कब्ज लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं
कब्ज लेबलों वाले संदेश दिखाए जा रहे हैं. सभी संदेश दिखाएं

बुधवार, 4 अप्रैल 2018

15 दिनों में 1 बार जरूर करें अपनी आंतों की सफाई, बस अपनाना होगा ये नुस्खा

15 दिनों में 1 बार जरूर करें अपनी आंतों की सफाई, बस अपनाना होगा ये नुस्खा


आज हम आपको बताने वाले हैं कि कैसे आप असानी से अपनी आंतों को साफ कर सकते है. एक ऐसा तरीका बताएंगे जिससे आप हर 15 दिन में अपनी आंतों की सफाई कर सकते है. जिस वजह से से आपका पेट कभी खराब नहीं रहेगा और आपको कब्ज की शिकायत है तो वो भी दूर हो जाएगी. इस वजह से आपको बीमारियां भी हो जाती है लेकिन ये करने के बाद अब किसी तरह की बीमारियां होने का खतरा भी कम हो जाता है. तो आइए बताते है आपको कुछ टिप्स…

कैसे करें आंतों की सफाई
एक चम्मच त्रिफला पाउडर लें, एक चम्मच शहद लें और उसे एक गिलास गाय के गर्म दूध में अच्छी तरह मिला लें और  5 मिनट के लिए छोड़ दें. उसके बाद रात को सोनेे से पहले इस दूध को पी लें.

ये आयुर्वेद का बहुत असरदार नुस्खा है. ऐसा करने से आपका पेट पूरी तरह साफ हो जाएगा और खुद आपको दिखने लगेगा कि आपकी कब्ज की परेशानी भी सही होने लगी है.

शनिवार, 31 मार्च 2018

वजन घटाने में मदद करता है दूध वाला दल‍िया, जानें किस समय खाना है बेहतर

वजन घटाने में मदद करता है दूध वाला दल‍िया, जानें किस समय खाना है बेहतर


दलिया खाने के यूं तो कई फायदे गिनाए जाते हैं। लेकिन इसे दूध के साथ खाने पर इसके फायदे कई गुणा बढ़ जाते हैं। खासतौर पर वजन कम करने में लगे लोगों और शुगर के मरीजों को तो इसका सेवन जरूर करना चाहिए। वैसे इसे नाश्‍ते में खाया जाए तो ये ज्‍यादा लाभ देता है। नमकीन दल‍िया से जब मन भर जाए तो दूध वाला दल‍िया आपके लिए बेहतरीन विकल्‍प साबित होगा। 

दल‍िया और दूध को मिलाकर खाने के फायदे से पहले जान लें कि दलिया आख‍िर है क्‍या ! दल‍िया को गेहूं को छोटे-छोटे टुकड़ों तोड़कर बनाया जाता है। इसमें प्रोटीन, आयरन और फाइबर काफी मात्रा में पाया जाता है। दलिया से बनी डिश ज्यादातर लोग नाश्ते या डिनर में खाना पसंद करते हैं। नमकीन दल‍िया को सब्जियों के साथ बनाया जाता है तो कुछ लोग इसे मीठा भी पसंद करते हैं। वैसे चीनी की जगह दल‍िया को स‍िर्फ दूध के साथ भी लिया जा सकता है। दूध वाला दल‍िया देखकर अगर आप मुंह बना लेते हैं तो जान लें ये आपकी चौड़ी कमर को दुबला करने में मदद कर सकता है। जानें इसके फायदे -

यहां जानें दूध में बना दलिया खाने के 5 फायदे - 

1. वजन कम करता है
एक कटोरी दलिया खाने से वजन घटाने में मदद मिलेगी। दलिया में फाइबर काफी मात्रा में होता है। इसलिए दल‍िया खाने से पेट अच्छी तरह भर जाता है। ऐसे में पेट देर तक भरा रहता है और हम कुछ भी ज्‍यादा खाने से बच जाते हैं। 


2. एनर्जी का सोर्स 
दलिया पेट में आसानी से पच जाता है। एक कटोरी दलिया अगर रोज सुबह खाया जाए तो पेट तो देर तक भरा रहेगा ही, इसके अलावा शरीर को पर्याप्त ऊर्जा भी मिलेगी। 


3. कब्ज से राहत 
यदि आप कब्ज की समस्या से जूझ रहें हैं तो दूध वाला दलिया आपकी परेशानी को दूर करेगा। दलिया में उच्च मात्रा में फाइबर होता है जो पाचन को ठीक रखने में मदद करता है और कब्ज से बचाता है। नियमित दलिया खाने से पेट में कब्ज की समस्या दूर हो जाती है।


