क्‍वेरी जैतून के तेल की प्रासंगिकता द्वारा क्रमित पोस्‍ट दिखाए जा रहे हैं. तारीख द्वारा क्रमित करें सभी पोस्‍ट दिखाएं
क्‍वेरी जैतून के तेल की प्रासंगिकता द्वारा क्रमित पोस्‍ट दिखाए जा रहे हैं. तारीख द्वारा क्रमित करें सभी पोस्‍ट दिखाएं

शनिवार, 20 अगस्त 2016

बालों के लिए जैतून का तेल

बालों के लिए जैतून का तेल

जैतून का तेल और इसके लाभ – सूखे बाल 

जैतून के तेल के नमी प्रदान करने वाले गुण ना सिर्फ आपकी सुंदरता बढ़ाते हैं बल्कि यही गुण सूखे बालों को भी एक अलग चमक देते हैं। बालों का सूखापन एवं उससे जुडी अन्य समस्याएं जैसे कमज़ोर एवं टूटे बाल भी जैतून के तेल का प्रयोग करने के फलस्वरूप पूरी तरह ठीक हो जाते हैं। सूखे बालों को पोषण देने के लिए जैतून के तेल को गर्म करें और इससे अपने बालों को गर्म तेल की मसाज दें। पर ध्यान रखें कि जैतून के तेल को ज़्यादा गर्म करने से यह अपने फायदे खो देता है।

ऑलिव ऑयल बालों के लिए – हेयर मास्क 1 

सामग्री 

5 चम्मच जैतून का तेल
1 चम्मच शहद

बनाने की विधि 

एक पात्र में 5 चम्मच जैतून का तेल और 1 चम्मच शहद डालें पर इसे सीधे गर्म न करें बल्कि इस पात्र को एक अन्य पात्र में रखें जिसमें पानी भरा हो और वह उबल रहा हो। इस मिश्रण को अपने सिर पर लगाएं और 1 से 2 मिनट तक सिर की मालिश करें। अब इसे 30 मिनट तक छोड़ दें और फिर एक सौम्य शैम्पू और सादे पानी की मदद से इसे धो लें।

ऑलिव ऑयल बालों के लिए – हेयर मास्क 2 

सामग्री 

3 चम्मच जैतून का तेल
1 अंडे का पीला भाग
आधा चम्मच शहद

बनाने की विधि 

एक पात्र में अंडे के पीले भाग.शहद एवं जैतून के तेल को डालें और अच्छे से मिला लें। इस मिश्रण को अपने सिर,बालों के सिरे एवं जड़ों तक लगाएं। इसे 20 मिनट तक छोड़ दें और फिर अपने अपने शैम्पू की सहायता से इसे अच्छे से धो लें। यह हेयर मास्क के उपयोग बालों का सूखापन हटाने में सहायता करता है और खराब बालों को ठीक भी करता है। यह आपके बालों में चमक लाकर उसे नरम मुलायम बनाता है।
घुंघराले एवं काफी उलझे बालों को ठीक करने एवं उनकी खूबसूरती बढ़ाने के लिए जैतून का तेल सबसे बेहतरीन उत्पाद है। अपने बालों को कंघी करने से पहले बालों में थोड़ा सा जैतून का तेल लगाएं। यह बालों को झट से सुलझाने में आपकी काफी मदद करता है और आपके बेजान बालों में चमक भी भरता है। ध्यान रखें कि बालों में ज़्यादा तेल ना लगाएं क्योंकि इससे बाल ज़्यादा तैलीय और चिपचिपे हो जाते हैं।

जैतून का तेल बनाएं त्वचा को सुंदर 

स्वास्थ्य और सौंदर्य के लिए लाभदायक है जैतून का तेल

काफी मात्रा में सूखी त्वचा को ठीक करने के लिए जैतून के तेल के उपयोग से अच्छा माध्यम कोई नहीं है। ऑलिव ऑयल त्वचा को अंदर से नमी प्रदान करता है और उसे सुन्दर और मुलायम बनाता है।
1. जैतून का तेल चेहरे के लिए, बराबर मात्रा में जैतून के तेल और शुद्ध पानी को लें,इन्हें एक जार में भरें और ढक्कन से इसका मुंह बंद कर लें। अब इसे अच्छे से मिलाने के लिए इस जार को अच्छे से हिलाएं। इस मिश्रण को अपने चेहरे पर लगाएं और 10 से 15 मिनट के बाद चेहरे को गुनगुने पानी से धो लें।
2. जैतून का तेल चेहरे के लिए, जैतून के तेल और नाशपाती का प्रयोग करके एक महीन पेस्ट बनाएं और इसे अपने चेहरे पर लगाएं। इसे 20 मिनट तक रहने दें और फिर पानी से धोकर चेहरे को तरोताज़ा बनाएं।
3. २ चम्मच जैतून के तेल को 1 अंडे के पीले भाग एवं आधे चम्मच शहद के साथ डालें। इन सारे पदार्थों को अच्छे से मिलाकर इनका एक महीन मिश्रण बनाएं। अब इस मिश्रण लगाएं और 15 से 20 मिनट तक रहने दें। इस मिश्रण को गुनगुने पानी से धो लें और फिर अच्छे से पोंछ लें। यह मास्क चेहरे के सांवलेपन को कम करने में काफी असरदार है और यह त्वचा के प्राकृतिक टोन को बनाए रखता है।

शुक्रवार, 2 दिसंबर 2016

कई समस्याओं का समाधान जैतून का तेल, शेयर करें

कई समस्याओं का समाधान जैतून का तेल, शेयर करें


जैतून का तेल जिसे हम ऑलिव ऑयल भी कहते है। यह तेल हमारे शरीर को कई रोगों से राहत दिलवाता है। जैतून का तेल हमारी सुंदरता बढ़ाने के साथ-साथ हमें ओर भी कई समस्याओं जैसे बालों और त्वचा सम्बन्धी समस्याओं से राहत दिलवाता है। जैतून के तेल का प्रयोग खाना पकाने में, सौंदर्य सामग्री और दवाओं में तेल के रूप में प्रयोग किया जाता है। आइये जाने इसके फायदे।

1.जैतून के तेल से सिर पर मालिश करने से बाल मुलायम हो जाते है। बालों की समस्याओं से छुटकारा पाया जा सकता है।
2.जैतून के तेल से चेहरे पर मसाज करने से चेहरे में चमक और झुर्रियों से भी राहत मिलती है।
3.जैतून के तेल का प्रयोग हम शरीर पर मालिश करने के लिए भी करते है ,यें त्वचा को कोमल बनाएं रखने में मदद करता है।
4.जैतून के तेल का प्रयोग पैरों के लिए भी लाभकारी होता है,पैरों को कोमल बनाएं रखने में मदद करता है।
5.जैतून के तेल से आंखों के आसपास मसाज करने से आंखों के काले घेरों से छुटकारा मिलता है।
6.जैतून के तेल का प्रयोग भोजन में करने से हड्डियां मजबूत बनती है।
7.जैतून के तेल का सेवन करने से हृदय संबधी रोगों से निजात मिलती है।
8.जैतून के तेल का सेवन करने से कब्ज से राहत मिलती है।
9.जैतून के तेल और चीनी का प्रयोग करके हम चेहरे पर स्क्रब भी कर सकते है।
10.जैतून के तेल का प्रयोग हम फेसपैक में भी कर सकते है।
11.जैतून का तेल त्वचा के अंदर गहराई से जा कर त्वचा को पोषण प्रदान करता है।
12.जैतून के तेल का प्रयोग खाना पकाने में,सौंदर्य सामग्री और दवाओं में तेल के रूप में किया जाता है।

रविवार, 28 अगस्त 2016

टूटते बालों के लिए १४ प्रमाणित केश उपचार

टूटते बालों के लिए १४ प्रमाणित केश उपचार

नए हेयर स्टाइलिंग उत्पादों और विधियों के आगमन के साथ ही, लोग हर दिन अपने बालों का अपमान कर रहे हैं | यह हेयर जेल हो, या बालों को घुंघराले या सीधा बनाने के लिए गर्म लोहे का प्रयोग हो, या हेयर क्रीम या हेयर वेक्स हो ,  लोग कुछ घंटे के लिए अद्भुत लगने हेतु इस प्रकार के उत्पादों का प्रयोग करते हैं , लेकिन वे जान नहीं पाते है कि, इस प्रकार के हेयर स्टाइलिंग उत्पादों और मशीनों का नियमित प्रयोग कुछ नहीं करता हैं लेकिन भविष्य में बालों को बहुत क्षति पहुँचाता है |

बाल टूटना आरम्भ हो जाते हैं | अपना जीवन चक्र पूरा करने से पूर्व ही ये बिखरने लगते है, क्योंकि विभिन्न केश उत्पादों के प्रयोग से इनकी जड़ें बेहद कमजोर हो जाती हैं | अल्प भोजन और इसी प्रकार तनाव भी बालों के टूटने का एक कारण हो सकते हैं |

कई प्रकार के उपचारात्मक उपाय है जो बालों की टूटन को रोकने में सहायक हो सकते है | उनमे से कुछ निचे सूचीबद्ध है :-
१.संतुलित भोजन :
असंतुलित आहार भी टूटते बालों का एक मुख्य कारण होता है | स्वस्थ बालों के लिए, हमें प्रोटीन से भरपूर भोजन की जरुरत होती हैं |  इसलिए आपको प्रोटीन से भरपूर भोजन खाना चाहीए | अगर आप अपने टूटते बालों को रोकना चाहते हैं तो अंडा, चिकेन, अंकुरित एवं फल जैसे खाद्य पदार्थ आपके भोजन का हीस्सा होने चाहीए |

सुद्ध पेय जैसे पानी, ताजा फलों का रस, सुप इत्यादि का सेवन कर, अपने शरीर को हाइड्रेट (तरल से भरपूर ) रखने का प्रयास भी करें | आपके शरीर का हाइड्रेट रहना, आपको बालों के हाइड्रेशन को सुनिश्चित करेगा, और इस तरह बालों के टूटने का मौका काफी काम हो जाता हैं |

२.हेयर स्टाइलिंग उत्पादों और मशीनों के प्रयोग से बचें :
 
अपने बालों पर हेयर स्टाइलिंग उत्पादों के प्रयोग से बचना ही उचित हैं | लगातार हेयर जैल या गर्म लोहे का प्रयोग आपके बालों की संरचना को तहस–नहस कर देता हैं |  अगर आप टूटते बालों को रोकना चाहता हैं, तो अपने बालों को प्राकृतिक बनाये रखना ही बेहतर है |

हेयर स्ट्रेटनर (बालों को सीधा करने वाला) और ब्लो ड्रायर (हवा फेंककर सुखाने वाला ) इत्यादि, जैसे हेयर स्टायलिंग मशीन आपके बालों की प्राकृतिक नमी (मोइस्चर) को सूखा कर कमजोर, सूखा और निर्जीव बना देते हैं | इसलिए बालों की टूटन से बचने के लिए ऐसे हेयर स्टाइलिंग उत्पादों से दूर रहना ही बेहतर हैं |

३.अपने बालों की नियमित छटाई करें :

बालों की नियमित छटाई, दो मुंहे बालो से बचने के लिए बहुत महत्वपूर्ण है | कम से कम दो माह में  एक बार अपने बालों को अवश्य कांटें, यह न सिर्फ टूटते बालों की समस्या को कम करने में सहायक होगा, अपितु  यह बालों को बढ़ने में भी सक्षम बनाएगा | छटाई बालों के सिरों के बिखराव का भी ख्याल रखता है, जो बालों की बनावट को खराब कर देते हैं | इस तरह बालों को बेहतर स्थिति में रखने के लिए नियमित छटाई आवश्यक है |

४.नारियल तेल :

नारियल तेल को, आपके बालों की सभी समस्याओं के समाधान के रूप में जाना जाता है | एक कटोरी  में नारियल का तेल लें, और गुनगुना होने तक उसे गर्म करें | अब इसे अपनी पूरी खोपड़ी पर लगाए और रक्त संचार को बढ़ाने के लिए घूर्णन गति में अच्छी तरह मालिश करें | इसे रात भर रखें, और सुबह में अपने नियमित शैम्पू के प्रयोग से धो लें |

५.जैतून का तेल :

जैतून का तेल विटामिन ई और ए से भरपूर होता हैं , और इसमें मौजूद एंटी–ऑक्सीडेंट भी बालों को मजबूत और स्वस्थ बनने में सहायक होता हैं | जैतून तेल को बालों के लिए एक प्राकृतिक नमी प्रदाता के रूप में जाना जाता है | जैतून के तेल का नियमित मालिश बालों की टूटन को रोकता है, और इसे नमीयुक्त बनाए रखता हैं |

६.अरंडी का तेल :

अरंडी का तेल वसायुक्त अम्ल (Fatty Acid) का एक अच्छा स्रोत है, जिसका प्रयोग आपके बालों को नमी देने  के लिए किया जाता हैं | बालों का टूटना तभी प्रारम्भ होता हैं, जब बालों में नमी की कमी होती हैं | आपके बालों को जरुरी नमी प्रदान  करने के लिए अरंडी का तेल एक बेहतरीन माध्यम हैं |
तेल को अपनी  पूरी खोपड़ी और बालों पर लगाएं, यह सुनिश्चित करें की बालों की जड़ों में तेल पहुंचे |  अपने अंगुलियों की मदद से ५–१० मिनट तक अपने मस्तिष्क की मालिश करें |  रात भर तेल को बालों में ही छोड़ दें, और सुबह में इसे धो लें | अरंडी के तेल का नियमित प्रयोग आपके बालों को मजबूत और स्वास्थ्य बनाता हैं |

७.बादाम का तेल :

बादाम के तेल में आवश्यक वसायुक्त अम्ल, विटामिन्स, और मैग्नीशियम होता हैं, ये सभी तत्व मिलकर बालों को मजबूत बनाते हैं और बालों की टूटन से बचाव में सहायता करते हैं | हल्के गर्म बादाम के तेल को अपनी अँगुलियों की मदद से घूर्णन गति में अपने खोपड़ी पर मालिश करें |  तेल को रात भर बालों में ही रहने  दें और सुबह में अपने नियमित शैम्पू की मदद से धो लें |

८.आर्गन का तेल :

आर्गन के तेल को ‘तरल सोना‘ का नाम दिया गया है, क्योंकि इसमें ऐसे आश्चर्यजनक गुण मौजूद हैं जो बालों को मजबूत और स्वस्थ बनाने के लिए बेहद जरुरी है | यह तेल ओलिक और लिनोलेइक जैसे वसायुक्त अम्ल से भरपूर होता हैं, जो बालों को स्वस्थ और मजबूत बनाये रखने में मदद करते हैं, इसलिए यह बालों की टूटन को कम करता हैं |

पर्याप्त मात्रा में आर्गन के तेल को बालों की जड़ों से लेकर अंतिम छोर तक लगाएं | तेल को मस्तिष्क पर अच्छे से मालिश करें, इससे यह बालों में स्थिर हो जाये | एक हल्का तौलिया अपने मस्तिष्क पर लपेट लें | रात भर इसे छोड़ दें, और सुबह अपने नियमित शैम्पू से इसे धो लें | बेहतर परिणाम के लिए इस प्रक्रिया को सप्ताह में दो बार करें |

९.अरंडी का तेल और जैतून का तेल :

अरंडी का तेल और जैतून तेल दोनों में कई आवश्यक तत्व पाए जाते हैं, जो बालों की टूटन को रोकने में मदद करते हैं | बराबर मात्रा में अरंडी का तेल और जैतून तेल दोनों को मिश्रित करें, और इसे गुनगुना करें |इस तेल को अपनी खोपड़ी और बालों पर अच्छे से लगाएं | आराम से ५–१० मिनट तक अपने मस्तिष्क की मालिश करें, और इसे रात भर रखें और सुबह में धो लें | यह आपके बालों को मजबूत, स्वस्थ, और लंबा बनाने में सहायता करेगा |

१०.नारियल तेल और करी पत्ता का हेयर पैक :

नारियल तेल में आवश्यक वसायुक्त अम्ल होता है, जो क्षतिग्रस्त बालों की मरम्मत करता है, जबकि करी पत्ता में एमिनो अम्ल और एंटी–ऑक्सीडेंट होता हैं, जो बालो के स्वस्थ विकास को सक्षम करता है| एक मुट्ठी कुरी पत्ता लें और उसे नारियल तेल के साथ उबालें | तब तक उबालें जब तक पत्तियां काली न पड़ जाएं, यह बताता है की करी पत्ता के सभी तत्व में नारियल तेल में घुल गए हैं | जरुरत के अनुसार परिणाम पाने के लिए, इस तेल का अपनी खोपड़ी पर नियमित प्रयोग करें |

११.अंडा लेप (पैक) :

बालों को स्वस्थ विकास के लिए प्रोटीन चाहीए,  अंडे से बेहतर प्रोटीन का स्रोत और क्या हो सकता हैं |अंडे की जर्दी प्रोटीन से भरपूर होती है, जो बालों में नमी प्रदान करने का कार्य करता हैं और अंडे की सफेदी में अच्छे जीवाणु होते हैं, जो खोपड़ी की त्वचा को साफ करते हैं | आप दो अंडो को अच्छी तरह से फेंटक अपने बालों में लगा सकती हैं | इसे कम से कम दो घंटे तक रखें और फिर किसी अच्छे शैम्पू की मदद से अच्छी तरह से धो लें, जिससे गंध दूर हो जाये |

१२.अंडा और मेयोनेज़ हेयर लेप (पैक) :

