क्‍वेरी झुर्रियों की प्रासंगिकता द्वारा क्रमित पोस्‍ट दिखाए जा रहे हैं. तारीख द्वारा क्रमित करें सभी पोस्‍ट दिखाएं
क्‍वेरी झुर्रियों की प्रासंगिकता द्वारा क्रमित पोस्‍ट दिखाए जा रहे हैं. तारीख द्वारा क्रमित करें सभी पोस्‍ट दिखाएं

बुधवार, 26 अक्तूबर 2016

पैरों की झुर्रियों हटाने के उपाय

पैरों की झुर्रियों हटाने के उपाय

उम्र बढ़ने का सबसे पहला संकेत होता है झुर्रियों का आना। जब उम्र बढ़ती है तब हमारे शरीर की त्वचा की कसावट ढ़ीली होती चली जाती है। जिससे हमारी त्वचा पर झुर्रियां आने लगती है। और धीरे-धीरे त्वचा लटकने से आप बूढ़े दिखने लगते हो। चेहरे के साथ पैरों पर भी झुर्रियों के असर से भी उम्र अधिक लगती है। जब पैरों की त्वचा रूखी होती है तब झुर्रियां पड़ने लगती है। इसके अलावा पैरों के तलावों पर भी दरार पड़ जाती है। लेकिन अब आप पैरों की झुर्रियों को पूरी तरह से खत्म करने के लिए अपने घर पर ही बना सकते हैं कुछ आसान औषधियां।
पानी
अक्सर जब हम समय और काम के बीच फंस जाते हैं तब हम अपने पर ध्यान देना बंद कर देते है। जिसका पता हमें तब चलता है जब पैरों पर झुर्रियां पड़ने लगती है। पानी जितना हो सके दिन में खूब पीएं। कम से कम 6 और अधिक से अधिक 8 गिलास पानी जरूर पीएं। पानी पीने से त्वचा में कसावट आती है और झुर्रियां ठीक होती है।
खाने में ये चीजें खाएं
हमारी त्वचा पर सबसे अधिक फर्क पड़ता है खाने-पीने वाली चीजों से। इसलिए आप अपने खान-पान में मौसम में उपल्ब्ध होने वाले हर तरह के फल और सब्जियों का सेवन करें। और कृपय जितना हो सके जंक फूड यानि पिज्जा और बर्गर के सेवन से बचें।
शीया बटर
शीया बटर भी त्वचा की झुर्रियों को ठीक करता है। पैरों की झुर्रियों को दूर करने के लिए शीया मक्खन की मालिश पैरों पर करें। इससे पैरों की त्वचा में कसावट आती है और पैर मुलायम होते हैं। इस घरेलु उपचार को मीहने में दस से 15 बार करें।
जैतून तेल
झुर्रियों को कम करने और उन्हें हटा देने का सबसे बेहतर घरेलु उपाय है जैतून के तेल का इस्तेमाल करना। रात को सोने से पहले जैतून के तेल की मालिश पैरों पर करें। यह तेल आपकी त्वचा को नम रखने के साथ त्वचा की गहराईयों में जाकर उसे टाइट बनाता है। जैतून का तेल लगाने से त्वचा का रूखापन भी दूर होता है।
एवोकैडो
यह एक प्राकृतिक औषधि है। इससे पैरों की त्वचा में कसावट आती है। जैतून के तेल में थोड़े से एवोकैडो और शहद को मिला लें और इसे मिक्स करके पेस्ट तैयार कर लें। और इसको पैरों के तलवों और त्वचा पर पड़ी झुर्रियों पर लगाएं। इससे आपको फायदा मिलेगा।
ड्राई फ्रूटस
ड्राई फ्रूटस में विटामिन ई अधिक मात्रा में पाया जाता है जो त्वचा पर झुर्रियों को नहीं पड़ने देता है। इसलिए आप अपने खाने में मूंगफली, बादाम, अखरोट और सौंफ आदि का सेव करें। कुछ ही महीनों में आपको इसका असर भी दिखने लग जाएगा।
फलों का पेस्ट
पैरों की झुर्रियों को मिटाने के लिए आप अनानास और पपीते के पेस्ट का प्रयोग कर सकते हैं। पपीता और अनानास को काटकर बराबर मात्रा में किसी कटोरे में रखें। और इसमें उपर से एक चम्मच शहद मिला लें। इसके बाद इसे अच्छी तरह से पीसकर पेस्ट बना लें। और पैरों की त्वचा के उपर और नीचें इस पेस्ट को लगाएं। तीस मिनट के बाद पैरों को धो लें। इस घरेलु नुस्खे को सप्ताह में दो बार जरूर लगाएं।

रविवार, 27 नवंबर 2016

जानिए झुर्रियों को मिटाने के घरेलु उपाय

जानिए झुर्रियों को मिटाने के घरेलु उपाय


भौतिक दुनिया और विज्ञापनों से अत्यधिक प्रभावित लोगों को जवाँ त्वचा का सपना दिखाया जाता है। जीवन जितना बड़ा सच है उससे छोटी मौत नहीं है। जिंदगी को अगर शुरूआत की संज्ञा दी जा सकती है तो मृत्यु को अंत की। इस सच्चाई को जानने के बाद भी लोगों में हमेशा जवाँ रहने की तमन्ना देखी जाती है। उनकी इस तमन्ना की एक बाधक उम्र के साथ चेहरों पर दिख रही झुर्रियाँ होती है।

त्वचा पर झुर्रियों का दिखना मतलब बुढ़ापे की दस्तक। त्वचा में मौजूद कोलाजेन उम्र बढ़ने के साथ कम होने लगता है। इसका ही परिणाम होता है कि त्वचा पर झुर्रियां नज़र आती हैं। हालांकि, झुर्रियां आना बायोलॉजिकल प्रोसेस है लेकिन त्वचा की सही देखभाल न होने पर समय से पहले ही झुर्रियां नज़र आने लगती हैं।

त्वचा पर झुर्रियों के आने का कारण :

बढ़ी उम्र, धूम्रपान, फ्री रेडिकल्स, धूप में ज्यादा रहना, तनाव-पोषण का अभाव डिहाइड्रेशन इत्यादि उन कारणों में शामिल हैं जिनके कारण त्वचा झुर्रियों में रूपांतरित होने लगती है।

क्या हैं झुर्रियों के लक्षण

माथे पर लकीरों का उभार, आँखों के आस पास सिलवटें नजर आना, होंठो के पास महीन रेखाएं और चेहरा का बेजान-सा दिखना।

झुर्रियों से छुटकारा – घरेलू उपाय

2 बड़े चम्मच शहद, 4 बड़े चम्मच दूध का पाउडर, और 2 बड़े चम्मच गर्म पानी। सभी को मिलाकर चेहरे और गर्दन पर लगाएं। शहद से चेहरे पर निखार आता है और दूध के पाउडर से चेहरा मुलायम और झुर्री मुक्त होगा।

अनानास
अनानास में विटामिन-सी पाया जाता है जो त्वचा के लिए बहुत अच्छा है, खासकर झुर्रियों वाली त्वचा के लिए। अनानस के पल्प को 10 मिनट चेहरे पर लगाएं और चेहरा धो दें। अनानास का रस भी इस्तेमाल किया जा सकता है।

बादाम का तेल
बादाम का तेल भी झुर्रियां हटाने में कारगर है। रोज रात में बादाम के तेल से चेहरे की मसाज करें। इस तेल से आँखों के काले घेरे भी कम हो जाते हैं।

केला
पके हुए केले को अच्छी तरह मसलकर क्रीम जैसी कंसिस्टेंसी बनाएं। आधा घंटा चेहरे पर लगा रहने दें। सादे पानी से चेहरा धो दें। चेहरे को पोंछे नहीं, अपने आप सूखने दें।

मुल्तानी मिट्टी
चेहरे पर कसाव लाने और महीन रेखाओं से निजात दिलाने में मुल्तानी मिट्टी काफी फायदेमंद है। मुल्तानी मिट्टी को आधा घंटे पहले पानी में भिगा दें जब यह गल जाए इसमें खीरे का रस, टमाटर का रस और शहद मिलाएं। इस मिश्रण को चेहरे पर लगायें।

मलाई और शहद
मलाई, शहद और नींबू को मिलकर चेहरे की मसाज करें। 10 मिनट बाद चेहरा धो दें। झुर्रियों से निजात मिलेगी और चेहरे पर चमक नजर आयेगी।

गुलाब जल
अगर आपके घर में गुलाब जल है तो उसे चेहरे पर लगाएं। इससे त्वचा के रोम छिद्रों की सफाई होती है और सूजन भी कम होता है। आप गुलाब जल के साथ नींबू का भी प्रयोग कर सकते हैं। इसके साथ समय-समय पर अपने चेहरे की मालिश करें।

एलोवेरा
जिन्हें चेहरे की झुर्रियां परेशान कर रही हैं उन्हें अपने ब्यूटी टिप्स में एलोवेरा को शामिल करना चाहिए। इससे न केवल झुर्रियों पर लगाम लगता है बल्कि मुंहासों के दाग मिट जाते हैं और त्वचा लचीली और चमकदार बन जाती है।  

शनिवार, 16 जुलाई 2016

झुर्रियों को रोकना है जरूरी

झुर्रियों को रोकना है जरूरी



झुर्रियां हमेशा ही खूबसूरती की दुश्मन होती हैं तो क्यों ना कुछ बातों को ध्यान में रख कर हम इन्हें आने से रोक दें। 

झुर्रियों और फाइन लाइंस ढलती उम्र के पहले लक्षण होते हैं। जैसे-जैसे उम्र बढ़ती जाती है, ये बारीक झुर्रियां और गहरी होती जाती हैं और लोगों को स्पष्ट रूप से दिखने लगती हैं। हालांकि फाइन लाइंस और झुर्रियां ढलती उम्र के लक्षण हैं पर यह भी सच है कि आजकल की युवा पीढ़ी अपनी उम्र से ज्यादा की नजर आने लगी है। ऐसा कोलाजन और इलास्टिन जैसे त्वचा प्रोटीन्स की कमी के कारण होता है, जोकि त्वचा को स्निग्ध और लचीली बनाये रखने के लिये जरूरी है। इसके अलावा युवा पीढ़ी पर कई तरह के काम का दबाव और तनाव रहता है। उनके लिए कामकाज और सामाजिक जिम्मेदारियों को पूरा करना चुनौती बन गई है और उनसे अपेक्षाएं भी बढ़ गई हैं। वक्त की कमी के कारण युवा भोजन करना भी छोड़ देते हैं या फिर असमय भोजन करते हैं। अक्सर युवाओं को स्वास्थ्य के लिए हानिकारक भोजन या कम पौष्टिक भोजन करने को मजबूर होना पड़ता है। उनकी त्वचा को बुरी तरह प्रभावित करता है। इसका दुष्परिणाम ललाट, आंखों, मुंह और गर्दन के आसपास फाइन लाइंस के रूप में सामने आता है। जाने-माने त्वचा विशेषज्ञ विस्तार से बता रहे हैं झुर्रियां उभरने के कारण, उनके प्रकार और झुर्रियों को न आने देने के उपाय।

झुर्रियां उभरने के कारण :- 

  • झुर्रियां, जिन्हें रिटिड भी कहा जाता है, त्वचा की सतह पर सिलवट या सिकुड़न के रूप में नजर आती हैं। युवावस्था की त्वचा में इलास्टिन नामक पर्याप्त फाइबर (रेशे) और कोलाजन नामक प्रोटीन होते हैं, जिससे त्वचा की लचक और जवानी बनी रहती है। एक उम्र के बाद इलास्टिन और कोलाजन की मात्रा कम होने लगती है, जिससे त्वचा पतली होने लगती हैं। पतली होती त्वचा में नमी सोखने की क्षमता भी कम हो जाती है और त्वचा की निचली परत भी क्षतिग्रस्त होने लगती हैं। इन्हीं सब वजहों से झुर्रियां और फाइन लाइंस उभरती हैं।
  •  त्वचा विशेषज्ञ नीतू सैनी के अनुसार," सूर्य की अल्ट्रावायलेट किरणों का ज्यादा सामना करने से एजिंग की प्रक्रिया तेज होती है। सूरज का रेडिएशन त्वचा के टिश्यूज को नुकसान पहुंचाता है और इससे कोलाजन और इलास्टिन के फिर से बनने की प्रक्रिया पर असर पड़ता है और त्वचा अपना लचीलापन खो देती है। त्वचा डैमेज होने लगती है और प्रीमेच्योर रिंकल्स बनने लगते हैं।"
  • स्मोकिंग करने से भी त्वचा में कोलाजन का बनना घट जाता है और प्रीमेच्योर एजिंग शुरू हो जाती है। बार-बार फेशियल मूवमेंट्स, एक्प्रेशन्स और स्लीपिंग पोश्चर्स भी महीन रेखाओं और रिंकल्स के बनने में योगदान करते हैं।
  •  त्वचा हमारे सोने के दौरान सिकुड़ती है या हमारे चेहरे के साथ खिंचती है और जैसे-जैसे हमारी उम्र बढ़ती है, वैसे-वैसे त्वचा अपना लचीलापन खोने लगती है और ये सिकुडऩें स्थायी बनने लगती हैं। इस तरह फाइन लाइन्स या गहरी झुर्रियां बन जाती हैं।