4. शुगर के मरीजों के लिए 
डायबिटीज के मरीजों के लिए एक कटोरी दलिया का सेवन बहुत फायदेमंद होता है। इसमें कॉम्पलेक्स कार्बोहाइड्रेट्स मौजूद होते हैं और ग्लाइसेमिक इंडेक्स कम होता है। यह ब्लड में ग्लूकोज को कम मात्रा में रिलीज कर ब्लड शुगर को कंट्रोल में रखता है। 


5. द‍िल के लिए बेहतर 
रोजाना दलिया खाने से कॉर्डियोवैस्कुलर बीमारियां दूर रहती हैं। इसके अलवा दलिया उच्च कोलेस्ट्रॉल और हाई ब्लड प्रेशर को 21 प्रतिशत तक कम करता है। दलिया धमनियों को ब्लॉक होने से बचाता है और रक्त के प्रवाह को बेहतर बनाता है।

शनिवार, 3 मार्च 2018

88% लोगों को नही पता है छोटी सी दिखने वाली “इलायची के पानी” के फायदे

88% लोगों को नही पता है छोटी सी दिखने वाली “इलायची के पानी” के फायदे


शरीर को स्वस्थ रखने के लिए अक्सर गर्म या उबला हुआ पानी पीने की सलाह दी जाती है, लेकिन अगर आप इसी पानी में इलायची डालकर उबालते हैं, तो इसे पीने से आपकी ढेरों बीमारियों का इलाज एक साथ हो सकेगा।जहां इलायची मुंह की दुर्गंध को दूर करने का काम करती है, वहीं इसका पानी स्वास्थ्य के लिए बहुत फायदेमंद है। इससे एक नहीं बल्कि कई बीमारियां दूर होती है साथ ही ये आपकी सेहत के लिए बहुत ही लाभदायक है।

पेट की बीमारी करे दूर-
इलायची का पानी पीने से आपको पेट की हर तरह की परेशानी से राहत मिलती है। अगर आप नियमित रूप से इलायची के पानी का सेवन करते हैं तो आपको मतली, एसिडिटी, पेट फूलना, गैस, भूख की कमी, कब्ज व अन्य सभी पेट की समस्याएं दूर हो जाती हैं।

दांतों के लिए लाभदायक
यह तो हम सभी जानते हैं कि इलायची चबाने से आपके मुंह की दुर्गंध दूर होती है लेकिन अगर आप इसके पानी का सेवन करते हैं तो आप सांसों की बदबू के साथ-साथ मुंह के छाले व गले के संक्रमण में भी काफी हद तक आराम मिलता है।

बॉडी को करे डिटॉक्सीफाई
इलायची का पानी बॉडी को डिटॉक्सीफाई करने का एक बेहतर तरीका है। रोजाना इसके सेवन से आपके शरीर के सभी विषाक्त पदार्थ फ्लश आउट हो जाते हैं और आप काफी बेहतर महसूस करते हैं।

रखे लंबे समय तक जवां
चूंकि इलायची में प्राकृतिक रूप से एंटी ऑक्सीडेंटस पाए जाते हैं, इसलिए अगर आप इसके पानी को नियमित रूप से पीते हैं तो आप बढ़ती उम्र के निशान जैसे फाइन लाइन्स, रिकंल्स आदि को काफी हद तक कम कर सकते हैं और लंबे समय तक जवां बने रह सकते हैं।

कोल्ड और कफ को रखे दूर
बदलते मौसम में अक्सर लोगों को खांसी-जुकाम की शिकायत होती है। खासतौर से, छोटे बच्चे इस तरह की परेशानी की चपेट में बार-बार आते हैं लेकिन नियमित रूप से इलायची के पानी का सेवन आपको इस तरह की बीमारियों को होने से रोकता है।

ऐसे बनाएं इलायची का पानी
अब तक आपने यह तो जान लिया कि इलायची का पानी आपकी सेहत के लिए बहुत लाभकारी है लेकिन बहुत से लोग ऐसे भी होंगे, जिन्हें इलायची का पानी बनाना ही नहीं आता होगा। दरअसल, इसे बनाने के लिए आप सबसे पहले इलायची को अच्छे से कूट लें और फिर एक बर्तन में पानी व इलायची डालें। इसमें आप 2-3 लौंग भी डाल दें और इस पानी को उबालें लेकिन आवश्यकता से अधिक नहीं। जरूरत से ज्यादा उबालने पर इसका स्वाद कड़वा हो जाएगा। अब इसे ठंडा होने के लिए रख दें। जब यह ठंडा हो जाए तो आप सादे पानी में तीन चम्मच इलायची का पानी मिलाएं और पीएं। आप चाहें तो अंत में इस पानी में नींबू का रस भी मिला सकते हैं।