अंडा और मेयोनेज दोनों प्रोटीन के अच्छे माध्यम हैं, जिसकी जरुरत लंबे और मजबूत बालों के लिए होती है |दो अंडा लें, और उसे अच्छी तरह फेंट लें | अब इसमें मेयोनेज मिला दें और तब तक इसे फेंटते रहें, जब तक तक अंडा और मेयोनेज अच्छी तरह मिश्रित न हो जाएं | इस मिश्रण को अपनी खोपड़ी पर बराबर से लगाएं और कम से कम एक घंटे तक इसे रखें और फिर इसे पानी और शैम्पू की मदद से धो लें |

१३.शहद और जैतून के तेल के साथ अंडे का हेयर पैक :

शहद में बालों को मुलायम रखने के गुण होते है, इसे एक प्राकृतिक मृदुकर (मुलायम करने वाला) माना जाता है | इसके अलावे शहद में एंटी–ऑक्सीडेंट भी होते हैं जो कि, आपके बालों को मजबूत और वृद्धि में भी सहायक होता है | एक कटोरी में दो अंडा, दो चम्मच शहद और दो चम्मच जैतून का तेल लें | इन सभी तत्वों को अच्छी तरह फेंट लें, जब तक पूर्णतः मिश्रित न हो जाये | इस मिश्रण को जड़ से लेकर अंतिम छोर तक लगाएं | इसे कम से कम एक घंटे तक सूखने के लिए छोड़ दें, और अपने बालों को नियमित शैम्पू से धो लें |

१४.अंडा और एवोकाडो हेयर पैक :

एवोकाडो आवश्यक विटामिन्स, खनिज, और वसायुक्त अम्ल का अच्छा स्रोत हैं, जिसकी क्षतिग्रस्त बालों की मरम्मत में जरुरत होती हैं | एक पक्का हुआ एवोकाडो लें, इसे अच्छे से धुन लें, अब इसमें एक अंडा डालें और अच्छे से मिलाएं जब तक की अंडा और अवोकेडो दोनों अच्छी तरह मिश्रित न हो जाएँ | इस मिश्रण को अपनी खोपड़ी पर लगाएं, और इसे कम से कम आधे घंटे तक छोड़ दें |

अपने नियमित शैम्पू के प्रयोग से इसे धो लें | बालों की मरम्मत के लिए इस लेप का कम से कम सप्ताह में एक बार नियमित तौर पर इस्तेमाल करें | बालों का टूटना एक ऐसी गंभीर समस्या है, जो आज लगभग हर व्यक्ति को झेलना पड़ रहा है | इसलिए बालों की टूटन के खिलाफ लड़ने और मजबूत, स्वस्थ और लंबे बाल पाने के लिए इन १४ प्रमाणित केश उपचारों को आजमाएं | 

रविवार, 11 दिसंबर 2016

रातोरात अपनी त्वचा को कसने और निखार लाने के लिए घर के बने 10 सर्वश्रेष्ठ फेस मास्क जो 100% प्राकृतिक है

रातोरात अपनी त्वचा को कसने और निखार लाने के लिए घर के बने 10 सर्वश्रेष्ठ फेस मास्क जो 100% प्राकृतिक है

हो सकता है की आप अपनी त्वचा पे उम्र के निशाँ से तंग आ चुकी होंगी  झुर्रियां, दाग, धब्बे, आदि आपको काफी हीन महसूस कराते होंगे.आप अचानक से अपना आत्म विश्वास खोने लगती है, और अपनी त्वचा पे दाग, धब्बे देखते ही बहुत ज़्यादा सचेत हो जाती हैं  क्या इनका उपचार करने का कोई तरीका है ? जी हाँ ज़रूर, इनका उपचार संभव है लेकिन तभी जब आप इनका उपचार शुरूआती चरणों में ही करना शुरू कर दे.त्वचा को कसना एक तरीका है, जो की आपको कई प्रकार के त्वचा से जूड़े दोष को दूर करने में मदद करती है, वह भी लगभग हमेशा के लिए  बाजार में ऐसे कई सारे लेज़र उपचार, इंजेक्शन और दवाइयां हैं जो त्वचा को कसने का दावा करते हैं I लेकिन आपके खर्च करे हुए पैसो के लिए, घर पे बने हुए प्राकृतिक उपचार सबसे ज़्यादा अच्छे और असरदार हैं I आपको सुन्दर दिखना है, और यह प्रक्रिया जल्दी भी होनी चाहिए I अगर में आपको यह बोलू की यहाँ में जो १० मास्क के बारे में बताने जा रहा हूँ वह रातो रात आपकी त्वचा को कसने में मदद करेंगे, तो क्या आप मेरा भरोसा करेंगे ? शायद नहीं, तो भरोसा करने के लिए इन मास्क का प्रयोग कर के देखे.!!!

1. अंडे के सफ़ेद भाग का मास्क : अगर कोई एक ऐसी सामग्री है, जिसका त्वचा को कसने के लिए विशेष तौर पे नाम लिया जाए, तो वह है अंडा I त्वचा के उपचार,उनके रंग को हल्का, आदि करने के लिए अलग अलग मास्क अंडे को अलग अलग रूप में इस्तेमाल करते हैं I इस मास्क में आप, अंडे के सफ़ेद भाग का इस्तेमाल करेंगे I बस अंडे के सफ़ेद भाग को अंडे की जर्दी से अलग कर ले और इसे अपने चेहरे पे लगाए I इसे तकरीबन 20 से 25 मिनट तक ऐसे ही रहने दे और फिर गुनगुने पानी से धो ले I

2. अंडे का सफ़ेद भाग, मुल्तानी मिट्टी और शहद : इस मास्क में बेहद प्रभावकारी अंडे के सफ़ेद भाग के साथ मुल्तानी मिट्टी और शहद का उपयोग होता है I मुल्तानी मिट्टी एक सौंदर्य सामग्री है जिसका की कई सदियो से इस्तेमाल होता चला आया है I सहाहद नमी प्रदान करने वाला तत्व है, जो त्वचा में नमी को वापस लाता है, जिसके कारण त्वचा एक रंग की और मुलायम हो जाती है I अगर आपकी त्वचा ज़्यादा सूखी है तो आप इस मास्क में ग्लिसरीन भी मिला सकते हैं I सामान्य त्वचा की नमी के लिए शहद काफी है I बस अंडे के सफ़ेद भाग के साथ थोड़ी सी मुल्तानी मिट्टी और शहद को मिला ले I अगर ज़रुरत हो तो फिर ग्लिसरीन भी मिला ले I इस मास्क को चेहरे पे लगा के 15 से 20 मिनट के लिए छोड़ दे I यह मास्क रक्त परिसंचरण को बेहतर करता है और धुप से झुलसी हुई त्वचा को हल्का करता है I

3. अंडे का सफ़ेद भाग, चीनी और दही : वचा से तेल और गन्दगी को हटाने के लिए चीनी का विभिन्न मास्क और फेस पैक में स्क्रबिंग तत्व की तरह बहुत इस्तेमाल होता है I दही हमेशा की तरह बहुत अच्छा साथी होता है जिसमे ऐसे पोषक तत्व होते है, जो की इस पूरी प्रक्रिया को पोषित और उत्प्रेरित करते हैं I इस पैक को बनाने के लिए अंडे के सफ़ेद भाग के साथ चीनी और दही को डाल के अच्छे से मिला ले I इस मिश्रण को अपने चेहरे पे लगा के कुछ देर के लिए सूखने दे I जब यह सूख जाए तब इसे गुनगुने पानी से धो ले I बेहतर और जल्दी परिणाम पाने के लिए इसे धोने से पहले, थोड़ी देर परिपत्र विधि से चेहरे की मालिश करे।

4. पत्ता गोभी, तेल और चावल का आटा : पत्ता गोभी अधिकांश आपककी रसोई में पायी जा सकती है I इनका इस्तेमाल आपकी त्वचा को सुन्दर और स्वस्थ बनाने के लिए किया जा सकता है I इसके साथ आपको थोड़ा तेल और चावल के आते की भी ज़रुरत पड़ेगी I आप इसके लिए बादाम का तेल, जैतून का तेल या फिर कोई भी जो आपकी त्वचा के लिए ठीक हो, उसका इस्तेमाल कर सकते हैं I ज़्यादातर त्वचा के लिए बादाम और जैतून के तेल में से चयन करना अच्छा रहता है। पत्ता गोभी को पीसने के बाद उसमे से रस निकाल लेI इसमें चावल का आटा और अपनी पसंद का तेल डाल के अच्छे से मिला ले I अगर आपकी त्वचा ज़्यादा तेलीय है तो आप बादाम या जैतून के तेल का इस्तेमाल न करे I ऐसी स्थिति में आप, इस मिश्रण में अंडे का सफ़ेद भाग भी मिला सकते हैं I इस मिश्रण को अपने चेहरे पे सामान रूप से लगा ले और कुछ देर के बाद धो ले।

5. पत्ता गोभी, शहद, तेल और दही : पत्ता गोभी एक आश्चर्यचकित करने वाला तत्व है, लेकिन झुर्रियों के खिलाफ यह बहुत ही ज़्यादा असरदार है I यह त्वचा को कसने के लिए भी बहुत ही अच्छा है I इस घर के बने हुए पैक की अन्य सामग्रियां है शहद, दही और बादाम या जैतून का तेल। 2 से 3 पत्ता गोभी को पीस कर इसका मिश्रण बना ले। एक डब्बे में डाल के इसे शहद और दही के साथ मिलाये। सूखी त्वचा के लिए इसमें तेल मिलाये, और अगर आपकी त्वचा तेलीय है तो तेल ना मिलाये। लगाने के बाद इसे काम से काम 15 से 20 मिनट के लिए छोड़ दे। अपने चेहरे को अच्छे से धोने के लिए गुनगुने पानी का इस्तेमाल करे।

6. पपीते का मास्क : पपीते में कई सारे एंजाइम होते है जो की त्वचा के बुढापे से लड़ने में वैज्ञानिक रूप से सिद्ध हो चुके हैं I साथ ही यह झुरझुरी त्वचा का मुकाबला करने में मदद कर के, त्वचा को कसने का कार्य प्रारम्भ करते हैं I समय के साथ बेहतरीन परिणाम पाने के लिए पपीते के रस या मसले हुए पपीते को सीधे अपने चेहरे पे लगा सकता हैं I लेकिन अगर आप रातो रात परिणाम चाहते है तो आपको इसके साथ कुछ और सामग्रियां मिलनी पड़ेंगी। पपीते को और ज़्यादा फायदेमंद करने के लिए इसके साथ चावल का आटा और शहद को मिला सकते हैं I छीले हुए पपीते को मसल के एक मिश्रण बना ले, इसमें आधा कप चावल का आटा और 2 चम्मच शहद डाल के अच्छे से मिला ले I इस मिश्रण को अपने चेहरे पे अच्छी मात्रा में लगा ले और 20 से 25 मिनट के बाद ठन्डे पानी से धो ले।

7. केले और शहद का मास्क : पपीते की तरह केले में भी बहुत सारे गुण होते हैं I यह फल सिर्फ स्वस्थ ही नहीं बल्कि त्वचा के लिए भी बहुत ही अच्छा है I कई सौंदर्य ब्रांड केले को मुख्य सामग्री बता के अपने उत्पादों का प्रचार करते हैं I इस फेस पैक को बनाने के लिए आपको सिर्फ केला, शहद और जैतून का तेल चाहिए I केले को थोड़ी सी स्थिरता के साथ एक मिश्रण की तरह मसल ले I इसमे एक छोटी चम्मच जैतून का तेल और एक बड़ी चम्मच शहद डाल के अच्छे से मिला ले I

8. केला और गुलाब जल : आप गुलाब जल की सहायता से भी केले का मास्क बना सकते हैं I छीले हुए केले के साथ इस मास्क को बनाने के लिए आपको गुलाब जल की आवश्यकता होगी I गुलाब जल एक बहुत ही अच्छा तरल पदार्थ है जो की आपकी त्वचा को गहराई से साफ़ करता है I इसकी विधि बहुत ही आसान है, मसले हुए केले में कुछ बुँदे गुलाब जल की डाल के अपने चेहरे पे लगा ले I 20 मिनट के बाद अपना चेहरे धो लेI

9. निम्बू का मास्क : निम्बू एक प्राकृतिक विरंजक तत्व है, जो की चेहरे की त्वचा के लिए बहुत ही कमाल का काम करता है I निम्बू के मास्क को आँखों के निचे काले घेरो पे न लगाए , क्योंकि निम्बू का रस संवेदनशील त्वचा के लिए सही नहीं होता है I कोमल या प्रतिक्रियाशील त्वचा वाले लोगो को निम्बू का पहले अपनी कोहनी पे परिक्षण कर लेना चाहिए ताकि बाद में त्वचा में कोई दिक्कत न आये। जो लोग निम्बू का इस्तेमाल कर सकते है उनके लिए यह एक बेहतरीन सामग्री है I आप निम्बू के रस को सीधे अपने चेहरे पे लगा सकते हैं या फिर इसे थोड़े शहद और तेल (सूखी त्वचा के लिए ) के साथ मिला सकते हैं, एक पूरा मास्क बनाने के लिए। 2 से 3 बार इस्तेमाल करने के बाद ही आपको अंतर नजर आने लगेगा।

10. एलो वेरा मास्क : जब हम घर पे बने मास्क की बात कर रहे हैं तो एलो वेरा कैसे छूट सकता है, छूट सकता है क्या ? एलो वेरा वैसे तो आमतौर पे घर पे पायी जाने वाली सामग्री नहीं है, लेकिन जलने या झुलसी हुई त्वचा पे इसके फायदों को देखते हुए यह अधिकांश घरो में आजकल पायी जाती है I आप अपनी सुविधानुसार एलो वेरा के पत्तो से मिलने वाले मिश्रण या फिर एलो वेरा जेल का इस्तेमाल कर सकते हैं I इस मिश्रण को बनाने के लिए पर्याप्त मात्रा में एलो वेरा के रस या जेल को ले लो, और उसमे कुछ बुँदे शहद की मिला लो I इसे अच्छी मात्रा में अपने चेहरे पे लगाए और 20 से 25 मिनट के बाद ठन्डे पानी से धो ले।

अगर आप अपनी त्वचा के विकास के लिए कुछ प्रभावकारी उपायो को देख रहे थे, तो ऊपर दिए गए यह 10 तरीके आपको रातो रात परिणाम देंगे I यह 100 प्रतिशत प्राकृतिक और सुरक्षित हैं I यह सब आपके घर पे आसानी से मिल सकता है और आपको उन महंगे उपचारो पे बहुत सारे पैसे भी खर्च नहीं करने पड़ेंगे।

मंगलवार, 27 दिसंबर 2016

स्ट्रेच मार्क्‍स को हटाने के घरेलु उपाय, जानिये कैसे

स्ट्रेच मार्क्‍स को हटाने के घरेलु उपाय, जानिये कैसे


उम्र बढऩे के साथ हमारी त्वचा पर स्ट्रेच के मार्क्‍स आ जाते हैं। त्वचा की तीन मुख्य परत होती है, एपीडर्मिस, डर्मिस और हाइपोडर्मिस। स्ट्रेच मार्क्‍स  मुख्यत: त्वचा की मिडल परत डर्मिस पर होता है, ऐसा इसलिए होता है क्योंकि त्वचा की इस परत में उतनी लचक नहीं होती है, जिस कारण त्वचा पर दबाव पड़ता है और त्वचा में स्ट्रेच मार्क्‍स हो जाते हैं। ये स्ट्रेच मार्क्‍स युवावस्था के दौरान और प्रेगनेंसी के दौरान होते हैं। इन स्ट्रेच मार्क्‍स को दूर करने के लिए या फिर कम करने के लिए आप कुछ घरेलू और प्राकृतिक उपाय अपना सकती हैं।
स्ट्रेच मार्क्‍स से छुटकारा पाने के लिए कैस्टर ऑइल भी बेहद कारगर माना जाता है। इसके लिए प्रभावित हिस्से पर कैस्टर ऑइल लगा कर इस हिस्से को प्लास्टिक बैग से लपेट लें। अब हॉट वॉटर बॉटल से करीब आधा घंटे सिकाई करें और हल्का रगड़ें।

जैतून का तेल

जैतून के तेल में प्राकृतिक रूप से एंटीऑक्सीडेंट की मात्रा ज्यादा होती है जो कि त्वचा की बहुत-सी समस्याओं का निदान कर सकती है।
क्या करें : गुनगुने शुद्ध जैतून के तेल को स्ट्रेच मार्क्स पर लगाएं और हल्की मालिश करें। इससे ब्लड सर्कुलेशन सही होता है और स्ट्रेच मार्क्‍स  हल्के होते हैं। जैतून के तेल को आधा घंटा या उससे ज्यादा देर के लिए त्वचा पर लगा रहने दें। इससे त्वचा तेल में मौजूद विटामिन ए, डी और ई को अच्छे से सोख लेती है।

नींबू का रस

स्ट्रेच मार्क्‍स को दूर करने का एक तरीका है नींबू का उपयोग। नींबू में प्राकृतिक तौर पर एसिड पाया जाता है जो कि स्ट्रेच मार्क्‍स  को कम करने, एक्ने को खत्म करने आदि स्किन प्रॉब्लम्स में लाभकारी होता है।
क्या करें : सर्कुलर मोशन में ताजे कटे नींबू के रस को स्ट्रेच माक्र्स  पर लगाइए। नींबू के रस को कम से कम दस मिनट तक लगा रहने दें, उसके बाद उसे पानी से धोएं। इसके अलावा खीरे के रस और नींबू के रस की बराबर मात्रा को लें और स्ट्रेच मार्क्‍स  पर लगाएं।