जोखिम के कारण :- 

 डॉ. नीतू सैनी के अनुसार ऐसे लोग जिनकी त्वचा कुदरती तौर पर ड्राइ होती है उनके साथ प्रीमेच्योर एजिंग और रिंकल्स की समस्या ज्यादा होती है। नियमित मॉयश्चराइजर लगाने से फाइन लाइनों को बनने से रोका जा सकता है।
स्मोकर्स के साथ समय से पहले एजिंग का जोखिम जुड़ा रहता है क्योंकि स्मोकिंग को त्वचा के कनेक्टिव टिश्यूज बनने में बाधा माना जाता है और रिंकल्स आसानी से बनते हैं।

झुर्रियां कैसे-कैसी :- 

ललाट की फाइन लाइंस :-
स्किन स्मार्ट सॉल्यूशन, मुंबई के डर्मेटोलॉजिस्ट डॉ. बिंदु स्थालेकर कहते हैं, "ललाट पर फाइन लाइंस की वजह आनुवांशिक/ अंदरूनी गड़बडिय़ां या कुछ बाहरी परिस्थितियां भी हो सकती हैं। उम्र बढऩे के साथ ये बारीक रेखाएं नजर आनी शुरू हो जाती हैं। हालांकि बार-बार आंखें मटकाने, त्योरियां चढ़ाने, आश्चर्य और घबराहट का भाव व्यक्त करने के कारण भी ये रेखाएं ललाट की सतह पर जल्दी नजर आने लगती हैं। साथ ही धूप में असुरक्षित होकर ज्यादा देर तक रहने से भी त्वचा को नुकसान पहुंचता है और ललाट पर इसका सबसे ज्यादा दुष्प्रभाव होता है। डिहाइड्रेशन (पानी की कमी) और अस्वास्थ्यकर लाइफस्टाइल के कारण टॉक्सिन (विषाक्त तत्व) का रिसाव ज्यादा होता है और इससे त्वचा को नुकसान पहुंचता है।" 
क्रो फीट :- 
आप जब मुस्कुराते या हंसते हैं तो आंखों के कोनों के आसपास बनने वाली फाइन लाइंस और झुर्रियों को क्रो फीट के नाम से जाना जाता है। इसे मुस्कान रेखा भी कहा जाता है। आंखों के आसपास क्रो फीट या मुस्कान रेखाएं त्वचा की उम्र ढलने, धूप में ज्यादा समय बिताने, अत्यधिक तनाव में रहने, त्वचा की समुचित देखभाल नहीं कर पाने तथा धूम्रपान आदि के कारण बनती हैं। कई लोग हंसने के दौरान आंखें सिकोड़ लेते हैं। इस कारण भी ये रेखाएं उभर आती हैं। 
मैरियोनेट लाइंस :- 
कुछ वर्टिकल लाइंस और झुर्रियां मुंह के कोनों से शुरू होकर ठोढ़ी तक नजर आती हैं जिन्हें मैरियोनेट लाइंस कहा जाता है। जब आपके चेहरे पर किसी तरह का भाव नहीं भी होता है तो भी ये रेखाएं नजर आती हैं, लेकिन जब आप मुस्कुराते या हंसते हैं तो ये रेखाएं और गहरी नजर आने लगती हैं और आपकी ढलती उम्र की चुगली करती हैं। ये रेखाएं आपके चेहरे पर भी क्रूर, हताश या उदासी का भाव पैदा करती हैं। बुजुर्ग पुरुषों और महिलाओं के चेहरों पर झुर्रियों और फोल्ड्स के साथ ही मैरियोनेट लाइनें अधिक स्पष्ट और गहरी नजर आती हैं। आम तौर पर बुजुर्गों के चेहरे के आसपास की झुर्रियां और गहरी रेखाएं कई तरह की आड़ी-तिरछी रेखाओं के रूप में नजर आती हैं। हालांकि कम उम्र के कुछ लोगों की त्वचा की लचक कम हो जाती है और त्वचा लटकने लगती है तो उनमें भी ये रेखाएं अधिक स्पष्ट नजर आने लगती हैं। 
गर्दन की लटकती त्वचा :- 
डर्मेटोलॉजिस्ट डॉ. सिमल सोइन के अनुसार कई बार गर्दन के आसपास की पतली होती त्वचा के कारण गर्दन लटकी हुई दिखने लगती है। महिलाएं नेफरटिटी (मिस्र की महारानी) जैसी सुंदर गर्दन पाने की ख्वाहिश रखती हैं। मिस्र की महारानी नेफरटिटी अपनी सुराहीदार गर्दन और आकर्षक ठोढी के कारण आज भी लोकप्रिय बनी हुई हैं। नेफरटिटी जैसी गर्दन पाने के लिए बोटॉक्स की मदद ली जा सकती है जिससे गर्दन और ठोढ़ी के आसपास के क्षेत्रों की त्वचा आकर्षक बनती है। यह अन्य लोकप्रिय कॉस्मेटिक उपायों की तरह उतना लोकप्रिय नहीं है क्योंकि लोगों को इस बारे में जानकारी ही नहीं है लेकिन एक बार इसे आजमा लेने वाले बार-बार इसी उपाय को दोहराना चाहते हैं। 

झुर्रियों से बचाव :- 

  • त्वचा विशेषज्ञ नीतू सैनी के अनुसार निम्नलिखित उपाय अपनाने से झुर्रियों पर काफी हद तक काबू पाया जा सकता है-
  •  प्रतिदिन कम से कम तीन-चार बार पानी से अच्छी तरह से मुंह धोना चाहिए।
  •  झुर्रियों से त्वचा को बचाने के लिए खानपान पर विशेष ध्यान देना चाहिए। यानी भोजन में हरी सब्जियां, छिलके वाली दाल, दूध और फल इत्यादि खाने चाहिए।
  •  यदि आपको कब्ज है तो उसका असर भी चेहरे और स्वास्थ्य दोनों पर पड़ता है। दरअसल पेट ही सभी बीमारियों की जड़ होता है। चेहरे पर निखार लाने और झुर्रियों की समस्या से निजात पाने के लिए कब्ज की समस्या से निजात पाना जरूरी है। त्वचा पर अधिक कॉस्मेटिक्स का इस्तेमाल करना भी त्वचा के लिए हानिकारक होता है। सस्ते मेकअप से भी झुर्रियों की समस्या पैदा हो जाती है इसीलिए अच्छी क्वालिटी के प्रोडक्ट का इस्तेमाल करना चाहिए।
  •  चेहरे को धोते समय कभी साबुन का प्रयोग न करें। साबुन में मौजूद कॉस्टिक सोडा हमारी त्वचा के रहे-सहे तेल को भी सोख लेता है, जिससे कम उम्र में ही हमारे चेहरे पर झुर्रियां नजर आने लगती हैं। सर्दियों में झुर्रियों से बचने के लिए खास मॉयश्चराइजर क्रीम इत्यादि का इस्तेमाल करना चाहिए।
  •  झुर्रियों से बचने के लिए प्रतिदिन 12 से 15 ग्लास पानी पीना लाभदायक है।
  •  अनानास को त्वचा पर लगाने से झुर्रियों से मुक्ति मिलती है, लेकिन रूखी त्वचा के लिए यह कारगर नहीं है। जैतून, बादाम या नारियल के तेल से चेहरे पर मसाज करने से भी झुर्रियां कम हो सकती हैं। इनमें पाए जाने वाला विटामिन-ई जहां मृत कोशिकाओं को नष्ट करता है वहीं त्वचा में निखार भी लाता है।
  •  हल्दी में गन्ने का रस मिलाकर पैक तैयार कर चेहरे पर लगाने से चेहरे पर निखार तो आता ही है साथ ही भविष्य में झुर्रियां होने की आशंका भी दूर हो जाती है। गाजर, ककड़ी या नींबू के रस को पैक के साथ मिला कर लगाना भी झुर्रियां दूर करने में लाभकारी है। अंडे का सफेद हिस्सा चेहरे पर लगाने से झुर्रियों से निजात मिलती है।
  • मेडिकल ट्रीटमेंट्स डॉ. नीतू सैनी के अनुसार विटामिन-ए से तैयार होने वाली रेटिनॉयड्स क्रीम रिंकल्स घटाने और एजिंग की समस्याओं का ट्रीटमेंट करने में सहायक हैं। ट्रेटीनायन युक्त क्रीम भी रेटिनायड हैं। इन लगाने वाली दवाओं से इन्फ्लेमेशन और ड्राइनेस की समस्या हो सकती है।
  •  ओवर-दि-काउंटर बिकने वाली रिंकल क्रीम जिनमें रेटिनॉल, अल्फा हाइड्रॉक्सिल एसिड्स (फ्रूट एसिड्स) और एन्टिऑक्सीडेंट्स हों उपयोग की जा सकती हैं हालांकि इनका असर मामूली होता है और रिंकल्स में बहुत हल्का सुधार देखा जा सकता है।

कॉस्मेटिक सर्जिकल ट्रीटमेंट्स :- 

  • दिल्ली की डर्मेटोलॉजिस्ट एवं कॉस्मो फिजिशियन डॉ. इंदु बालानी का कहना है, 'रेस्टिलेन जैसे नए जमाने के डर्मल फिलर्स इसी तरह के फोल्ड्स और नैसोबियल एवं मैरियोनेट लाइनों को भरने तथा उनका इलाज करने के लिए विशेष रूप से बनाए गए हैं। रेस्टिलेन एक प्रकार का हायलुरोनिक एसिड आधारित डर्मल फिलर है जिसे त्वचा की कोमलता बढ़ाने के लिए त्वचा के अंदर पिरोया जाता है और इससे बारीक रेखाएं एवं झुर्रियां साफ कर आप फिर से जवां दिख सकते हैं।
  • फिलर्स जैसे कि फैट, कोलाजन और हाइलुरोनिक एसिड को त्वचा में वहां इंजेक्ट किया जाता है, जहां रिंकल्स मौजूद हों। इससे वह हिस्सा फूल जाता है और त्वचा कम दिखने वाली लकीरों के साथ मुलायम और कसी हुई नजर आने लगती है।
  • द स्किन क्लिनिक, मुंबई की कंसल्टेंट डर्मेटोलॉजिस्ट डॉ. माधुरी अग्रवाल ने बताया, 'इन उपायों से जहां आपको जल्दी मुस्कान रेखाओं का सामना नहीं करना पड़ेगा, वहीं बोटॉक्स आपकी आंखों के आसपास के क्रो फीट मिटाने में कारगर साबित होगा। प्रभावित क्षेत्रों में इस्तेमाल करने पर बोटॉक्स तनाव के कारण झुर्रियां पैदा करने वाली मांसपेशियों को राहत प्रदान करता है।
  • त्वचा विशेषज्ञ नीतू सैनी के अनुसार, 'बोटोक्स या बोटोलिनम टॉक्सिन को उन मसल्स में इंजेक्ट किया जाता है, जो त्वचा की सतह पर लकीरें पैदा करती हैं। बोटोक्स मसल्स को सुन्न कर देता है और उनको सिकुडऩे नहीं देता, जिससे त्वचा कम दिखने वाली लकीरों के साथ तनी हुई और मुलायम बनी रहती है। इसका असर कुछ महीनों तक तो रहता है लेकिन हमेशा नहीं रहता, ट्रीटमेंट को दोहराने की जरूरत होती है। 


सोमवार, 10 अप्रैल 2017

इन घरेलू उपायों से सिर्फ 1 हफ्ते में पाएं गर्दन की झुर्रियों से निजात !

इन घरेलू उपायों से सिर्फ 1 हफ्ते में पाएं गर्दन की झुर्रियों से निजात !

अगर आप चाहते है कि चेहरे की झुर्रियों ही नहीं बल्कि गले की भी झुर्रियों से निजात मिलें, तो इसके लिए इस घरेलू उपाय का इस्तेमाल करें। सिर्फ 1 हफ्ते में ही अंतर दिखेने लगेगा।

जानिए इन घरेलू उपायों के बारें में...

