बेजान दारूवाला बता रहे हैं 2018 में किन कार्यों को करें और किन्हें टालें

बेजान दारूवाला बता रहे हैं 2018 में किन कार्यों को करें और किन्हें टालें


हम बड़े फैसलों से पहले दुविधा में होते हैं और तब हमारी राशि के अनुरूप हमें राह तलाशने में आसानी हो सकती है। किस राशि के लिए 2018 में कौनसी राह आसान और कौनसी मुश्किल रहेगी यह जानकर आप सही दिशा में कदम बढ़ा सकते हैं। ख्यात ज्योतिर्विद बेजान दारूवाला बता रहे हैं राशि से किन कार्यों को करें और किन्हें टालें, नए साल में मिलेगी सुरक्षा या नया वर्ष लेगा परीक्षा?

ARIES यानी मेष (21 मार्च – 19 अप्रैल): आपके लिए यह वर्ष मध्यम रूप से फलदायी होने की आशा है। ग्रहों की गतियों पर सिलसिलेवार ढंग से नजर डालें तो अक्टूबर 2018 तक शुभ ग्रह के प्रभाव से आप एक सुखद दांपत्य जीवन का सुख उठा सकेंगे। जीवन साथी के साथ आपका तालमेल बढ़ेगा। दोनों जन साथ मिलकर जवाबदारियों को निभाने का प्रयास करेंगे। इस समय के दौरान अविवाहित जातक अपने लग्न से संबंधित निर्णय ले सकते हैं।

अगर आपका किसी के साथ प्रेम संबंध नहीं है तो इस अवधि में किसी खास व्यक्ति की ओर आकर्षित होने से उसके साथ प्रेम संबंध की नींव रख सकते हैं। शनि आपके भाग्य स्थान में भ्रमण करेगा। भाग्य-वृद्धि हेतु शनि का प्रभाव विलंब द्वारा विघ्न पैदा करेगा। विलंब व बाधा के साथ ही नई चुनौतियों का सामना करने के लिए मानसिक तैयारियां रखें। विदेश यात्रा के आयोजन में भी विघ्न आने की आशंका है।

मन-ही-मन आपको ऐसा लगता रहेगा जैसा नसीब मुंह फेरकर बैठा हो। कई बार कड़ी मेहनत करने पर भी भाग्य का साथ नहीं मिलने से अपेक्षित फल से वंचित रहने की शिकायत रहेगी। इस वर्ष के अंत तक राहु का चौथे स्थान में भ्रमण होगा। इससे इस समयावधि में बुजुर्गों से जुड़ी चिंता अधिक रहेगी। माता की ढीली तबीयत आपको चिंतित व परेशान रखेगी। पारिवारजनों की झोली में भरसक खुशियां डालने पर भी आप यश प्राप्ति से वंचित रह जाएंगे। वर्ष के आरंभ में दांपत्य जीवन में छोटी-मोटी खटपट लगी रहेगी जिसके दौरान आपके बीच आत्मीयता भी बढ़ेगी।

मई महीने के प्रारंभ से अक्टूबर के अंतिम चरण तक आपके दशम स्थान में केतु के साथ मंगल की युति प्रोफेशनल मोर्चे पर चौकन्नाा रहने की पूर्व सूचना दे रही है। खासकर कि दुश्मन और शत्रु बदनीयत से उकसाकर आपको गलत निर्णय लेने के लिए बाध्य कर सकते हैं। इस समय में आप जितना धैर्य रखेंगे उतना ही अधिक फायदे में रहेंगे। आपके स्वास्थ्य की बात करें तो वर्ष के आरंभ में जोड़ों में तकलीफ, ज्ञान-तंतु, बीपी और पाचन से संबंधित बीमारियों के अधिक उग्र होने से आपकी कार्यक्षमता पर बुरा प्रभाव पढ़ने की आशंका रहेगी।

TAURUS यानी वृषभ (20 अप्रैल – 20 मई): प्रोफेशनल मोर्चे पर विचार करें तो इस वर्ष देवों के गुरु बृहस्पति के प्रभाव से नौकरीवर्ग और फुटकर कामकाज करने वाले लोगों के अच्छी प्रगति की भविष्यवाणी है। आप दैनिक आमदनी के स्रोतों को बढ़ाने को लेकर विचार करते हुए इसमें एक अच्छा परिणाम मिलने की आशा कर सकते हैं। वर्ष के अंतिम दो महीने में भागीदारी, संयुक्त साहस और नया करार करने के लिए उत्तम समय है। इस समय के दौरान लिए गए निर्णय आपकी दूरदर्शिता का परिचय देंगे।

कारोबारीगण सूझबूझ के साथ व्यापार में विस्तार की योजना को अंजाम दे सकेंगे। हालांकि, किसी प्रकार के नए खर्च, नई पद्धति को अपनाते वक्त दूसरों की बातों में आकर भ्रमित होने की अपेक्षा अपने कौशल व कार्यकुशलता के अनुसार निर्णय लेना बेहतर रहेगा। लंबी अवधि के निवेश में नफे-नुकसान के बारे में सोचते हुए आगे बढ़ें अन्यथा आपकी गाढ़ी कमाई बेवजह अटक सकती है।

कामकाज में मिली सफलता से व्यावसायिक क्षेत्र और समाज में यश व प्रतिष्ठा के भागी होंगे। सामाजिक छवि सुधारने के अवसर आएंगे। स्वास्थ्य के मामले में आपको सावधानी बरतनी चाहिए। गंभीर अथवा पुरानी बीमारी से पीड़ित जातकों के उपचार में लापरवाही नहीं करें। पहले हुआ रोग फिर से उग्र हो सकता है। जोड़ों से जुड़ी तकलीफें आपको परेशान करेंगी। अनियमित आहार लेने से स्वास्थ्य पर बुरा असर पड़ेगा।

तनाव को दूर करने के लिए पर्याप्त आराम करें। सेहत से जुड़ी तकलीफ का शमन करने के लिए उपवास, डायटिंग और हीलिंग ट्रीटमेंट लेने की सलाह है। इस अवधि में प्रोफेशनल कारणों से विदेश में मुसाफिरी के योग बनेंगे। हालांकि, इस वर्ष के दौरान लंबी अवधि की यात्राओं में सावधानी बरतें अन्यथा जोर का आर्थिक फटका पड़ने का डर रहेगा। किसी आकस्मिक घटना से आपको भारी नुकसान का खतरा रहेगा।

भाई-बहन और मित्रों के साथ संबंधों में इस वर्ष सावधानी रखनी चाहिए। परस्पर आत्मीय होने पर भी आपके बीच फासला बढ़ने के आसार हैं। मई महीने के प्रारंभ से अक्टूबर के अंतिम चरण तक में भाग्य का साथ अपेक्षा से कम मिलेगा। विद्यार्थी जातकों को उच्च डिग्री की पढ़ाई में किसी विद्वान व्यक्ति की सलाह लेनी चाहिए। उनके कहे अनुसार ही आगे बढ़ना उपयुक्त रहेगा अन्यथा उम्मीद के मुताबिक परिणाम नहीं मिल सकेगा।

GEMINI यानी मिथुन (21 मई – 20 जून): यह वर्ष शैक्षणिक प्रगति हेतु एक उत्तम व फलदायी रहने की संभावना है। खासकर कि नियमित पढ़ाई में जातकों की अधिक रुचि रहेगी। आपकी ग्रहण शक्ति के भी अच्छा रहने से विविध प्रकार के विषयों में गहराई से अभ्यास कर सकेंगे। हालांकि, आप ये बात याद रखें कि आपको पढ़ाई में अधिक मेहनत करनी होगी।

बात यह है कि परीक्षा के समय में क्षमता के होने पर भी आप विषयों को दोहरा नहीं पाने से आपका परफॉर्मेंस कमजोर जा सकता है। स्पर्धात्मक परीक्षा की तैयारी कर रहे जातकों के लिए वर्ष के अंतिम दो महीने अधिक शुभ-फलदायी रहेंगे। संतान प्राप्ति से संबंधित मामलों में एक मध्यम फलदायी समय कहा जाएगा। हालांकि, संतान के साथ आपका तालमेल बढ़िया रहेगा। आप पूरे वर्ष के दौरान प्रेम संबंधों में एक अच्छी स्थिति बनाए रखेंगे। शादी के लिए उत्सुक जातकों के लिए अक्टूबर के अंत तक का समय योग्य पात्र के साथ मुलाकातों को बढ़ा सकता है।

हालांकि, दांपत्य जीवन में थोड़ी नीरसता रहेगी। यह भी हो सकता है कि आप अपेक्षानुरूप संबंधों को विकसित नहीं कर पाएं। अविवाहित जातकों के लिए वर्तमान समय अपने प्रेम संबंधों का आकलन करने का होगा। शादीशुदा जातक अपने संबंधों की वास्तविकता को अंगीकार करेंगे। आप जीवनसाथी के साथ अपने संबंधों का निर्वाह करेंगे।

परेशानियों के समाधान के लिए तत्पर रहेंगे। इस अवधि में आप इस हकीकत से वाकिफ होंगे कि संबंध केवल मौज-मस्ती के लिए नहीं होते उनके साथ कर्तव्य व कटिबद्धता भी रहती है। समूचे वर्ष के दौरान आपको आर्थिक मोर्चे पर विवेकपूर्ण ढंग से आगे बढ़ना चाहिए। इनकम तयशुदा होने से आपको अपने खर्चों पर अंकुश रखना होगा अन्यथा की गई बचत कहां खप जाएगी इसका आभास तक नहीं होगा।

आपने जिन स्रोतों से कमाई की उम्मीद जताई होगी वहां से पैसे नहीं मिलने पर आपका आर्थिक आयोजन डगमगा सकता है। प्रोफेशनल साहसों में अप्रत्याशित नुकसान की संभावना को देखते हुए विस्तार से संबंधित कार्यों में सोच-विचारकर आगे बढ़िए। स्वास्थ्य के मामले में यह वर्ष सामान्य बीतेगा। हालांकि, वर्ष के अंतिम चरण में आपको मोटापे, लीवर और डायबिटीज की समस्या के मुद्दे चिंतित कर सकते हैं।

इसके दौरान छोटी बीमारियों को भी अनदेखा नहीं करें अन्यथा यह अंदर ही अंदर कब जहर फैला देगी इसका भान तक आपको नहीं होगा। मई महीने के प्रारंभ से अक्टूबर के अंत तक आपको जोड़ों और बवासीर इत्यादि की समस्याओं से अपनी रक्षा करनी चाहिए।

CANCER यानी कर्क (21 जून – 22 जुलाई): इस वर्ष के अधिकांश समय को अशांति और असमंजसता से व्यतीत करना पड़ सकता है। किसी व्यक्ति को लेकर आपके मन में अच्छे-बुरे विचार रहेंगे। इसकी वजह से शादीशुदा जीवन पर भी बुरा असर पड़ने का डर रहेगा। नए संबंधों की शुरुआत में भी आपको संभलकर चलना चाहिए अन्यथा आपके साथ छल होने का बराबर खतरा बना रहेगा।