आलू का जूस

आलू में ढेर सारे विटामिन्स और मिनरल्स पाए जाते हैं जो त्वचा की ग्रोथ को बढ़ाते हैं और उसका फिर से नवीनीकरण करते हैं।
क्या करें : मध्यम आकार के आलू को थोड़ा मोटा काट लें। उसके बाद आलू के टुकड़े को स्ट्रेच मार्क्‍स  पर लगाएं। कुछ मिनटों बाद उस जगह को गुनगुने पानी से धो लें।

शक्कर

व्हाइट शुगर स्ट्रेच मार्क्‍स को दूर करने के लिए सबसे अच्छा माना जाता है। आप शुगर का इस्तेमाल करती हैं तो यह मृत त्वचा को हटाने का काम करता है।
क्या करें : बादाम तेल के साथ एक चम्मच शक्कर मिलाएं और उसमें कुछ बूंद नींबू के रस की डाल कर अच्छे से मिला लें। मिश्रण को स्ट्रेच मार्क्‍स वाले हिस्सों पर लगाएं। नहाने से दस मिनट पहले रोजाना इसे लगाएं और हल्का सा रगड़ें। एक महीने लगातार ऐसा करने पर आप पाएंगी कि आपके स्टे्रच मार्क्‍स हल्के पडऩे लगे हैं।

एलोवेरा

त्वचा की विभिन्न समस्याओं में एलोवेरा बहुत लाभकारी है। इसमें पाए जाने वाले तत्व हल्की जलन और स्ट्रेच मार्क्‍स को भी दूर करने में कारगर हैं।
क्या करें : आप चाहें तो डायरेक्ट एलोवेरा के जूस को स्ट्रेच मार्क्‍स पर लगा सकती हैं और कुछ मिनट के बाद गुनगुने पानी से उसे धो सकती हैं। दूसरा तरीका यह है कि आप एक-चौथाई कप एलोवेरा का जूस लें और विाटामिन ई का तेल (दस कैप्सूल) लें और विटामिन ए का तेल (पांच कैप्सूल) को एक साथ मिक्स करें। इस मिश्रण को त्वचा पर हल्के हाथों से लगाएं (या रगड़ें)। ऐसा रोजाना करें। कुछ दिनों में फर्क दिखने लगेगा।

रविवार, 14 अगस्त 2016

रातोरात अपनी त्वचा को कसने के लिए घर के बने १० सर्वश्रेष्ठ मास्क

रातोरात अपनी त्वचा को कसने के लिए घर के बने १० सर्वश्रेष्ठ मास्क

हो सकता है की आप अपनी त्वचा पे उम्र के निशाँ से तंग आ चुकी होंगी  झुर्रियां, दाग, धब्बे, आदि आपको काफी हीन महसूस कराते होंगे.आप अचानक से अपना आत्म विश्वास खोने लगती है, और अपनी त्वचा पे दाग, धब्बे देखते ही बहुत ज़्यादा सचेत हो जाती हैं  क्या इनका उपचार करने का कोई तरीका है ? जी हाँ ज़रूर, इनका उपचार संभव है लेकिन तभी जब आप इनका उपचार शुरूआती चरणों में ही करना शुरू कर दे.त्वचा को कसना एक तरीका है, जो की आपको कई प्रकार के त्वचा से जूड़े दोष को दूर करने में मदद करती है, वह भी लगभग हमेशा के लिए
बाजार में ऐसे कई सारे लेज़र उपचार, इंजेक्शन और दवाइयां हैं जो त्वचा को कसने का दावा करते हैं I लेकिन आपके खर्च करे हुए पैसो के लिए, घर पे बने हुए प्राकृतिक उपचार सबसे ज़्यादा अच्छे और असरदार हैं I आपको सुन्दर दिखना है, और यह प्रक्रिया जल्दी भी होनी चाहिए I अगर में आपको यह बोलू की यहाँ में जो १० मास्क के बारे में बताने जा रहा हूँ वह रातो रात आपकी त्वचा को कसने में मदद करेंगे, तो क्या आप मेरा भरोसा करेंगे ? शायद नहीं, तो भरोसा करने के लिए इन मास्क का प्रयोग कर के देखे !

१. अंडे के सफ़ेद भाग का मास्क :
अगर कोई एक ऐसी सामग्री है, जिसका त्वचा को कसने के लिए विशेष तौर पे नाम लिया जाए, तो वह है अंडा I त्वचा के उपचार,उनके रंग को हल्का, आदि करने के लिए अलग अलग मास्क अंडे को अलग अलग रूप में इस्तेमाल करते हैं I इस मास्क में आप, अंडे के सफ़ेद भाग का इस्तेमाल करेंगे I बस अंडे के सफ़ेद भाग को अंडे की जर्दी से अलग कर ले और इसे अपने चेहरे पे लगाए I इसे तकरीबन २० से २५ मिनट तक ऐसे ही रहने दे और फिर गुनगुने पानी से धो ले I

२. अंडे का सफ़ेद भाग, मुल्तानी मिट्टी और शहद :
इस मास्क में बेहद प्रभावकारी अंडे के सफ़ेद भाग के साथ मुल्तानी मिट्टी और शहद का उपयोग होता है I मुल्तानी मिट्टी एक सौंदर्य सामग्री है जिसका की कई सदियो से इस्तेमाल होता चला आया है I सहाहद नमी प्रदान करने वाला तत्व है, जो त्वचा में नमी को वापस लाता है, जिसके कारण त्वचा एक रंग की और मुलायम हो जाती है I

अगर आपकी त्वचा ज़्यादा सूखी है तो आप इस मास्क में ग्लिसरीन भी मिला सकते हैं I सामान्य त्वचा की नमी के लिए शहद काफी है I बस अंडे के सफ़ेद भाग के साथ थोड़ी सी मुल्तानी मिट्टी और शहद को मिला ले I अगर ज़रुरत हो तो फिर ग्लिसरीन भी मिला ले I इस मास्क को चेहरे पे लगा के १५ से २० मिनट के लिए छोड़ दे I यह मास्क रक्त परिसंचरण को बेहतर करता है और धुप से झुलसी हुई त्वचा को हल्का करता है I

३. अंडे का सफ़ेद भाग, चीनी और दही :
वचा से तेल और गन्दगी को हटाने के लिए चीनी का विभिन्न मास्क और फेस पैक में स्क्रबिंग तत्व की तरह बहुत इस्तेमाल होता है I दही हमेशा की तरह बहुत अच्छा साथी होता है जिसमे ऐसे पोषक तत्व होते है, जो की इस पूरी प्रक्रिया को पोषित और उत्प्रेरित करते हैं I

इस पैक को बनाने के लिए अंडे के सफ़ेद भाग के साथ चीनी और दही को डाल के अच्छे से मिला ले I इस मिश्रण को अपने चेहरे पे लगा के कुछ देर के लिए सूखने दे I जब यह सूख जाए तब इसे गुनगुने पानी से धो ले I बेहतर और जल्दी परिणाम पाने के लिए इसे धोने से पहले, थोड़ी देर परिपत्र विधि से चेहरे की मालिश करे I

४. पत्ता गोभी, तेल और चावल का आटा :
पत्ता गोभी अधिकांश आपककी रसोई में पायी जा सकती है I इनका इस्तेमाल आपकी त्वचा को सुन्दर और स्वस्थ बनाने के लिए किया जा सकता है I इसके साथ आपको थोड़ा तेल और चावल के आते की भी ज़रुरत पड़ेगी I आप इसके लिए बादाम का तेल, जैतून का तेल या फिर कोई भी जो आपकी त्वचा के लिए ठीक हो, उसका इस्तेमाल कर सकते हैं I ज़्यादातर त्वचा के लिए बादाम और जैतून के तेल में से चयन करना अच्छा रहता है I

पत्ता गोभी को पीसने के बाद उसमे से रस निकाल ले I इसमें चावल का आटा और अपनी पसंद का तेल डाल के अच्छे से मिला ले I अगर आपकी त्वचा ज़्यादा तेलीय है तो आप बादाम या जैतून के तेल का इस्तेमाल न करे I ऐसी स्थिति में आप, इस मिश्रण में अंडे का सफ़ेद भाग भी मिला सकते हैं I इस मिश्रण को अपने चेहरे पे सामान रूप से लगा ले और कुछ देर के बाद धो ले I

५. पत्ता गोभी, शहद, तेल और दही :
पत्ता गोभी एक आश्चर्यचकित करने वाला तत्व है, लेकिन झुर्रियों के खिलाफ यह बहुत ही ज़्यादा असरदार है I यह त्वचा को कसने के लिए भी बहुत ही अच्छा है I इस घर के बने हुए पैक की अन्य सामग्रियां है शहद, दही और बादाम या जैतून का तेल I
२ से ३ पत्ता गोभी को पीस कर इसका मिश्रण बना ले I
एक डब्बे में डाल के इसे शहद और दही के साथ मिलाये I
सूखी त्वचा के लिए इसमें तेल मिलाये, और अगर आपकी त्वचा तेलीय है तो तेल ना मिलाये I
लगाने के बाद इसे काम से काम १५ से २० मिनट के लिए छोड़ दे I
अपने चेहरे को अच्छे से धोने के लिए गुनगुने पानी का इस्तेमाल करे I

६. पपीते का मास्क :
पपीते में कई सारे एंजाइम होते है जो की त्वचा के बुढापे से लड़ने में वैज्ञानिक रूप से सिद्ध हो चुके हैं I साथ ही यह झुरझुरी त्वचा का मुकाबला करने में मदद कर के, त्वचा को कसने का कार्य प्रारम्भ करते हैं I समय के साथ बेहतरीन परिणाम पाने के लिए पपीते के रस या मसले हुए पपीते को सीधे अपने चेहरे पे लगा सकता हैं I लेकिन अगर आप रातो रात परिणाम चाहते है तो आपको इसके साथ कुछ और सामग्रियां मिलनी पड़ेंगी I

पपीते को और ज़्यादा फायदेमंद करने के लिए इसके साथ चावल का आटा और शहद को मिला सकते हैं I छीले हुए पपीते को मसल के एक मिश्रण बना ले, इसमें आधा कप चावल का आटा और २ चम्मच शहद डाल के अच्छे से मिला ले I इस मिश्रण को अपने चेहरे पे अच्छी मात्रा में लगा ले और २० से २५ मिनट के बाद ठन्डे पानी से धो ले I

७. केले और शहद का मास्क :
पपीते की तरह केले में भी बहुत सारे गुण होते हैं I यह फल सिर्फ स्वस्थ ही नहीं बल्कि त्वचा के लिए भी बहुत ही अच्छा है I कई सौंदर्य ब्रांड केले को मुख्य सामग्री बता के अपने उत्पादों का प्रचार करते हैं I इस फेस पैक को बनाने के लिए आपको सिर्फ केला, शहद और जैतून का तेल चाहिए I केले को थोड़ी सी स्थिरता के साथ एक मिश्रण की तरह मसल ले I इसमे एक छोटी चम्मच जैतून का तेल और एक बड़ी चम्मच शहद डाल के अच्छे से मिला ले I

८. केला और गुलाब जल :
आप गुलाब जल की सहायता से भी केले का मास्क बना सकते हैं I छीले हुए केले के साथ इस मास्क को बनाने के लिए आपको गुलाब जल की आवश्यकता होगी I गुलाब जल एक बहुत ही अच्छा तरल पदार्थ है जो की आपकी त्वचा को गहराई से साफ़ करता है I इसकी विधि बहुत ही आसान है, मसले हुए केले में कुछ बुँदे गुलाब जल की डाल के अपने चेहरे पे लगा ले I २० मिनट के बाद अपना चेहरे धो ले I

९. निम्बू का मास्क :
निम्बू एक प्राकृतिक विरंजक तत्व है, जो की चेहरे की त्वचा के लिए बहुत ही कमाल का काम करता है I निम्बू के मास्क को आँखों के निचे काले घेरो पे न लगाए , क्योंकि निम्बू का रस संवेदनशील त्वचा के लिए सही नहीं होता है I कोमल या प्रतिक्रियाशील त्वचा वाले लोगो को निम्बू का पहले अपनी कोहनी पे परिक्षण कर लेना चाहिए ताकि बाद में त्वचा में कोई दिक्कत न आये I

जो लोग निम्बू का इस्तेमाल कर सकते है उनके लिए यह एक बेहतरीन सामग्री है I आप निम्बू के रस को सीधे अपने चेहरे पे लगा सकते हैं या फिर इसे थोड़े शहद और तेल (सूखी त्वचा के लिए ) के साथ मिला सकते हैं, एक पूरा मास्क बनाने के लिए I २ से ३ बार इस्तेमाल करने के बाद ही आपको अंतर नजर आने लगेगा I

१०. एलो वेरा मास्क :
जब हम घर पे बने मास्क की बात कर रहे हैं तो एलो वेरा कैसे छूट सकता है, छूट सकता है क्या ? एलो वेरा वैसे तो आमतौर पे घर पे पायी जाने वाली सामग्री नहीं है, लेकिन जलने या झुलसी हुई त्वचा पे इसके फायदों को देखते हुए यह अधिकांश घरो में आजकल पायी जाती है I आप अपनी सुविधानुसार एलो वेरा के पत्तो से मिलने वाले मिश्रण या फिर एलो वेरा जेल का इस्तेमाल कर सकते हैं I

इस मिश्रण को बनाने के लिए पर्याप्त मात्रा में एलो वेरा के रस या जेल को ले लो, और उसमे कुछ बुँदे शहद की मिला लो I इसे अच्छी मात्रा में अपने चेहरे पे लगाए और २० से २५ मिनट के बाद ठन्डे पानी से धो ले I
अगर आप अपनी त्वचा के विकास के लिए कुछ प्रभावकारी उपायो को देख रहे थे, तो ऊपर दिए गए यह १० तरीके आपको रातो रात परिणाम देंगे I यह १०० प्रतिशत प्राकृतिक और सुरक्षित हैं I यह सब आपके घर पे आसानी से मिल सकता है और आपको उन महंगे उपचारो पे बहुत सारे पैसे भी खर्च नहीं करने पड़ेंगे I

मंगलवार, 13 दिसंबर 2016

तेल मालिश से लाभ और घरेलू उपचार

तेल मालिश से लाभ और घरेलू उपचार


आज हम यहाँ पर आप को तेल और मालिश से होने वाले लाभ के बारे में विस्तार से बतायेंगे | तेल मालिश करना एक आयुर्वेदिक प्रक्रिया है मालिस से हमारे पूरे शरीर में खून का दौरा बढ़ जाता है और पाचन शक्ति तेज हो जाती है, पेट साफ हो जाता है तथा आंते, दिल, फेफड़े और यकृत आदि शक्तिवान हो जाते है | इसके अलावा मालिक से शरीर के मृत कोष शरीर से बाहर निकल जाते हे, और उनके स्थान पर नए कोष आज आते है जिसे पूरा शरीर नई शक्ति से भर उठता है |

नियमित रुप से प्रतिदिन तेल की मालिश करने से कम वजन वाले व्यक्ति के शरीर का वजन बढ़ जाता है और बुढ़ापा दूर भागने लगता है| बहुत से पुराने रोग जैसे कि अपच, वायु पित्त विकार, बवासीर, अनिद्रा, पुराना मलेरिया, उच्च रक्तचाप आदि रोगोँ मेँ मालिस से काफी फायदा होता है |

जो व्यक्ति शारीरिक रुप से दुर्बल है और वजन स्वाभाविक रुप से कम है, उनको तेल मालिश की करने से बहुत लाभ होता है | उनका शरीर जल्दी-जल्दी तेल सोखने मेँ सक्षम होता है | थोड़े ही दिनोँ के बाद ऐसे लोगोँ का वजन बढ़ने लगता है| बच्चो व बूढों को भी तेल मालिश से बहुत लाभ होता है | सर्दी के दिनोँ मेँ प्रतिदिन धूप मेँ बैठकर तेल मालिश करने से हमारे शरीर को विटामिन डी प्राप्त होता है |

गर्भवती स्त्रियोँ को प्रतिदिन कुछ समय धूप मेँ बैठकर तेल की मालिश करनी चाहिए जिससे उनके शरीर से बच्चो की हड्डी को मजबूत करने के लिए काल्सियम की कमी पूर्ण हो जाती है | किंतु गर्भवती को पेट पर मालिश नहीँ करनी चाहिए क्योंकि ऐसा करने से पेट मेँ पल रहे शिशु को चोट पहुंचने का खतरा होता है |

तेल मालिश करने का तरीका

स्नान के पहले तेल को हाथ से शरीर मेँ 2-4 चपाटे लगाकर स्नानघर मे चले जाना ही ठीक नहीँ  है | तेल मालिश का ठीक तरीका यह है कि हर रोज एक घंटे के लिए तेल मालिश एवम साथ-साथ व्यायाम करना चाहिए|

जिन व्यक्तियोँ को इतना समय नहीँ मिल पाता है उनको यह चाहिए कि जो भी प्रात काल समय मिले तो वे इस काम को करेँ| तेल मालिश के लिए कुछ समय तो अवश्य चाहिए तभी तो तेल हमारे शरीर मेँ पूर्णतया अब्जार्ब हो पायेगा|