आज के समय में किसे खूबसूरत चेहरा नहीं पसंद है। इसके लिए तरह-तरह के प्रोडक्ट इस्तेमाल करते है। अनियमित खानपान, बेकार के प्रोडक्ट का इस्तेमाल,ठीक ढंग से केयर, प्रदूषण के कारण झाईया, झुर्रियां, पिपंल आदि पड़ जाते है। इसी तरह खूबसूरत चेहरे के साथ-साथ सुडौल व तने हुए कंधे और सुराहीदार गर्दन भी आपकी खूबसूरती में चार-चांद लगा देती है। गर्दन पर उम्र का प्रभाव भी जल्दी पड़ता है। चेहरे की तरह गर्दन भी धूल, मिट्टी व धुएं की चपेट में आती है। इससे गर्दन पर झुर्रियां पड़ने लगती हैं और इसकी त्वचा कांतिहीन हो जाती है।


अगर आप चाहते है कि चेहरे की झुर्रियों ही नहीं बल्कि गले की भी झुर्रियों से निजात मिलें, तो इसके लिए इस घरेलू उपाय का इस्तेमाल करें। सिर्फ 1 हफ्ते में ही अंतर दिखेने लगेगा। जानिए इन घरेलू उपायों के बारें में।

मेथी का मास्‍क
मेथी की छाल, पत्ते, बीज सभी झुर्रियों को कम करने में मददगार है। इसके लिए आप दाने का इस्तेमाल कर लें। इसके लिए मेथी के दानों को पानी में उबालकर उसे ठंडा कर लें और उससे अपना चेहरा साफ करें। या फिर मेथी के हरे पत्तों को अच्छे से पीसकर उसका पेस्ट बना लें और इसे अपने चेहरे पर 15 मिनट तक लगाकर सूखने दें।  फिर अपना चेहरा पानी से धो लें।

केले का मास्‍क
केले में भरपूर मात्रा में विटामिन, मिनरल और एंटी-ऑक्‍सीडेंट पाया जाता है जो कि स्किन को कोलेजन के उत्‍पादन को बढ़ाता हैं। इस सामस्क के लि्ए1 पका हुआ केला को लेकर अच्छी तरह से मसल लें फिर इसमें 1 चम्मच शहद और 10 बूंद जैतून के तेल डालकर अच्छी तरह से मिला लें। फिर इस मास्‍क को चेहरे व गर्दन पर लगा लें और कम से कम 15 मिनट लगा रहने के बाद साफ पानी से धो लें।

ऑलिव ऑयल
loading...
ऑलिव ऑयल में भरपूर मात्रा में एंटी-ऑक्‍सीडेंट और विटामिन ई, ए पाया जाता है। जो कि स्किन की हानिकारक फ्री रेडिकल्‍स से आपकी रक्षा करते है। इसके लिए एक चम्‍मच ऑलिव ऑयल में आधा चम्‍मच आर्गेनिक शहद और कुछ बूंद मिलाकर गर्दन की स्किन की ऊपर की दिशा में मसाज करें।

अंडे की सफेदी का मास्‍क
इसमें भरपूर मात्रा में त्वचा-पौष्टिक घटक हाइड्रो लिपिड पाया जाता है। जो कि स्किन को ढीली करता है। इसके साथ ही इसमें पाया जाने वाला प्रोटीन झुर्रियों से निजात दिलाता है। इसके लिए एक अंडा लेकर उसका सफेद भाग निकाल लें। अब इस सफेद भाग के ऊपर एक चम्मच बादाम का तेल डालें  और इसे फेंटकते रहें। इसके बाद इसे प्रभावित जगह पर लगा लेँ।

शहद का मास्‍क
शहद में भरपूर मात्रा में विटामिन बी और पोटेशियम पाया जाता है। जो कि स्किन को मॉइश्‍चराइज करने के अलावा शहद त्‍वचा की गहरी परतों में व्याप्त हो जाता है। इसके लिए एक चम्मच शहद लेकर इसे अपने चेहरे पर पांच मिनट तक मालिश कीजिए।  कम से कम 20 मिनट लगा रहने के बाद साफ पानी से धो लें।

रविवार, 24 सितंबर 2017

चेहरे की झुर्रियां कम करने के घरेलू उपाय, जरुर आजमाइए

चेहरे की झुर्रियां कम करने के घरेलू उपाय, जरुर आजमाइए


झुर्रियां आना मतलब बुढ़ापे की दस्तक। त्वचा में मौजूद कोलाजेन (Collagen) उम्र बढ़ने के साथ कम होने लगता है परिणाम स्वरुप त्वचा पर झुर्रियां नज़र आती हैं। हालांकि झुर्रियां आना बायोलॉजिकल प्रोसेस है लेकिन त्वचा की सही देखभाल न होने पर समय से पहले ही झुर्रियां नज़र आने लगती हैं।

आजकल झुर्रियों से निपटने के लिए बोटॉक्स और कई तरह के लेज़र तकनीक इस्तेमाल की जा रही हैं लेकिन अगर यह ठीक तरह से ने की जाएं या कुशल चिकित्सक के नेतृत्व में न हो तो इसके गंभीर परिणाम हो सकते हैं। साथ ही सबकी त्वचा पर यह ट्रीटमेंट सूट करें यह भी संभव नहीं है। इनके लिए मोटी रकम भी खर्च करनी पड़ती है जो हरेक के लिए संभव नहीं। ऐसे में कुछ घरेलू उपाय ऐसे हैं जिनसे बिना नुकसान, बिना खर्च के झुर्रियों से निजात संभव है।

✔झुर्रियों के कारण (Reason of Wrinkles)

☞ एजिंग
☞ धूम्रपान
☞ फ्री रेडिकल्स
☞ धूप में ज्यादा रहना
☞ तनाव
☞ पोषण का अभाव
☞ जेनेटिक्स
☞ डिहाइड्रेशन
☞ प्रदूषण
☞ त्वचा की देखभाल न करना

✔लक्षण (Symptoms for Wrinkles)

☞ माथे पर लकीरों का दिखना
☞ आँखों के आस पास सिलवटें नजर आना
☞ होंठो के पास महीन रेखाएं

✔घरेलू उपाय-

मिल्क पाउडर (Milk Powder)- 2 बड़े चम्मच शहद, 4 बड़े चम्मच  मिल्क पाउडर और 2 बड़े चम्मच गर्म पानी। सभी को मिलाकर चेहरे और गर्दन पर लगाएं। शहद से चेहरे पर ग्लो आता है और मिल्क पाउडर से चेहरा स्मूथ और रिंकल फ्री होगा।
अनानास (Pineapple)- अनानास में विटामिन सी पाया जाता है जो त्वचा के लिए बहुत अच्छा है, खासकर झुर्रियों वाली त्वचा के लिए। अनानास के पल्प को 10 मिनट चेहरे पर लगाएं और चेहरा धो दें। अनानास का रस भी इस्तेमाल किया जा सकता है। रस से सर्कुलर मोशन में मालिश करें और कुछ देर बाद चेहरा धो दें। जब तक चेहरा सूख ना जाए उसे रगड़ें नहीं।
नारियल तेल (Coconut Oil)- नारियल का तेल गर्म करके चेहरे की मसाज करें। झुर्रियों से निजात के लिए बेहतरीन उपाय है। साथ ही चेहरे में कसाव भी आता है।
केला (Banana)- पके हुए केले को अच्छी तरह मसलकर क्रीम जैसी कंसिस्टेंसी बनाएं। आधा घंटा चेहरे पर लगा रहने दें। सादे पानी से चेहरा धो दें। चेहरे को पोंछे नहीं, अपने आप सूखने दें।
बादाम का तेल (Almond Oil)- बादाम का तेल भी झुर्रियां हटाने में कारगर है। रोज रात में बादाम के तेल से चेहरे की मसाज करें। इस तेल से आँखों के काले घेरे भी कम हो जाते हैं।
पानी (Water)- सबसे आसान और लाभकारी उपाय है पानी। दिन की शुरुआत 2 गिलास पानी से करें। हर एक घंटे पर पानी पीने का नियम बनाएं। इस तरह एक दिन में 10 से 12 गिलास पानी जरूर पीयें। पानी से त्वचा पर नेचुरल ग्लो आता है और झुर्रियां नहीं पड़तीं।
मुल्तानी मिट्टी (Fuller's Earth)- चेहरे पर कसाव लाने और महीन रेखाओं से निजात दिलाने में मुल्तानी मिट्टी काफी फायदेमंद है। मुल्तानी मिट्टी को आधा घंटे पहले पानी में भिगा दें जब यह गल जाए इसमें खीरे का रस, टमाटर का रस और शहद मिलाएं। इस मिश्रण को चेहरे पर लगायें। ध्यान रखें कि इस पैक को हमेशा लेट कर लगाएं और पैक लगाने के बाद हँसें या बोले नहीं।
उड़द की दाल (Urad Dal)- उड़द की दाल को रातभर दूध में भिगाकर सुबह पेस्ट बना लें। इस पेस्ट को चेहरे पर लगाएं। समय से पहले आने वाली एजिंग से बचाव होगा, साथ ही रंगत भी निखरेगी।
ऑलिव ऑयल (Olive Oil)- ऑलिव ऑयल भी चेहरे के लिए बेहद फायदेमंद है। इसकी मालिश भी चेहरे में चमक लाती है। रंग निखरता है और फाइन लाइन्स कम होती हैं।
मलाई और शहद (Cream and Honey)- मलाई, शहद और नींबू को मिलकर चेहरे की मसाज करें। 10 मिनट बाद चेहरा धो दें। झुर्रियों से निजात मिलेगी और चेहरे पर चमक आएगी।

✔यह भी रखें ध्यान-

☞ सनस्क्रीन लगाकर ही घर से बाहर जाएं
☞ आँखों पर चश्मा पहनें
☞ भरपूर नींद लें
☞ त्वचा को हमेशा मॉइश्चराज्ड रखें
☞ धूम्रपान और तनाव से दूर रहें

शुक्रवार, 20 जनवरी 2017

झुर्रियों से बचने के लिए हॉलीवुड हस्तियां भी अपनाती हैं ये उपाय

झुर्रियों से बचने के लिए हॉलीवुड हस्तियां भी अपनाती हैं ये उपाय


खूबसूरती के पैमानों पर खुद को खरा साबित करने वाली हॉलीवुड और बॉलीवुड की अभिनेत्रियां भी हमारी तरह घरेलू नुस्खों में भरोसा रखती हैं. इसलिए जब बात त्वचा को झुर्रियों से दूर रखने की आती है, तो वो प्राकृतिक चीजों को ही तरजीह देती हैं. झुर्रियों से छुटकारा पाने के लिए आप भी ये उपाय आजमां सकती हैं...

दूध का पाउडर
दूध के पाउडर में शहद और थोड़ा सा पानी मिलाकर चेहरे पर लगाने से त्वचा सॉफ्ट और ग्लोविंग हो जाती है. इससे चेहरे की झुर्रियां भी कम हो जाती हैं.

केला
केले का क्रीम जैसा पेस्ट बनाकर उसे चेहरे पर लगाएं. आधे घंटे तक लगाएं रखें फिर सादे पानी से धो लें. त्वचा को अपने आप सूखने दें, उसे पोछे नहीं. केले के इस्तेमाल से त्वचा में कसाव आता है और झुर्रियों पर फर्क नजर आने लगता है.

ऑलिव ऑयल/बादाम का तेल/नारियल का तेल
ये तीनों तेल त्वचा को झुर्रियों से बचाने में कारगर हैं. इनकी मालिश से न केवल चेहरे की रंगत खिलती है, बल्कि रिंकल्स भी दूर होते हैं.

मुल्तानी मिट्टी
झुर्रियों पर मुल्तानी मिट्टी सबसे ज्यादा असर करती है. यह त्वचा में कसाव लाती है और महीन रेखाओं को भी खत्म करती है. आप मुल्तानी मिट्टी लगाने से पहले उसे आधे घंटे के लिए भिगा दें. मिट्टी गल जाए तो उसमें खीरे का रस, टमाटर का रस और शहद मिलाएं. इस मिश्रण को चेहरे पर लगाएं. पर ध्यान रहे कि लेप लगाने के बाद बैठे या खड़े न रहें, बल्क‍ि लेट जाएं.

पानी
सबसे आखिर पर सबसे अच्छा उपाय जो हर बॉलीवुड और हॉलीवुड अभिनेत्रियां करती हैं, वो है पर्याप्त पानी पीना. सुबह उठते ही दो ग्लास पानी पीयें और हर घंटे एक ग्लास पानी जरूर पीयें. इससे त्वचा में चमक आएगी और आप अपनी उम्र से हमेशा छोटी ही लगेंगी. लेकिन अगर आप पानी कम पीती हैं तो समय से पहले आपकी त्वचा बूढ़ी हो जाएगी.

गुरुवार, 22 सितंबर 2016

गर्दन को कैसे बनायें सुंदर और निखरा

गर्दन को कैसे बनायें सुंदर और निखरा

गर्दन में झुर्रियां पड़ने लगें या गर्दन मोटी दिखायी दे तो चहरा सुंदर होने के बावजूद सुंदरता फीकी पड़ने लगती है। लेकिन ठीक साफ-सफाई, उचित देखभाल व व्यायाम की मदद से गर्दन को सुंदर और निखरा बनाया जा सकता है।
1.गर्दन और सुंदरता

    सुडौल व तने हुए कंधे और सुराहीदार गर्दन चेहरे को और आकर्षक बना देते हैं। अगर गर्दन में झुर्रियां पड़ने लगें या गर्दन मोटी दिखायी दे तो सुंदरता फीकी पड़ने लगती है। गर्दन पर उम्र का प्रभाव भी जल्दी पड़ता है। चेहरे की तरह गर्दन भी धूल, गर्द व धुएं की चपेट में आती है। इससे गर्दन पर झुर्रियां पड़ने लगती हैं और इसकी त्वचा कांतिहीन हो जाती है, इसलिए चेहरे के साथ-साथ नियमित रूप से गर्दन की सफाई का भी ध्यान रखना जरूरी होता है नहीं तो चेहरे और गर्दन के रंग में फर्क आ जाता है। साथ ही कुछ व्यायाम कर भी गर्दन को सुंदर शेप दी जा सकती है।
2.ठीक प्रकार से करें सफाई

    गर्दन की नियमित सफाई के लिए नहाते समय मुलायम ब्रश से इसे हल्के-हल्के मलें ताकि मृत त्वचा या मैल निकल जाए। फिर मोटे तौलिये से पोंछकर इस पर माश्चराइजर लगाएं। रात को भी सोने से पहले गर्दन का मेकअप साफ करने इसे क्लीजिंग मिल्क साफ करें।
3.पपीते से मसाज

    हफ्ते में 2 से 3 बार पपीते के गूदे से गर्दन की मसाज करने से गर्दन की त्वचा पर निखार आता है। साथ ही नियमित अंतराल से पपीते की मसाज से गर्दन पर पड़ रही झुर्रियां भी दूर हो जाती हैं।
4.चिरौंजी और दूध