ग्रह स्थिति आपके लिए जन्म स्थान से दूर जाने के योग बना सकती है। जीवनसाथी और परिवार के पीछे व्यय बढ़ जाएगा। स्थायी संपत्ति की खरीद होगी। परिवार की खुशी हेतु आप वाहन, गैजेट्स अथवा अन्य आरामदायक चीजों की खरीद करेंगे। घर को सुविधाओं से संपन्ना और उसके इंटीरियर को सुंदर बनाएंगे। परिवार की जरूरतों को पूरा करने के लिए निवेश करेंगे। देवगुरु का तुला राशि में भ्रमण विद्यार्थी मित्रों के लिए शुभता लेकर आएगा। पढ़ाई की इच्छाशक्ति प्रबल बनेगी। जमीन-मिलकियत की खरीदी करने की तीव्र इच्छा होगी। सौदे व संपत्ति को खरीदते समय काफी सजग रहने की आवश्यकता पढ़ेगी। नए वाहन को खरीदने के अवसर आएंगे।

नौकरीशुदा के लिए मंद गति व एक स्थिर वेग से बढ़ने का समय रहेगा। आपको अपने कार्यों को समाप्त करने में भी देरी लगेगी। सहयोगियों और वरिष्ठ लोगों के साथ व्यवहार में भी उतार-चढ़ाव बना रहेगा। आपको अपने बल पर इस समयावधि को पार करना चाहिए। लक्ष्मी जरूर मिलेगी पर उसके लिए अथक परिश्रम करते रहना पड़ेगा।

नई नौकरी या कामकाज में पदोन्नाति की संभावनाएं कम हैं। इस वर्ष आपके द्वारा कोई ऐसा काम होगा जिसकी हर तरफ तारीफ होगी। भौतिक सुख-आराम की अभिलाषा रखेंगे। महत्वाकांक्षाओं की पूर्ति हेतु किसी नए मार्ग का चुनाव करेंगे। याद रखें-सुख-सुविधाओं को पाने का पागलपन आपको अनैतिक मार्ग की ओर नहीं धकेल दे,नहीं तो बाद में पछतावे के सिवाय कुछ हासिल नहीं होगा। मई महीने के प्रारंभ से अक्टूबर के अंत तक का समय खासकर कि भागीदारी और नया करार करने के लिए ठीक नहीं है।

फिर भी परिस्थितिवश आपको यदि इस दिशा में चलना भी पड़े तो छोटी-छोटी बातों पर गौर करते हुए अपनी बुद्धि के अनुसार निर्णय लें। विवाहित जीवन में आपको गलत समझ लिए जाने से झगड़ने की नौबत आ सकती है। हालांकि, इस समय के दौरान प्रेम विवाह के काफी योग रहेंगे। जो लोग अपना दिल किसी और को दे बैठे हैं वे अपने प्रेम को अगले स्तर तक ले जाने का विचार कर सकते हैं। झुकाव समाज विरोधी कार्य के प्रति होगा। ग्रहों का कुप्रभाव आपके अंदर दंभ व स्वार्थ की वृत्ति को भड़का सकता है। स्वास्थ्य कल्याण की दृष्टि से ठीक समय कहा जाएगा।

LEO यानी सिंह (23 जुलाई – 22 अगस्त): इस वर्ष अक्टूबर महीने के अंत तक तुला राशि में गुरु का भ्रमण आपको मित्रों व वरिष्ठ लोगों से आर्थिक लाभ कराएगा। देवताओं के गुरु के सुख स्थान से गुजरना आपको सुख-सुविधाओं से वंचित रखेगा। लेकिन, भाग्य स्थान कहे जाने वाले नवम स्थान पर गुरु की दृष्टि पड़ना तकलीफों के बाद आपको फायदा पहुंचने का सूचक है। गुरु का भ्रमण आपको आकस्मिक धन लाभ देना।

हालांकि, पत्नी और परिवार के पीछे अधिक खर्च की तैयारियां रखें। आपको लोगों की जरुरतों को पूरा करने के लिए आर्थिक रूप से मजबूत रहने के लिए घनघोर परिश्रम करते रहना पढ़ेगा। विषय-सुख में कमी आएगी। इस समय अगर संभव हो तो भागीदार और व्यावसायिक सहयोगियों पर बहुत भरोसा नहीं करें। संयुक्त साहस करने में भी सावधानी रखने का परामर्श है। प्रोफेशनल स्तर पर आपके विरुद्ध कुचक्र रचा जा सकता है। आपके आवास अथवा नौकरी के स्थान में बदलाव के योग बन रहे हैं। कामकाज में नए स्थान के चुनाव को पसंद करेंगे।

काम को करने की किसी नई कार्यशैली को अपनाएंगे। विदेश गमन अथवा लंबी अवधि की मुसाफिरी के संयोग बनेंगे। मुसाफिरी या धार्मिक यात्रा में खर्चों के आसार हैं। विद्यार्थी जातकों को पढ़ने और विद्याभ्यास में अवरोध का सामना करना पड़ सकता है। विद्यार्थियों में एकाग्रता का अभाव रहेगा। करियर में कोई अच्छा अवसर मिलने की आशा है। शेयर बाजार में इस दौरान ग्रहों की मदद नहीं मिलने से सौदों को पक्का करते समय सचेत रहिए। सट्टे की प्रवृत्तियों से दूरी बनाए रखना एक अच्छा विचार कहा जाएगा। संतान से संबंधित बातों की आपके मन में टेंशन रहेगी। शनि का धनु राशि में भ्रमण के दौरान आपके छिपे प्रेम प्रसंग सार्वजनिक हो सकते हैं।

प्रेम संबंधों के कारण आप अपने करियर को दांव पर नहीं लगाएं। व्यापार में कभी-कभार मंदी से दो-चार होना पड़ सकता है। सांसारिक महत्व के शुभ कार्यों को आप अपने उत्साह व परिश्रम से पूर्ण करेंगे। इस समूचे वर्ष कर्क राशि में राहु का भ्रमण चलता रहने से आपको अपनी आरोग्यता का ध्यान रखना चाहिए। अनावश्यक चीजों में धन के बेवजह खर्च होने की आशंका रहेगी। छिपे शत्रुओं का भय बना रहेगा। विश्वासघात की भी आशंका रहेगी। नौकरी कर रहे लोगों के स्थानांतरण के हालात बन सकते हैं। मई महीने से अक्टूबर के अंत तक वर्कप्लेस पर किसी के साथ झगड़ा होने की आशंका रहेगी।

VIRGO यानी कन्या (23 अगस्त– 22 सितंबर): आर्थिक मोर्चे की दृष्टि से इस वर्ष को आशाप्रद कहा जाएगा। अक्टूबर के माह तक तुला राशि में और उसके पश्चात वृश्चिक राशि में गुरु का भ्रमण आपकी आवक को बनाए रख सकेगा। आपकी प्रगति के संकेत हैं। नौकरी में विकास के उत्तम अवसर मिलेंगे। धंधे के लिए प्रगतिकारक स्थिति रहेगी। तुला राशि में गुरु के भ्रमण से नए व्यावसायिक साहसों की शुरुआत होने के आसार हैं।

पुराने धंधे में देखते ही देखते उन्नाति होगी। सामाजिक संबंध अच्छे रहेंगे। आप किस सामाजिक कार्य में भाग लेंगे जिससे आपकी प्रतिष्ठा में सुधार आएगा। छात्रों के लिए एक अच्छा समय है। अपने खानपान की दिनचर्या को संयमित रखते हुए नियमित मेडिटेशन व कसरत पर जोर देने की सलाह है। इस वर्ष में यदि आप तंदुरुस्ती बनाए रखने के आकांक्षी हैं तो हमारी इस सलाह को अपना जीवन मंत्र बना डालें।

आपके शरीर पर वायु और पित्त का प्रकोप रहेगा। कुंडली में चौथे शनि के विद्यमान होने से कुटुंबीजनों से वियोग सहना पढ़ सकता है। धन का व्यय होने की आशंका रहेगी। हालांकि, इस परिस्थिति में गुरु का भ्रमण आपको अधिक राहत पहुंचाएगा। आय का साधन खड़ा करने का सुनहरा चांस मिलेगा। पर, मेहनत के सिवाय सफलता मिलते नहीं दिखती। कर्क राशि में राहु का भ्रमण दिल को कुछ राहत पहुंचाएगा। कार्यों में सफलता मिलने से लाभ होगा। कुंडली में 11वें स्थान में राहु की चाल आपके लिए शुभदायक है। इससे मित्रों की ओर से लाभ भी मिलेगा।। लेकिन, दूसरी ओर बड़े भाई को कोई क्षति पहुंच सकती है।

संतान की तबीयत यदि खराब चल रही होगी तो उसमें कुछ सुधार आने से मन को कुछ ठंडक मिलेगी। मई महीने के प्रारंभ से अक्टूबर के अंत तक संतान से संबंधित मामलें उत्पन्ना हो सकते हैं। नि:संतान दंपतियों को संतान प्राप्ति से जुड़ी परेशानियां रहेंगी। इस कालावधि में लव रिलेशंस में आपको काफी अलर्ट रहना होगा। वजह यह है कि आपके रिलेशन्स में जड़-मूल से बदलाव के संकेत मिलते हैं। प्यार में खोए रहने की वजह से लाइफ की दूसरी चीजें नेगलेक्ट होने के खतरे को देखते हुए इस ओर खास ध्यान रखें। आपके प्रेम प्रसंग की पोल खुल जाने से परिवार में हाहाकार मच सकता है। संपूर्ण वर्ष के दरमियान जीवन साथी के साथ छोटा-मोटा विवाद बने रहने के संकेत हैं।

LIBRA यानी तुला (23 सितंबर– 22 अक्टूबर): इस वर्ष में तुला राशि में गुरु का भ्रमण अक्टूबर के अंत तक रहेगा। यह आपके लिए अनेक रूप से फलदायी साबित होगा। आप कोई भी काम अथवा दूसरों के समक्ष अपनी बातें तर्कपूर्ण ढंग से करेंगे। कार्यशैली में परिपक्वता और विलक्षण सूझबूझ दिखाई देगी। शादी के लिए मंगलकारी समय कहा जाएगा।

नए संबंधों की शुरूआत करने में भी जातक की मुलाकात अपने मनमाफिक विपरीत लिंगी जातक से होने की संभावना है। अगर आपके विवाहेतर संबंध हैं तो दांपत्य संबंधों में भी तनाव की स्थिति उत्पन्ना हो सकती है। केवल जीवन साथी ही नहीं दूसरे अन्य लोगों के साथ भी संबधों में ध्यान रखें। आपकी उपेक्षा की जा रही हो ऐसा महसूस होता रहेगा। हालांकि, दूसरे के दिल में ऐसी कोई भावना नहीं होगी और संयोगवश आपके साथ ऐसा होता गया होगा। महीने के प्रारंभ से अक्टूबर के अंत तक आपको ध्यान रखना चाहिए। आप ऐसे कठोर वजनों का प्रयोग हरगिज मत कीजिए जिससे दूसरे का दिल दु:खी हो जाए। आपकी इनकम मर्यादित रहेगी।