मंगलवार, 30 जनवरी 2018

शुगर जैसी अनेक बीमारियों के लिए रामबाण इलाज़ है भिंडी का पानी

शुगर जैसी अनेक बीमारियों के लिए रामबाण इलाज़ है भिंडी का पानी


आज हम आपको ऐसी खबर बता रहे है जो आपके लिए फायदेमंद साबित हो सकती है। भिंडी काफी लोगों की पसंदीदा सब्‍जी है। लेकिन वह आपकी थाली में शायद इसलिए रहती है क्योंकि वह स्वादिष्ट होती है. हालांकि ये लेख पढ़ने के बाद भी भिंडी आपकी थाली में बनी रहेगी, लेकिन उसकी वजह बदल जाएगी. अब सिर्फ स्वाद की वजह से ही नहीं, बल्कि सेहत की वजह से भी भिंडी आपकी पसंदीदा सब्‍जी बन जाएगी। आइये जाने भिंडी खाने के फायदे।

डायबिटीज का इलाज है भिंडी के पास
डायबिटीज के इलाज में उपयोगी होती है. भिंडी में फाइबर भरपूर मात्रा में पाया जाता है, जिसकी वजह से यह डायबिटीज के इलाज में उपयोगी होती है। दो भिंडी लें के दोनों सिरों को काटकर उसे एक गिलास पानी में डालकर रात भर रख दें। सुबह उठकर भिंडी निकालकर इस पानी को पिएं। ये इन्सुलिन को बढ़ाता है साथ ही इसके पानी से शरीर में फाइबर की मात्रा बढ़ेगी और ब्लड शुगर नियंत्रण में रहेगा। इसका असर आपको 15 दिनों में देखने को मिल सकता है क्योंकि यह ब्लड शुगर के लेवल पर निर्भर करता है। यदि यह ज्यादा है तो कुछ सप्ताह लग सकते है यदि कम है तो कुछ दिनों में परिणाम मिल सकता है।

विटामिन K का है खजाना :
भिंडी में विटामिन के भरपूर मात्रा में होता है, जो रक्त संचार को बनाए रखता है. भोजन में भिंडी खाने से शरीर में विटामिन के की मात्रा संतुलित रहती है, जिससे रक्‍त के थक्के नहीं बनते।

प्रेग्नेंसी में जरूर खाएं भिंडी :
वे महिलाएं, जो गर्भवती हैं या फिर गर्भधारण करना चाहती हैं, उन्हें भिंडी का सेवन जरूर करना चाहिए. भिंडी में काफी मात्रा में फॉलिक एसिड होता है, जो भ्रूण के विकास के लिए जरूरी है।

रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाती है :
भिंडी में विटामिन सी पाया जाता है, जिसकी वजह से शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है. शरीर में विटामिन सी की संतुलित मात्रा होने से मौसमी एलर्जी होने का खतरा भी कम रहता है।

आंखों के लिए फायदेमंद है भिंडी :
विटामिन ए और बीटा कैरोटीन आंखों की रौशनी बढ़ाता है. भिंडी में ये दोनों ही प्रचुर मात्रा में पाए जाते हैं।

भिंडी के सेवन से वजन नहीं बढ़ता है
भिंडी में कैलोरी की मात्रा बहुत कम होती है और फाइबर काफी होता है. वजह से यह शरीर को भरपूर ऊर्जा तो देती है, लेकिन इसके सेवन से वजन नहीं बढ़ता है।

कब्‍ज का रामबाण इलाज :
अगर आप कब्‍ज से परेशान हैं तो अपने भोजन में भिंडी को शामिल कर लें. भिंडी में मौजूद फाइबर रोज सुबह पेट साफ करने में मददगार होते हैं।

शुक्रवार, 22 दिसंबर 2017

जानिये पपीता और नींबू का एक साथ सेवन करने से होते है ये फायदे

जानिये पपीता और नींबू का एक साथ सेवन करने से होते है ये फायदे


विटामिन A, B और C तथा फाइबर से भरपूर पपीता और नींबू पेट, आंख और त्वचा के लिए बहुत ही फायदेमंद होता है। इसके अलावा फॉस्फोरस, पोटैशियम, आयरन, एंटीऑक्सीडेंट्स, काबरेहाइड्रेट, प्रोटीन, सोडियम तथा अन्य खनिज-लवण भी मौजूद रहते हैं, जो स्वस्थ रहने के लिए आवश्यक होते हैं।