तेल मालिश का हमारा उद्देश्य यहाँ रहना चाहिए की शरीर मेँ तेल अच्छी तरह हे रम जाये और शरीर तेल को पूरी तरह से सोख ले | इसलिए मालिश करते समय मुख्य रुप से घर्षण या रगड़ द्वारा ही यह क्रिया की जाती है | मालिस में साधारणतया सरसो, नारियल, तिल, तथा जैतून के तेल प्रयोग मेँ लाया जाता है | जो व्यक्ति शारीरिक तौर पर दुर्बल हों उनको पहले २-३ माह जैतून के तेल से मालिश करनी चाहिए इसे बहुत लाभ होता है |  यह शरीर मेँ आसानी से सोख जाता है | सरसो का तेल सभी अवस्थाओं मेँ प्रयोग मेँ लाया जा सकता है किंतु यदि आप स्नायु से संबंधित रोग से ग्रस्त हो या जिनका स्वभाव हमेशा चिडचिडा रहता हो उनको नारियल का तेल प्रयोग करना चाहिए |

जो लोग कफ़ प्रधान है उनको नारियल के तेल का उपयोग करना उचित नहीँ है | जिनके शरीर मेँ रोग प्रतिरोधक क्षमता कम है अगर वे नारियल के तेल का उपयोग करते हें तो दो-तीन दिन मेँ ही उन लोगोँ को सर्दी लगने लगेगी और उनका गला बैठ जाएगा | एसे व्यक्तियोँ को सरसो का तेल हल्का गर्म करके धूप मेँ बैठकर मालिश करना चाहिए| तेल मालिस के बाद लगभग 15 मिनट खुली हवा मेँ टहलना चाहिए इससे कुछ समय मेँ तेल शरीर मेँ सोख जाता है और चमड़ी शुस्ख हो जाती है|

तेल मालिश से निवृत्त होकर हमेशा साबुन लगा कर नहाना चाहिए| ऐसा देखा गया है की बहुत से व्यक्ति इस कारण साबुन नहीँ लगाते कि साबुन लगाने से तेल का असर ख़त्म हो जाएगा | लेकिन इस प्रकार सोचना गलत है, क्यूंकि मालिस के बाद तेल शरीर मेँ शोषित हो जाता है और वह बाहर नहीँ आता |

मोटापा घटाने के लिए मालिश करना काफी उपयोगी है यदि आपका पेट और तोंद भर गई है तो आप मालिस करने के बाद उठक-बैठक अवश्य करेँ |

मसाज से बढाएं सेक्स पावर
मालिश करने से लोगों की सेक्स पावर भी काफी बढ़ जाते है | यह स्त्री और पुरुष दोनों के लिए लाभकारी होता है | ऐसा इसलिए होता है क्योंकि मालिस करने से पूरे शरीर के रक्त संचार सुचारू रूप से होने लगता और यह ही सेक्स पावर बढ़ाने में अधिक सहयोगी होता है |

तेल मालिश से दमकाएँ चेहरा
मालिश करने से शरीर त्वचा के सभी बंद रोम क्षिद्र खुलने लागतें है | इसके साथ ही त्वचा में रक्त का संचार सुचारू रूप से होने लगता है | जिसके कारण मालिस प्रतिदिन मालिस करने से आपका चेहरा चमकने लगता है |

शनिवार, 17 सितंबर 2016

इन घरेलू उपायों से आप भी पा सकते हैं लम्‍बी और घनी पलकें

इन घरेलू उपायों से आप भी पा सकते हैं लम्‍बी और घनी पलकें


आंखें, चेहरे का सबसे सुंदर हिस्‍सा होती है। बड़ी – बड़ी आंखें देखने में खूबसूरत लगती है इसीलिए आजकल आंखों का मेकअप सबसे ज्‍यादा ट्रेंड में है। घनी पलकें और भौं, आंखों की सुंदरता में चार चांद लगा देते है। लेकिन कई लोगों की ऊपरी और निचली पलकें बहुत हल्‍की होती है जिससे आंखों में कोरापन लगता है।

आंखों को सुंदर दिखाने के लिए पलकों को घना करना जरूरी है। आप चाहें तो लेटेस्‍ट मेकअप से भी इन्‍हे घना और सुंदर बना सकती है या कुछ बातों को ध्‍यान रखकर इन्‍हे अच्‍छा दिखा सकती है। कई बार पलकों को घना करने के लिए महिलाएं कई तरीके के प्रोडक्‍ट इस्‍तेमाल करती है, ऐसा कतई न करें। आप नेचुरल सामग्री का ही इस्‍तेमाल करें या किसी ब्रांडेड कॉस्‍मेटिक को यूज करने इन्‍हे आर्टिफिशियल तरीके से सुंदर बना लें। यहां पलकों को घना करने के कुछ उपाय बताएं जा रहे हैं :
पेट्रोलियम जैली

पेट्रोलियम जैली जैसे वैसलीन को अपनी पलकों पर अप्‍लाई करने से आपकी पलकें और तेज़ी से बढ़ने लगेंगी। इस घरेलू नुस्‍खे से आपकी पलकें थिकर और स्‍ट्रॉन्‍ग भी हो ज़ाएंगी।
ट्रिम करें पलकें

आपको हर तीन महीने में अपनी पलकें ट्रिम करनी चाहिए, लेकिन इसके सिर्फ़ एक छोटे से पार्ट को ही ट्रिम करें। पलकें ट्रिम करने से ये और तेज़ी से बढ़ने लगेंगी।
जैतून का तेल

जैतून का तेल पलकों को विकसित करने के लिए काफी पुराना नुस्‍खा है। सोने से पहले अपनी पलकों के आसपास एक रुई की मदद से जैतून का तेल लगा लें। पूरी रात जैतून के तेल में मौजूद आवश्यक विटामिन पलकों मे समा जाएंगे।
रगड़ना बंद करें

अगर आपकी पलकें कम घनी है तो उन्‍हे कतई न रगड़ें, इससे वह टूटती है। पलकों को रगड़ना बंद कर दीजिए, इससे वह टूटेगी नहीं और घनी हो जाएगी। इस तरीके से आपको किसी भी ब्‍यूटी टिप्‍स को अपनाने की जरूरत नहीं पड़ेगी।
विटामिन ई

पलकों को लंबा और घना बनाने के तरीके, विटामिन ई बालों को पोषण देने के लिए प्रसिद्ध रूप से जाना जाता है| यह वास्तव में पलको को स्वास्थ्य और शक्तिशाली बना देगा। यह बालों को पूरी तरह से खींचने मे मदद करेगा। तो सीधे अपनी पलको पर विटामिन ई के तेल की एक छोटी राशि लगाने की कोशिश करे। पलको के विकास के लिए इस उपाय का अभ्यास करते रहे।

आप विटामिन ई को विटामिन ई कैप्सूल से भी पा सकता है| या विटामिन ई युक्त लोशन का इस्तेमाल भी कर सकते हैं|
नींबू के छिलके

आपको यह जानकार आश्चर्य होगा कि नींबू के छिलकों से भी पलकें घनी और लम्बी होती हैं। एक छोटा पात्र लें और इसमें एक चम्मच सुखाए और मसले गए नींबू के छिलके डालें। अब इस पात्र में जैतून का तेल मिश्रित करें, जिससे कि ये छिलकों को सोख ले। अब कुछ समय तक प्रतीक्षा करें। अब नींबू के इन छिलकों का प्रयोग अपनी पलकों पर करें। इसे रातभर रहने दें और सुबह धो लें।
कैस्टर ऑइल

कैस्टर के तेल के गुणों के बारे में आपने सुना ही होगा। यह आपके बालों की बढ़त में भी काफी मदद करता है। इसके प्रयोग से आपकी पलकें घनी और लम्बी होती हैं। एक रुई के कपड़े की मदद से इस तेल को अपनी पलकों पर लगाएं। हो सके तो इसके साथ विटामिन इ के तेल का प्रयोग भी करें। इसे रातभर के लिए छोड़ दें।
एलोवेरा

एलो वेरा काफी आसानी से पाई जाने वाली जड़ीबूटी है, जिसे आप रसोई के बगीचे में भी उगा सकते हैं। इसकी मदद से आप घनी पलकें भी प्राप्त कर सकती हैं। इसके लिए पत्तों से निकालकर 1 चम्मच एलो वेरा जेल लें और इसे जोजोबा के तेल के साथ मिश्रित करें। इन्हें अच्छे से मिश्रित करें और अपनी पलकों पर लगाएं। इसका प्रयोग ठीक उसी तरह करें, जिस तरह आप मस्कारे का प्रयोग करती हैं। इसे 15 मिनट तक रखकर हटा दें।
ग्रीन टी

आजकल लोग अपने स्वास्थ्य के प्रति काफी सजग हो गए हैं। अतः फ्लेवर्ड चाय की बजाय वे ग्रीन टी पीना पसंद करते हैं, क्योंकि यह स्वास्थयकर होती है। घर पर ग्रीन टी प्राप्त करना काफी आसान होता है। आधी कप ग्रीन टी बनाएं और इसमें चीनी ना डालें। इसे ठंडा होने दें तथा रुई के कपड़े की मदद से इसे अपनी पलकों पर लगाएं। इसे 20 मिनट तक सूखने देने के बाद धो लें।

शुक्रवार, 10 फ़रवरी 2017

रातोरात अपनी त्वचा को कसने के लिए घर में बनाइये सर्वश्रेष्ठ मास्क

रातोरात अपनी त्वचा को कसने के लिए घर में बनाइये सर्वश्रेष्ठ मास्क


हो सकता है की आप अपनी त्वचा पे उम्र के निशाँ से तंग आ चुकी होंगी  झुर्रियां, दाग, धब्बे, आदि आपको काफी हीन महसूस कराते होंगे.आप अचानक से अपना आत्म विश्वास खोने लगती है, और अपनी त्वचा पे दाग, धब्बे देखते ही बहुत ज़्यादा सचेत हो जाती हैं  क्या इनका उपचार करने का कोई तरीका है ? जी हाँ ज़रूर, इनका उपचार संभव है लेकिन तभी जब आप इनका उपचार शुरूआती चरणों में ही करना शुरू कर दे.त्वचा को कसना एक तरीका है, जो की आपको कई प्रकार के त्वचा से जूड़े दोष को दूर करने में मदद करती है, वह भी लगभग हमेशा के लिए
बाजार में ऐसे कई सारे लेज़र उपचार, इंजेक्शन और दवाइयां हैं जो त्वचा को कसने का दावा करते हैं I लेकिन आपके खर्च करे हुए पैसो के लिए, घर पे बने हुए प्राकृतिक उपचार सबसे ज़्यादा अच्छे और असरदार हैं I आपको सुन्दर दिखना है, और यह प्रक्रिया जल्दी भी होनी चाहिए I अगर में आपको यह बोलू की यहाँ में जो मास्क के बारे में बताने जा रहा हूँ वह रातो रात आपकी त्वचा को कसने में मदद करेंगे, तो क्या आप मेरा भरोसा करेंगे ? शायद नहीं, तो भरोसा करने के लिए इन मास्क का प्रयोग कर के देखे !

1. अंडे के सफ़ेद भाग का मास्क :
अगर कोई एक ऐसी सामग्री है, जिसका त्वचा को कसने के लिए विशेष तौर पे नाम लिया जाए, तो वह है अंडा I त्वचा के उपचार,उनके रंग को हल्का, आदि करने के लिए अलग अलग मास्क अंडे को अलग अलग रूप में इस्तेमाल करते हैं I इस मास्क में आप, अंडे के सफ़ेद भाग का इस्तेमाल करेंगे I बस अंडे के सफ़ेद भाग को अंडे की जर्दी से अलग कर ले और इसे अपने चेहरे पे लगाए I इसे तकरीबन 20 से 25 मिनट तक ऐसे ही रहने दे और फिर गुनगुने पानी से धो ले I

२. अंडे का सफ़ेद भाग, मुल्तानी मिट्टी और शहद :
इस मास्क में बेहद प्रभावकारी अंडे के सफ़ेद भाग के साथ मुल्तानी मिट्टी और शहद का उपयोग होता है I मुल्तानी मिट्टी एक सौंदर्य सामग्री है जिसका की कई सदियो से इस्तेमाल होता चला आया है I सहाहद नमी प्रदान करने वाला तत्व है, जो त्वचा में नमी को वापस लाता है, जिसके कारण त्वचा एक रंग की और मुलायम हो जाती है I

अगर आपकी त्वचा ज़्यादा सूखी है तो आप इस मास्क में ग्लिसरीन भी मिला सकते हैं I सामान्य त्वचा की नमी के लिए शहद काफी है I बस अंडे के सफ़ेद भाग के साथ थोड़ी सी मुल्तानी मिट्टी और शहद को मिला ले I अगर ज़रुरत हो तो फिर ग्लिसरीन भी मिला ले I इस मास्क को चेहरे पे लगा के 15 से 20 मिनट के लिए छोड़ दे I यह मास्क रक्त परिसंचरण को बेहतर करता है और धुप से झुलसी हुई त्वचा को हल्का करता है I

3. अंडे का सफ़ेद भाग, चीनी और दही :
वचा से तेल और गन्दगी को हटाने के लिए चीनी का विभिन्न मास्क और फेस पैक में स्क्रबिंग तत्व की तरह बहुत इस्तेमाल होता है I दही हमेशा की तरह बहुत अच्छा साथी होता है जिसमे ऐसे पोषक तत्व होते है, जो की इस पूरी प्रक्रिया को पोषित और उत्प्रेरित करते हैं I

इस पैक को बनाने के लिए अंडे के सफ़ेद भाग के साथ चीनी और दही को डाल के अच्छे से मिला ले I इस मिश्रण को अपने चेहरे पे लगा के कुछ देर के लिए सूखने दे I जब यह सूख जाए तब इसे गुनगुने पानी से धो ले I बेहतर और जल्दी परिणाम पाने के लिए इसे धोने से पहले, थोड़ी देर परिपत्र विधि से चेहरे की मालिश करे I

4. पत्ता गोभी, तेल और चावल का आटा :
पत्ता गोभी अधिकांश आपकी रसोई में पायी जा सकती है I इनका इस्तेमाल आपकी त्वचा को सुन्दर और स्वस्थ बनाने के लिए किया जा सकता है I इसके साथ आपको थोड़ा तेल और चावल के आते की भी ज़रुरत पड़ेगी I आप इसके लिए बादाम का तेल, जैतून का तेल या फिर कोई भी जो आपकी त्वचा के लिए ठीक हो, उसका इस्तेमाल कर सकते हैं I ज़्यादातर त्वचा के लिए बादाम और जैतून के तेल में से चयन करना अच्छा रहता है I

पत्ता गोभी को पीसने के बाद उसमे से रस निकाल ले I इसमें चावल का आटा और अपनी पसंद का तेल डाल के अच्छे से मिला ले I अगर आपकी त्वचा ज़्यादा तेलीय है तो आप बादाम या जैतून के तेल का इस्तेमाल न करे I ऐसी स्थिति में आप, इस मिश्रण में अंडे का सफ़ेद भाग भी मिला सकते हैं I इस मिश्रण को अपने चेहरे पे सामान रूप से लगा ले और कुछ देर के बाद धो ले I

5. पत्ता गोभी, शहद, तेल और दही :
पत्ता गोभी एक आश्चर्यचकित करने वाला तत्व है, लेकिन झुर्रियों के खिलाफ यह बहुत ही ज़्यादा असरदार है I यह त्वचा को कसने के लिए भी बहुत ही अच्छा है I इस घर के बने हुए पैक की अन्य सामग्रियां है शहद, दही और बादाम या जैतून का तेल I
  • 2 से 3 पत्ता गोभी को पीस कर इसका मिश्रण बना ले I
  • एक डब्बे में डाल के इसे शहद और दही के साथ मिलाये I
  • सूखी त्वचा के लिए इसमें तेल मिलाये, और अगर आपकी त्वचा तेलीय है तो तेल ना मिलाये I
  • लगाने के बाद इसे काम से काम 15 से 20 मिनट के लिए छोड़ दे I
  • अपने चेहरे को अच्छे से धोने के लिए गुनगुने पानी का इस्तेमाल करे I
6. पपीते का मास्क :
पपीते में कई सारे एंजाइम होते है जो की त्वचा के बुढापे से लड़ने में वैज्ञानिक रूप से सिद्ध हो चुके हैं I साथ ही यह झुरझुरी त्वचा का मुकाबला करने में मदद कर के, त्वचा को कसने का कार्य प्रारम्भ करते हैं I समय के साथ बेहतरीन परिणाम पाने के लिए पपीते के रस या मसले हुए पपीते को सीधे अपने चेहरे पे लगा सकता हैं I लेकिन अगर आप रातो रात परिणाम चाहते है तो आपको इसके साथ कुछ और सामग्रियां मिलनी पड़ेंगी I

पपीते को और ज़्यादा फायदेमंद करने के लिए इसके साथ चावल का आटा और शहद को मिला सकते हैं I छीले हुए पपीते को मसल के एक मिश्रण बना ले, इसमें आधा कप चावल का आटा और 2 चम्मच शहद डाल के अच्छे से मिला ले I इस मिश्रण को अपने चेहरे पे अच्छी मात्रा में लगा ले और 20 से 25 मिनट के बाद ठन्डे पानी से धो ले I

7. केले और शहद का मास्क :
पपीते की तरह केले में भी बहुत सारे गुण होते हैं I यह फल सिर्फ स्वस्थ ही नहीं बल्कि त्वचा के लिए भी बहुत ही अच्छा है I कई सौंदर्य ब्रांड केले को मुख्य सामग्री बता के अपने उत्पादों का प्रचार करते हैं I इस फेस पैक को बनाने के लिए आपको सिर्फ केला, शहद और जैतून का तेल चाहिए I केले को थोड़ी सी स्थिरता के साथ एक मिश्रण की तरह मसल ले I इसमे एक छोटी चम्मच जैतून का तेल और एक बड़ी चम्मच शहद डाल के अच्छे से मिला ले I