    रात को 10-25 चिरौंजियों को दूध में भिगो कर रख दें। सुबह उसे अच्छी तरह पीस कर पेस्ट बना लें। अब इस पेस्ट को गदन पर धीरे-धीरे हल्के हाथ से मसाज कर लगाएं। इस पेस्ट को लगाने से गर्दन का कालापन दूर होता है। यह प्रयोग सप्ताह में दो बार कर सकते हैं।
5.अंडे की जर्दी

    30 से 35 साल की उम्र होने पर अक्सर महिलाओं को गर्दन में झुर्रियों दिखाई देने लगती हैं। इस परेशानी से बचने में अंडा बेहद मददगार साबित होता है। सबसे आसान तरीका है कि सप्ताह में एक बार अंडे की जर्दी को गर्दन पर लगाएं। सूखने के बाद गुनगुने पानी से इसे धो लें। ऐसा करने से जन्द ही गर्दन पर झुर्रियों की समस्या से मुक्ति मिलती है।
6.केला-मिल्क पाउडर पेस्ट

    केला-मिल्क पाउडर पेस्ट भी गर्दन की झुर्रियों से निजात दिलाने में लाभदायक होता है। इसके लिए एक केले को ठीक से मसल लें। इसमें एक चम्मच मिल्क पाऊडर मिला कर इस पेस्ट को गर्दन पर लगाएं। सूखने पर मिनरल वाटर से इसे धो लें। इस प्रयोग से गर्दन की झुर्रियां जल्द ही दूर होने लगती  हैं।
7.तेल मालिश

    गर्दन की झुर्रियों को दूर करने के लिए कोल्ड क्रीम, बादाम रोगन या जैतून के तेल की मालिश करने से बहुत लाभ होता है। ध्यान रहे कि मालिश हल्के हाथ से नीचे से ऊपर की ओर, बाएं से दाएं तथा दाएं से बाएं करें। ऐसा करने से न सिर्फ गर्दन की झुर्रियों दूर होती है, बल्कि वहां की त्वचा भी कांतिमय बनती है।
8.नेचुरल ब्यूटी पैक
    एक चम्मच मसूर की दाल, एक चम्मच खीरे का रस, आधा चम्मच नींबू का रस तथा चार चम्मच दही को मिलाकर ठीक से फेंट कर पेस्ट बना लें। इस पेस्ट को अपनी गर्दन पर मसलकर लगाएं। अब इसे सूखने तक लगा रहने दें। सूख जाने पर इसे कच्चे दूध से छुटा लें। इसके इस्तेमालसे गर्दन का कालापन दूर हो जाता है और त्वचा पर चमक आती है।
9.मेकअप

    मेकअप की मदद से भी गर्दन को अधिक सुंदर बनाया जा सकता है। यदि आपकी गर्दन छोटी है तो चेहरे की अपेक्षा गर्दन पर हल्के शेड का फाउंडेशन लगाएं। इससे गर्दन लंबी लगेगी। अगर आपकी गर्दन ज्यादा लंबी है तो फाउंडेशन की रंगत गहरी रखें, साथ ही इसे दायें से बायें लगाएं। मोटी गर्दन को भी मेकअप से पतला दिखाया जा सकता हैं। इसके लिए गर्दन के सामने के हिस्से पर हल्के शेड का फाउंडेशन लगाएं और गर्दन के दोनों ओर गहरे रंग का। ब्लीच करते समय गर्दन पर भी इसे करें।
10.गर्दन का व्यायाम

    गर्दन को प्रक-तिक रूप से सुंदर बनाने के लिए सीधी खड़ी होकर या बैठकर गर्दन को गोलाई में चारों ओर घुमाएं। इसके अलावा सीधी खड़ी हो जाएं, हाथ कमर पर रखें, अब गर्दन को जितना हो सके, पीछे की ओर ले जायें और फिर आगे की ओर लाएं। अब दाएं ले जाएं, फिर बाएं लाएं। इन क्रियाओं को रोज दस से पंद्रह बार करें। छोटी गर्दन को लंबी करने के लिए समतल चौकी पर पीठ के बल लेट जाएं तथा पलंग से गर्दन को नीचे लटकाएं। अब ऐसे ही लेटे-लेटे ही गर्दन ऊपर उठाएं। फिर धीरे-धीरे उसी अवस्था में आएं। इस क्रिया को भी बार-बार दोहराएं। गर्दन की सुंदरता को मोटापा भी खराब करता है, इसलिए अपने वजन को काबू करें। स्वयं को चुस्त-दुरुस्त रखने का प्रयास करें ताकि इसका प्रभाव गर्दन की सुडौलता पर न पड़े। उठते, बैठते, चलते समय गर्दन को तन कर रखें।
11.नकली अभूषणों से बचें

    एक खास बात, कभी भी भारी, नुकीले या रंग छोड़ने वाले नकली धातु के अभूषण न पहनें। इनसे गर्दन की त्वचा पर इंफेक्शन हो सकता है और वह  काली पड़ जाती है। कभी-कभी खुजली भी हो जाती है। इसलिए नकली गहनों का लोभ न करें। किसी तरह की समस्या हो जाने पर त्वचा रोग विशेषज्ञ का  परामर्श व मदद लें।

बुधवार, 28 सितंबर 2016

शादी से पहले पाएं दमकती त्वचा बेदाग और चमकदार त्वचा पाने के लिए इन उपायों को जरूर आजमाएं:

शादी से पहले पाएं दमकती त्वचा बेदाग और चमकदार त्वचा पाने के लिए इन उपायों को जरूर आजमाएं:

चंदन का लेप

इस से आप की त्वचा में कसावट आती है और त्वचा में जितनी कसावट रहेगी उस के खुले रोमछिद्र भी उतने ही कम रहेंगे. इस से त्वचा चमकती रहेगी. इस से त्वचा के दागधब्बे भी गायब हो जाते हैं और त्वचा की कोमलता भी बरकरार रहती है. यदि आप चंदन का लेप नियमित रूप से इस्तेमाल करती हैं, तो त्वचा की खुजलाहट और दानेफुंसियां भी धीरेधीरे खत्म होने लगती हैं.

नीबू और शहद

त्वचा की चमक पाने के लिए आप नीबू और शहद का घोल भी इस्तेमाल कर सकती हैं. इस मिश्रण को आप नियमित रूप से चेहरे पर लगाएं और फिर 10-15 मिनट के बाद ठंडे पानी से चेहरे को धो लें.

त्वचा की ऊपरी परत की सफाई

चीनी और नारंगी के गूदे का घोल चेहरे और हाथों की त्वचा की ऊपरी परत उतारने में उपयोगी हो सकता है. इस मिश्रण को हलके हाथों से शरीर पर लगाएं. आप की त्वचा की मृत कोशिकाएं हट जाएंगी और उस की कांति लौट आएगी.

त्वचा चमकाने के आधुनिक उपाय

विज्ञान की तरक्की उस स्तर तक पहुंच चुकी है जहां हम झटपट सौंदर्य उपचारों से अपनी त्वचा की कांति पा सकते हैं. कुछ अच्छे पील्ज से त्वचा की मृत कोशिकाएं हटाई जा सकती हैं और आप के लुक को ताजगीपूर्ण एवं आकर्षक बनाया जा सकता है. लेजर टोनिंग भी त्वचा की बनावट और चमक में सुधार ला सकती है. हम किसी व्यक्ति को एक नया और ताजगी भरा आकर्षक लुक देने के लिए जुवेडर्म जैसे फिलर्स को आजमा कर अच्छा परिणाम पा सकते हैं. जुवेडर्म जैसे फिलर्स को आंखों के नीचे के गड्ढों को भरने के लिए भी इस्तेमाल किया जा सकता है, जो काम के बोझ से दबी किसी नारी की चुगली करते हुए उस के सौंदर्य को थका हुआ और सुस्त बना देते हैं. इस नई पद्धति के आजमाने से आप तरोताजा और खुश नजर आएंगी.
आधुनिक दुलहनें बोटौक्स से ले कर डी टैनिंग और लिपोसक्शन तक हर प्रकार की आधुनिक सौंदर्य चिकित्सा को आजमा सकती हैं. आइए अब कुछ नौन इनवेसिव यानी चीरफाड़ रहित सौंदर्य उपचार पद्धतियों पर गौर करते हैं, जिन का जादुई असर होता है.

लिप औग्मैंटेशन

ह्यालुरोनिक ऐसिड आधारित फिलर्स के इंजैक्शन लगाए जाने से खूबसूरती के कई अलगअलग परिणाम मिलते हैं. इन्हें त्वचा में नई चमक लाने के लिए इस्तेमाल किया जा सकता है.
इस के इंजैक्शन से आप अपने गालों या होंठों को मांसल बना सकती हैं या ठुड्डी के आकार में बदलाव ला सकती हैं. बारीक झुर्रियों को भी मिटा सकती है. किसी हुनरमंद के हाथों से जुवेडर्म जैसे फिलर्स किसी व्यक्ति के रूपरंग में कायापलट कर सकते हैं. इस का इंजैक्शन होंठों को खूबसूरत आकार में ढालते हुए मांसल और रसीला बनाता है. जुवेडर्म फिलर्स के जरीए लिप औग्मैंटेशन के परिणाम कई महीनों तक असरकारक रहते हैं. इस के अलावा जुवेडर्म चेहरे के आसपास की झुर्रियों और ढीलेपन को भी भरते हैं और त्वचा को अधिक चमकदार तथा मुलायम बनाते हैं.

भौंह में सुधार और झुर्रियों में कमी

आजकल की युवतियां अपना ज्यादातर वक्त कैरियर बनाने और अपनी नौकरी में बिताने लगी हैं, इसलिए बहुत सारी युवतियां 30 वर्ष के आसपास या इस के बाद ही शादी करने का प्रयास कर रही हैं. इस के बावजूद वे 20 वर्ष की उम्र में जितनी खूबसूरत, जवां और आकर्षक दिखती थीं, उतनी ही आज भी बनी रह सकती हैं. बोटौक्स के इंजैक्शन आईब्रोज के बीच की बारीक रेखाएं और ऐसी झुर्रियों को मिटाने में कारगर हैं, जो हमारी आंखों के इर्दगिर्द हावी हो जाती हैं. इस से आप को तरोताजा व जवां होने का एहसास होता है, क्योंकि आप के चेहरे पर से तनाव के सारे लक्षण जो मिट जाते हैं. बोटौक्स के इंजैक्शन भौंहों को थोड़ा उठा हुआ और आकर्षक रूप प्रदान करने के लिए भी इस्तेमाल किए जाते हैं.

डायमंड पौलिशिंग

यह एक ऐसी तकनीक है जिस में एक इलैक्ट्रौनिक डिवाइस की नोक पर डायमंड लगा कर इसे त्वचा पर फिराते हुए त्वचा की पौलिश की जाती है. मृत कोशिकाओं, दागधब्बों को मिटाने में यह बहुत कारगर होता है और त्वचा की चमक बढ़ाने तथा गोरापन निखारने में भी यह उपयोगी है.

लेजर हेयर रिडक्शन

लगातार वैक्सिंग, शेविंग और ब्लीचिंग से त्वचा प्रभावित हो सकती है और आप शादी के बाद इन के बिना रह भी नहीं सकतीं. कई युवतियां तो इन के बजाय अपनी शादी से पहले ही लेजर हेयर रिडक्शन अपना लेती हैं ताकि शरीर के अनचाहे बालों से उन्हें स्थायी रूप से छुटकारा मिल जाए और बारबार उन्हें सोचने की जरूरत ही न पड़े. होने वाली दुलहनें अकसर हाथों और पैरों, अंडरआर्म्स, बिकनी और नाभि एवं पिछले हिस्से तक के बालों को मिटाने के लिए लेजर ट्रीटमैंट कराना चाहती हैं और आजकल तो पुरुष भी अपने चेहरे और शरीर के अतिरिक्त बालों और दाढ़ी की सफाई के लिए लेजर ट्रीटमैंट कराना चाहते हैं.

शुक्रवार, 25 फ़रवरी 2022

अगर आप भी खाते है यह दवाई तो पहले ध्यान से पढ़ लें !

अगर आप भी खाते है यह दवाई तो पहले ध्यान से पढ़ लें !