कब्ज की शिकायत दूर होती है: आपको बता दे कि पपीते का सेवन पेट के लिए अच्छा होता है। पपीते के छोटे-छोटे टुकड़े करके काली मिर्च का चूर्ण, सेंधा नमक और नींबू का रस मिलाकर सेवन करने से भोजन के प्रति अरुचि की शिकायत दूर होती है और भोजन सरलता से हजम हो जाता है।इसमे पपाइन नामक एंजाइम पाया जाता है, जो आहार को पचाने में अत्यंत मददगार साबित होता है। इसके सेवन करने से मंदाग्नि की शिकायत दूर होती है। इसमें दस्त और पेशाब की समस्या को दूर करने का गुण है।
लीवर, सिरोसिस और कैंसर से बचाव: पपीते और नींबू रस लीवर सिरोसिस के लिए काफी लाभदायक घरेलू उपाय है। पपीता लीवर को काफी मज़बूती प्रदान करता है और नींबू लीवर को पित्त(बाइल) के उत्पादन में सहायता करता है और शरीर से विषाक्त पदार्थ को निकालने में भी मदद करता है। इसलिए हर रोज दो चम्मच पपीता के रस में आधा चम्मच नींबू का रस मिलाकर पिएं।
इस बीमारी से पूरी तरह निजात पाने के लिए इस मिश्रण का सेवन तीन से चार सप्ताहों के लिए करें। इसके सेवन से कोलन कैंसर, प्रोस्‍टेट कैंसर और ब्‍लड कैंसर आदि की कैंसर कोशिकाओं पर भी प्रतिकूल प्रभाव पड़ता है।

आंखों के लिए फायदेमंद: नींबू और पपीते में मौजूद विटामिन ए आंखों की कमजोरी को दूर करता है। पपीते में कैल्श्यिम, कैरोटीन के साथ विटामिन ए विटामिन बी, और सी, डी की की भरपूर मात्रा होती है। जो आंखों की दिक्कतों को खत्म करती है।इसके सेवन से रतौंधी रोग का निवारण होता है और आंखों की ज्योति बढ़ती है।आंखों की दृष्टि अच्‍छी बनाएं रखने के लिए इसका सेवन जरूर करे। जिन बच्‍चों को कम उम्र में ही चश्‍मा लग जाता है उनके लिए यह बेहद लाभकारी होता है।इसके अलावा विटामिन ए भी उम्र से संबंधित धब्बेदार पतन के विकास को रोकता है और आँखों के लिए स्वास्थ्य वर्धक माना जाता है।
वजन घटाने मे कारगर: नियमित रुप से सुबह खाली पेट पपीते और नींबू के रस का सेवन करें।नींबू और पपीते में पेक्टिन फाइबर प्रचुर मात्रा में होता है जो भूख की प्रबल इच्छा से लड़ने में मदद करता है और आप एक लंबे समय के लिए तृप्त महसूस करते है। पेट को भरा भरा महसूस करवाने के साथ यह आंतों के कार्यों को ठीक रखता है जिसके फलस्‍वरूप वजन घटाना आसान हो जाता है। इसके बाद अपना वजन चेक करें उसमें निश्चित ही कमी दिखेगी। इसके सेवन से कमर की अतिरिक्त चर्बी कम होती है।

दिल औऱ ब्लडप्रेशर रखें सुरक्षित: नींबू और पपीता फाइबर, विटामिन सी और एंटीऑक्सीडेंट से भरपूर है और धमनियों में कोलेस्ट्रॉल के निर्माण को कम करता है। बहुत अधिक कोलेस्ट्रॉल का निर्माण धमनियों को ब्लॉक कर सकता है और दिल का दौरा पड़ने का कारण बन सकता है। नींबू का सेवन नसों में निरन्तर रक्त संचार सुचारू करने में सक्षम है। और दिल दौरे और अटैक को रोकने में सक्षम है।

नींबू में पोटाशियम भी होता है जो ब्लड प्रेशर नियंत्रित करता है और ब्रेन एवं नर्व सिस्टम को दुरूस्त करता है। पपीता में भी ब्लडप्रेशर ठीक करने प्राकृतिक गुण छिपे हुयें है। इन दोनों के सेवन से कुछ समय के लिए उसका शरीर रिलैक्‍स हो जाता है क्‍योंकि उसके शरीर से तनाव दूर करने वाले हारमोन्‍स की मात्रा बढ़ जाती है। इनमे मौजूद कई पोषक तत्व शरीर को मौसम बदलने के साथ होने वाले संक्रमणों से दूर रखने में मदद रखता हैं।