8. केला और गुलाब जल :
आप गुलाब जल की सहायता से भी केले का मास्क बना सकते हैं I छीले हुए केले के साथ इस मास्क को बनाने के लिए आपको गुलाब जल की आवश्यकता होगी I गुलाब जल एक बहुत ही अच्छा तरल पदार्थ है जो की आपकी त्वचा को गहराई से साफ़ करता है I इसकी विधि बहुत ही आसान है, मसले हुए केले में कुछ बुँदे गुलाब जल की डाल के अपने चेहरे पे लगा ले I 20 मिनट के बाद अपना चेहरे धो ले I

9. निम्बू का मास्क :
निम्बू एक प्राकृतिक विरंजक तत्व है, जो की चेहरे की त्वचा के लिए बहुत ही कमाल का काम करता है I निम्बू के मास्क को आँखों के निचे काले घेरो पे न लगाए , क्योंकि निम्बू का रस संवेदनशील त्वचा के लिए सही नहीं होता है I कोमल या प्रतिक्रियाशील त्वचा वाले लोगो को निम्बू का पहले अपनी कोहनी पे परिक्षण कर लेना चाहिए ताकि बाद में त्वचा में कोई दिक्कत न आये I

जो लोग निम्बू का इस्तेमाल कर सकते है उनके लिए यह एक बेहतरीन सामग्री है I आप निम्बू के रस को सीधे अपने चेहरे पे लगा सकते हैं या फिर इसे थोड़े शहद और तेल (सूखी त्वचा के लिए ) के साथ मिला सकते हैं, एक पूरा मास्क बनाने के लिए I 2 से 3 बार इस्तेमाल करने के बाद ही आपको अंतर नजर आने लगेगा I

10. एलो वेरा मास्क :
जब हम घर पे बने मास्क की बात कर रहे हैं तो एलो वेरा कैसे छूट सकता है, छूट सकता है क्या ? एलो वेरा वैसे तो आमतौर पे घर पे पायी जाने वाली सामग्री नहीं है, लेकिन जलने या झुलसी हुई त्वचा पे इसके फायदों को देखते हुए यह अधिकांश घरो में आजकल पायी जाती है I आप अपनी सुविधानुसार एलो वेरा के पत्तो से मिलने वाले मिश्रण या फिर एलो वेरा जेल का इस्तेमाल कर सकते हैं I

इस मिश्रण को बनाने के लिए पर्याप्त मात्रा में एलो वेरा के रस या जेल को ले लो, और उसमे कुछ बुँदे शहद की मिला लो I इसे अच्छी मात्रा में अपने चेहरे पे लगाए और 20 से 25 मिनट के बाद ठन्डे पानी से धो ले I अगर आप अपनी त्वचा के विकास के लिए कुछ प्रभावकारी उपायो को देख रहे थे, तो ऊपर दिए गए यह तरीके आपको रातो रात परिणाम देंगे I यह 100 प्रतिशत प्राकृतिक और सुरक्षित हैं I यह सब आपके घर पे आसानी से मिल सकता है और आपको उन महंगे उपचारो पे बहुत सारे पैसे भी खर्च नहीं करने पड़ेंगे I

बुधवार, 28 सितंबर 2016

बालों से जूं निकालने के घरेलू उपाय

बालों से जूं निकालने के घरेलू उपाय


लहसून:

लहसून की गंध बहुत तीखी होती है, अगर इसे पिसकर बालों में लगाया जाएं और घंटे भर बाद धो लिया जाएं, तो सारे जूं मरकर निकल जाते हैं। आप चाहें तो इस पेस्ट में नींबू का रस भी मिला सकते हैं।

सफेद सिरका:

सोने से पहले, सफेद सिरका लें और उसके अपने बालों पर लगाएं, ठीक उसी तरह जैसे आप अपने बालों में तेल लगाती हैं। लगाने के बाद आप तौलिया से अपने सिर को कवर कर लें और रात भर लगा रहने दें। सुबह उठकर सिर धो लें। जब आप शैम्पू करने के बाद कंघी करेगी, तो सारे जूं अपने आप बाहर आ जाएंगे।

बेबी ऑयल:

आपको जानकर आश्चर्य होगा, लेकिन अगर आप बेबी ऑयल लगाकर सुबह-सुबह बालों में कंघी करें, तो काफी सारे जूं खींच आते हैं। इसकी जगह आप बादाम तेल का इस्तेमाल भी कर सकती हैं।

जैतून तेल के साथ कंघी करें:

जूं होने पर जैतून का तेल लगाकर कंघी कर लें। जैतून का तेल सप्ताह में तीन बार लगाएं, जिससे आपको जूं नहीं होगें।

नमक:

जूं होने पर नमक काफी कारगर सामग्री होती है। पांच चम्मच नमक लें और आधा कप सिरका में घोल लें। इस मिश्रण को अपनी खोपड़ी पर लगाएं और शॉवर कैप लगा लें। दो घंटे तक ऐसे ही रहने दें। इसके बाद बालों को धोकर कंघी कर लें। तीन दिन में आपको अच्छे रिजल्ट मिल जाएंगे।

पेट्रोलियम जैली:

पेट्रोलियम जैली में ऐसे गुण होते हैं जो जूं को चिपका लेती है जिससे जूं का दम घुट जाता है और वह निकल जाती हैं। रात में सोने से पहले पेट्रोलियम जैली को लगा लें और रात भर लगा रहने दें। बाद में सुबह कंघा करें, ढ़ेर सारे जूं निकलेगें।

जरूरी ऑयल ट्रीटमेंट:

जैतून के तेल और एल्कोहल को मिला लें। इस मिश्रण को अपने सिर पर लगाएं और रात भर लगा रहने दें। इसके बाद, सुबह सिर धो लें। आप चाहें तो नीम का तेल, लौंग का तेल, दालचीनी का तेल आदि प्रकार के तेलों का इस्तेमाल भी कर सकते हैं।
ट्री टी ऑयल:
ट्री टी ऑयल एक प्राकृति इनसेक्टीसाइड होता है जो जूं को आसानी से बालों से हटा सकता है। इस ऑयल में गरी का तेल मिलाएं और बालों में सिरों पर लगाएं। आधे घंटे तक सिर में लगा रहने दें और बाद में सिर को धुलकर अच्छे से कंघी करें।
मेयोनेज़:
मेयोनेज़ में जूं को मारने के गुण होते हैं। इसे पीसकर सिर में लगाएं और थोड़ी बाद धो लें, जिससे जूं मर जाते हैं और निकल जाते हैं।
मक्खन:
मक्खन को ब्रेड की बजाय अपने बच्चे के सिर पर लगाएं, रात भर लगा रहने दें और सुबह धो लें। इससे आपको जूं की समस्या से राहत मिलेगी।
बेकिंग सोडा:
बेकिंग सोडा, जूं निकालने में काफी कारगर होता है। इसमें जैतून का तेल मिला लें और इसे अच्छी तरह सिर में लगा लें। रात भर लगा रहने के बाद सुबह धो लें।
गरी का तेल और सेब का सिरका:
यह उपाय थोड़ा मंहगा है लेकिन बहुत कारगर है। गरी के तेल और सेब के सिरके को बराबर मात्रा में मिला लें और लगा लें। बाद में बालों को अच्छी तरह धुल लें और कंघी करें।
हाईड्रोजन पैरोक्साइड और बोरेक्स:
हाईड्रोजन पैरोक्साइड और बोरेक्स को आपस में मिला लें। इस मिश्रण को बालों में लगाएं और रगडें, बाद में अच्छी तरह धो लें।
डिटॉल:
डिटॉल एक एंटीसेप्टिक होता है जो जूं को भी दूर कर सकता है। इसे लगाने के बाद आप एक घंटे तक यूं ही रहे और फिर धो लें। गाढ़ा डिटॉल लगाने से अच्छा होगा कि आप उसमें हल्का सा पानी भी मिला लें, वरना त्वचा में जलन पड़ सकती है।

बुधवार, 9 अगस्त 2017

नाखून को सुंदर और बढ़ाने के घरेलू उपाय

नाखून को सुंदर और बढ़ाने के घरेलू उपाय


नाखून और बल दोनों ही लड़कियों की सुंदरता के लिए अहम होते है और हमारे नाखून और बल दोनों इस ही प्रोटीन के बने होते है उस प्रोटीन का नाम केरातिन है नाखूनों का विकास बहुत तेजी से होता है नाखून प्रति माह एक इंच के दसवें भाग के बराबर बढ़ता है तो कभी कभी ये काफी धीमी गति से बढ़ते है इनका बढ़ने की गति का धीमी होना आपके लिए एक खतरा भी हो सकता नाखून का बढ़ना धीमा तब होता है जब आपके शरीर में किसी चीज की कमी हो जाती है.

जब आपके नाखून धीरे बढ़ते है इसका मतलब होता है की आप किसी अन्य मुसीबत में है जैसे भंगुर नाखून, नाखूनों का टूटना, इसके आलावा भी आप कई अनेक मसीबतो को सामना करना पड़ सकता है आपको आपने खाने में ध्यान देना होगा आपका स्वस्थ खानपान आपको इन सभी परेशानियों से बचा लेगा और आपको नाखूनों की भी उचित देखभाल करनी होगी आप कुछ आसान कामो को करके आपने नाखूनों को सुन्दर और स्वस्थ बना सकते है.

जैतून के तेल का प्रयोग
आपने नाखूनों के लिए आप सोने से पहले आपने नाखूनों के लिए जैतून का तेल गर्म कर ले और फिर इस तेल से आपने नाखून पर 5 मिनिट तक मालिश करे और रातभर कपास के दस्ताने पहनें ऐसा आप हर रोज करें आप आपने नाखूनों को जैतून के तेल में 15 से 30 तक रखे ताकि नाखून विकास कर सके

संतरे के रस का प्रयोग 
आपने नाखूनों को आप कम से कम 10 मिनट के लिए तजा संतरे के रस में भिगोकर रखे इसके बाद नाखूनों को गर्म पानी से धो ले आप हर रोज ऐसा करें इससे आपके नाखूनों को ग्रोथ करने में फायदा होगा और चमक आएगी.

नींबू का रस का प्रयोग
नींबू का रस एक चम्मच और तीन चम्मच जैतून के तेल को लेकर मिला ले फिर इसे थोड़ा गर्म कर ले फिर 10 मिनट तक इसमें आपने नाखूनों को भिगो कर रखे और अगर आप चाहे तो नींबू के एक छोटे टुकड़े को लेकर 5 मिनट तक मालिश करे ऐसा आप रोज करें.

नारियल के तेल का प्रयोग
रात तो सोने से पहले आपने बिस्तर पर जाने से पहले आप नारियल का तेल ले और इसे आपने हाथो व नाखूनों पर लगाए और मालिश करे इससे आपके शरीर का रक्त का परिसाचरण बिलकुल सही रहेगा और आप को काफी फायदा होगा.

गुरुवार, 20 अक्तूबर 2016

हर्पीस जोस्टर ट्रीटमेंट – घरेलू उपाचार

हर्पीस जोस्टर ट्रीटमेंट – घरेलू उपाचार

हर्पीस को अंग्रेजी में जोस्टर कहा जाता है। यह बीमारी बहुत ही खतरनाक होती है। यह रोग हर्पीस नाम के वायरस की वजह से होता है। चालीस साल की उम्र के बाद इस रोग के होने की संभावना अधिक हो जाती है।
इस रोग में चेहरे व त्वचा पर पानी के भरे हुए छोटे छोटे दाने निकलने लगते हैं जिससे इंसान के शरीर के एक ही हिस्से में काफी सारे दाने निकल जाते हैं। हर्पीस की बीमारी में पथरी की तरह दर्द होता है। यह दो प्रकार का होता है जेनिटल हर्पीस और ओरल हर्पीस।
यह रोग ज्यादातर उन लोगों को होता है जिन्हें चिकन पाॅक्स हुआ हो।

हर्पीस का रोग क्यों होता है?
  • शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता के कम होने की वजह से
  • शरीर का कमजोर होना
  • लगातार खुजली
  • मरोड़
  • आदि।

हर्पीस की बीमारी को पूरी तरह से वैदिक घरेलू उपायों के जरिए ठीक किया जा सकता है।

हर्पीस का घरेलू उपाचार

बर्फ का पैक
हर्पीस से प्रभावित जगह पर बर्फ का बना पैक लगाना चाहिए। बर्फ को किसी कपड़े या किसी पन्नी में डालकर लगाएं। इससे हर्पीस तेजी से ठीक होता है। ध्यान रहे बर्फ का इस्तेमाल सीधे त्वचा पर ना करें।

बेकिंग सोड़ा का इस्तेमाल
बेकिंग सोड़े को आप पानी में मिलाकर इसे रूई में डुबोकर हर्पिस वाली जगह पर लगाएं। बेकिंग सोड़ा कीटाणुओं का खत्म करता है। और हर्पिस की वजह से होने वाली खुजली और दर्द से भी आराम देता है।

लेमन बाम का प्रयोग
हर्पीस वायरस को रोकने की एक कारगर और बेहतरीन औषधि है लेमन का बाम। लेमन बाम को हर्पीस वाली जगह पर लगा के आप इस रोग से आराम पा सकते हो।

शहद का प्रयोग
शहद भी एक बेहतरीन औषधि है हर्पीस की बीमारी से बचने की। नियमित रूप से यदि आप शहद को हर्पीस से प्रभावित जगह पर लगाते हैं तो आप इस बीमारी से आराम पा सकते हो।

एलोवेरा का इस्तेमाल
एक प्राकृतिक और घरेलू नुस्खे के तौर पर जाना जाता है एलोवीरा को। हर्पीस की बीमारी में भी एलोवीरा जेल बहुत ही बेहतर तरीके से काम करती है। आप नियमित एलोवीरा के पेस्ट को हर्पीस से प्रभावित जगह पर लगाएं इससे यह बीमारी जल्दी ठीक होती है।

मुलैठी की जड़ का उपयोग
मुलैठी की जड़ से बना चूर्ण हर्पीस की बीमारी को ठीक कर सकता है। मुलैठी की जड़ में कई तरह के एंटीआक्सीडेंट और एंटीबैक्टीरियल तत्व पाए जाते हैं।

जैतून का तेल
जेतून का तेल त्वचा से संबंधित रोगों को ठीक करता है। क्योंकि जैतून के तेल में भी एंटीबैक्टीरियल तत्व होते हैं जो त्वचा के अंदर जाकर काम करते हैं। हर्पीस से ग्रसित हिस्सों पर जैतून के तेल को लगाने से यह रोग धीरे.धीरे ठीक होने लगता है।

एंटीवायरल पेपरमिंट तेल
हर्पीस के वायरस को जड़ से खत्म कर देता है पेपरमिंट तेल में मौजूद एंटीवायरल तत्व। यही नहीं हर्पीस से होने वाले भंयकर दर्द से भी राहत देता है यह तेल। आपको बाजार में आसानी से मिल सकता है पेपरमिंट आॅइल।

टी ट्री तेल का इस्तेमाल
टी ट्री आयल भी आपको बाजार में आसानी से मिल जाएगा। यह तेल हर्पीस से होने वाले इंन्फेक्शन को खत्म कर देता है। साथ ही साथ दर्द और खुजली को भी खत्म करता है। टी ट्री आॅयल हर्पीस के संक्रमण को समाप्त करता है।

सावधानी
वैसे तो इन प्राकृति उपायों से यह रोग ठीक हो सकता है लेकिन यदि हर्पीस बीमारी से यदि इंसान काफी लंबे समय से ग्रसित है तो वह अपने को डाॅक्टर से जरूर दिखाए। समय पर इलाज से यह रोग ठीक हो सकता है नहीं तो यह बीमारी इंसान को बहुत सारी परेशानी भी दे सकती है।

मंगलवार, 3 अक्तूबर 2017

रात को नाभि में इसकी सिर्फ़ 2 बूंद डालने से होंगे ऐसे चमत्कारी फायदे जिसे जानकर चौंक जायेंगे आप !

रात को नाभि में इसकी सिर्फ़ 2 बूंद डालने से होंगे ऐसे चमत्कारी फायदे जिसे जानकर चौंक जायेंगे आप !


आज हम आपको रात को सोते वक़्त नाभि में गाय का देशी घी या नीम के तेल, सरसों के तेल, बादाम के तेल, नारियल या जैतून के तेल आदि की सिर्फ़ 2 बूँद लगाने से जो 14 चमत्कारी फ़ायदे होंगे उसके बारे में बताएँगे। आप अपनी त्वचा को अच्छा बनाने के लिए और अपनी दर्दो के लिए और प्रजनन के लिए पता नहीं क्या-क्या नुस्खे अपनाते होंगे और आप कई सारी दवाओं का उपयोग भी करते होंगे  लेकिन आपको आश्चर्य होगा कि पेट की नाभि पर तेल की कुछ बूंदें लगाने से आपको कितना फायदा हो सकता है.