निवेश से संबंधित मामलों में बहुत अधिक सोच-विचार करते रहने से कहीं ऐसा नहीं हो कि हाथ आया मौका निकल जाए। शनि का धनु राशि में भ्रमण आरोग्य, पराक्रम और सुखों में वृद्धि करेगा। आपके सुखों में इजाफा होगा। नौकर-चाकर का सुख मिलेगा। व्यावसायियों को अपने स्टॉफ की ओर से पूरी-पूरी मदद मिलेगी। पशुधन, जमीन की खरीद अथवा व्यवसायिक विस्तार के मौके आएंगे। भांति-भांति के लोगों से आपका मिलना-जुलना बढ़ेगा।

स्वास्थ्य का विचार करें तो ब्लडप्रेशर, डायबिटीज और हृदय से संबंधित बीमारियों की आशंका रहेगी। जो लोग पहले से किसी बीमारी से पीड़ित हैं उनको इस ओर लापरवाही से काम नहीं लेना चाहिए। कर्क राशि में राहु के भ्रमण की यह अवधि आपके लिए सावधानी रखने की कहीं जाएगी। आपके ऊपर झूठे आरोप लगाए जाने से बदनामी का डर रहेगा। शत्रुओं की संख्या बढ़ जाएगी। इसके अलावा, केतु के कुंडली के चौथे स्थान से भ्रमण करते समय आपको अपनी माता की हेल्थ का ध्यान रखना चाहिए।

SCORPIO यानी वृश्चिक (23 अक्टूबर – 21 नवंबर): इस वर्ष के ज्यादातर हिस्से में आप धार्मिक और परोपकार की प्रवृत्तियों में अधिक रुचि लेंगे। जो लोग स्वास्थ्य संबंधित रोगों से पीड़ित हैं वे खासकर लीवर, कूल्हे के भाग में दर्द, डायबिटीज, पाचन समस्या और मोटापे की समस्याओं में अक्टूबर के अंत तक अधिक सावधानी रखें। गुरु अक्टूबर के अंत तक तुला राशि और उसके पश्चात वृश्चिक राशि से भ्रमण करेगा। इससे आपकी तबीयत में उतार-चढ़ाव की आशंका रहेगी। आय व व्यय के अनुपात में वृद्धि होगी।

हालांकि, वसीयत की जमीन-जायदाद के विवादों का निर्णय आपके हक में आने की आशा रहेगी। नए मकान, जमीन अथाव स्थायी संपत्तियों में निवेश से संबंधित निर्णय ले सकते हैं। पर खासकर कि महीने के प्रारंभ से अक्टूबर के अंत तक मंगल और केतु युति में रहेंगे। इस कारण निवेश से संबंधित निर्णय उतावली में आकर अथवा दूसरों की बातों में आकर मत लीजिए अन्यथा आपके पैसे अटक सकते हैं। नुकसान होने का खतरा रहेगा।

हालांकि, अतीत में किए गए से कमाई के संकेत मिलते हैं। इस वर्ष आप गूढ़ विद्या और अध्यात्म का काफी गहन अध्ययन करेंगे। अपने ज्ञान को बढ़ाने के लिए किसी योग्य गुरु से जुड़ेंगे। सहज-ज्ञान बढ़िया रहेगा और ज्ञानवर्धक चीजों से लाभान्वित होंगे। विद्यार्थियों को शिक्षा क्षेत्र में कोई खास सफलता नहीं मिलेगी। प्रबल विदेश योग रहेगा। इस वर्ष में मुसाफिरी के अधिक योग हैं। धनु राशि में शनि का भ्रमण वाद-विवाद पैदा करेगा।

प्रियजनों से मतभेद कराएगा। अपनी ओर से कोशिशें करने पर भी शोकाकुल रहेंगे। जीवनसाथी के लिए कष्टदायक समय कहा जाएगा। गलत दिशा में धन का निवेश या आर्थिक नुकसान की प्रबल संभावना रहेगी। न्यायप्रिय शनि के धनु राशि में भ्रमण से ब्लडप्रेशर से जुड़ी समस्या हो सकती है। आरोग्य के लिए अनुकूल परिस्थिति नहीं लगती। आर्थिक दृष्टि से खर्चा कराने वाली अवधि कहलाएगी। जितने पैसे आएंगे नहीं उससे ज्यादा पैसे निकल जाएंगे।

व्यापार-व्यवसाय हेतु वर्ष की शुरुआत में चिंताजनक स्थिति कही जाएगी। हालांकि, समय गुजरने साथ-साथ आपको उन्नाति के अवसर भी मिलेंगे। नौकरी के लिए मध्यम फलदायी समय रहेगा। राहु के कर्क राशि में भ्रमण से चिर स्थायी लाभ मिलेगा। नौकरी में बढ़ोतरी के संयोग प्रबल बनेंगे। राहु के प्रभाव में विदेश यात्रा के संयोग बनेंगे। मुसीबतें बनी रहेंगी। तीर्थयात्रा की भी संभावना गणेशजी देख रहे हैं।

SAGITTARIUS यानी धनु (22 नवंबर– 21 दिसंबर): इस वर्ष के दौरान धार्मिक यात्रा के योग बन रहे हैं। तुला राशि में अक्टूबर महीने के दौरान गुरु के भ्रमण की वजह से परिवार के बड़े लोगों की ओर से समर्थन मिलेगा। सेहत अच्छी रहेगी। प्रेमीजन प्रेममय रहेंगे। नए संबंधों के शुरु होने से भी इंकार नहीं किया जा सकता। गुरु का तुला राशि में भ्रमण लाभदायी रहेगा। परिवार के लिए उपयोगी नए साधनों की खरीदी का यह समय होगा।

घर की सजावट में इंट्रेस्ट लेते हुए खर्च करेंगे। नौकरी व धंधे में लाभ होगा। बड़े भाई, पुत्र, पौत्र, पत्नी, प्रेयसी और बुजुर्गों के मामले में कुल मिलाकर अच्छा फल मिलेगा। नौकर-चाकर और पड़ोसियों से सहयोग मिलेगा। पारिवारिक जीवन में सुख-शांति का डेरा होगा। नव दंपतियों को संतान के रूप में फल मिलने की संभावना रहेगी। संतान का स्वास्थ्य अच्छा रहेगा। मित्रों और बुजुर्गों से फायदा होगा।

संतान से लाभ होगा और कौटुंबिक सुख भी मिलेगा। अविवाहितों के लग्न का योग बनेगा। सितंबर तक संतान के इच्छुक जातकों का संतान योग बनेगा। प्रेम संबंधों का असर आपके पारिवारिक जीवन, आजीविका और कामकाज के साथ-साथ आपकी कार्यक्षमता पर भी पड़ने की आशंका रहेगी। छिपे प्रेम संबंधों को अपने घर तक नहीं पहुंचने दें नहीं तो घर की शांति भंग हो सकती है। इस वर्ष शनिदेव पूरे साल धनु राशि में अड्डा जमाने वाले हैं। शनि के प्रभाव से आर्थिक रूप से आपके लिए धन के खर्चे वाला वर्ष कहा जाएगा। आय की अपेक्षा धन का व्यय अधिक रहेगा। व्यापार-व्यवसाय के लिए वर्ष की शुरुआत में चिंताजनक स्थिति रहेगी।

हालांकि, समय बीतने के साथ ही आपके सामने उन्नाति के मौके भी आएंगे। नौकरी के लिए एक मध्यम फलदायी समय रहेगा। शनि के प्रभाव से विवाहित जीवन में भी या भागीदारी के संबंधों में भी वाद-विवाद की स्थिति रहेगी। कुल मिलाकर, यह कहा जा सकता है कि यह वर्ष आपके धीरज की परीक्षा लेने वाला साबित हो सकता है। ईश्वर की शरण में जाने से आपके व्यथित मन को कुछ शांति मिलेगी। समूचे वर्ष के दौरान राहु-केतु बारी-बारी से कर्क और मकर राशि में भ्रमण करते रहेंगे। इन छायाग्रहों के कुप्रभाव से ससुराल पक्ष से जुड़े मुद्दे चर्चा में रहेंगे।

भागीदार के साथ कामकाज में सतर्कता बरतें। उपरांत, अपने अधीनस्थ कर्मचारियों के ऊपर भी बहुत विश्वास न रखें अन्यथा किसी तरह के विश्वासघात के अंतत: शिकार हो सकते हैं। आपके कारोबारी प्रतिस्पर्धी आपको धंधे में एक जोरदार टक्कर दे सकते हैं। किसी भी स्थिति से निपटने हेतु मन में हौसला व साहस रखना आवश्यक रहेगा।

CAPRICORN यानी मकर (22 दिसंबर – 19 जनवरी): इस वर्ष के दौरान ननिहाल पक्ष के साथ आपके रिश्ते अच्छे रहेंगे। तुला राशि में गुरु के भ्रमण से प्रोफेशनल मोर्चे पर आपकी काफी अच्छी प्रगति होगी। अगर आपको कभी ऐसा लगे कि आपको उतना फल नहीं मिल रहा है तो निराश हुए बगैर प्रयास चालू रखिए। आपके यश और प्रतिष्ठा में वृद्धि होगी। मां की तरफ के रिश्तों में भी सुधार रहेगा।

विपरीत लिंगी व्यक्तियों से हुए परिचय से प्रेम संबंध बनने की संभावना है। पसंदीदा साथी के साथ आपकी मुलाकात होगी। प्रेम का भेद परिवार में पता चलने से परिवार में हड़कंप मचने से तनाव का माहौल रहेगा। नवंबर के महीने से गुरु वृश्चिक राशि में आकर किसी प्रकार से आपके लिए लाभ की स्थिति पैदा करेगा। इस समय में शादी के आकांक्षी नवयुवकों के लिए उपयुक्त साथी मिलने की संभावना काफी रहेगी।

इस समय आपकी राशि में केतु तथा आपकी राशि से सप्तम स्थान में केतु का भ्रमण होने से भागीदारी के व्यापार में कोई बड़ा सौदा आपके हाथ से छूट जाने का अंदेशा रहेगा। दांपत्य जीवन में भी तनाव आ सकता है। पारस्परिक विश्वास की कसौटी का समय रहेगा। शनि का धनु राशि में भ्रमण परिवार में गलतफहमी की दीवार खड़ी कर सकता है। व्यवसाय और कामकाज में परेशानी का बुरा असर आपके संबंधों पर भी पड़ने का खतरा बना रहेगा।