हमारे शरीर को स्वस्थ रहने के लिए सभी प्रकार के विटामिन की जरूरत होती है। लेकिन विटामिन ई हमारे शरीर के लिए सबसे ज्यादा जरूरी होता है। विटामिन ई बादाम, मूंगफली और अखरोट के साथ साथ हरी सब्जियों में पाया जाता है। लेकिन आप इसको आसानी से कैप्सूल के रूप में भी ले सकते हैं। बाजार में आपको यह आसानी से मिल जाते है और इसके लिए आपके ज्यादा पैसे भी खर्च नहीं होते है।


आज हम बात करने वाले है की इन विटामिन ई के कैप्सूल के सेवन से आपको क्या क्या फायदे होते हैं और कितनी मात्रा में हमें इसका इस्तेमाल करना चाहिए। तो चलिए जानते है।
 
 

विटामिन ई के कैप्सूल के फायदे :-

विटामिन ई के कैप्सूल के इस्तेमाल से हमें जो फायदे (vitamin e capsule ke fayde) होते है वह कुछ इस प्रकार है।

बालों के लिए लाभदायक :-

बालों के लिए विटामिन ई बहुत अधिक लाभदायक होता हैं। अगर आपके बाल कमजोर है और बालों का गिरना शुरू हो रहा है तो आप इसको दो की मात्रा में दिन में एक बार सेवन जरूर करें और जैतून के तेल में इसका रस निकाल कर बालों पर लगाने से बालों की कमजोरी दूर होती है और बाल मजबूत व घने होने लगते है। इसीलिए जिस भी व्यक्ति या महिला को बालों से संबंधित कोई भी समस्या क्यों न हो उसको इसका इस्तेमाल जरूर करके देखना चाहिए।
 

चेहरे के दाग धब्बों को करे दूर :-

विटामिन ई के कैप्सूल में छेद कर लें और फिर इसके अंदर का सारा ऑयल बाहर निकाल लें। उसके बाद इसको दाग धब्बों वाली जगह पर लगाएं। ऐसा करने से चेहरा साफ हो जाता है लेकिन अच्छे परिणाम के लिए इसे रात भर ऐसे ही लगाकर रहने दें और सुबह पानी से चेहरा साफ कर लें।
 

चेहरे की झुर्रियों से दिलाए छुटकारा :-

विटामिन ई के कैप्सूल में छेद कर लें और फिर इसके अंदर का सारा ऑयल बाहर निकाल लें और इसमें बादाम तेल के 6 बूंदे मिलाकर एक पेस्ट तैयार और इसको रात में सोने से पहले अपनी आंखों के पास वाली झुर्रियों पर लगाएं। ऐसा करने से कुछ ही दिनों आपको अपने चेहरे की झुर्रियों से छुटकारा मिल जाता है।
 

फटे होठों के लिए फायदेमंद :-

होठों के फटने पर विटामिन ई के कैप्सूल के अंदर से निकाल कर ऐसे अपने होठों पर अच्छे से लगा ले ऐसा करने से रात भर में ही सब ठीक हो जाता है। विटामिन ई के कैप्सूल के इस्तेमाल से हमें जो फायदे होते है अब आप सब जान चुके होंगे।

विटामिन ई कैप्सूल के नुकसान

विटामिन ई कैप्सूल के साइड इफ़ेक्ट (vitamin e capsule ke nuksan) भी हो सकते हैं जिन्हे आपको जरूर जानना चाहिए। किसी भी चीज का ज्यादा सेवन भी हानिकारक होता हैं, चाहे वह चीज कितनी भी लाभकारी क्यों न हो, विटामिन ई कैप्सूल के साथ भी ऐसा ही हैं। इसके ज्यादा इस्तेमाल से शरीर को नुकसान पहुंच सकता हैं। 
 
यह भी पढ़ें - जानिए उकडू अवस्था में बैठने से कई हैरान कर देने वाले फायदे

1. चेहरे और बालों की हेल्थ लिए विटामिन ई कैप्सूल के साथ-साथ संतुलित आहार लेना भी बहुत जरूरी हैं। विटामिन ई कैप्सूल के फायदे प्राप्त करने के लिए अपने भोजन में प्रोटीन, हेल्दी फैट, विटामिन व मिनरल्स को अवश्य शामिल करें। इसके बगैर आपको विटामिन ई कैप्सूल के लाभ प्राप्त नहीं होंगे।    

2. किसी भी तरह की स्किन एलर्जी में विटामिन ई कैप्सूल का इस्तेमाल करने से बचे, नहीं तो आपको विटामिन ई कैप्सूल के नुकसान झेलने पड़ सकते हैं और आपकी स्किन और ज्यादा खराब हो सकती हैं।

3. विटामिन ई कैप्सूल का इस्तेमाल करने से यदि स्किन में किसी तरह की कोई भी परेशानी होती हैं तो इसका इस्तेमाल तुरंत बंद कर दें और पानी से इसे साफ कर दें।  
 
यह भी पढ़ें - हफ्ते में एक दिन लगाएं बालों में घी, डैमेज बाल भी रिपेयर हो जाएंगे

4. विटामिन ई कैप्सूल के ज्यादा इस्तेमाल से स्किन में कई प्रकार की समस्याएं हो सकती हैं, इसलिए इसका ज्यादा इस्तेमाल भी न करें।  

5.  कुछ लोगों को विटामिन ई कैप्सूल से एलर्जी हो सकती हैं, इसलिए इसका इस्तेमाल करने से पहले इसको एक बार हथेली के पीछे लगाकर चेक जरूर कर लें।  

नोट : विटामिन ई कैप्सूल का इस्तेमाल आप अपने डॉक्टर की सलाह से ही करें, इस आर्टिकल को पढ़ने मात्र से ही इसके इस्तेमल के बारे में न सोचे, हर किसी की स्किन अलग-अलग  हैं जिससे इसका प्रभाव भी अलग हो सकता हैं। विटामिन ई कैप्सूल के नुकसान से बचें। 

शनिवार, 8 जुलाई 2017

अनार के दाने की तरह उसका छिलका भी है गुणकारी जो आपकी इन बीमारियों से करता है रक्षा !

अनार के दाने की तरह उसका छिलका भी है गुणकारी जो आपकी इन बीमारियों से करता है रक्षा !


अनार का हर एक दाना सेहत के लिहाज से काफी फायदेमंद है सिर्फ अनार का दाना ही नहीं बल्कि अनार का छिलका भी काफी गुणकारी है. इसलिए अनार का छिलका बेकार समझकर फेंकने के बजाय उसका सेवन करने से आप कई बीमारियों से खतरे से बच सकते हैं. चलिए हम आपको बताते है कि अनार का छिलका किस तरह से इस्तेमाल करना चाहिए ताकि ये कई बीमारियों से आपकी रक्षा कर सके.

कैसे करें अनार का छिलका इस्तेमाल

अनार के छिलकों को सुखाकर उसका पाउडर बना लें और उसे एक शीशी में भरकर रख लें या फिर उसे पीसकर उसके रस का इस्तेमाल भी कर सकते हैं. अनार के छिलकों का सेवन गले का टॉन्सिल, हृदय रोग, मुहांसे, झुर्रियों, मुंह की बदबू, बवासीर और खांसी जैसी कई बीमारियों से राहत दिलाने में फायदेमंद है.

1- दिल की बीमारियों से बचाए
अनार के छिलकों में भरपूर मात्रा में एंटीऑक्सीडेंट पाए जाते हैं जो दिल की बीमारियों से बचाने में मदद करते हैं. रोज दिन में दो बार एक चम्मच अनार के छिलके के पाउडर को गरम पानी के साथ पीने से कोलेस्ट्रॉल का स्तर भी कम होता है.

2- हड्डियों को बनाए मजबूत
अनार के दानों की तरह अनार के छिलके भी कमजोर हड्डियों के लिए बेहद फायदेमंद है. अनार के छिलकों में मौजूद एंटीबैक्टीरियल गुण कमजोर हड्डियों को मजबूती प्रदान करते हैं. हड्डियों को मजबूत बनाने के लिए एक गिलास गुनगुने पानी में 2 चम्मच अनार के छिलके का पाउडर मिलाकर उसे सोने से पहले पीना चाहिए.

3- गले के दर्द में फायदेमंद
अगर आप गले के दर्द या टॉन्सिल की समस्या से परेशान है तो अनार के छिलके के पावडर को थोड़े से पानी में उबाल लें. फिर इस काढ़े को ठंडा कर के गरारा करें. इस प्रक्रिया को दिन में 2-3 बार दोहराएं. ऐसा करने से आपको गले की समस्या से राहत जरूर मिलेगी.

4- मुंह की बदबू को करे दूर
एक गिलास पानी में सूखे छिलके का पावडर मिलाकर उससे दिन में दो बार कुल्ला करने से मुंह से आनेवाली बदबू की समस्या दूर होती है. अगर आपको अपने मसूड़ों को मजबूत बनाना है तो इसके लिए आपको काली मिर्च पावडर के साथ अनार के छिलके का पावडर मिला ले और उससे दांतो और मसूड़ों की मालिश करें.

5- बवासीर की परेशानी करे दूर
बवासीर की समस्या से परेशान लोगों को 10 ग्राम अनार के छिलके का चूर्ण बनाकर इसमें 100 ग्राम दही मिलाकर खाना चाहिए. कुछ दिनों तक इस प्रक्रिया को दोहराने से बवासीर ठीक हो जाती है. इसके अलावा अनार के छिलकों का चूर्ण 8 ग्राम ताजे पानी के साथ हर रोज सुबह शाम लेना चाहिए.

6- मुंहासे और झुर्रियों से राहत
अनार के छिलके से आप त्वचा के मुहांसे और झुर्रियों से राहत पा सकते हैं. मुंहासों से राहत पाने के लिए अनार के छिलकों को सुखाकर भून लें और ठंडा होने पर उसे पीसकर चेहरे पर लगा लें. झुर्रियों से राहत के लिए छिलकों को सुखाकर इसका पावडर बनाकर उसमें गुलाब जल मिलाकर इसको फेसपैक की तरह चेहरे पर लगाने से त्वचा जवां बनती है और झुर्रियां गायब होने लगती है.

7- पीरियड्स में ज्यादा ब्लीडिंग होने पर
कई महिलाओं को पीरियड्स के दौरान ज्यादा ब्लीडिंग होती है ऐसे में अनार के छिलकों को सुखाकर उसके पावडर को पानी के साथ रोजाना पीने से फायदा होता है इस उपाय से मासिक धर्म में ज्यादा ब्लीडिंग नहीं होती है.

बहरहाल अनार के छिलकों के इन सेहतमंद फायदों को जानने के बाद आप इन छिलकों को फेंकने के बजाय इसका इस्तेमाल इन बीमारियों से बचने के लिए जरूर करना चाहेंगे.

रविवार, 15 जनवरी 2017

झुर्रियों को दूर कर त्वचा पर गोरापन लाये जाने मेथी के ऐसे ही फायदे

झुर्रियों को दूर कर त्वचा पर गोरापन लाये जाने मेथी के ऐसे ही फायदे


मेथी एक वनस्पति है । इसकी पत्तियाँ साग बनाने के काम आतीं हैं तथा इसके दाने मसाले के रूप में प्रयुक्त होते हैं। स्वास्थ्य की दृष्टि से यह बहुत गुणकारी है।मेथी चाहे हरी पत्तियों के रूप में हो, सूखी पत्तियों के रूप में हो या दानों के रूप में हो इसके गुण आपके शरीर पर चमत्कारिक रूप से प्रभाव डालते हैं। क्‍या आप जानते हैं कि विभिन्‍न स्‍वास्‍थ्‍य लाभ पहुंचाने वाली मेथी का उपयोग आपके सौंदर्य भी भी चार-चांद लगा सकता है।

मेथी का प्रयोग लगभग हर भारतीय रसोई में व्‍यापक रूप से विभिन्‍न बेहतर स्‍वास्‍थ्‍य उद्देश्‍यों के लिए किया जाता है। इसलिए अगर मेथी को बहुउद्देशीय मसाला कहा जाएं तो कुछ गलत ना होगा। हमारे भारतीय समाज में वर्षों से प्राकृतिक जड़ी-बूटियों का प्रयोग किया जा रहा है, जो हमारी सेहत के लिए उपयोगी होती है। उनमें से एक मेथी भी है|

लेकिन क्‍या आप जानते हैं कि विभिन्‍न स्‍वास्‍थ्‍य लाभ पहुंचाने वाली मेथी का उपयोग आपके सौंदर्य भी भी चार-चांद लगा सकता है। यहां मेथी के सुंदरता से जुड़े लाभ और उनके इस्‍तेमाल के तरीकों की लिस्‍ट दी गई है जिन्‍हें आप बेजिझक अजमा सकते हैं।

त्‍वचा को चमक 
मेथी के बीज चेहरे की गंभीर समस्याओं जैसे झुर्रियों, काले धब्बे, फाइन लाइन और इंफेक्‍शन आदि से हमारी त्‍वचा की रक्षा करते हैं और पहले से उत्पन्न समस्याओं का दूर करने में भी सक्षम है। मेथी में मौजूद एंटी-ऑक्‍सीडेंट त्वचा की टोन और त्वचा में गलो लाने के लिए काफी फायदेमंद होते हैं। इसके लिए आप मेथी बीज, मेथी युक्त पानी, बेसन और दही का प्रयोग कर फेसपैक तैयार कर लें उसके बाद तैयार फेसपैक से त्वचा का एक्स्फोलिएट करें। इस उपाय से आपकी त्‍वचा में धीरे-धीरे निखार आने लगेगा।

आंखों के डार्क सर्कल दूर करें
कई बार उम्र बढ़ने या किसी अन्य समस्या के कारण आंखों आस-पास डार्क सर्कल होने लगते हैं। और इन डार्क सर्कल के कारण चेहरा बेजान लगने लगता है। इस समस्या को दूर करने के लिए भी मेथी आपके लिए मददगार हो सकती है। इसके लिए मेथी के थोड़े से दानो को लेकर उसका पेस्ट बना लें। अब इस पेस्ट को अपने आंखों के आस-पास डार्क सर्कल पर लगाएं। कुछ दिन इस उपाय को करने से आपको फायदा होने लगेगा।

झुर्रियों को दूर कर त्वचा पर गोरापन लाये
मेथी उम्र के निशान, झुर्रियों और फाइन लाइन को दूर करने में मददगार होती है। ऐसा इसलिए क्‍योंकि यह एंटीऑक्‍सीडेंट और मुक्‍त कणों से भरपूर होती है। एंटी-एजिंग मेथी को दही के साथ मिक्‍स करके फेस पैक बनाकर अपने चेहरे पर लगाएं। इसके अलावा यह आपकी त्‍वचा की रंगत में निखार लाती है। इसके लिए भी आप दही और मेथी के बीज के पाउडर को मिलाकर पेस्‍ट बना लें। त्‍वचा की देखभाल के लिए मेथी से बेहतर कोई और उपाय हो ही नहीं सकता। 