क्या आप जानते है यहाँ तेल रगड़ने से जोड़ों के दर्द, घुटने का दर्द, सर्दी, जुकाम, नाक बहने और त्वचा संबंधी परेशानियों से निजात मिल सकती है।


यहाँ हम आपको बतायेंगे की किस प्रकार आप अपनी नाभि इन तेलों को डाल कर दूर कर सकते हैं अपनी इन समस्याओ को जो आपके लिए मुश्किल भी नहीं हैं करना और जिसके द्वारा आपको इन चीजों से बहुत जल्दी आराम मिल जाएगा, तो चलिए जानते हैं कौन से है वो तेल जो करेंगे आपको रोग मुक्त।

नाभि में इन चीजों को लगाने के फायदे : 

जोड़ो का दर्द करे सही :  फटे होंठ या जोड़ों का दर्द है अगर आप इन चीजों से परेशान है तो आपको ज़रूरत है सरसों के तेल की जिसके द्वारा आप अपनी इस समस्या से छुटकारा पा सकेंगे, अपने पेट की नाभि पर सरसों के तेल की कुछ बूंदें लगाएँ. हाँ यह आपको अजीब लग रहा होगा लेकिन ये प्राचीन औषधि बहुत फायदेमंद है।


सर्दी ज़ुकाम से राहत : क्या आपको सर्दी, जुकाम है, तो यह आपके लिए काफी फायदेमंद है, हममे से कुछ लोग ऐसे होते है जिन्हें बारो मॉस ज़ुकाम की शिकायत रहती है तो आपको बस इतना करना है की रुई के फ़ोहे को एल्कोहल में डुबोए और पेट की नाभि पर लगाएँ, बस हो गया। ये सर्दी और जुकाम की अचूक दवा है इससे आपका पुराने से पुराने ज़ुकाम ठीक हो जाएगा।

मासिक धर्म : लडकियों को मासिक धर्म में कई तरह की परेशानियों का सामना करना पड़ता हैं इन दिनों बहुत सारे होर्मोनेल चेंजेस भी होते है  जिसके कारण ना उनका मूड ठीक रहता हैं और उनका स्वस्थ्य लेकिन अगर आप मासिक धर्म होने वाली इन सम्सायो से बचना चाहती है तो रुई के फ़ोहे को ब्रां*डी में भिगोएँ और इसे पेट की नाभि पर रखें, इससे आपको इन चीजों से मुक्ति मिलेगी।


मुहासे के लिए : लड़का हो फिर चाहे लड़की हो हर कोई मुहासे की समस्या से परेशान रहता हैं अगर आप भी इसी समस्या से परेशान हैं और कोई भी उपाय काम नहीं आ रहा हैं तो नीम के तेल की कुछ बूंदें पेट के बीच में डालकर और आस-पास मसाज करने से आपके कील-मुहाँसे ठीक हो सकते हैं, और आपकी त्वचा बेदाग़ वा सुंदर हो जायेगी।

चेहरे पर निखार : अगर आपका चेहरा दागरहित वा सुंदर हो तो क्या कहने ऐसा कहा जाता है कि बादाम के तेल की कुछ बूंदें पेट की नाभि पर लगाने से चेहरे पर निखार आता है और आपकी रंगत भी अच्छी होती हैं।

प्रजनन क्षमता : नारियल या जैतून के तेल की कुछ बूंदें नाभि पर लगाएँ और धीरे-धीरे मसाज करें. इससे प्रजनन क्षमता बढ़ती है और आपकी प्रज*नन से रिलेटेड समस्याए भी खत्म होती हैं।

मुलायम त्वचा : हर किसी को बेबी सॉफ्ट त्वचा चाहिए क्या आपको स्वस्थ और मुलायम त्वचा चाहिए अगर हां तो आपको बस गाय का घी नाभि पर लगाना होगा और आप भी पा सकेंगे बेबी सॉफ्ट त्वचा।

मनुष्य के शरीर में हर बॉडी पार्ट्स का कनेक्शन नाभि से जुड़ा हुआ होता है। नाभि में रोज चुटकी भर घी की दो बूंदे लगाना ही हमें कई बीमारियों से बचाने के लिए पर्याप्त होता है। इस नेचुरल थैरेपी से कई हेल्थ प्रॉब्लम को ठीक किया जा सकता हैं। साथ ही यह खूबसूरती को बढ़ाने में भी फायदेमंद होता है।

तो आइये जाने हेल्थकेयर एक्सपर्ट्स के अनुसार नाभि में घी की दो बूंदे लगाकर हल्की मालिश करने से होने वाले 7 फायदों के बारे में
  • स्किन : इसे नाभि में लगाने से स्किन में नमी बनी रहती है जिससे फेयरनेस बढती है।
  • चेहरे ही चमक : इससे स्किन की ड्राईनेस दूर होती होती है और चेहरे ही चमक बढती है।
  • बालों का झड़ना : इससे बालों का झड़ना रुकता है और बालों किस शाइनिंग बढती है।
  • घुटनों का दर्द : यह घुटनों का दर्द दूर करने में फ़ायदेमंद है और जॉइंट पैन से बचाता है।
  • पिम्पल्स और दाग-धब्बे : इससे चेहरे के पिम्पल्स ठीक होते है और दाग-धब्बे दूर होते है।
  • कटे-फटे होंठ : नाभि में घी लगाने से कटे-फटे होंठ नही ठीक हो जाते है।
  • कब्ज : इससे पेट की प्रॉब्लम दूर होती है और कब्ज से बचाव होता है।

बुधवार, 26 अक्तूबर 2016

पैरों की झुर्रियों हटाने के उपाय

पैरों की झुर्रियों हटाने के उपाय

उम्र बढ़ने का सबसे पहला संकेत होता है झुर्रियों का आना। जब उम्र बढ़ती है तब हमारे शरीर की त्वचा की कसावट ढ़ीली होती चली जाती है। जिससे हमारी त्वचा पर झुर्रियां आने लगती है। और धीरे-धीरे त्वचा लटकने से आप बूढ़े दिखने लगते हो। चेहरे के साथ पैरों पर भी झुर्रियों के असर से भी उम्र अधिक लगती है। जब पैरों की त्वचा रूखी होती है तब झुर्रियां पड़ने लगती है। इसके अलावा पैरों के तलावों पर भी दरार पड़ जाती है। लेकिन अब आप पैरों की झुर्रियों को पूरी तरह से खत्म करने के लिए अपने घर पर ही बना सकते हैं कुछ आसान औषधियां।
पानी
अक्सर जब हम समय और काम के बीच फंस जाते हैं तब हम अपने पर ध्यान देना बंद कर देते है। जिसका पता हमें तब चलता है जब पैरों पर झुर्रियां पड़ने लगती है। पानी जितना हो सके दिन में खूब पीएं। कम से कम 6 और अधिक से अधिक 8 गिलास पानी जरूर पीएं। पानी पीने से त्वचा में कसावट आती है और झुर्रियां ठीक होती है।
खाने में ये चीजें खाएं
हमारी त्वचा पर सबसे अधिक फर्क पड़ता है खाने-पीने वाली चीजों से। इसलिए आप अपने खान-पान में मौसम में उपल्ब्ध होने वाले हर तरह के फल और सब्जियों का सेवन करें। और कृपय जितना हो सके जंक फूड यानि पिज्जा और बर्गर के सेवन से बचें।
शीया बटर
शीया बटर भी त्वचा की झुर्रियों को ठीक करता है। पैरों की झुर्रियों को दूर करने के लिए शीया मक्खन की मालिश पैरों पर करें। इससे पैरों की त्वचा में कसावट आती है और पैर मुलायम होते हैं। इस घरेलु उपचार को मीहने में दस से 15 बार करें।
जैतून तेल
झुर्रियों को कम करने और उन्हें हटा देने का सबसे बेहतर घरेलु उपाय है जैतून के तेल का इस्तेमाल करना। रात को सोने से पहले जैतून के तेल की मालिश पैरों पर करें। यह तेल आपकी त्वचा को नम रखने के साथ त्वचा की गहराईयों में जाकर उसे टाइट बनाता है। जैतून का तेल लगाने से त्वचा का रूखापन भी दूर होता है।
एवोकैडो
यह एक प्राकृतिक औषधि है। इससे पैरों की त्वचा में कसावट आती है। जैतून के तेल में थोड़े से एवोकैडो और शहद को मिला लें और इसे मिक्स करके पेस्ट तैयार कर लें। और इसको पैरों के तलवों और त्वचा पर पड़ी झुर्रियों पर लगाएं। इससे आपको फायदा मिलेगा।
ड्राई फ्रूटस
ड्राई फ्रूटस में विटामिन ई अधिक मात्रा में पाया जाता है जो त्वचा पर झुर्रियों को नहीं पड़ने देता है। इसलिए आप अपने खाने में मूंगफली, बादाम, अखरोट और सौंफ आदि का सेव करें। कुछ ही महीनों में आपको इसका असर भी दिखने लग जाएगा।
फलों का पेस्ट
पैरों की झुर्रियों को मिटाने के लिए आप अनानास और पपीते के पेस्ट का प्रयोग कर सकते हैं। पपीता और अनानास को काटकर बराबर मात्रा में किसी कटोरे में रखें। और इसमें उपर से एक चम्मच शहद मिला लें। इसके बाद इसे अच्छी तरह से पीसकर पेस्ट बना लें। और पैरों की त्वचा के उपर और नीचें इस पेस्ट को लगाएं। तीस मिनट के बाद पैरों को धो लें। इस घरेलु नुस्खे को सप्ताह में दो बार जरूर लगाएं।

सोमवार, 15 अगस्त 2016

पाना हैं चमकते हुए दांत, तो रात के समय करें ये काम

पाना हैं चमकते हुए दांत, तो रात के समय करें ये काम

किसी की भी मुस्कान एक दुखी व्यक्ति को भी मुस्कारना सीखा देती है। एक मुस्कान नामुमकिन कामों को भी बढ़ी ही आसानी से कर देती है। अगर मुस्कान के साथ आपके दांत भी चमकीले होतो फिर और चार-चांद लगा देती है।

माना जाता है कि अगर आपके दांत मोतियों की तरह चमक रहे है त यह आपके व्यक्तित्व को भी निखरता है। साथ ही इससे आपका आत्मविश्वास बढता है। पीले दांत आपकी खूबसूरती को भी कम करता है साथ ही आपके आत्मविश्वास को भी गिराता है।

प्रोडक्ट्स का यूज करते है। लेकिन आप जानते है कि आप अपने दांतो को बिना किसी खर्च के घर में इन इन उपायों द्वारा चमका सकते है। जानिए इन घरेलू उपायों के बारें में।

नींबू के छिलके
नींबू को विटामिन सी का मुख्य स्त्रोत माना जाता है। इससे आपके दांत भी चमक सकते है। इसके लिए इसके छिलके को उसे दांतों के भीतरी भाग पर रगड़ें। यह एक स्‍क्रब की तरह काम करता है जो दांतों के अनावयक रोगाणुओं और अन्‍य कणों को जड़ से दूर कर देता है। इसका इस्तेमाल नियमित रुप से करने से आप के दांत जल् हीद चमक जाएगे। आप चाहे तो संतरे के छिलके का भी इस्तेमाल कर सकते है।

नारियल का तेल
नारियल तेल एक आर्गेनिक और नेचुरल टीथ व्‍हाइटनर है। इससे आप अपने दांत चमका सकते है। इसके लिए अपने मुंह में थोड़ा सा नारियल का तेल लेकर इसे ऐसे ही 15 मिनट के लिए रखें। अपने मुंह को इस तेल के साथ स्विश करें। साथ ही इस बात का ध्‍यान रखें कि तेल आपके दांतों के सभी भागों को छूएं। फिर इसे थूक दें और पानी से अपने मुंह को धो लें। इससे आपको फायदा मिेलेगा
आलू न सिर्फ खाने में, बल्कि साफ-सफाई के साथ घर के अन्‍य कामों में भी उपयोग होता है। आपने यह तो सुना होगा कि प्याज का रस बालों के लिए बहुत फायदेमंद होता है। इसी के साथ आलू का रस भी बालों की देखभाल के लिए बहुत ही कारगर होता है।
आलू को कई लोग अवोइड करते हैं क्योंकि आलू को आमतौर पर चरबी बढ़ाने वाला माना जाता है। लेकिन आलू के कुछ ऐसे उपयोगी गुण भी हैं जिन्हें आप शायद ही जानते होंगे।
आलू के रस में पर्याप्त मात्रा में स्टार्च पाया जाता है, जिसके इस्तेमाल से बालों में मौजूद अतिरिक्त तेल साफ हो जाता है। आलू के साथ सबसे अच्छी बात यह है कि यह बहुत अधिक महंगा नहीं होता और आसानी से मिल भी जाता है।
जाने आलू के रस से बालों को धोने के और भी कुछ बेहतरीन फायदे हैं :-
* आलू उबालने के बाद बचे पानी में एक आलू मसलकर बाल धोने से बाल चमकीले, मुलायम और जड़ों से मजबूत होंगे।
* कच्चे आलू के रस से बालों को धोने पर बाल मजबूत होते हैं।
* आलू के रस से सिर में खाज, बालों का सफेद होना व गंजापन तुरन्त रुक जाता है।
*  आलू का रस बालों की ग्रोथ को बढ़ाने में सहायक होता है।
* आलू के रस से बालों का पुराना रंग हटाकर नया रंग अप्लाई कर सकते हैं। यह बालों को ब्लीच करने का काम करता है.
* नारियल तेल और जैतून के तेल में आलू के रस को मिलाकर लगाने से बालों का झड़ना कम होता है।
* अगर आपकी स्कैल्प बहुत ऑयली है तो भी आलू के रस का इस्तेमाल करना चाहिए।
- See more at: http://www.wahhindi.com/potatoes-is-very-effective-for-hair-care/#sthash.HcFIJm4Z.dpuf
आलू न सिर्फ खाने में, बल्कि साफ-सफाई के साथ घर के अन्‍य कामों में भी उपयोग होता है। आपने यह तो सुना होगा कि प्याज का रस बालों के लिए बहुत फायदेमंद होता है। इसी के साथ आलू का रस भी बालों की देखभाल के लिए बहुत ही कारगर होता है।
आलू को कई लोग अवोइड करते हैं क्योंकि आलू को आमतौर पर चरबी बढ़ाने वाला माना जाता है। लेकिन आलू के कुछ ऐसे उपयोगी गुण भी हैं जिन्हें आप शायद ही जानते होंगे।
आलू के रस में पर्याप्त मात्रा में स्टार्च पाया जाता है, जिसके इस्तेमाल से बालों में मौजूद अतिरिक्त तेल साफ हो जाता है। आलू के साथ सबसे अच्छी बात यह है कि यह बहुत अधिक महंगा नहीं होता और आसानी से मिल भी जाता है।
जाने आलू के रस से बालों को धोने के और भी कुछ बेहतरीन फायदे हैं :-
* आलू उबालने के बाद बचे पानी में एक आलू मसलकर बाल धोने से बाल चमकीले, मुलायम और जड़ों से मजबूत होंगे।
* कच्चे आलू के रस से बालों को धोने पर बाल मजबूत होते हैं।
* आलू के रस से सिर में खाज, बालों का सफेद होना व गंजापन तुरन्त रुक जाता है।
*  आलू का रस बालों की ग्रोथ को बढ़ाने में सहायक होता है।
* आलू के रस से बालों का पुराना रंग हटाकर नया रंग अप्लाई कर सकते हैं। यह बालों को ब्लीच करने का काम करता है.
* नारियल तेल और जैतून के तेल में आलू के रस को मिलाकर लगाने से बालों का झड़ना कम होता है।
* अगर आपकी स्कैल्प बहुत ऑयली है तो भी आलू के रस का इस्तेमाल करना चाहिए।
- See more at: http://www.wahhindi.com/potatoes-is-very-effective-for-hair-care/#sthash.HcFIJm4Z.dpuf

सोमवार, 4 जुलाई 2016

हर मर्ज की दवाँ है कलौंजी ……

हर मर्ज की दवाँ है कलौंजी ……


कलौंजी का तेल हृदय रोग, ब्लड प्रेशर, डाइबिटीज, अस्थमा, खांसी, नजला, जोड़ों के दर्द, बदन दर्द, कैंसर, किडनी, गुर्दे की पत्थरी, मूत्राशय के रोग, मर्दाना कमजोरी, बालों के रोगों, मोटापे, याददाश्त बढाने, मुंहासे, सुंदर चेहरा, अजीर्ण, उल्टी, तेज़ाब, बवासीर, लयुकोरिया आदि गंभीर बीमारियों से एक साथ निजात दिलाने में सक्षम है।

यह अनमोल चमत्कारिक दवा ब्लैैक सीड ऑइल, जिसे कलौंजी का तेल भी कहा जाता है यह आसानी से उपलब्ध होने वाली बेहद प्रभावी और उपयोगी साबित हो सकती है। कलौंजी के तेल में मौजूद दो बेहद प्रभावकारी तत्व थाइमोक्विनोन और थाइमोहाइड्रोक्विनोन में विशेष हीलींग प्रभाव होते हैं। ये दोनों तत्व मिलकर इन सभी बीमारियों से लड़ने और शरीर को हील करने में मदद करते हैं।

किडनी के लिये

किडनी में स्‍टोन ना बनने के लिये ½ चम्‍मच कलौंजी तेल, 1 कप गरम पानी, 2 चम्‍मच शहद को मिला कर, इस मिश्रण को दिन में दो बार लें। किडनी के दर्द से छुटकारा पाने के लिये कलौंजी और शहद का सेवन करना चाहिये। इसके लिये 250 ग्राम कलौंजी और ½ कप शहद मिक्‍स कर के पेस्‍ट बनाएं और फिर 2 चम्‍मच मिश्रण को आधे कप पानी के साथ लें।

मुंहासों से निजात
2 चम्‍मच नींबू के रस में आधा चम्‍मच कलौंजी का तेल मिक्‍स कर के सुबह और रात को चेहरे पर लगाएं। इसेस त्‍वचा में निखार आएगा, गाले धब्‍बे मिटेंगे तथा मुंहासों से सुरक्षा मिलेगी। आप चाहें तो नींबू की जगह पर एप्‍पल साइडर वेनिगर भी प्रयोग कर सकती हैं।