जीवनसाथी की अस्वस्थता आपके लिए चिंताकारक रहेगी। जीवन में दुश्मनों की संख्या में इजाफा होगा। नौकरी करने वालों के लिए यह वर्ष शत्रुओं से लड़ते हुए आगे बढ़ने का कहलाएगा। हालांकि, कोई भी व्यक्ति आपको परास्त करने में सफल नहीं हो पाएगा। नए संबंध बनने की यह अवधि होगी। लेकिन, मई महीने के प्रारंभ से अक्टूबर के अंत तक की अवधि के दौरान बने संबंधों में अचानक से परिवर्तन आएंगे।

यह भी हो सकता है कि इन संबंधों का भविष्य ज्यादा दिन नहीं टिके। आपको अपने गुस्से पर अंकुश रखना चाहिए। इस समय खासकर कि बिजली के करंट, आकस्मिक चोट, रक्त संचरण से संबंधित समस्या और मानसिक दुविधाएं रहने की संभावना रहेगी। जहां तक हो सके नियमित रूप से कसरत और मेडिटेशन पर बल दीजिए। इससे आपको एकाग्रता और मानसिक स्थिरता बनाए रखने में मदद मिलेगी। किसी के पास से यदि आपको धन की वसूली करनी है तो उसकी ओर से पैसे हासिल होने में काफी देर लग सकती है।

AQUARIUS यानी कुंभ (20 जनवरी – 18 फरवरी): इस वर्ष ग्रहों की स्थिति का विचार करें तो अक्टूबर तक कृपालु गुरु तुला राशि में और नवंबर के महीने तक वृश्चिक राशि में भ्रमण करेगा। छायाग्रह राहु व केतु क्रमानुसार कर्क व मकर राशि में वहीं शनि धनु राशि में गतिमान रहेगा। मई महीने के प्रारंभिक चरण से अक्टूबर के अंतिम चरण के दौरान मंगल व केतु युति में रहेंगे।

अब हम यदि अन्य ग्रहों की स्थितियों को देखते हुए फलकथन पर विचार करें तो आपका दांपत्य जीवन सुखमय रहेगा। शादीशुदा जीवन की गलतफहमियां सुलझेंगी और पति-पत्नी के बीच आत्मीयता बढ़ेगी। नौकरी कर रहे लोगों को शत्रुओं से सावधान रहते हुए चलते रहना जरूरी रहेगा। प्रेम संबंध धीमी गति से आगे बढ़ेंगे। जो लोग पहले से ही संबंधों में हैं उनके वैवाहिक बंधन में बंधने अथवा संबंधों को अगले स्तर तक ले जाने में अवरोध आएगा।

संतान प्राप्ति में विलंब की आशंका है। भाग्य का साथ समूचे वर्ष मिलता रहेगा। वर्ष के अंतिम चरण में आप अपनी सूझबूझ से प्रोफेशनल मामलों का हल ढूंढने में सफल रहेंगे। पेशे में नवीन ऊंचाइयों को छुएंगे। उच्च शिक्षा में विद्यार्थीगण उद्देश्यपूर्ण ढंग से अध्ययन करेगा। जिन विद्यार्थीजनों को अपने मनपसंद विषय या अभ्यास क्षेत्र के चुनाव को लेकर दिक्कतें आ रही हैं उनको किसी योग्य व्यक्ति का मार्गदर्शन मिल सकेगा। परदेश में शिक्षा प्राप्ति की कोशिश कर रहे जातकों के लिए अक्टूबर महीने के अंत तक का समय आशाप्रद प्रतीत होता है।

समूचे वर्ष में आपको स्वास्थ्य के प्रति सावधानी रखनी चाहिए। खासकर कि ऋतु-संबंधी परेशानियों और भोजन के एक नियत समय पर नहीं होने से आप लगातार थकान और तनाव का अनुभव करते रहेंगे। खाने-पीने का विशेष ध्यान रखिए। जंक फूड से पेट खराब होने का डर रहेगा। किसी लंबी बीमारी की चपेट में भी आने का भी अंदेशा रहेगा। यात्रा-प्रवास अधिक रहेगा, पर उसका कोई खास फल नहीं मिलेगा।

निरंतर यात्राओं के चलते शारीरिक थकान और दुर्बलता महसूस हो सकती है। अंतत: किया गया यात्रा-प्रवास लाभदायी सिद्ध होगा। मई महीने के प्रथम चरण से अक्टूबर के अंत तक ड्राइविंग और मुसाफिरी का ध्यान रखना चाहिए। वजह यह है मन में चल रही अनेक बातों की वजह से किसी अनहोनी या दुर्घटना की भविष्यवाणी है।

PISCES यानी मीन (19 फरवरी – 20 मार्च): इस वर्ष में अक्टूबर के अंत तक गुरु तुला राशि में है। नवंबर महीना आर्थिक मोर्चे पर उतार-चढ़ाव वाला रहेगा। अक्टूबर के अंत तक धार्मिक, जनसेवा और चिकित्सकीय खर्चे अधिक रहेंगे। हालांकि, इसके बाद आपके लिए भाग्यशाली समय रहेगा। वर्ष के अंतिम चरण में किसी देवालय अथवा ज्योतिर्लिंग के दर्शन हेतु जाने का योग बन रहा है। प्रारंभिक समय में आपके बैंक बैलेंस में इजाफा होगा, पर व्यय अधिक होने से हाथ में उतने रोकड़े नहीं होंगे।

समय बीतने के साथ-साथ आपके सेविंग्स के प्रति गंभीर बनने से आपके लिए उत्तरार्ध का समय बेहतर हो जाएगा। चल-अचल संपत्ति में वृद्धि के संकेत हैं। गहनों, मकान और स्थायी संपत्तियों की खरीद के योग हैं। ग्रहीय हलचलें परिवार में तनाव के हालात बना सकती हैं। मुख्य रूप से मई महीने के प्रारंभ से अक्टूबर के अंत तक मित्रों, पिता और पिता समान व्यक्तियों के साथ व्यवहार में संयम रखने की सलाह है। इस समय दौरान प्रेम संबंधों में तनाव अथाव बिखराव की नौबत आ सकती है।

जन्मभूमि से दूर अथवा विदेश से होने वाले कामों में वर्ष का अंतिम चरण अधिक शुभदायी कहा जाएगा। भाई-बहनों के साथ किसी बात पर विवाद होने की आशंका रहेगी। लेकिन, चिंता नहीं करें बाद में संबंध फिर से बहाल हो जाएंगे। प्रेम संबंधों और संतान से संबंधित मामलों में अपनी अपेक्षानुसार सफलता नहीं मिलने से आपको इसका रंज व शोक रहेगा। पर, आप दूसरों के आगे अपने दुख को बयां नहीं कर पाएंगे।

शेयर बाजार और सट्टे की प्रवृत्तियों से इस पूरे साल दूर रहें अन्यथा कुबेरपति से खाकपति होने में जरा भी देर नहीं लगेगी। विद्यार्थी जातकों को इस वर्ष अच्छे अंक प्राप्त करने हेतु अधिक परिश्रम की आवश्यकता होगी। जन्म के ग्रहों का साथ नहीं मिलने से निष्फलता मिलने की आशंका रहेगी। हालांकि, वर्ष के अंतिम दो महीने उच्च डिग्री की पढ़ाई में आंशिक सफलता मिलती दिखाई देगी। व्यावसायिक मोर्चे पर आपके तमाम कार्य धीमी पर एक स्थिर गति से आगे बढ़ेंगे। प्रोफेशनल मोर्चे पर इस समय किसी द्रुत गति से प्रगति की आशा रखने की अपेक्षा चल रहे काम को व्यवस्थित रुप से करते रहने में ही अपना हित समझिए। नववर्ष शुभ हो।

नोट : इस आर्टिकल में दी गई जानकारियां रिसर्च पर आधारित हैं । इन्‍हें लेकर हम यह दावा नहीं करते कि ये पूरी तरह सत्‍य और सटीक हैं, इन्‍हें आजमाने और अपनाने से पहले संबंधित क्षेत्र के विशेषज्ञ की सलाह जरूर लें।


आयुर्वेद की विडियो देखने के लिए चैनल को सब्सक्राइब करें :

यह भी पढ़िये :

COMMENTS

loading...
नीचे क्लिक करके चैनल को सब्सक्राइब करें :

स्वास्थ्य संबंधी जानकारी पाइए, बिलकुल मुफ्त !

लेबल

डायबिटीज (73) डायरिया (25) डेंगू (7) डैंड्रफ (9) थकान (37) दमा (33) दांत दर्द (57) दांतों के लिए (71) दाद-खाज (25) दिल की बीमारी (44) दिल के दौरे (26) देशी नुस्खे (1642) नपुंसकता (12) नींद की समस्या (25) पथरी (45) पसीने की बदबू (9) पाइल्स (14) पाचन (137) पीरियड्स (27) पीलिया (18) पेट की चर्बी (42) पेट के लिए (119) पेट दर्द (84) पेशाब में जलन (9) पैरों की लिए (28) पैरों की बदबू (11) बच्चों के रोग (20) बवासीर (54) बालों के लिए (233) बुखार (66) ब्लड शुगर (16) मधुमेह (41) मधुमेह (शुगर) (91) माइग्रेन (35) माहवारी के (12) मुंह की दुर्गध (22) मुँहासे (17) मोटापा (145) योगा टिप्स (21) वजन कम (53) वजन घटाने (42) वज़न घटायें (15) विटामिन (1) शीघ्रपतन (10) सर्दी जुकाम (70) सिरदर्द (65) सीने में जलन (17) सेक्स पावर (12) सेहत के लिए (10) स्वस्थ जीवन का सूत्र (220) हार्ट अटैक (32) हार्ट ब्लॉकेज (12) हृदय रोग (7) हेयर लोस (4) हेल्थ टिप्स (8) Beauty Tips (5) Health Tips (162) Yoga Tips (8)

DISCLAIMER


इस जानकारी की सटिकता, समयबद्धता और वास्‍तविकता सुनिश्‍चित करने का हर सम्‍भव प्रयास किया गया है । इसकी नैतिक जि़म्‍मेदारी हमारी नहीं है ।

डिस्‍क्‍लेमर: आयुर्वेदप्लस पर उपलब्‍ध सभी साम्रगी केवल पाठकों की जानकारी और ज्ञानवर्धन के लिए दी गई है। हमारा आपसे विनम्र निवेदन है कि किसी भी उपाय को आजमाने से पहले अपने चिकित्‍सक से अवश्‍य संपर्क करें। हमारा उद्देश्‍य आपको रोचक और ज्ञानवर्धक जानकारी मुहैया कराना मात्र है। आपका चिकित्‍सक आपकी सेहत के बारे में बेहतर जानता है और उसकी सलाह का कोई विकल्‍प नहीं है।
नाम