मुहांसों का करे खात्मा
मेथी के बीज कील-मुहांसों को रोकने और इसका इलाज करने में काफी प्रभावी है। मेथी त्‍वचा की मृत कोशिकाओं को निकालने में मदद करती है। जिससे त्‍वचा पर मुंहासें नहीं होते। मुहांसों पर काबू पाने के अलावा मुहांसों और जलने के निशान को दूर करने में भी मेथी मददगार होती है।

मेथी का फेस पैक बनाने के लिए मेथी बीज का पेस्ट तैयार करें और इसमें शहद मिला लें। रात को सोने से पहले इसे आप अपने मुहांसे पर लगा लें और सुबह इसे गुनगुने पानी से साफ कर लें। कुछ दिन इस उपाय को करने के बाद आपके मुहांसे और दाग दोनों गायब हो जायेगें।

चेहरे के काले दाग-धब्‍बों के लिए वरदान 
मेथी की पत्तियां हमारे शरीर के लिए उतनी ही उपयोगी है जितना उसके बीज। मेथी के दाने में फॉस्फेट, लेसिथिन जैसे पोषक तत्व होते है। इसके अलावा इसमें फोलिक एसिड, मैग्नीशियम, सोडियम, जिंक, कॉपर आदि के भी गुण मिलते हैं। जो शरीर के लिए बेहद जरूरी हैं। ये चेहरे के काले धब्बों के लिए एक वरदान साबित होती है। इसकी पत्ती को पीसकर चेहरे पर लगाने से काले धब्बों पर काफी आाराम मिलता है।

रविवार, 7 अगस्त 2016

धार्मिक ही नहीं सेहत के लिहाज से भी फायदेमंद है पीपल

धार्मिक ही नहीं सेहत के लिहाज से भी फायदेमंद है पीपल

आयुर्वेद में पीपल के पेड़ का खास महत्‍व है, यह गोनोरिया, डायरिया, पेचिश, नसों का दर्द, नसों में सूजन के साथ झुर्रियों की समस्‍या से से निजात दिलाता है।

फायदेमंद है पीपल का पेड़
यह पेड़ केवल भारतीय उपमहद्वीप में पाया जाता है। भारतीय इस पेड़ का धार्मिक महत्‍व तो है साथ ही आयुर्वेद में इसका खास महत्‍व है। कई बीमारियों का उपचार इस पेड़ से हो जाता है। गोनोरिया, डायरिया, पेचिश, नसों का दर्द, नसों में सूजन के साथ झुर्रियों की समस्‍या से निजात पाने के लिए इस पेड़ का प्रयोग कीजिए। एंटीऑक्‍सीडेंट युक्‍त यह पेड़ हमारे लिए बहुत फायदेमंद है।


झुर्रियों से बचाव
पीपल की जड़ों में एंटीऑक्सीडेंट सबसे ज्यादा पाए जाते हैं। इसके इसी गुण के कारण यह वृद्धावस्था की तरफ ले जाने वाले कारकों को दूर भगाता है। इसके  ताजी जड़ों के सिरों को काटकर पानी में भिगोकर पीस लीजिए, इसका पेस्‍ट चेहरे पर लगाने से झुर्रियां से झुटकारा मिलता है।

दातों के लिए
पीपल की 10 ग्राम छाल, कत्था और 2 ग्राम काली मिर्च को बारीक पीसकर पाउडर बना लीजिए, नियमित रूप से इसका मंजन करने से दांतों का हिलना, दांतों में सड़न, बदबू आदि की समस्‍या नहीं होती है और यह मसूड़ों की सड़न को भी रोकता है।

दमा में फायदेमंद
पीपल की छाल के अन्दर का भाग निकालकर इसे सुखा लीजिए, और इसे महीन पीसकर इसका चूर्ण बना लें, इस चूर्ण को दमा रोगी को देने से दमा में आराम मिलता है।

दाद-खाज खुजली में फायदेमंद
पीपल के 4-5 कोमल, नरम पत्ते खूब चबा-चबाकर खाने से, इसकी छाल का काढ़ा बनाकर आधा कप मात्रा में पीने से दाद, खाज, खुजली जैसे चर्म रोगों में आराम होता है।


फटी एडि़यों के लिए
पैरों की फटी पड़ी एड़ियों पर पीपल के पत्‍ते से दूध निकालकर लगाने से कुछ ही दिनों फटी एड़ियां सामान्य हो जाती हैं और तालु नरम पड़ जाते हैं।

घावों को भरे
पीपल के ताजे पत्तों को गर्म करके घावों पर लेप किया जाए तो घाव जल्द सूख जाते हैं। अधिक गहरा घाव होने पर ताजी पत्तियों को गर्म करके थोडा ठंडा होने पर इन पत्तियों को घाव में भर देने से कुछ दिनों में घाव भर जाते हैं।

जुकाम होने पर
पीपल के कोमल पत्तों को छाया में सुखाकर उसे अच्‍छे से पीस लीजिए, इसे आधा लीटर पानी में एक चम्मच चूर्ण डालकर काढ़ा बना लें। काढ़े में पीसी हुई मिश्री मिलाकर कुनकुना करके पीने से नजला-जुकाम से राहत मिलती है।

नकसीर होने पर
नकसीर की समस्‍या होने पर पीपल के ताजे पत्तों का रस नाक में टपकायें, इससे नकसीर की समस्‍या से आराम मिलता है।

पेट की समस्‍या के लिए
इसे पित्‍त नाशक माना जाता है, यानी यह पेट की समस्‍या जैसे - गैस और कब्‍ज से राहत दिलाता है। पित्‍त बढ़ने के कारण पेट में गैस और कब्‍ज होने लगता है। ऐसे में इसके ताजे पत्‍तों के रस एक चम्‍मच सुबह-शाम लेने से पित्‍त का नाश होता है।

गुरुवार, 8 दिसंबर 2016

आलू संवारता है आपकी सेहत भी और सूरत भी!

आलू संवारता है आपकी सेहत भी और सूरत भी!

  •     चेहरे की झुर्रियों पर पिसा हुआ आलू लगाने से होता है फायदा।
  •     पथरी में भी आलू का सेवन काफी मददगार साबित होता है।
  •     कब्‍ज के इलाज में भी आलू बेहद उपयोगी होता है।

आलू सबसे ज्यादा लोकप्रिय और सबसे ज्यादा प्रयोग की जाने वाली सब्जी है। आलू की खासियत है कि वो हर सब्‍जी के साथ एडजस्‍ट हो जाता है। हालांकि आलू को इस गलतफहमी की वजह कि इससे मोटापा बढ़ता है। लोग इसे खाने से कतराते है। लेकिन आलू के जबरदस्त फायदों के बारे में जानकर आप इसे रोजाना ज्यादा से ज्यादा खाने में शामिल करने लगेंगे।

खाने में तो आलू स्‍वाद होता ही है, लेकिन इसके कई औषधीय और सौंदर्य से जुड़े गुण भी हैं। आलू पौष्टिक तत्वों से भरा होता है। आलू में सबसे ज्यादा मात्रा में स्टॉर्च पाया जाता है। आलू क्षारीय होता है, जिसे खाने से शरीर में क्षारों की मात्रा बरकरार रहती है। आलू में सोडा, पोटेशियम, और विटामिन 'ए' और 'डी' पर्याप्त मात्रा में होता है। इसके अलावा आलू में मैग्नेशियम, फास्फोरस, आयरन और ज़िंक भी होता है। आलू के कार्बोहाईड्रेट और प्रोटीन, ग्लूकोज और एमिनो एसिड में बदल कर शरीर को तुरंत शक्ति देते है। इसके अलावा आलू में कई प्रकार के एंटीऑक्सीडेंट भी पाए जाते है। जो फ्री रेडिकल से होने वाले नुकसान से बचाते है।
फायदेमंद आलू

आलू के तत्व हड्डी को मजबूत बनाते है। भुना हुआ आलू खाने से पेट भर जाता है और आप दूसरी ज्यादा कैलोरी वाली चीजें खाने से बच जाते है। इस तरह ये वजन कम करने में सहायक है। इसके फाइबर भी वजन बढ़ने से रोकते है। आलू को हमेशा छिलके समेत पकाना चाहिए। क्योंकि, आलू का सबसे अधिक पौष्टिक भाग छिलके के एकदम नीचे होता है, जो प्रोटीन और खनिज से भरपूर होता है। आलू को उबालकर या भूनकर खाया जाता है, इसलिए इसके पौष्टिक तत्व आसानी से पच जाते हैं। आइए हम आपको आलू के गुणों के बारे में बताते हैं।

आलू के गुण

  1. चोट लगने पर आलू का प्रयोग करना चाहिए। कभी-कभी चोट लगने के बाद त्वचा नीली पड़ जाती है। नीले पडे जगह पर कच्चा आलू पीसकर लगाने से फायदा होता है।
  2. झुर्रियों से बचाव के लिए आलू बहुत फायदेमंद होता है। झुर्रियों पर कच्चे आलू को पीसकर लगाने से झुर्रियां समाप्त होती हैं।
  3. त्वचा की एलर्जी या फिर त्वचा रोग होने पर आलू का प्रयोग करना चाहिए। कच्चे आलू का रस लगाने से त्वचा रोग में फायदा होता है।
  4. अगर अं‍तडियों से सडांध आ रही हो तो भुने हुए आलू का प्रयोग करना चाहिए। इससे पेट की कब्ज और अंतडियों की सडांध दूर होती है।
  5. अम्लपित्त होने पर आलू का प्रयोग करन चाहिए। अम्लपित्त से बचाव के लिए आलू को सेंककर, उसका छिलका निकालकर, नमक और मिर्च के साथ खाने से फायदा होता है।
  6. गुर्दे की पथरी होने पर आलू का प्रयोग करना चाहिए। पथरी के रोगी को केवल आलू खिलाकर और बार-बार अधिक पानी पिलाकर पथरी को निकाला जा सकता है।
  7. आलू को गोला काटकर आंखों पर रखने से आंखों के आसपास की झुर्रियां समाप्त होती हैं।
  8. चेहरे की रंगत के लिए आलू बहूत फायदेमंद होता है। आलू को पीसकर त्‍वचा पर लगाने से रंग गोरा हो जाता है।
  9. आलू के रस को शहद में मिलाकर बच्चों को पिलाने से बच्चों का विकास अच्छे से होता है।

आलू के हरे भाग को बिलकूल नहीं खाना चाहिए। क्योंकि हरे भाग में सोलेनाइन नामक विषैला पदार्थ होता है जो शरीर के लिए नुकसानदायक होता है। इसके अलावा आलू के अंकुरित हिस्से का भी प्रयोग नहीं करना चाहिए।

गुरुवार, 25 अगस्त 2016

विक्स वेपोरब (vicks vaporab) में छिपे है सुंदरता के रंग

विक्स वेपोरब (vicks vaporab) में छिपे है सुंदरता के रंग


विक्स वेपोरब का इस्तेमाल ज्यादातर सिर दर्द और सर्दी जुकाम को दूर करने के लिए करते हैं। पर क्या आप जानते हैं कि इस छोटी सी डिब्बी में छिपे है कितने प्रकार की परेशानियों को दूर करने वाले उपाय, अगर आप इन्हें जानना चाहते है तो पढ़िए हमारा ये आर्टिकल जो आपकी कई परेशानियों को दूर करेगा।
विक्स वेपोरब की खासियत के बारें में जानें…

मच्छर को भगाए :
विक्स वेपोरब में मिलाए जाने वाले तत्वों से घर के कीड़े मकोड़ों को दूर किया जाता सकता है। साथ ही बच्चों को मच्छरों से बचाने के लिए आप अपने कपड़े और त्वचा पर थोड़ा सा विक्स वेपोरब लगा लें। इससे मच्छर तुंरत ही दूर भाग जाएंगे।
ये भी पढ़िए : मच्छरों को मारने या भगाने के लिए (मॉसक्विटो रेपेलेंट) कोइल जलाना हो सकता हैं जानलेवा

चेहरे पर झुर्रियों और मुहासों को कम करने में :
चेहरे में हो रहे कीलमुहासों और तनाव परेशानी से पड़ने वाली झुर्रियों से छुटकारा पाने के लिए आप त्वचा पर वेपोरब का प्रयोग करें। यह त्वचा की साफ सफाई करके मुहासों को कम मकरता है। इसके अलावा इसमें मिला तेल चेहरे की झुर्रियों को कम करने में मदद करता है।
ये भी पढ़िए : रोज खाएंगे पपीता नहीं होगी झुर्रियां और बाल झड़ने की परेशानी

चेहरे पर तनाव :
टेंशन बढ़ने से चेहरे पर हमेशा कुछ निशान आने लगते है। जिसे आप आसानी के साथ मिटा सकते है। निशान वाली जगह पर आप विक्स का उपयोग करें। निशानों को खत्म करने वाला सबसे अच्छा घरेलू उपचार माना जाता है।
ये भी पढ़िए : सिर्फ 45 सेकंड करें मसाज़ फिर देखें चमत्कार..!!