मधुमेह से बचाव
1 कप काली चाय बना कर उसमें आधा चम्‍मच कलौंजी का तेल मिक्‍स कर के सुबह और रात में सोने से पहले पियें। आपको एक महीने में असर दिखेगा।

दिमाग बढ़ाए
10 ग्राम पुदीने की पत्‍ती को पानी में ½ tsp कलौंजी तेल के साथ उबालें। इस मिश्रण को 20-25 दिनों तक दिन में दो बार नियमित रूप से लें और रिजल्‍ट देखें।

सिरदर्द से निजात
तेजी का सिरदर्द हो रहा हो तो, माथे और कान के पास आधा चम्‍मच कलौंजी का तेल लगाएं। अगर माइग्रेन का दर्द है तो कलौंजी के तेल का नियमित सेवन करें।

अस्‍थमा का इलाज

अस्‍थमा या किसी तरीके की सांस की समस्या होने पर 1 कप गरम पानी, 1 चम्‍मच शहद, ½ चम्‍मच कलौंजी का तेल मिक्‍स कर के सुबह शाम सेवन करें। ऐसा करने से कफ और एलर्जी से भी छुटकारा मिलेगा।

हृदय के लिये
जब कलौंजी का तेल और बकरी का दूध एक साथ पिया जाता है तो हृदय मजबूत बनता है और हार्ट अटैक की बीमारी नहीं होती। इसके लिये आपको 1 कप बकरी का दूध और आधा चम्‍मच कलौंजी का तेल मिक्‍स कर के हफ्ते भर पीना होगा।

जोड़ों के दर्द से आराम दिलाए
घुटनों में दर्द हो तो आधा चम्‍मच कलौंजी का तेल, सिरका 1 कप और 2 चम्‍मच शहद मिक्‍स कर के दिन में दो बार लगा कर हल्‍के हाथों से मालिश करें।

कैंसर से बचाव

कलौंजी के तेल और अंगूर के जूस को मिला कर पीने से ब्‍लड कैंसर, आंत और गले का कैंसर नहीं होता। ½ चम्‍मच कलौंजी तेल और 1 कप अंगूर का जूस मिला कर दिन में तीन बार पियें।

आंखों की रौशनी के लिये
आंखों में लालिम, कैटरेक्‍ट और आंखों से पानी आने की समस्‍या को दूर करने के लिये ½ चम्‍मच कलौंजी का तेल और गाजर का रस दिन में दो बार पियें।

ब्‍लड प्रेशर को कम करने के लिये

½ चम्‍मच कलौंजी के तेल को गरम चाय में डाल कर दिन में दो बार पियें।

सर्दी-जुखाम के लिये
½ चम्‍मच कलौंजी तेल, 1 कप गरम पानी और उसमें 2 चम्‍मच शहद मिला कर दिन में दो बार पियें। यह मिश्रण साइनस के मरीजों को भी लाभ पहुंचाता है।

चमकदार त्‍वचा के लिये

50 ग्राम जैतून के तेल में 50 ग्राम कलौंजी का तेल मिक्‍स करें। फिर नाश्‍ते करने से पहले आधे चम्‍मच का सेवन करें। ऐसा एक हफ्ते तक नियमित करने पर आपकी त्‍वचा चमक उठेगी।

फटी एडियों को ठीक करे
2 चम्‍मच नींबू के रस में ½ चम्‍मच कलौंजी का तेल मिक्‍स कर के दिन में दो बार फटी एडियों पर लगाएं।

वजन घटाने के लिये

½ चम्‍मच कलौंजी के तेल में 2 चम्‍मच शहद मिला कर इसे हल्‍के गरम पानी के साथ पियें। इस मिश्रण को दिन में तीन बार लें।

बुखार का चढ़ना व उतरना

यदि बार-बार बुखार चढ़ता-उतरता है तो इस समस्या से निजात पाने के लिए कलौंजी को पीसकर चूर्ण बना लें और उसमें गुड मिलाकर लड्डू की तरह बनाकर सेवन करें। आपको इस समस्या से फायदा होगा।

गंजेपन से मुक्ति
कलौंजी के पाउडर को सरसों के तेल के साथ मिलाकर सिर पर नियमित लगाने से गंजापन दूर होता है।

सूजन में राहत
कलौंजी के तेल को नियमित लगाने से पैरों और हाथों की सूजन दूर होती है। साथ ही यह चर्म रोग को भी दूर करता है।

शरीर में ऊर्जा भरे
थकान और कमजोरी दूर करने के लिये संतरे के 1 गिलास जूस में आधा चम्‍मच कलौंजी तेल मिक्‍स कर के रोज पियें। आपके शरीर में ताकत भर उठेगी।

पथरी से राहत

कलौंजी पथरी से निजात दिलावाने की अचूक औषधि है। पथरी को गलाने के लिए पानी में कलौंजी को पीस लें और इसे शहद के साथ मिलाकर सेवन करें।

बाल झड़ने से रोके

यदि बाल झड़ रहे हों तो कलौंजी को अच्छे से पीसकर उसका बारीक लेप बना लें और इस लेप को पूरे सिर पर अच्छे से लगायें। कुछ दिनों तक नियमित इस प्रयोग को करने से बाल गिरने कम हो जाएगें।

बवासीर में कलौंजी
बवासीर की परेशानी होने पर कलौंजी को अच्छे से जलाकर राख बना लें। और उस राख को बवासीर के मस्सों पर लगा लें।

पेट दर्द के लिये
½ कलौंजी का तेल, थोडा सा काला नमक और आधा गिलास गरम पानी ले कर दिन में दो या तीन बार पियें।

कलौंजी उनी कपड़ों को कीडे़ लगने से बचाती है। उनी कपड़ों के बीच में कलौंजी डाल दें इससे कपड़ों पर कभी कीड़े नहीं लगेंगे।

कलौंजी का तेल कहाँ मिलेगा :

कलौंजी का तेल किसी भी मेडिकल स्टोर या पंसारी के पास से आसानी से उपलब्ध हो जायेगा. इसका 100 मि.ली. का  मूल्य 100 से 200 रुपये तक ही होता है। एक व्यक्ति के लिए एक शीशी 6 महीने तक चल जाएगी।

बुधवार, 28 दिसंबर 2016

जैतून का तेल (ऑलिव ऑइल) के सौंदर्य लाभ

जैतून का तेल (ऑलिव ऑइल) के सौंदर्य लाभ


हम बात कर रहे हैं ऑलिव ऑइल की, जो ब्यूटी ही नहीं, सेहत भी बनाता है। साधारण कुकिंग ऑइल के मुकाबले ऑलिव ऑइल कई गुणों से भरपूर है। यह एनर्जी का एक बड़ा स्रोत है। इसमें विटामिन A, D, E और K के अलावा कार्बोहाइड्रेट, प्रोटीन, अल्फा लिनोलिक एसिड, ओलेइक एसिड, ओमेगा-9 फैटी एसिड और पॉलीअनसैचुरेटेड फैटी एसिड पाया जाता है, जो कैंसर, दिल संबंधी बीमारी, हड्डियों से जुड़े रोग, डायबिटीज आदि में भी फायदेमंद है। ऑलिव ऑइल या जैतून का तेल छोटे, नवजात बच्चों से लेकर बड़े-बुजुर्गों तक के लिए काफी फायदेमंद होता है। इसका इस्तेमाल खाने के साथ ही शरीर की सुंदरता को बरकरार बनाए रखे में भी किया जाता है। आइये जानते हैं किस तरह ऑलिव ऑइल रखे आपकी सुंदरता बरक़रार

एक मॉइस्चराइजर की तरह 

ऑलिव ऑइल स्वास्थ्य और सौंदर्य के लिए काफी लाभदायक है सूखी त्वचा को नमी प्रदान करने के लिए ऑलिव ऑइल बहुत अच्छा माध्यम है। ऑलिव ऑयल त्वचा को अंदर से नमी प्रदान करता है और उसे सुन्दर और मुलायम बनाता है। ऑलिव ऑइल और शुद्ध पानी को एक समान मात्रा में मिला लें, इसे एक जार में भरकर अच्छी तरह से बंद कर दें। अब इसे अच्छे से मिलाने के लिए इस जार को अच्छे से हिलाएं। इस मिश्रण को अपने चेहरे पर लगाएं और 10 से 15 मिनट के बाद चेहरे को गुनगुने पानी से धो लें।

चेहरे की रंगत निखारने में 

ऑलिव ऑइल त्वचा की रंगत निखारने में भी मदद करता है। 2 चम्मच ऑलिव ऑइल को 1 अंडे के पीले भाग एवं आधे चम्मच शहद के साथ अच्छी तरह से मिला लें। इन्हें अच्छे से फेंटकर एक पेस्ट बनाएं। अब इस पेस्ट को त्वचा पर लगाएं और 15 से 20 मिनट तक रहने दें। फिर गुनगुने पानी से इसे धो लें। यह पेस्ट चेहरे के सांवलेपन को कम करने में काफी असरदार है और यह त्वचा की नैचुरल टोन को बनाए रखने में मदद करता है।

बालों के लिए ऑलिव ऑइल का इस्तेमाल 

ऑलिव ऑइल का नमी प्रदान करने वाला गुण सूखे बालों को नमी देकर एक अलग ही चमक देता है। बालों का सूखापन एवं उससे जुडी अन्य समस्याएं जैसे कमज़ोर एवं टूटे बाल भी ऑलिव ऑइल का इस्तेमाल करके पूरी तरह ठीक किये जा सकते हैं। सूखे बालों को पोषण देने के लिए ऑलिव ऑइल को गर्म करें और अपने बालों को गर्म तेल की मसाज दें। पर ध्यान रखें कि ऑलिव ऑइल को बहुत ज्यादा गर्म ना करें, ज़्यादा गर्म करने से यह अपने गुण खो सकता है।

एक कटोरी में 5 चम्मच ऑलिव ऑइल और 1 चम्मच शहद डालें। फिर इसे गुनगुना करें । “ध्यान रखें इसे सीधे गर्म न करें बल्कि इस कटोरी को एक अलग बर्तन में रखें जिसमें पानी भरा हो और यह पानी उबल रहा हो।” इस मिश्रण को अपने बालों पर लगाएं और 1 से 2 मिनट तक सिर की मालिश करें। अब इसे 30 मिनट तक छोड़ दें और फिर एक माइल्ड शैम्पू और सादे पानी से इसे धो लें। या फिर एक बर्तन में अंडे के पीले भाग, शहद और जैतून के तेल को अच्छे से मिला लें। इस मिश्रण को अपने बालों के सिरे पर से जड़ों तक लगाएं। इसे 20 मिनट तक छोड़ दें और फिर शैम्पू से इसे अच्छे से धो लें। यह हेयर मास्क बालों का सूखापन हटाने में सहायता करता है । यह आपके बालों में चमक लाकर इन्हें नरम भी बनाता है।

उलझे हुए और कर्ली बालों के लिए

कर्ली और काफी उलझे हुए बालों को सुलझाने और इन्हें खूबसूरती प्रदान करने के लिए जैतून का तेल सबसे बेहतरीन उत्पाद है। अपने बालों को कंघी करने से पहले बालों में थोड़ा सा जैतून का तेल लगाएं। यह बालों को सुलझाने में आपकी काफी मदद करेगा और आपके बेजान बालों में चमक भी भरेगा। ध्यान रखें कि बालों में ज़्यादा तेल ना लगाएं क्योंकि इससे बाल ज़्यादा तैलीय और चिपचिपे हो जाते हैं।

नाखूनों को मजबूत करे 

खुरदरे क्‍यूटिकल्‍स और बेढंगे नाखूनों को मजबूती देने और इन्हें सुंदर बनाने में ऑलिव ऑयल मददगार हो सकता है। करीब आधे घंटे के लिए ऑलिव ऑयल में नाखूनों को डुबोकर रखें। इससे नाखून और क्‍यूटिकल्‍स नरम और लचीले हो जाएगें। यह किसी भी क्रीम से बेहतर काम करेगा। आप चाहें तो पैरों को साफ करके ऑलिव ऑयल से मसाज करें और मोजे पहन कर सो जाएं। इससे आपके पैर नरम और निखरी रंगत के हो जाएगें।

झुर्रियां कम करे  

नींबू में रस में ऑलिव ऑयल मिला कर चेहरे की मालिश करें, इससे ना सिर्फ झुर्रियां खत्म होंगी, बल्कि चेहरे की रंगत में भी निखार आएगा।

होठों के लिए स्क्रब  

ऑलिव ऑइल में जरा सी शक्कर के दाने मिलाएँ और फिर इसे हल्के-हल्के हाथों से होठों पर मलें। रुखे, बेजान, फटे होठों पर ऑलिव ऑयल कि हल्‍की मालिश सुबह शाम करें। इससे आपके होंठ कोमल हो जाएगें।

स्ट्रेच मार्क्स दूर करे

ऑलिव ऑयल स्ट्रेच मार्क्स को दूर कर स्किन को टाइट करता है। यह ढीली पड़ी स्किन को टाइट करने के साथ ही रंग भी साफ करता है।

ग्लोइंग स्किन पायें 

ऑलिव ऑयल शरीर को हेल्दी और बीमारियों के दूर करने के साथ-साथ स्किन को ग्लोइंग भी बनाता है। यह ऑयल एक नेचुरल मॉइश्चराइज़र की तरह है, जो त्वचा पर लगाने से स्किन को मुलायम बनाता है। 

कोहनी से कालापन हटाये

ऑलिव ऑयल और नींबू मिलाकर कोहनी पर अच्‍छी तरह रगड़ें। इससे कोहनी का कालापन और रुखापन दूर होगा। आपकी कोहनी और हाथ की रंगत एक समान नजर आने लगेगी।

बुधवार, 3 अगस्त 2016

स्ट्रैच मार्क्स से पाएं छुटकारा

स्ट्रैच मार्क्स से पाएं छुटकारा


क्या आपके शरीर पर स्ट्रैच मार्क्स हैं और लाख उपाय के बाद भी वह जाने का नाम नहीं ले रहें हैं। तो फिर इसको हटाने के लिए आज से ही अपनी त्वचा की सही तेल से मालिश और पौष्टिक आहार लेना शुरु कर दें। यह स्ट्रैच मार्क्स किसी भी उम्र में हो सकता है और खासकर देखा यह गया है कि यह आमतौर पर प्रेगनेंसी के बाद महिलाओं में हो जाता है। सही त्वचा पाने के लिए आपको अपने आहार में विटामिन सी और ए लेने की जरुरत है। आज हम आपको स्ट्रैच मार्क्स को हटाने के लिए कुछ तेल बनाना बताएगें जिससे मालिश कर के आप इनसे छुटकारा पा सकती हैं।