18+,49,अंकशास्त्र,1,अंग,1,अंग फड़कना,4,अंडरआर्म,4,अंडरगारमेंट्स,1,अक्षय तृतीया,2,अखरोट,1,अचूक उपाय,277,अच्छी नींद,7,अजब गजब,6,अज़ब गज़ब,13,अटक अटक कर बोलना,1,अतिसार,4,अतीस के,1,अदरक,2,अदृश्य ताकत,1,अध्यात्म,1,अनचाहा गर्भ,2,अनचाही प्रेग्‍नेंसी,2,अनचाहे बाल,8,अनवांटेड प्रेगनेंसी,2,अनहोनी,1,अनानास के,1,अनार,4,अनिंद्रा,5,अनिद्रा,14,अनिद्रा के,2,अनियमित माहवारी,1,अपच,14,अपेंडिक्स,3,अपेंडिसाइटिस,1,अफारा,3,अफेयर्स,1,अर्थराइटिस,4,अर्थी,1,अर्श,1,अलसी के,1,अल्जाइमर,1,अल्सर,19,अवसाद (Depression),1,अशांति,1,असुरक्षित सेक्स,1,अस्थमा,3,अहसास,1,आँख आना,2,आँख की सूजन,1,आँख फड़कना,1,आँखों का रंग,1,आंखों की सूजन,8,आँखों की सूजन,2,आंखों के नीचे काले घेरे,6,आँखों के लिए,161,आँखों में जलन,2,आंखों में भी जलन,2,आंत,3,आँत,2,आंतों की सफाई,1,आंव,1,आंव (पेचिश),7,आँवला,1,आइना,2,आइस क्यूब्स,1,आई फ्लू के,2,आई ब्रो की थ्रेडिंग,1,आक का पौधा,1,आखिर क्यों,8,आचार्य बालकृष्ण,95,आज का दिन,1,आतों के घाव और अल्सर,2,आथ्राईटिस,1,आधासीस,2,आध्यात्म,2,आम की पत्ती,1,आयरन,4,आयरन की कमी,2,आयुर्वेदिक टिप्स,576,आर्थराइटिस,1,आलस,2,आलू के,2,आलूबुखारा,1,आवाज के लिए,2,आवाज ठीक से ना निकलना,1,आवाज बैठ जाना,2,आस्था,16,इंफेक्शन,1,इन्फेक्शन,6,इमली,2,इयरबड,1,इलाइची,2,ईयर वैक्‍स,1,उँगलियाँ,1,उंगलियाँ चटकाना,1,उंगली की खाल,1,उंगली की खाल,1,उकडू बैठना,1,उच्च रक्तचाप,21,उत्तेजना,1,उधार,1,उनिंदापन,1,उपचार,1,उपहार,1,उपाय,2,उबटन,1,उबलता दूध,1,उल्टी,1,उल्टी रोकने के,7,ऊँगली,1,एकाक्षी नारियल,1,एकाग्रता बढ़ाने के लिए,5,एक्जिमा,3,एक्ज़िमा,1,एक्युप्रेशर,3,एक्यूप्रेशर,6,एक्यूप्रेशर थेरेपी,2,एक्यूप्रेशर मसाज,3,एक्सरसाइज,3,एचआईवी,1,एड़ियां,1,एड़ियाँ,1,एडियों का दर्द,8,एड़ी दर्द के,3,एड्स,1,एनर्जी,22,एनीमिया,31,एलर्जिक राइनाइटिस,1,एलर्जी,27,एलोवेरा,2,एलोवेरा के,3,एसिडिटी,25,एसी के नुकसान,1,एहसास,1,ऐक्यूप्रेशर,1,ऐसा क्यों,5,ऑयली स्किन,1,ऑयली स्किन के लिए,5,औषधि,47,कंगाली,3,कंडोम,1,कंधों का दर्द,4,कच्चा दूध,1,कछुआ,1,कछुआ अंगूठी,1,कटहल,1,कटा निम्बू,3,कथा,1,कद बढ़ाने के लिए,4,कद्दू के जूस,1,कनखजूरा,1,कन्धों का दर्द,1,कपालभाति,1,कपूर,3,कफ,7,कफ़,5,कफ और बलगम,14,कब्ज,1,कब्ज़,73,कम दूध,1,कम पानी,1,कम सुनाई देना,1,कमजोर यादाश्त,3,कमजोर हड्डी,1,कमजोरी,1,कमर दर्द,29,कमर दर्द और गठिया,4,करंट लगने पर,1,करवाचौथ,2,करीपत्ता,1,करेला,1,क़र्ज़,1,कलह,1,कलाई दर्द,2,कलाई में दर्द,1,कलौंजी,1,कस्टर्ड एप्पल,1,कांख का कालापन,2,कांच टूटना,1,काँटा,1,काँटा चुभना,1,काजल,1,काजू के,1,काजू खाने के,1,कान का छेद,1,कान का बहना,3,कान का मैल,4,कान के रोग,14,कान छिदवाने के फायदे,1,कान दर्द,40,कान में आवाज,2,कान में कीड़ा,1,कान साफ,1,कान साफ़,1,कान साफ़ करना,3,कामवासना,2,कामशक्ति,7,कामुकता,1,कार्डिएक अरेस्ट,1,कालसर्प दोष,1,काला जादू,1,काला तिल,1,काला धागा,4,काला रंग,1,कालापन,1,काली खांसी,2,काली खांसी के,1,काली त्वचा,1,काली मिर्च,4,काली हल्दी,1,काले घेरे,4,काले जीरा,1,काले निशान,1,काले बाल,4,काले होंठ,2,काॅकरोच,1,किडनियां और शरीर के लिए,1,किडनी,34,किडनी खराब,7,किडनी स्टोन,27,किन्नर,6,किन्नर ढोलक,1,किन्नर विवाह,1,किन्नर शवयात्रा,1,किशमिश का पानी,1,किशमिश के अद्भुत फायदे,1,किशमिश के फायदे,2,किस,1,किस्मत,16,कीट काटना,4,कीटाणु,1,कीड़ा,6,कीड़े,1,कीड़े या खटमल,1,कीड़े-मकोड़े,6,कीड़े-मकोड़ों का काटना,2,कीड़ों,2,कीरो,1,कील मुहासे,2,कुंडली,2,कुंडली दोष,1,कुकर खांसी,2,कुष्ठ रोग,1,कूल्हे की चर्बी,2,कूल्हों पर फैट,1,केला,3,केले के,1,केसर,1,कैंसर,107,कैंसर की औषधि,9,कैंसर के लक्षण,10,कैलोरी,1,कैल्शियम,7,कैल्शियम की कमी,3,कॉकरोच,2,कॉफी पीने के,1,कॉर्न या गोखरू के लिए,1,कॉलेस्ट्रॉल,3,कॉलेस्ट्रोल,13,कोड,2,कोमा,1,कोलस्ट्रोल,13,कोलाइटिस,1,कोलेस्ट्राल,1,कोलेस्ट्रॉल,1,कोलेस्ट्रोल,25,कोलोन कैंसर,2,कोहनी,1,कोहनी का इलाज,1,कोहनी का कालापन,2,कौवा का बोलना,1,क्रेम्प्स,1,क्रोध या गुस्से,2,क्षय रोग,2,खजूर,1,खट्टी डकार,3,खरबूजे के फायदे,1,ख़राब आदत,1,खर्राटे,4,खर्राटों के लिए,3,खसरा,4,खांसी,51,खाँसी,5,खांसी और कफ,21,खांसी और टीबी,1,खानपान,2,खाना सड़ना,1,खाली पेट,2,खिंचाव,1,खिचाव,1,खीरे का उपयोग,1,खुजली,38,खुनी बवासीर,4,खुश्की,1,खून की कमी,28,खून के थक्के के,1,खून रोकने के,3,खून साफ़,13,खूबसूरती का,8,खूबियां,1,गंजापन,10,गठिया,47,गठिया और जोड़ों के दर्द,23,गणगौर पूजा,1,गन्ना और गुड खाने के,1,गन्ने का रस,1,गरम पानी,1,गर्दन,2,गर्दन की अकड़न,1,गर्दन की सुंदरता के,3,गर्दन के दर्द से,6,गर्दन दर्द,4,गर्दन या शरीर पर तिल,2,गर्भ गिरना,1,गर्भधारण,6,गर्भधारण के,4,गर्भनिरोधक उपाय,2,गर्भपात,6,गर्भवती महिला,2,गर्भावस्था,26,गर्भावस्था के बाद वज़न,1,गर्भावस्था में उल्टी,1,गर्भाशय,2,गर्म पानी,1,गर्मियों में,1,गर्मी का आहार,1,गलतियाँ,1,गलफहमी,1,गलसुआ,2,गलसुआ के,1,गला बैठना,1,गले का कैंसर,5,गले की खराश,28,गले की खिचखिच,2,गले में खराश,5,गले में दर्द,19,गले में सूजन,1,गांठ,3,गाँठ,2,गाइनेकोमैस्टिया,1,गाडी,1,गाय का घी,1,गीला टॉवेल,1,गुटखा,1,गुड खाने के फायदे,2,गुप्त रोगों के लिए,2,गुप्तांग का कालापन,2,गुप्तांग की खुजली,3,गुप्तांग की सफाई,1,गुरुवार,4,गुर्दा,1,गुर्दे,3,गुर्दे की पथरी,5,गुलाब,1,गुलाबी गाल,1,गुलाबी होंठ,2,गुस्सा,7,गुहेरी या अंजनहारी,2,गृहक्लेश,1,गृहलक्ष्मी,1,गेंहू,1,गैस,15,गैस व एसिडिटी,98,गैस सिलेंडर,1,गोमूत्र,1,गोरापन,11,गोरी त्वचा,3,गोलगप्पे,1,गोल्‍ड ज्‍वैलरी,1,गोल्डन टाइम,1,ग्रहण,1,ग्रहों की चाल,1,ग्रीन टी,3,ग्लूकोमा,1,घनी पलकें,1,घने बाल,5,घबराहट,6,घमौरियां,7,घमौरी,1,घर से मकड़ियों दूर रखने के,1,घर से मक्खी-मच्छर-चूहे दूर रखने के,2,घरेलु उपाय,41,घरेलु नुस्खे,1812,घरेलू नुस्खे,1174,घाव,10,घाव एंव जलन,13,घुंघराले बाल,1,घुटने के दर्द,9,घुटने के दर्द का,11,घुटनों का कालापन,4,घुटनों का दर्द,1,घुटनों के लिए,1,घुटनों में गैप,1,घेंघा रोग,1,घोड़े की नाल,1,चंदन लगाने के,1,चंद्र ग्रहण,1,चंद्रग्रहण,2,चक्कर आना,9,चम्मच से,1,चरित्र,1,चर्बी,2,चर्म रोग,6,चर्म रोग से बचने के,2,चश्मा हटाने,4,चाणक्य नीति,2,चायपत्ती के,2,चावल,1,चिकन पाक्‍स,1,चिकनगुनिया,2,चिकनपाक्‍स,1,चिकनपॉक्स,1,चिकुनगुनिया,2,चिकेन पोक्स,1,चिड़चिड़ापन,2,चिढ़चिड़ापन,1,चिपचिपी