स्किन मॉइस्चराइजर :
शुष्क त्वचा में नमी लाने के लिए वेपोरब एक बेहतरीन उपचार का काम करता है। ये त्वचा में मॉइस्चराइजर का काम करता है। शुष्क त्वचा वाले इसका उपयोग कर असानी से लाभ उठा सकते हैं।

खून का रिसाव बंद :
शरीर पर कटे फटे जगहों से निकलने वाले खून के रिसाव को बंद करने के लिए विक्स में थोड़ा सा नमक मिलाकर लगाएं इससे तुंरत ही आपको फायदे देखने को मिलेगा।

कीट-पतंगों को भी रखे दूर :
बरसात के समय में घर के अंदर या बाहर कीट पतगें ज्यादा परेशान करते है। इससे बचने के लिए आप अपनी कोहनी, घुटने, गले और कान के पीछे विक्स वेपोरब को लगा लें। इससे आसपास के कीट पतंगे तुंरत ही दूर हो जाएंगे। इसके अलावा खाने के टेबल से मक्खियों को दूर भगाने के लिए वेपोरब कि डिब्बी को खोलकर रख दें। आस पास की जगहों में मक्खी नहीं मिलेगी।
ये भी पढ़िए : अगर आप भी खटमल से परेशान हैं तो अपनाएँ ये कुछ आसान उपाय

फंगस :
विक्स की मदद से आप बैक्टीरिया के साथ फंगस से लड़ सकते हैं। घर पर पालतू जानवरों के रहने से फंगस और बैक्टीरिया ज्यादा होते है। यह इस समस्या के लिए सबसे कमाल की चीज समझी जाती है।

साइनस सिरदर्द :
वेपोरब में मेंथॉल की उपस्थिति पाई जाती है। जिससे यह हमारे शरीर में होने वाले दर्द से जल्द ही निजात दिलाने का काम करता है। साइनस सिरदर्द जैसे दर्द को दूर करने का यह एक अच्छा घरेलू उपचार है। इसके लगाने के लिए आप वेपोरब को नाक के नीचे की ओर लगाएं इसके बाद एक गहरी सांस लें। तुंरत ही अराम मिलेगा।
ये भी पढ़िए : सिरदर्द को दूर करने के लिए पीएं ये जूस

स्ट्रेच मार्क को हटाए :
त्वचा में होने वाले स्ट्रेच मार्क दूर करने के लिए विक्स वेपोरब अच्छा उपचार माना जाता है। इसका उपयोग नियमित रूप से करें जल्द ही सके अच्छे परिणाम आपको देखने को मिलेगें।

फटे पैर का उपचार :
सर्दी के समय सभी को हाथ पैरों के फटने की परेशानी का सामना करना पड़ता है। इस समस्या से मुक्ति पाने के लिए आप अपनी एड़ी पर वेपोरब की एक अच्छी मोटी परत लगाएं। इसके बाद सूती मौजे पहन लें। सुबह उठने के बाद अपने पैरों को गुनगुने पानी से धो लें। मृत कोशिकाओं के हटाने के लिए किसी ब्रश का उपयोग कर पैरों को साफ करें आप खुद ही देखेगें इसके परिणाम से आपको जल्द ही राहत मिलेगी।

मंगलवार, 17 जनवरी 2017

विक्स वेपोरब में छिपे है बहुत से इलाज़

विक्स वेपोरब में छिपे है बहुत से इलाज़


विक्स वेपोरब का इस्तेमाल ज्यादातर सिर दर्द और सर्दी जुकाम को दूर करने के लिए करते हैं। पर क्या आप जानते हैं कि इस छोटी सी डिब्बी में छिपे है कितने प्रकार की परेशानियों को दूर करने वाले उपाय, अगर आप इन्हें जानना चाहते है तो पढ़िए हमारा ये आर्टिकल जो आपकी कई परेशानियों को दूर करेगा।

विक्स वेपोरब की खासियत के बारें में जानें…

चेहरे पर झुर्रियों और मुहासों को कम करने में
चेहरे में हो रहे कीलमुहासों और तनाव परेशानी से पड़ने वाली झुर्रियों से छुटकारा पाने के लिए आप त्वचा पर वेपोरब का प्रयोग करें। यह त्वचा की साफ सफाई करके मुहासों को कम करता है। इसके अलावा इसमें मिला तेल चेहरे की झुर्रियों को कम करने में मदद करता है।

मच्छर को भगाए
विक्स वेपोरब में मिलाए जाने वाले तत्वों से घर के कीड़े मकोड़ों को दूर किया जाता सकता है। साथ ही बच्चों को मच्छरों से बचाने के लिए आप अपने कपड़े और त्वचा पर थोड़ा सा विक्स वेपोरब लगा लें। इससे मच्छर तुंरत ही दूर भाग जाएंगे।

चेहरे पर तनाव
टेंशन बढ़ने से चेहरे पर हमेशा कुछ निशान आने लगते है। जिसे आप आसानी के साथ मिटा सकते है। निशान वाली जगह पर आप विक्स का उपयोग करें। निशानों को खत्म करने वाला सबसे अच्छा घरेलू उपचार माना जाता है।

स्किन मॉइस्चराइजर
शुष्क त्वचा में नमी लाने के लिए वेपोरब एक बेहतरीन उपचार का काम करता है। ये त्वचा में मॉइस्चराइजर का काम करता है। शुष्क त्वचा वाले इसका उपयोग कर असानी से लाभ उठा सकते हैं।

खून का रिसाव बंद
शरीर पर कटे फटे जगहों से निकलने वाले खून के रिसाव को बंद करने के लिए विक्स में थोड़ा सा नमक मिलाकर लगाएं इससे तुंरत ही आपको फायदे देखने को मिलेगा।

कीट-पतंगों को भी रखे दूर
बरसात के समय में घर के अंदर या बाहर कीट पतगें ज्यादा परेशान करते है। इससे बचने के लिए आप अपनी कोहनी, घुटने, गले और कान के पीछे विक्स वेपोरब को लगा लें। इससे आसपास के कीट पतंगे तुंरत ही दूर हो जाएंगे। इसके अलावा खाने के टेबल से मक्खियों को दूर भगाने के लिए वेपोरब कि डिब्बी को खोलकर रख दें। आस पास की जगहों में मक्खी नहीं मिलेगी।

फंगस
विक्स की मदद से आप बैक्टीरिया के साथ फंगस से लड़ सकते हैं। घर पर पालतू जानवरों के रहने से फंगस और बैक्टीरिया ज्यादा होते है। यह इस समस्या के लिए सबसे कमाल की चीज समझी जाती है।

साइनस सिरदर्द
वेपोरब में मेंथॉल की उपस्थिति पाई जाती है। जिससे यह हमारे शरीर में होने वाले दर्द से जल्द ही निजात दिलाने का काम करता है। साइनस सिरदर्द जैसे दर्द को दूर करने का यह एक अच्छा घरेलू उपचार है। इसके लगाने के लिए आप वेपोरब को नाक के नीचे की ओर लगाएं इसके बाद एक गहरी सांस लें। तुंरत ही अराम मिलेगा।

फटे पैर का उपचार
सर्दी के समय सभी को हाथ पैरों के फटने की परेशानी का सामना करना पड़ता है। इस समस्या से मुक्ति पाने के लिए आप अपनी एड़ी पर वेपोरब की एक अच्छी मोटी परत लगाएं। इसके बाद सूती मौजे पहन लें। सुबह उठने के बाद अपने पैरों को गुनगुने पानी से धो लें। मृत कोशिकाओं के हटाने के लिए किसी ब्रश का उपयोग कर पैरों को साफ करें आप खुद ही देखेगें इसके परिणाम से आपको जल्द ही राहत मिलेगी।

स्ट्रेच मार्क को हटाए
त्वचा में होने वाले स्ट्रेच मार्क दूर करने के लिए विक्स वेपोरब अच्छा उपचार माना जाता है। इसका उपयोग नियमित रूप से करें जल्द ही सके अच्छे परिणाम आपको देखने को मिलेगें।

रविवार, 17 अप्रैल 2016

 नींबू के सौंदर्य लाभ

नींबू के सौंदर्य लाभ


खूबसूरती के लाभ नींबू से – नींबू के सौंदर्य लाभ
अगर आप खूबसूरती की सभी जरूरतों को पूरा करने वाली सामग्री ढूँढ रहे है, तो नींबू से अच्छा क्या हो सकता है? आपको नींबू से ताजे रस निकालकर उसे संक्रमित क्षेत्र पर लगाने के बाद चिकनी,कोमल और निष्कलंक त्वचा प्राप्त होगी।
नींबू बहुत आसानी से उपलब्ध होता है और यह खट्टा फल विटामिन सी, विटामिन बी, फॉस्फोरस और कार्बोहाइड्रेट से भरपूर है। इस फल का अम्ल त्वचा के लिये अच्छा है और आपकी खूबसूरती को बढ़ाने बहुत मददगार है।
नींबू का रस फलो के अम्ल और प्राकृतिक चीनी से भरपूर है। नींबू के रस में पाये जाने वाले पोषक तत्व आपकी त्वचा और स्वास्थ्य को बढ़ाने में सहायता कर सकते है। यह अंदर से स्वास्थ्य और बाहर से आपकी त्वचा की देखभाल करते है। नींबू का प्राकृतिक अम्ल मृत त्वचा कोशिकाओं को हटाता है, उम्र के चिन्हों, अन्‌चाही झुर्रियों को हल्का करता है और बदरंग चेहरे को साफ करता है। अम्लता तैलीयता को सोखती है और प्राकृतिक तेल के संतुलन को हटाये बिना छिद्रों को साफ करता है।
चमकदार और बेदाग त्वचा के लिये नींबू रस के उपयोग पर सुझाव (Tips on using lemon juice for a glowing and flawless skin)
काले दागों और पिग्मेंटेशन से छुटकारा (Treat black marks and pigmentation)
खट्टे फल, खासतौर पर नींबू, काले निशान, उम्र के निशान और झांई के उपचार के लिये अच्छा है। प्रभावित क्षेत्र पर नींबू को लगाते ही आप अपने दाग में कमी होते हुए पायेंगे। नींबू का साइट्रिक अम्ल विरंजन और त्वचा को साफ करने में सहायता करता है।
मुंहासे को ठीक करने लिये नींबू के फायदे (Lemon juice to cure acne)
नींबू के ताज़े रस को निकाल कर थोड़े से पानी में पतला कर दें। रूई की सहायता से प्रभावित क्षेत्र पर लगाये। लगाने के 15 मिनट बाद ठण्डे पानी से धुल दें। इसका नियमित प्रयोग मुंहासे को ठीक करने में सहायता करेगा। इसके अलावा प्रतिदिन एक ग्लास नींबू पानी आपको अन्दर से साफ करेगी जिससे आप मुंहासे से मुक्त चमकदार त्वचा पायेंगे। एक ग्लास गुनगुने पानी में तीन चम्मच नींबू का रस और थोड़े शहद का मिश्रण बनाकर पियें।
त्वचा के गोरेपन के लिये नींबू के रस का उपयोग (Lemon juice for fairness)
नींबू में विरंजन गुण के कारण आपकी त्वचा इसके प्रयोग से गोरी हो जाती है। 2 चम्मच नींबू रस को 3 चम्मच पानी में अच्छे से मिलाकर चेहरे और गर्दन पर लगाये। 30 मिनट बाद ठण्डे पानी से धोयें। कम समय में अधिक लाभ के लिये प्रतिदिन इसका प्रयोग करें। अगर आप चाहे तो कुछ बूंदे शहद की मिला सकते है यह किसी भी प्रकार के जलन में कमी करता है।
नींबू के फायदे – मुंहासे से छुटकारा (Acne removal)
दानों के निशान को हल्का करने के लिये नींबू बेहतरीन उपाय है। बस नींबू का छिलका अपने चेहरे पर रगड़ लें और 10 मिनट छोड़ने के बाद ठण्डे पानी से धुल दें। कुछ दिनों तक इस प्रक्रिया को दोहराने पर आप परिवर्तन मह्सूस करें।
काले मुंहासो को हटाने के लिये नींबू के फायदे (Lemon for black mark removal)
काले मुंहासों पर नींबू के रस का सीधा प्रयोग उन्हें प्रभावी तरह से हटाने में आपकी मदद कर सकता है। नींबू का साइट्रिक काले मुंहासों के कारक तेल को आपकी त्वचा से बाहर निकालने मे मदद करेगा |
बदरंग कुहनियों के लिये नींबू (Treat black elbows with lemon)
नींबू के छिलके को बदरंग कुहनियों पर रगड़े। यह आपकी कुहनियों से काले धब्बों को हटाने में मदद करेगा।
फ्रेशनर के लिये नींबू (Lemon as freshener)
एक बर्तन में नींबू के रस को लें और इसमें अपनी उंगलियां डुबा दें। इसी तरह 15 मिनट तक डुबाये रहें जिससे आवश्यक खनिज सोख लिये जायें। बिस्तर पर जाने से पहले आप अक्सर दोहरायें। यह प्रोटीन और केरेटीन को फैसनर में बढ़ाने में मदद कर सकता है तथा उन्हें पौष्टिक और मजबूत बनाता है।
नींबू से खूबसूरती के लाभ (Beauty benefits of Lemon)
नींबू के साथ नारियल पानी की कुछ बूंदो का मिश्रण एक उत्कृष्ट मॉइस्चराइज़र बनाता है। दोनो एक साथ मिलकर त्वचा को हाइड्रेट, साफ और गोरा करते हैं।
आधा नींबू लेकर उसे काले कुहनी और घुटनों पर रगड़ें। यह जादुई ढ़ंग से विरंजक का कार्य करता है।
नींबू में मुंहासों को ठीक करने वाला एण्टीबैक्टीरियल गुण होता है। नींबू को चेहरे पर निचोड़े और जल्द ही काले मुंहासे खत्म हो जायेंगे।
नींबू रस और बेकिंग सोडा एक परिपूर्ण दांतों को सफेद करने वाला मिश्रण है।
नींबू आवश्यक तेल मुंह के नासूर घावों को ठीक करने में सहायक है।
साइट्रिक अम्ल और विटामिन सी की सामग्री द्वारा नींबू आपकी त्वचा को गोरा करने में आदर्श सहायक है। नींबू के विटामिन सी का एण्टीऑक्सीडेंट मुक्त कणों को कम और कोलेजन को बढ़ाता है। यह प्रक्रिया काले दाग, उम्र के निशान और गहरे रंग के क्षेत्र को हल्का करता है।
नींबू, तेल के कारण होने वाले चमक को हटाकर अतिरिक्त तेल का निकलना कम करता है।
नींबू के रस को होठों पर सारी रात लगाकर छोड़ने पर यह अपपर्णन करता है। यह होठों से मृत त्वचा और सूखी कोशिकाओं को हटा सकता है। घरेलू बॉडी क्लीनर नींबू रस, दही और आवश्यक तेल जैसे लेवैंडर या केमेलिआ से बनाया जा सकता है। इससे मसाज त्वचा को नम तथा गंदगी और बैक्टीरिया को हटाता है।
नींबू पुदीना से पैरों का स्क्रब- समुद्री नमक, नीबू के छिलके और पुदीने के तेल से पैरों के अपपर्णन के लिये स्क्रब बनाया जा सकता है।
प्रतिदिन स्नानसे पहले नींबू रस को दूध या क्रीम के साथ लगाये। 15 मिनट छोड़ने के बाद इसे धुल दें।
नींबू के रस से त्वचा की देखभाल (Lemon juice for skin care)
बादाम तेल झुर्री विरोधी मास्क- एक चम्मच शह्द, एक चम्मच नींबू रस और कुछ बूंदे बादाम तेल को अच्छे से मिलायें। अब इसे आप अपने चेहरे और गर्दन पर मास्क की तरह लगा लें।
सूखी त्वचा के लिये शहद मास्क- नींबू रस, शहद और जैतून के तेल को बराबर मात्रा में मिलाकर लगाने पर सूखी त्वचा से छुटकारा पाते है और आपकी त्वचा को कोमल और नम बनायेगा।
चीनी स्क्रब- आधे नींबू के रस में दो चम्मच चीनी के दाने मिलायें। आपनी सुस्त त्वचा पर स्क्रब की तरह उपयोग करके अपपर्णन करें। स्क्रब आपकी त्वचा से गहरे दाग को हटाता और चिकनी त्वचा देता है।
तैलीय त्वचा के लिये अण्डे का मास्क- नींबू रस, सफेद अण्डे और अंगूर के रस को अच्छे से मिलायें। यह पैक आपकी त्वचा को मुलायम और चमकदार बनाने में मदद कर सकता है।
चेहरे और त्वचा पर नींबू रस का उपयोग (Lemon for face and skin in Hindi)
मॉइस्चराइज़र (Moisturizer)
एक सम्पूर्ण मॉइस्चराइज़र, बराबर मात्रा में नीबू रस, दूध या दूध की क्रीम को मिलाकर बनाया जा सकता है और सूखे क्षेत्रों पर लगा सकते है। 15-20 मिनट बाद छोड़े और धुल दें।
अपपर्णन (Exfoliate)
नींबू रस प्राकृतिक अपपर्णक की तरह कार्य करता है। इसका साइट्रिक अम्ल मृत त्वचा की ऊपरी परत को हटा सकता है। नींबू रस, चीनी और पानी को मिलाकर लेप बनाकर चेहरे पर रगड़े।
टोनर (Lemon as toner)
नींबू रस, पानी, विच हैज़ेल और वोदका का मिश्रण बनाकर अपनी तैलीय त्वचा से अतिरिक्त तेल को हटाने और त्वचा की रंगत के लिए लगायें।
त्वचा चमकाने का मास्क (Skin polishing with lemon)
यह नींबू रस, आलू रस, टमाटर रस और चंदन को मिलाकर बनाया जाता है। अपने चेहरे पर इस लेप को लगाये और 20 मिनट बाद धुल दें।
उम्र विरोधी मास्क (Anti age masks with lemon)
नींबू रस, बादाम तेल और शहद का मोटा मिश्रण बना लें। इसे चेहरे पर लगा कर 15 मिनट बाद धुल दें। गर्म दूध में एक बार नींबू रस और दूसरी बार ग्लिसरीन को पर्याय क्रम में अलग अलग रातों में चेहरे पर डालकर सारी रात के लिये छोड़ दें। सुबह धुल कर फर्क का अनुभव करें। यह आंखों के पास की झुर्रियों और पतली रेखाओं को कम कर देगा। रेखाओं और झुर्रियों को हटाने की प्रक्रिया धीमी होती है और समय लगेगा।
प्राकृतिक खूबसूरती की केयर के लिए नींबू (Lemon for natural beauty care)
नींबू रस अम्लिक होता है और इसका प्रयोग आपकी त्वचा को सूखा कर देगा। इसलिये इसके प्रयोग के बाद अपनी त्वचा को मॉइस्चराइज़ करना आवश्यक है।
दही को नींबू रस में मिलाकर सम्पूर्ण त्वचा के गोरेपन और मॉइस्चराइज़र मास्क के लिये प्रयोग करते है।
कटे, जले और घाव वाले क्षेत्र पर नींबू रस नही लगाते है।
अपनी त्वचा पर नींबू लगाने के बाद धूप में कभी नही जायें।
यदि नींबू के प्रयोग से जलन, लाली या सूखापन होता है तो इसे पानी मिलाकर पतला करें या फिर उपयोग ना करें।

