरेट्स

बार्बीचुरेट्स को नींद की गोली, ब्लू बुलेट्स, गोरिल्लाज, नेंबीज, बार्ब्स या पिंक लेडीज के नाम से भी जाना जाता है। वैसे कई बार इसका इस्तेमाल दुख दूर करने और नींद दिलाने के लिए मेडिकल इलाज के तौर पर भी किया जाता है।बार्बीचुरेट्स के नशे की लत हमारे मस्तिष्क पर बहुत बुरा प्रभाव डालती है और इसके ज्यादा सेवन से जान भी जा सकती है !

5. निकोटिन

निकोटिन जो तंबाकू और सिगरेट में पाया जाता है इसका सेवन काफी मात्रा में किया जाता है। निकोटिन के नशे की लत से बहुत से लोग प्रभावित हैं, निकोटिन हमारे फेफड़े और मस्तिष्क पर बहुत बुरा प्रभाव डालते हैं। दुनिया भर में अनुमानित करीब 100 करोड़ लोग निकोटिन का सेवन करते हैं। निकोटिन के सेवन से मस्तिष्क का डोपामाइन स्तर 25% से 40% तक बढ़ जाता है।