त्वचा,1,चीटियाँ,1,चीटियों से बचाव,2,चुंबन,1,चुकंदर,2,चुकंदर के पत्ते,1,चूड़ियाँ,1,चूहा,1,चूहों के लिए,1,चेचक,6,चेहरे,13,चेहरे की झाइयां,3,चेहरे की झुर्रियां,4,चेहरे के काले दाग धब्बे,38,चेहरे के डिंपल,1,चेहरे के तिल,4,चेहरे के लाल दाने,1,चेहरे के लिए,243,चॉकलेट के,1,चोकर के,1,चोट या खरोंच,17,चोट या खरोच,1,चोटें,1,छठ पूजा,1,छाती के दर्द,2,छाती के बाल,1,छाती में जलन,4,छाले,4,छिपकली,3,छिलके के फ़ायदे,4,छींक,4,छींक के लिए,2,छुहारे,1,छोटा कद,1,छोटी ऊँगली,1,छोटी माता,1,जकड़न,1,जड़,1,जननांग,1,जन्म चक्र,1,जन्म तारीख,1,जन्मतिथि,2,जन्मदिन,2,जरा हट के,227,ज़रा हट के,16,जरा हट के मानवीय स्वाभाव,1,जलन,16,जलने पर,9,जले से छुटकारा,2,जल्दी उठना,1,जवान,2,जवानी,2,जहर,3,जांघो का कालापन,1,जाँघों के काले भद्दे निशान के,1,जाँघों के बीच खुजली,1,जानकारी,3,जिंक,1,जी मचलाना,3,जीभ के रोग,4,जीभ जलना,2,जीभ में जलन,1,जीभ से मालिश,1,जीरो फिगर,1,जीवन मंत्र,1,जीवन रेखा,1,जीवनसाथी,2,जुएँ,4,जुओ से,3,जुकाम,1,ज़ुकाम,1,जूंओं से निजात,3,जूएं,2,जूते काटना,1,जूस के फायदे,2,जॉन्डिस,1,जोड़ो का दर्द,7,जोड़ों का दर्द,6,जोड़ों के दर्द,7,जोड़ों के दर्द से,2,जोरू का गुलाम,1,ज्यादा नमक,1,ज्यादा सोने की,2,ज्योतिष,2,ज्वाइंट पेन,1,झड़ते बाल,1,झाइयां,4,झाईयां,1,झाड़ू,2,झुर्रिया,1,झुर्रियां,5,झुर्रियों,8,टखने में दर्द,2,टांसिल्स,1,टाइट जीन्स,1,टाइफाईड,3,टाइफायड बुखार,1,टी.बी.,1,टीबी,5,टीबी रोग,2,टूटते नाख़ून,1,टूटी हड्डी,1,टूटे दांत,2,टूथपेस्ट,1,टूथपेस्ट टेस्ट,1,टूथब्रश,2,टेस्ट,1,टेस्ट ट्यूब बेबी,1,टैटू,1,टैरो कार्ड,1,टॉन्सिल,1,टॉन्सिल्स,1,टॉयलेट,1,टॉयलेट सीट,1,टोटका,34,टोटके,12,ट्यूमर,3,ट्रेंड,1,ठंड,2,ठंडा-गर्म,1,ठन्डे पैर,1,ठोड़ी,1,डकार,4,डर,1,डाइटिंग,1,डाइबिटीज,1,डायपर,2,डायबटीज,5,डायबिटीज,73,डायबिटीज़,3,डायबीटिज़,10,ड़ायबीटिज,1,डायबीटीज,3,डायरिया,25,डायलासिस,2,डायलिसिस,1,डार्क सर्कल,6,डिप्रेशन,3,डियोड्रेंट,1,डिलीवरी के बाद,2,डिहाइड्रेशन,5,डीलेवरी के,1,डेंगू,7,डेंड्रफ,2,डैंड्रफ,9,डैंड्रफ़,1,ड्राई स्किन,3,ड्राईफूट,1,ढीले स्तन,2,तंदुरुस्त,1,तंबाखू,1,तकिया,1,तकिया लगाना हैं नुकसानदेह,1,तनाव,58,तपेदिक,1,तरबूज के फायदे,1,तर्जनी,1,तलवों का दर्द,1,तलवों में पसीना,2,तांबे के बर्तन,1,ताकत,15,ताक़त,1,ताम्बे का छल्ला,1,तिल,3,तिल चतुर्थी,1,तिल तथा मस्से,8,तुतलाना,1,तुलसी,8,तेज पत्ता,2,तेल के दाग,1,तेल मालिश,1,तैलीय त्वचा,6,तोंद,5,त्योहार,1,त्वचा,22,त्वचा का जल जाना,3,त्वचा का संक्रमण,3,त्वचा का हटना,1,त्वचा के रोग का,10,त्वचा के लिए,121,थकान,37,थकावट,6,थाइरॉइड,10,थाइरोइड,1,थायराइड,10,थायरायड,3,थायरॉइड,3,थेरेपी,1,थैलेसीमिया,1,थ्रेडिंग,1,दमा,33,दर्द,2,दर्द और सूजन,3,दर्द के लिए,16,दर्द में राहत,1,दवा,1,दस्त,35,दही के लाभ,4,दांत,4,दांत और सांस की बदबू,9,दांत के कीड़े,2,दांत दर्द,57,दाँतो के रोग,7,दांतों का दर्द,9,दांतों का पीलापन,5,दांतों का मैल,1,दांतों की सफाई,8,दांतों के पस,2,दांतों के लिए,71,दांतों मे दाग,1,दांतों में कीड़े,7,दांतों में कैविटी,6,दांतों में सेंसिटिविटी,1,दाढ़ी और मूछों के बाल,2,दाद,2,दाद-खाज,25,दान,7,दिमाग,19,दिमाग तेज,11,दिया,1,दिल,33,दिल की नाड़ी,1,दिल की बीमारी,44,दिल के दौरे,26,दिल में छेद,1,दिलचस्प,1,दिवाली टिप्स,2,दिशा,3,दीमक,2,दीवाली पूजन,2,दुबलापन,2,दुर्बलता,2,दुर्भाग्य,3,दुर्लभ पौधा,1,दुर्वा के,1,दूध की कीमत,1,दूध की पहचान,1,दूध के फायदे,3,दूध खजूर,1,दूध में मिलावट,2,दूध हज़म नही होना,1,देशी नुस्खे,1642,दो मुंहे बाल,4,धतूरा के,2,धन-लाभ,3,धनतेरस,3,धर्म,22,धागे से बालों को हटाना,1,धीमा जहर,3,धूम्रपान,1,नए बालों के लिए,1,नकली अंडे,2,नकली घी,1,नकसीर,19,नकारात्मक ऊर्जा,5,नजर उतारना,1,नज़र लगना,1,नजरिया,1,नजला,1,नपुंसकता,12,नमक के फायदे,2,नया साल,1,नवजात,1,नवजात के लिए,1,नवरात्र,1,नवरात्रि,1,नशा,3,नस खिंच जाना,2,नस चड़ना,1,नस पर नस चढ़ना,2,नसबंदी,1,नहाते समय,3,नहाना,3,नहाने का पानी,1,नाक का पकना,1,नाक के रोग,4,नाक में सूजन,1,नाख़ून,3,नाखून चबाना,1,नाख़ून चबाना,1,नाखून पॉलिश,1,नाखूनों का संक्रमण,2,नाखूनों के लिए,12,नाजायज़ संबंध,1,नाड़ी ज्ञान,1,नाभि,1,नाभि टलने के,1,नाभी से जु़ड़े,1,नाम,1,नारियल,6,नारियल के फायदे,1,नारियल खराब,1,निकला हुआ पेट,5,निकोटीन,1,निमोनिया,9,निम्न रक्तचाप,1,निम्बू पानी,1,निशान मिटाने,2,नींद,21,नींद की समस्या,25,नींद के झोंके,2,नींद खुलना,1,नींद में बोलना,1,नींबू,6,नींबू के छिलके,1,नींबू पानी,3,नीम की दातुन,1,नीम्बू पानी,1,नील के निशान,2,नील के फायदे,1,नील पड़ना,1,नुकसान,1,नेल पेंट,1,नेल पेंट के नुक्सान,2,नौकरी,1,पतली कमर पाने के,3,पति की किस्मत,1,पत्तागोभी,1,पत्तेदार सब्ज़ियां,1,पत्थरचट्टा,1,पथरी,45,पथरी के उपाय,16,पथरी के लक्षण,1,पपीता,2,पपीते की पत्तियां,1,पपीते के,1,परंपरा,2,परफेक्ट पार्टनर,1,परफेक्ट बॉडी,4,परामर्श,1,परिक्रमा,1,पर्सनालिटी,1,पलंग तोड़ नुस्खे,1,पलको के लिए,2,पलको को घना,1,पलकों के लिए,4,पसलियों में दर्द,3,पसली का दर्द,1,पसीना,6,पसीने की दुर्गन्ध,5,पसीने की बदबू,9,पसीने के दाग दूर करने के,1,पाइल्स,14,पागलपन,2,पाचक,17,पाचन,137,पाचन तंत्र,3,पाचन तथा लीवर,21,पाचनक्रिया,10,पादने के फ़ायदे,1,पान के पत्ते,1,पानी,9,पानी की कमी,4,पानी पीने के,4,पानी पूरी,1,पायरिया,7,पायल पहनने के,1,पार्टनर,1,पालक का जूस,1,पाॅइजन,1,पिंपल,4,पिंपल फोड़ने के नुकसान,1,पिंपल्स,4,पित्त,2,पित्त की पथरी,3,पिम्पल्स,4,पिरीयड,1,पीठ का कालापन,1,पीठ के मुहांसे,1,पीठ दर्द,11,पीठ पर जलन,1,पीपल के,2,पीरियड्स,27,पीलापन,1,पीलिया,18,पीलिया का उपचार,11,पीले दांत,2,पुराना जुकाम,1,पुराना दाद,3,पुरानी बोतल,1,पुरुष नसबंदी,1,पुरुषों के लिए,2,पुरुषों में लटकते स्तन,2,पुरुषोंं के स्तन,1,पूजन,7,पूजा,1,पेट का संक्रमण,3,पेट की गुडगुड,2,पेट की गैस,9,पेट की चर्बी,42,पेट की भूख,2,पेट की मालिश,1,पेट के कीड़े,17,पेट के लिए,119,पेट कैंसर,4,पेट खराब,2,पेट ख़राब,2,पेट दर्द,84,पेट फूलना,7,पेट में अल्सर,3,पेट में कीड़े,4,पेट में जलन,2,पेट में दर्द,4,पेट साफ़,9,पेट से सबंधित,25,पेटदर्द,1,पेठा,1,पेड़ों का महत्व,1,पेरोनिसिया,1,पेशाब का संक्रमण,3,पेशाब में जलन,9,पेशाब में झाग,1,पेशाब में से दुर्गंध,2,पेशाब संबंधी,15,पैंटी