सोमवार, 8 अगस्त 2016

 शंख में छिपे सेहत के ये राज

शंख में छिपे सेहत के ये राज

शंख सिर्फ हिंदू धर्म का पवित्र धार्मिक प्रतीक ही नहीं है बल्कि इसके कई हेल्थ बेनिफिट्स भी हैं। शंख बजाने के अलावा इसमें रखा पानी कई बीमारियों में फायदा करता है।शंख से जुड़े ऐसे हेल्थ बेनिफिट्स जिनके बारे में शायद आप भी नहीं जानते होंगे।शंख में रातभर रखे पानी को तीन चम्म्च सुबह खाली पेट पीने से कब्ज जैसी तकलीफों में फायदा होता है। एसे ही
रातभर शंख में रखे पानी में उतना ही सादा पानी मिलाकर आँखों को धोने से आँखें हेल्दी रहती है। नहाने के बाद शंख को स्किन पर हल्के-हल्के रगड़ने से स्किन ग्लो करती है।शंख में रातभर रखे पानी से सुबह स्किन की रेगुलर मसाज करे। स्किन डिजीज में फायदा होता है।शंख में कैल्शियम और फॉस्फोरस के अलावा कई मिनरल्स होते हैं जो हेल्थ के लिए फायदेमंद होते हैं।शंख के कई हेल्थ बेनिफिट्स हैं।
शंख बजाने के अलावा इसमें रखा पानी कई बीमारियों में फायदा करता है। शंख में कैल्शियम और फॉस्फोरस जैसे मिनरल्स हेल्थ के लिए फायदेमंद होते हैं। गले की मसल्स की एक्सरसाइज होती है। वोकल कार्ड और थाइरायड से जुडी प्रॉब्लम्स में फायदा होता है।
ब्रेन और पूरी बॉडी में ब्लड सर्कुलेशन तेज होता है। हेयर फॉल की प्रॉब्लम भी दूर होती है।
फेस की मसल्स की एक्सरसाइज होती है। झुर्रियों से बचाव होता है।

शंख में रखे पानी के फायदे

1.रातभर शंख में रखे पानी में गुलाब जल मिलाकर बाल धोने से बाल काले, मुलायम और घने होते है।

2. शंख में रातभर रखे पानी से सुबह स्किन की रेगुलर मसाज करे। स्किन डिजीज में फायदा होता है।

3. फेस की मसल्स की एक्सरसाइज होती है। झुर्रियों से बचाव होता है।

4. शंख बजाने से फेफड़े फैलते है। अस्थमा और सांस से जुडी प्रॉब्लम में फायदा होता है।

5. रेक्टल मसल्स सिकुड़ती और फैलती है। इससे उनकी एक्सरसाइज होती है। गैस्ट्रिक और पेट की कई प्रॉब्लम दूर होती है।

6. शंख बजाने से चेस्ट की मसल्स की टोनिंग होती है।
 

शुक्रवार, 25 नवंबर 2016

कटहल के लाभ और गुण, शेयर करें

कटहल के लाभ और गुण, शेयर करें


कटहल एक ऐसी सब्जी का नाम है जिसका नाम सुनते ही सभी के मूंह में पानी आ जाए। दुनिया में कई तरह के फल पाए जाते है उनमें से सबसे बड़ा फल हैं कटहल। इसका प्रयोग सब्जी में ही नहीं बल्कि आचार, पकौड़े, कोपते बनाने में भी किया जाता है। कटहल में कई तरह के तत्व पाए जाते हैं, जैसे कि विटामिन ए, विटामिन सी, पो‌‍टैशियम,कैलिशयम, आयरन और जिंक, जो हमारे शरीर की आवश्कताओं को पूरा करने में मदद करते हैं। सबसे अच्छी बात यह होती है कि इसमें कैलोरी नहीं होती। जिनको हार्ट की परेशानी होती है, उनके लिए कटहल काफी फायदेमंद होता है। इसका सेवन करने से हमारी हड्डियां मजबूत होती हैं और साथ में स्वस्थ्य रहती हैं, इसके सेवन करने से हमारी पाचन शक्ति तेज होती हैं।

कटहल के बीज –

जैसे हम जानते हैं कि कटहल हमारे लिए कितना फायदेमंद होता है। लेकिन आप को इस का बात का बिल्कुल भी अंदाजा नहीं होता कि इसके बीज भी हमारे स्वास्थ्य के लिए कितने लाभदायक होते हैं। इसके बीजो में काफ़ी सारा पोषण छुपा होता हैं इसके साथ ही इसमें कार्बोहाइड्रेट, विटामिन ए, विटामिन सी और विटामिन बी भी पाए जाते हैं। कटहल का प्रयोग करने से हमें कई तरह के फ़ायदे होते हैं जो इस तरह से है:-

ब्लड शुगर -

कटहल का प्रयोग हम ब्लड शुगर को कंट्रोल में करने के लिए भी कर सकते है। जिन लोगों का ब्लड शुगर हो वो इसका प्रयोग नियमित रूप से करें। इसके साथ यह कब्ज से भी छुटकारा दिलाता है।

बालों के लिए -

कटहल के बीजो का प्रयोग हम अपने बालों को लम्बा और घना करने के लिए भी करते हैं। इसके लिए कटहल के बीज को पीस कर उसका चूर्ण बना लें। उस चूर्ण का प्रयोग अपने बालो में करें, इससे आप के बाल लम्बें, काले, घने होने लगते हैं ।

मोटापे से राहत -

जो लोग मोटापे से परेशान हो उन लोगों को कटहल के बीजों का सेवन करना चाहिए क्योंकि इसमें कैलोरी की मात्रा कम होती हैं ।

चेहरा साफ़ -

कटहल के बीज का चूर्ण बना कर उसमें थोड़ा शहद मिलाकर अपने चेहरे पर लगाने से चेहरा साफ़ हो जाता है और दाग़ –धब्बे मिट जाते हैं। जिन लोगों की चेहरा रुखा और बेजान होता है उन लोगों को कटहल का रस अपने चेहरे पर लगाना चाहिए । इसकी मसाज तब तक करे जब तक यह सूख न जाए फिर थोड़ी देर के बाद अपना चेहरा पानी के साथ धो लें।

झुर्रियों से राहत -

जो अपनी झुर्रियों से परेशान होते है, उन को कटहल का पेस्ट बना कर और उसमें एक चम्मच दूध का मिलाकर धीरे धीरे अपने चेहरे पर लगाना चाहिए । फिर बाद में गुलाबजल या ठंडे पानी से अपना चेहरा साफ़ करे । ऐसा करने से आप को कुछ दिनों में फर्क नजर आने लगता हैं ।

कैंसर -

कटहल के बीज का प्रयोग करने से कैंसर जैसी बीमारी से लड़ने की शक्ति मिलती है।

ऊर्जा का स्रोत -

कटहल के बीज को ऊर्जा का एक अच्छा स्त्रोत माना जाता है। एक कटोरी कटहल के बीजों का सेवन करने से आप पूरे दिन ऊर्जावान रह सकते हैं ।

दिल की बीमारी -

कटहल के बीज खाने से आप कई तरह की बीमारियों से बच सकते हैं जिन लोगों को दिल कि बीमारी हो वो अगर कुछ दिनों तक लगातार कटहल के बीजों का सेवन नियमित रूप से करें तो वह इस रोग से काफ़ी हद तक राहत पा सकते हैं।

कटहल के बीजों का इस्तेमाल :

कटहल के बीजों का इस्तेमाल हम दो तरीकों से कर सकते हैं जो इस प्रकार हैं :-

1. भून कर, 2. उबाल कर
कटहल के बीजों को आप काटने की बजाय धो कर निकाल ले, उसमें अगर कोई भूरा छिलका हो तो उसे निकाल दें। फिर हल्दी और नमक डालकर उसे उबाल लें। बाद में आप इसे स्नैक के रूप में खा सकते ह। आप कटहल के उबले हुए बीजों में प्याज, लहसून और हरी मिर्च का तड़का लगायें। आप इसे रोटी के साथ भी खा सकते हो।