गर्भावस्था किसी भी महिला के लिए काफी ख़ास लम्हा होता है क्योंकि वह 9 महीने धैर्य रखकर अपने बच्चे को जन्म देती है। गर्भावस्था का हर कदम काफी ख़ास होता है और यह माँ और शिशु के सम्बन्ध को मज़बूत करता है। पर कहते हैं कि कुछ पाने के लिए कुछ खोना पड़ता है और कुछ कुर्बानियां भी देनी पड़ती हैं। गर्भावस्था के समय पेट के पास स्ट्रेच मार्क्स का होना उन्हीं में से एक है और यह गर्भाशय में बच्चे के बढ़ने की वजह से होता है। डिलीवरी होने के बाद भी ये स्ट्रेच मार्क्स रह जाते हैं।
गर्भधारण के समय अधिक वज़न बढ़ने या घटने की समस्या भी सामने आती है। वज़न बढ़ने के साथ ही त्वचा में खिंचाव आता है जिससे स्ट्रेच मार्क्स होते हैं। गर्भावस्था के अलावा काफी समय तक स्ट्रेच करने वाली कसरत करने की वजह से भी स्ट्रेच मार्क्स होते हैं। ये मार्क्स तो समय के साथ जल्दी चले जाते हैं परन्तु गर्भावस्था के स्ट्रेच मार्क्स लम्बे समय तक रहते हैं। इन्हें हटाने के लिए कुछ ज़रूरी कदम लिए जाने आवश्यक हैं। आप स्ट्रेच मार्क्स हटाने के लिए कुछ घरेलू नुस्खे इस्तेमाल कर सकते हैं। स्ट्रेच मार्क्स कैसे दूर करें :-
स्ट्रेच मार्क्स दूर करने के घरेलू उपाय :
1. एलोवेरा जेल से देसी इलाज 
एलो वेरा एक आसानी से उपलब्ध होने वाला पौधा है जिसकी पत्तियों में एक जेल जैसा तरल पदार्थ होता है।आप पत्तियों को दो भागों में तोड़कर उससे जेल निकाल सकते हैं। अब इस जेल को स्ट्रेच मार्क्स पर लगाएं और आप देखेंगे कि आपके मार्क्स काफी तेज़ी से कम हो रहे हैं।
2. मक्खन 
आपने बॉडी लोशन में शीया मक्खन की मात्रा देखी होगी और आप विश्वास नहीं करेंगे कि मक्खन में घाव भरने के अदभुत गुण होते हैं। अगर गर्भधारण की वजह से आपको स्ट्रेच मार्क्स की समस्या है तो शीया मक्खन एक बेहतरीन विकल्प है। आप इसे आसानी से बाज़ार और कॉस्मेटिक की दुकानों पर प्राप्त कर सकते हैं। क्योंकि ये मक्खन प्राकृतिक तत्वों से निकाला जाता है अतः इसे लगाने के बाद आप पाएंगे कि आपकी त्वचा नरम मुलायम हो गयी है और त्वचा में नयी जान आ गयी है।
3. खिंचाव के निशान – तेल 
गर्भावस्था के तीन महीने होने से पहले अगर आप सारे पेट में तेल लगाकर धीरे धीरे रगड़ें तो इससे स्ट्रेच मार्क्स बढ़ने का ख़तरा कम हो जाएगा। पेट के अलावा आप अपनी जाँघों और छाती को भी तेल की मालिश दे सकते हैं जिससे की स्ट्रेच मार्क्स का खतरा टाला जा सके। कई प्रकार के तेलों में से अपना मनपसंद तेल चुन सकते हैं:-
A. अरंडी का तेल
B. बादाम का तेल
C. नारियल का तेल
D. जैतून का तेल
E. विटामिन इ का तेल
F. नीम्बू का रस
नीम्बू का रस आपकी त्वचा के स्ट्रेच मार्क्स हटाने में काफी बड़ी भूमिका निभाता है। यह प्राकृतिक रूप से अम्लीय होता है तथा स्ट्रेच मार्क्स, दाग और एक्ने को प्रभावी रूप से दूर करता है। एक ताज़ा नीम्बू लें और इसके दो टुकड़े करें। अब स्ट्रेच मार्क्स के ऊपर नीम्बू का रस गोलाकार मुद्रा में रगड़ें। इसे अपनी त्वचा पर 10 मिनट के लिए छोड़ दें। इसके बाद इसे गर्म पानी से धो लें। वैकल्पिक तौर पर खीरे और नीम्बू के रस को बराबर मात्रा में लेकर एक मिश्रण तैयार करें। इस मिश्रण का प्रयोग अपने स्ट्रेच मार्क्स पर करें।
तेल की ज़रूरी मालिश 
इस तरीके का प्रयोग सदियों से स्ट्रेच मार्क्स हटाने के लिए किया जाता है। एक एसेंशियल ऑइल लें और इसे बादाम या नारियल के तेल के साथ मिश्रित करें। इस मिश्रण का प्रयोग प्रभावित भागों पर करें और त्वचा में बदलाव देखें। आप अब बाज़ार में कई प्राकृतिक तेल प्राप्त कर सकते हैं। इनमें मुख्य हैं नारियल का तेल, जैतून का तेल, बादाम तेल आदि। इनमें से किसी भी एक का प्रयोग करें और स्ट्रेच मार्क्स पर लगाएं। क्योंकि इन मार्क्स में सही पोषक तत्व जाते हैं, अतः इनके ठीक होने की प्रक्रिया तेज़ होती है। इस तेल से अच्छे से आधे घंटे तक मालिश करें और स्ट्रेच मार्क्स को गायब होता पाएं।
पानी :
स्ट्रेच मार्क्स कम करने के लिए शरीर में पानी की सही मात्रा का होना आवश्यक है। शरीर को हाइड्रेट रखने के लिए रोज़ाना काफी मात्रा में पानी पियें।
मॉइस्चराइज़र :
त्वचा में मॉइस्चराइज़र लगांने से भी काफी फायदा मिलता है। त्वचा के हिसाब से मॉइस्चराइज़र चुनें। अगर आपकी त्वचा सूखी है तो कोको युक्त मॉइस्चराइज़र चुनें और तैलीय त्वचा वाले एलो वेरा के मॉइस्चराइज़र चुन सकते हैं। वीट जर्म आयल,एलो वेरा जेल और जैतून का तेल बराबर मात्रा में मिलाकर उसमें थोड़ी मिटटी मिलाएं और तैलीय त्वचा पर लगाएं। अगर आपकी त्वचा सूखी है तो इस नुस्खे का प्रयोग ना करें।
ग्लाईकोलिक एसिड :
ग्लाईकोलिक एसिड से त्वचा में कोलेजन का उत्पादन अच्छे से होता है। यह त्वचा की लोच में वृद्धि करती है और स्ट्रेच मार्क्स को ढकती है। ग्लाईकोलिक एसिड एक अल्फा हाइड्रोक्सी एसिड है और इसमें छीलने के गुण होते हैं। आप ग्लाईकोलिक एसिड की दवाइयां बाज़ार से प्राप्त कर सकते हैं। इनका प्रयोग करने से पूर्व डॉक्टर से सलाह कर लें।
विटामिन इ का तेल :
विटामिन इ आपके स्ट्रेच मार्क्स को गायब कर देता है। विटामिन इ के तेल को किसी भी मॉइस्चराइजर के साथ मिलाएं और इनका प्रयोग स्ट्रेच मार्क्स पर करें। इस मिश्रण का प्रयोग सामान्य भाव से करें। इससे आपको मार्क्स पर बेहतरीन प्रभाव नज़र आएँगे। विटामिन इ की दवाइयों से विटामिन इ प्राप्त करें। इस मिश्रण में मॉइस्चराइजर आपकी त्वचा पर बेस के रूप में काम करेंगे। वैकल्पिक तौर पर आप कैस्टर ऑइल की मदद से मार्क्स पर मालिश कर सकते हैं।
खूबानी का मास्क :
आप घर पर खूबानी का स्क्रब बना सकते हैं। इसके लिए आपको खूबानी और गुनगुना पानी चाहिए। सबसे पहले खूबानी को काटकर उसका बीज निकालें। अब इस फल को ब्लेंडर में पीसकर उसका पेस्ट बनाएं। अब इस पेस्ट को त्वचा पर लगाएं और 15-20 मिनट तक रखें।इसके बाद त्वचा को गुनगुने पानी से धो लें।
अंडे की सफेदी :
अंडे की सफेदी प्रोटीन से युक्त होती है। अंडे की सफेदी का प्रयोग स्ट्रेच मार्क्स पर करने से त्वचा में नयी जान आती है। यह आपकी त्वचा पर काफी चमत्कारी सिद्ध होती है और इसे तरोताजा बनाकर रखती है। अंडे की सफेदी का प्रयोग स्ट्रेच मार्क्स पर दिन में 1 से 3 बार करने का प्रयास करें। यह आपकी त्वचा को साफ़ करता है तथा स्ट्रेच मार्क्स को दूर करता है। यह आपकी त्वचा के स्वास्थ्य में वृद्धि करता है और आप इसके प्रयोग से स्ट्रेच मार्क्स को धीरे धीरे गायब होता हुआ महसूस कर सकती हैं।
आलू का रस :
ऐसा कोई भी घर नहीं होगा, जहां आलू की खपत ना होती हो। अतः जब भी आप अपनी त्वचा को स्ट्रेच मार्क्स से रहित बनाना चाहें तो एक आलू लें, इसकी त्वचा छीलें और इसके छोटे टुकड़े करें। इसके बाद आलू को एक मिक्सर में पीस लें और इसका रस निकाल लें। आलू का गूदा भी उस जगह लगाया जा सकता है, जिधर आपको स्ट्रेच मार्क्स दिख रहे हों। आप आलू का रस निकालकर भी इसे स्ट्रेच मार्क्स पर लगा सकती हैं। इस रस को 5 से 10 मिनट के लिए त्वचा पर रखें और इसके बाद इसे अच्छे से धो लें। इसे हलके गर्म पानी से धोना भी काफी ज़रूरी है। आपको कुछ ही महीनों में फर्क पता चल जाएगा। क्योंकि स्ट्रेच मार्क्स दूर करने वाली क्रीम्स और लोशंस काफी महँगी होती है, अतः घरेलू नुस्खे ही श्रेष्ठ हैं। ऊपर दिए गए घरेलू नुस्खों के अलावा आलू का गूदा सबसे सस्ता और आसानी से उपलब्ध होने वाला उपाय है। आलू में पोलीफेनोल्स, फाइटोकेमिकल्स और कैरोटेनॉयड्स होते हैं, अतः इसकी मदद से स्ट्रेच मार्क्स से मुक्त त्वचा पाना काफी आसान है।
खानपान :
गर्भावस्था के समय माँ और बच्चे को ना सिर्फ स्वस्थ रखने के लिए, बल्कि स्ट्रेच मार्क्स दूर करने के लिए भी स्वास्थ्यकर खानपान की आवश्यकता होती है। जिंक, आयरन, विटामिन के, विटामिन सी आदि से भरपूर भोजन करें। इन खाद्य पदार्थों से आपकी त्वचा स्वस्थ रहेगी और स्ट्रेच मार्क्स नहीं आ पाएंगे। नट्स, लीन प्रोटीन्स, फलों और हरी सब्जियों का सेवन करें।
स्ट्रेच मार्क्स की स्क्रबिंग :
अगर आप पहले से ही स्ट्रेच मार्क्स से प्रभावित हैं तो इसे हटाने के अलावा आपके पास कोई और विकल्प उपलब्ध नहीं है। आपकी डिलीवरी और दर्द के समाप्त हो जाने के बाद स्क्रबर या किसी अच्छी मृत कोशिकाएं हटाने वाली क्रीम की मदद से स्ट्रेच मार्क्स को स्क्रब करना शुरू कर दें। जब भी आप स्नान करने जाएं तो एक्सफोलिएट क्लोथिंग, लूफा या दस्तानों की मदद लें। आप किसी नमीयुक्त साबुन का भी प्रयोग कर सकती हैं, जिससे आपके शरीर के भाग धीरे धीरे साफ़ होते हैं और स्ट्रेच मार्क्स दूर होते हैं।एक्सफोलिएट बनाने के लिए 2 चम्मच चीनी को 4 चम्मच वनस्पति तेल के साथ मिलाएं। इसे स्ट्रेच मार्क्स पर लगाएं और हलके से रगडें। अगर आप इस विधि का प्रयोग हर रात कर सकें तो आपके स्ट्रेच मार्क्स पूरी तरह दूर हो जाएंगे।
व्यायाम :
गर्भावस्था के समय के दौरान व्यायाम करना काफी कठिन कार्य होता है। पर इस समय के समाप्त होने के बाद से ही सामान्य स्ट्रेच व्यायाम करना शुरू कर दें। यह आपके शरीर की शक्ति और लचक बढ़ाने का काफी असरदार तरीका है। यह सबसे पहले आपके स्ट्रेच मार्क्स को पेट के भाग से गायब कर देता है, और इसके बाद इसे जड़ से ही हटा देता है। आपकी त्वचा में काफी लचक आ जाएगी, जिससे आप आसानी से चलने, कूदने या विभिन्न मुद्राओं में बैठने की क्रियाओं को संपन्न कर सकेंगी। ढीली त्वचा को कसना भी इससे मुमकिन है। त्वचा में बदलाव होने की वजह से स्ट्रेच मार्क्स आते हैं। अगर आपका वज़न अचानक बढ़ा या घटा है तो इससे भी स्ट्रेच मार्क्स आते हैं। आमतौर पर गर्भावस्था के समय महिलाओं का वज़न काफी बढ़ता है, जिससे स्ट्रेच मार्क्स आ जाते हैं। इन मार्क्स को अच्छी विधियों का प्रयोग करके आसानी से हटाया जा सकता है। इन स्ट्रेच मार्क्स को दूर करने की कई शल्य क्रिया आधारित विधियां भी होती हैं, पर इनमें ख़तरा काफी होता है। अतः आपके लिए यही अच्छा होगा कि आप स्ट्रेच मार्क्स को घरेलू नुस्खों से ही ठीक करें।
शहद :
शहद में एंटीसेप्टिक गुण होते हैं, जो स्ट्रेच मार्क्स का इलाज करने में सहायक होते हैं। एक कपड़े का टुकड़ा लें और इसमें शहद लगाएं। इस कपड़े को स्ट्रेच मार्क्स पर लगाएं। इसे सूखने तक छोड़ दें। इसके बाद इसे गर्म पानी से धो लें। आप शहद के स्क्रब का प्रयोग भी कर सकते हैं और स्ट्रेच मार्क्स पर शहद और नमक के स्क्रब का प्रयोग करें। इसमें ग्लिसरीन का भी मिश्रण करें और स्ट्रेच मार्क्स पर लगाएं। इसे 5 मिनट तक सूखने के लिए छोड़ दें और फिर पानी से धो लें।
चीनी का एक्सफोलिएट :
चीनी स्ट्रेच मार्क्स का इलाज करने का काफी बेहतरीन प्राकृतिक नुस्खा है। चीनी की मदद से त्वचा की मृत त्वचा निकालें और स्ट्रेच मार्क्स को दूर करें। एक चम्मच चीनी में थोड़ा सा बादाम का तेल और थोड़ा सा नींबू का रस मिलाएं। इन्हें अच्छे से मिश्रित करें और स्ट्रेच मार्क्स तथा शरीर के अन्य भागों पर लगाएं। इस मिश्रण को त्वचा पर रोज़ाना कुछ मिनट तक नहाने से पहले घिसें। इसे एक महीने तक दोहराएं और एक महीने के अन्दर आप पाएंगे कि आपके स्ट्रेच मार्क्स हल्के हो गए हैं।
हल्दी और चन्दन :
सदियों से हल्दी और चन्दन का प्रयोग त्वचा की देखभाल के लिए किया जाता है। यह मिश्रण त्वचा के स्वरुप को गोरा और समान बनाने के लिए जाना जाता है। इन उत्पादों का अगर काफी समय तक इस्तेमाल किया जाए तो स्ट्रेच मार्क्स की समस्या से मुक्ति पाई जा सकती है। चन्दन के पत्थर को पानी की मदद से घिसकर इसका पेस्ट बनाएं। 2 इंच ताज़ी हल्दी की जड़ को पीसकर एक महीन पेस्ट तैयार करें। इन दोनों उत्पादों को मिश्रित करके स्ट्रेच मार्क्स पर लगाएं। इसे तब तक रखें जब तक ये 60 % सूख ना जाए। इसके बाद त्वचा को इस पैक से तब तक स्क्रब करें, जब तक ये सूख ना जाए और खुद से निकलने ना लगे। इस उपचार का प्रयोग कम से कम 6 महीने तक दिन में एक बार करें और त्वचा में आया निखार देखें।
दूध, चीनी का स्क्रब और हरा नारियल पानी :
स्ट्रेच मार्क्स को स्क्रब करने से त्वचा में नयी जान आती है और यह स्ट्रेच मार्क्स को दूर करने का काफी बेहतरीन उपाय है। यह स्क्रब त्वचा की रंगत को गोरा करने का काम करता है। हरे नारियल पानी में रोजाना प्रयोग करने से त्वचा के दाग धब्बे हटाने की भी क्षमता होती है, अतः इनकी मदद से स्ट्रेच मार्क्स दूर करना काफी आसान होता है। इसकी विधि नीचे दी गयी है।
स्क्रब बनाएं 
2 चम्मच कच्चा दूध लें, इसमें खीरे के रस की कुछ बूँदें और नींबू के रस की कुछ बूँदें मिलाएं। इस मिश्रण में आधा चम्मच चीनी के दाने मिलाएं और इसकी मदद से गोलाकार मुद्रा में त्वचा के प्रभावित भाग को स्क्रब करें। कम से कम 5 मिनट तक छोटा अंतराल लेकर स्क्रब करते रहें। अंत में इसे पानी से धो लें। हफ्ते में 3 बार से ज्यादा स्क्रबर का प्रयोग ना करें।
हरे नारियल के पानी का वाश 
एक बार जब आपने प्रभावित भाग की त्वचा को स्क्रब कर लिया और सादे पानी से इसे धो लिया तो इसके बाद एक नर्म सूती के कपड़े से इसे अच्छे से सुखा लें। स्ट्रेच मार्क्स पर अच्छे से हरे नारियल के पानी का प्रयोग करें। इसे पूरी तरह सूखने दें। एक बार जब आपको त्वचा पर खिंचाव का अहसास होने लगे तो इसपर नारियल पानी को हटाए बिना एलो वेरा जेल या शे बटर का प्रयोग करें। सबसे पहले नारियल पानी से चेहरा धोएं और इसके बाद मोइस्चराइज़र का प्रयोग करें। इस प्रक्रिया का प्रयोग दिन में 2 से 3 बार करें, हालांकि इससे ज्यादा इस्तेमाल करने पर भी कोई हानि नहीं है।

स्ट्रैच मार्क्स हटाने के लिए प्रभावी तेल:
1. 
स्ट्रैच मार्क्स वाले स्थान पर 2 चम्मच बादाम तेल के साथ 1 चम्मच वीट जर्म तेल मिलाएं। अब उसमें 5 बंदें गुलाब के तेल और मेहदीं के तेल की डाल दें। अब इस मिश्रण से 15-20 मिनट मालिश करें।
2. 
10 बूंदें मेंहदी और 2 चम्मच बादाम के तेल को मिलाएं और हल्के हाथों से स्ट्रैच मार्क्स पर तब तक मालिश करें जब तक त्वचा सारा तेल सोख न ले।
3. 
स्ट्रैच माक्स के निशान के इलाज के लिए एक और प्राकृतिक उपाय यह भी है कि जैतून के तेल की कुछ बूंदों के साथ 5 बूँदें लैवेंडर के तेल की मिला दें और फिर मालिश करें।
4. 
3 चम्मच जोजोबा तेल, 10 बूँदें पचौली तेल और 5 बूँदें लैवेंडर की लें कर शरीर पर पूरे 15 मिनट तक मालिश करें।
5. 
खुबानी, जिसको हम ऐप्रीकोट के नाम से जानते हैं, इसको लेवेंडर के तेल के साथ मिला कर मालिश करने से फायदा होता है।