में जेब,1,पैड,1,पैरालिसिस,3,पैरों का दर्द,3,पैरों का शेप,1,पैरों की लिए,28,पैरों की जलन,3,पैरों की झुनझुनी,2,पैरों की बदबू,11,पैरों की सूजन,9,पैरों पर छाले,1,पैरों में दर्द,9,पोटेशियम,1,पोषक तत्व,1,प्याज़,3,प्याज़ का रस,1,प्याज के,3,प्यार,1,प्रचलन,1,प्रदूषण,1,प्रसव के दौरान,1,प्रसव पीड़ा,1,प्रसुती महिला,2,प्राइवेट पार्ट,1,प्राणायाम,2,प्रेगनेंसी,14,प्रेगनेंसी का टेस्‍ट,5,प्रेगनेंसी में पीरियड्स,1,प्रेग्नेंट,4,प्रेग्नेंसी,1,प्रैग्नेंसी के दौरान,3,प्रैग्नेंसी के बाद,1,प्रोटीन,13,प्रोस्टेट कैंसर,1,प्लास्टिक की बोतल,1,फंगस,1,फटी एडियाँ,3,फटी एडियों के लिये,10,फटे होंठ,9,फाइबर,3,फाइलेरिया,1,फ़ायदे,1,फिटकरी,2,फिश एक्वेरियम,1,फीवर,1,फुट थेरेपी,1,फ़ूड इन्फेक्शन,3,फूड प्वाइज़निंग,1,फ़ूड प्वाइजनिंग,2,फूडपाॅयजन,1,फेंगशुई,5,फेंफडे,3,फेंफड़ो,1,फेंफडों में कैंसर,1,फेंफडों में पानी,1,फेंफडों में सूजन,1,फेफड़ो,2,फेफड़ो के लिए,1,फेफड़ों,1,फेफड़ों में पानी,1,फेस पैक,1,फैंगशुई,1,फैट,1,फोड़ा फुंसी,4,फोड़े फुंसी,4,फोड़े होने के,5,फोड़े-फुंसियों,1,फोड़े-फुंसी,1,फ्रैक्‍चर,1,बंद नाक,4,बगलों और जाँघों के काले भद्दे निशान के,1,बच्चा गोरा तंदरुस्त वा सुंदर,2,बच्चे,1,बच्चे की मालिश,1,बच्चे को एसिडिटी,1,बच्चेदानी में सूजन,1,बच्चों का अँगूठा चूसना,2,बच्चों का रोना,3,बच्चों के दांत,2,बच्चों के रोग,20,बच्चों के लिए,4,बड़ी आंत का कैंसर,1,बड़े स्तन,1,बढ़ती उम्र,2,बदन दर्द,6,बदनदर्द,2,बदबू को दूर करने में,4,बदहजमी,8,बदहज़मी,2,बबासीर,17,बरकत,1,बरगद,1,बर्थ कंट्रोल,1,बर्फ़,1,बलगम,1,बवासीर,54,बहती नाक,2,बहरा होना,1,बहरापन,1,बाईपास,3,बातें,1,बादाम के उपयोग,1,बादाम तेल के उपयोग,1,बादाम रोगन के,1,बादी बवासीर,3,बायोप्सी जांच,1,बाल झड़ना,58,बाल टूटना,1,बाल तोड़,1,बालतोड़,2,बालों का झड़ना,6,बालों की बदबू,1,बालों की रूसी,3,बालों के लिए,233,बालों को हटाना,1,बासी थूक,1,बिच्छू के काटने पर,2,बियर,2,बिल्ली,1,बिसफिनॉल-ए,1,बिस्तर में पेशाब,3,बीमारियाँ,1,बीमारियों के,11,बीमारी,4,बीयर के,1,बुखार,66,बुख़ार,13,बुखार और सर्दी,14,बुद्धि दांत दर्द,2,बुधवार,2,बुरा समय,1,बुरी नजर,6,बुरे सपने,1,बेक पैन,1,बेकिंग सोड़ा,1,बेचेनी,1,बेचैनी,3,बेदाग त्वचा,3,बेदाग़ त्वचा,2,बेबी आयल,1,बेबी पाउडर,1,बेरीबेरी,1,बेरोजगार,1,बेल का शरबत,1,बेसन,1,बेहोशी,2,बैक्टीरिया,3,बॉडी मसाज़,2,ब्यूटी टिप्स,21,ब्रा,3,ब्रा पहनना,1,ब्रेन अटैक,1,ब्रेन कैंसर,1,ब्रेन ट्यूमर,3,ब्रेन स्ट्रोक,3,ब्रेस्ट कैंसर,1,ब्रैस्ट कैंसर,1,ब्लड,2,ब्लड कैंसर,2,ब्लड ग्रुप,1,ब्लड डोनेट,2,ब्लड प्रेशर,1,ब्लड प्रैशर,2,ब्लड प्लेटलेट्स,1,ब्लड शुगर,16,ब्लड साफ़,1,ब्लडप्रेशर,8,ब्लाकेज,1,ब्लीडिंग,1,ब्लैक स्पॉट,1,ब्लैक हेड्स के,1,ब्लैकहेड्स,6,ब्लैडर कैंसर,1,ब्लॉक नस,2,भक्ति,1,भविष्य,7,भविष्यवाणी,1,भांग का नशा,1,भाग्य,4,भाग्यलक्ष्मी डेयरी,1,भाप के फायदे,1,भारीपन,1,भीगी किशमिश,1,भुट्टे के,1,भूख,11,भूख कम,2,भूख की इच्छा,3,भूख बढाने के,8,भूचरी आसन,1,भूलने की बीमारी,7,भ्रान्ति,1,मंगल,1,मंगल दोष,1,मंगलसूत्र,1,मंदिर,1,मकड़ी,1,मकर संक्रांति,3,मक्खन,1,मक्खी-मच्छर-चूहे दूर रखने के,1,मच्छर,3,मच्छरों को घर से दूर भगाने के,1,मच्छरों को भगाने के,2,मछली का काँटा,1,मजबूत दांत,1,मजबूत हड्डियाँ,6,मटके का पानी,1,मधुमक्खी,1,मधुमेह,41,मधुमेह (शुगर),91,मनाही,1,मनी प्लांट,1,मनोकामना,1,मयूरासन,1,मर्दानगी,11,मर्दाना शक्ति,7,मलाई के फायदे,1,मलेरिया,10,मशरूम,1,मष्तिस्क,1,मसाज,4,मसूड़ों की सूजन,3,मसूड़ों के लिए,7,मसूड़ों में खून,1,मस्कारा,1,मस्तिष्क,5,मस्सा बवासीर,2,मस्से,7,मस्सों से परेशान,1,महाशिवरात्रि,2,महासंयोग,2,महिलाओं के लिए,28,महिलाओं में दूध की समस्या,1,महिलाओं में महावारी,8,मां का दूध,1,मां के दूध,1,मांगलिक,2,मांसपेशियाँ,1,मांसपेशियों,1,मांसपेशियों का दर्द,1,मांसपेशियों के दर्द,6,मांसाहारी,1,माइग्रेन,35,माथे का सिन्दूर,2,मानवीय स्वाभाव,72,मानसिक तनाव,6,मान्यता,10,मालामाल,1,मालिश,2,माश्पेशियों में ऐंठन,1,मासपेशियों में दर्द,1,मासिक धर्म,9,माहवारी,3,माहवारी के,12,मिटटी के,1,मिट्टी के,1,मिनरल्स,1,मिर्गी,8,मिर्गी रोग,4,मिलावट की जांच,1,मिश्री,2,मिसकैरेज,2,मुंह का कैंसर,1,मुंह की दुर्गंध,2,मुंह की दुर्गध,22,मुंह की बदबू,12,मुंह के घाव,3,मुंह के छाले,9,मुँह के छाले,6,मुंह के रोग,2,मुंह में पथरी,1,मुँह से बदबू,1,मुंहासे,16,मुँहासे,17,मुख्य द्वार,2,मुठ,1,मुलेठी,1,मुहं के छाले,11,मुहं के लिए,1,मुहांसे,27,मुहांसों की समस्या,4,मुहासे,5,मुहासे के दाग,1,मूंगफली के,3,मूछ और दाढ़ी के,1,मूत्र की जलन,1,मूत्र रुक जाना,1,मूत्र रुक-रुककर आना,1,मूत्र विसर्जन,1,मूर्च्छा,1,मूर्ति,1,मूर्ति पूजा,1,मेडिकल जांच,2,मेमोरी पावर,2,मैडिटेशन,1,मॉसक्विटो कोइल,1,मोच,7,मोच के लिए,6,मोटर न्यूरॉन बीमारी,1,मोटापा,145,मोटी कमर,2,मोतियाबिंद,10,मोती चमड़ी,1,मोबाइल,2,मोम की कोटिंग,1,मोर का पंख,3,मोर्निंग टिप्स,1,मौत की दस्तक,1,मौली या कलावा,1,यात्रा,1,याददाश्त,6,याददाश्त तेज,1,याद्दाश्त,1,यूरिक एसिड,1,यूरिन,1,यूरिन में झाग,1,यूरिन संबंधी,7,यूरिन से बदबू,1,यूरीन,1,यूरीन संक्रमण,1,योगा टिप्स,21,योगासन,1,योनी की खुजली,1,यौन रोग,1,यौन शक्ति,6,यौन सम्बन्ध,2,रक्त,2,रक्त चाप,2,रक्तचाप,15,रक्तदान,2,रक्तपित्त,1,रक्‍तस्राव,1,रक्तातिसार,1,रतोंधी,1,रतौंधी,1,रविवार,1,रसोई घर के उपाय,1,राई,1,राज,1,राजयोग,1,रात में जन्मे बच्चे,1,राशि,5,राशि अनुसार,28,राशि परिवर्तन,3,राशिफल,4,रिमूवर क्रीम,1,रिवाज,2,रिश्ते,2,रिसेप्शनिस्ट,1,रीढ़ की हड्डी,1,रुखी स्किन,2,रुद्राक्ष,1,रुसी,4,रूखा चेहरा,1,रूखी त्वचा,8,रूसी,8,रेखा,1,रैशेज के,1,रैशेस,1,रोचक तथ्य,1,रोने के फायदे,1,रोमछिद्र,2,रोमांस,4,लंग कैंसर,1,लंग्स,1,लंग्स कैंसर,1,लकवा,14,लकवे का अटैक,2,लकी चार्म,1,लकी नंबर,2,लक्षण और उपाय,8,लचीलापन,1,लटका पेट,2,लड़की का स्वाभाव,2,लड़ाई,1,लड़ाई झगड़े,1,लम्बाई बढ़ाना,2,लम्बे बाल,13,लहसुन,9,लहसुन का दूध,1,लाइफ पार्टनर,1,लाइफस्टाइल,2,लात मारना,1,लापरवाही,1,लाफिंग बुद्धा,2,लाभ हानि,1,लाल किताब,2,लाल पट्टी,1,लिंग आकार बढ़ाने,1,लिंग का पता,1,लिवर,5,लिवर की खराबी,1,लीख,1,लीवर,29,लीवर कैंसर,3,लू लगना,8,लू से रक्षा,14,लूज मोशन,2,लो ब्‍लड प्रेशर,1,लौंग के,1,ल्यूकीमिया,1,ल्यूकोरिया,1,वजन,9,वज़न,4,वज़न कंट्रोल,1,वजन कम,53,वजन घटाने,42,वज़न घटाने,1,वज़न घटायें,15,वजन बढ़ना,2,वजन बढ़ाये,4,वजन बढायें,12,वज्रासन,2,वमन,1,वस्तु,1,वात,3,वायरल फीवर,2,वायरल फीवर के,1,वायरल बुखार,10,वायरल सच,3,वायरस,1,वार्ट्स,1,वास्तु,3,वास्तु दोष,10,वास्तु शास्त्र,22,वास्तुशास्त्र,15,वाहन,1,विंड चाइम,1,विक्स वेपोरब,1,विटामिन,1,विवाह,4,विवाह मुहूर्त,2,विवाह रेखा,1,वीर्य,2,वीर्य की कमी,4,वोमेटिंग,1,व्यायाम,1,व्रत,5,व्‍हाइट टी,1,व्ही-बॉयलर स्ट्रोक,1,शंख,1,शंख मुद्रा,1,शंखपुष्पी,1,शकुन अपशकुन,9,शकुन-अपशकुन,1,शगुन अपशगुन,4,शनि अमावस्या,1,शनि की साढ़ेसाती,2,शनि देव,5,शनिवार,3,शयनकक्ष,1,शरीर का दर्द,7,शरीर की गांठ,1,शरीर की दुर्गंध,3,शरीर की सूजन,9,शरीर के अंग,1,शरीर के निशान,3,शरीर के फेफड़े,1,शरीर के लिए,30,शरीर पतला,1,शरीर में सूजन,1,शरीर सुन्न,1,शर्बत,1,शहद,5,शादी,7,शादी में देरी,1,शानिदोष,1,शारीरिक कमजोरी,10,शारीरिक रोग,4,शारीरिक संबंध,8,शिव का अभिषेक,1,शिवलिंग,1,शिशु,1,शिशु के लिए,2,शीघ्रपतन,10,शुक्र,1,शुक्राणु,3,शुगर,5,शुभ अशुभ,139,शुभ मुहूर्त,3,शुभ योग,1,शुभ रंग,3,श्रीदेवी,1,श्वास,2,श्वेत प्रदर के,4,संकेत,7,संक्रमण,3,संतरा,1,संतान सुख,1,संभोग,2,सकरात्मक ऊर्जा,1,सदमा,1,सपने,4,सफ़र में उल्टी,1,सफलता,1,सफेद जीभ के लिए,2,सफेद दाग,3,सफ़ेद दाग,2,सफ़ेद दाड़ी,1,सफ़ेद पानी,1,सफ़ेद बाल,10,समाधान,1,समुद्र शास्त्र,1,सर दर्द,18,सरसों,1,सरसों बीज के,1,सर्जरी,1,सर्द गर्म,2,सर्दियों में,1,सर्दी,4,सर्दी और जुकाम,20,सर्दी खाँसी,4,सर्दी जुकाम,70,सर्दी में,5,सर्दी-जुकाम,19,सर्दी-जुखाम,5,सर्वाइकल,1,सर्वाइकल गठिया,1,सर्वाईकल स्पौण्डिलाइटिस,2,सलाह,1,सहजन,1,सही पहचान,2,सांप,1,साँप काटने पर,1,सांवलापन,1,सांस की तकलीफ,1,सांस की बदबू,10,सांस फूलना,4,सांसों की दुर्गंध,6,साइटिका,6,साइड इफ़ेक्ट,1,साइनस,3,साइलेंट अटैक,1,साइलेंट हार्ट अटैक,1,साफ सफाई,1,साबूदाना,3,सामुद्रिक शास्त्र,1,सायटिका,2,सावधानियां,24,सावधानी,6,सिंघाडे़ के,1,सिंड्रोम,1,सिगरेट तलब,1,सिजेरियन ऑपरेशन के निशान,1,सिबेसियस सिस्ट,1,सिर की खुजली,3,सिर दर्द,23,सिरदर्द,65,सिलिकॉन बेस्ड तेल,1,सीटी बजना,1,सीटी स्कैन,1,सीढ़ियां,1,सीताफल,1,सीने के बाल,1,सीने में जलन,17,सीने में दर्द,7,सुंदरता,3,सुख शांति,2,सुख समृद्धि,2,सुन्दर आकर्षक और ताक़तवर बनने के लिए,1,सुबह,1,सुयोग्य वर,1,सुरीली आवाज,1,सुस्ती,2,सुहागरात,1,सूखा रोग,1,सूखी खांसी,4,सूखे फटे होंठ,1,सूजन,15,सूजन या खुजली,4,सूर्यग्रहण,1,सेक्स,1,सेक्स क्षमता,7,सेक्स टिप्स,13,सेक्स पावर,12,सेक्स लाइफ,2,सेक्स समस्याएँ,1,सेक्स सम्बन्धी,12,सेनेटरी नैपकिन्स,1,सेब,1,सेहत,3,सेहत और सौंदर्य के,4,सेहत के लिए,10,सोते समय,1,सोते समय झटका,1,सोना,1,सोने का तरीका,5,सोने की दिशा,3,सोने की पोजीशन,2,सोमवती अमावस्या,1,सोर थ्रोट,2,सोरायसिस,1,सौंदर्य के,6,सौंफ,1,स्किन के लिए,8,स्कैबीज,1,स्टिकर्स,1,स्टीफन हॉकिंग,1,स्टेमिना,1,स्ट्रेच मार्क्स,4,स्ट्रैच मार्क्स,4,स्तन,1,स्तन आकार,1,स्तन कैंसर,7,स्तन वृद्धि,1,स्तनपान,2,स्नान,1,स्पर्म,2,स्फूर्ति,1,स्मरण शक्ति,3,स्मोकिंग,2,स्वप्न,2,स्वप्न दोष,1,स्वप्नदोष,2,स्वप्नदोष (नाइट फाल),2,स्वस्थ जीवन का सूत्र,220,स्वाइन फ्लू,4,स्वास्थ्य,8,हकलाना,3,हकलाहट,1,हड्डियों और दांतों के लिए,2,हड्डियों का दर्द,1,हड्डियों के लिए,15,हनुमान जयंती,4,हरी प्याज़,1,हर्निया,3,हर्पीस जोस्टर के,1,हल्दी,2,हल्दी पानी,1,हस्तमैथुन,1,हस्तरेखा,5,हस्तशास्त्र,2,हांथों में पसीना,2,हाइड्रोसील,1,हाइपरटेंशन,1,हाइपरहाइड्रोसिस,1,हाई बीपी,3,हाजमा,3,हाथ का दर्द,1,हाथ पैर सुन्न,1,हाथ पैरों की झुनझुनी,2,हाथ से खाने के,1,हाथ-पैरों में दर्द,3,हाथीपांव,1,हाथों की स्किन. स्किन उखड़ना,1,हाथों के रोग,5,हाथों के लिए,5,हानिकारक,1,हार्ट अटैक,32,हार्ट बर्न,2,हार्ट ब्लॉकेज,12,हार्टअटैक,6,हार्टबर्न,1,हाव-भाव,1,हिचकी,8,हिचकी के उपाय,11,हिन्दू धर्म,3,हिप्स,1,हिमोग्लोबिन,1,हिलते दांत,2,हिस्टीरिया,1,हींग,2,हीमोग्लोबिन,5,हीमोग्लोबिन की कमी,1,हृदय रोग,7,हृदयघात,2,हृदयाघात,2,हेपेटाइटिस,1,हेपेटाइटिस B,1,हेयर ट्रिमिंग,1,हेयर फाल,1,हेयर रिमूवल,2,हेयर लोस,4,हेल्थ चेकअप,1,हेल्थ टिप्स,8,हैंगओवर,1,हैजा,4,होंठ,2,होंठों के लिए,12,होठों का कालापन,2,होठों का रंग,1,होठों के लिए,9,होठों पर बाल,1,होमियोपैथी,1,होली,3,ह्रदय,5,ayurvedic health tips; rajgir,1,Baadam ki shaktiyan,1,badam ke upyog,1,bajra se labh,1,balo ko lamba karne ka tel,1,balo ko lamba karne ka tel banana,1,bargat se upchar,1,bathua ka sag,1,Beauty Tips,5,Bel ka pedh,1,Bemisal Haldi,1,bhindi ke gurn,1,brahmmi,1,C0ND0M,1,chamatkari dava,1,charbi ghatane ke upai,1,Cheeku ke Aushdhiya Prayog.,1,Chehre ki Jhurriya,1,Chickenpox,1,choker ke gurn,1,chona se labh,1,chot hetu prayog,1,chot hetu proyog,1,choti baate bade suj buj ki,1,chuhara aur khajur ke gun,1,colon cancer,1,daat,1,dad ka upchar,1,dadi maa ke nuske,1,dahi se labh,1,Dama ka Gharelu Upchar,1,dandruff,1,Dard niwarak tail,1,Dark Circles,1,Dental Pain,1,Dry Skin,1,dumrapan ke fayde,1,fitkaei ke fayde,1,Ganjapan door karne ke nushkhe,1,ganne ke ras se fayda,1,garam pani selabh,1,garmiyon me twacha ki dekhbhal,1,Gas ki samasya,2,Gathiya ka upchar,1,gau mutra ke faayde,1,Gazar labhkari,1,Gehri Neend Ke Upaay.,1,Ghar Banwane se pehle ke upaay,1,Giloy,1,gurn ke fayde,1,hair,2,hair tips,1,Haldi ke Upchar,1,hatho ka kaalapan door karne ke upai,1,Head Lice,1,Health Tip,3,Health Tips,162,Health Tips tanbe ke vartan me pani pine ke fayde,1,health tips; aalo sabgi ka raja,1,health tips; anjeer ke gurn,1,health tips; badam ka upyog,1,health tips; chamatkari fal kela,1,health tips; dard niwarak tel,1,health tips; guron ki khan tamatar,1,health tips; hari pyaj,1,health tips; home tips,1,health tips; jamun ke gurn,1,health tips; kali khasi,1,health tips; kanta par heeng ka proyog,1,health tips; madhumeh hone par kya kare,1,health tips; malai ka uoyog,1,health tips; motapa,1,health tips; muh ki safai,1,health tips; poosak,1,health tips; rog nivarak loki,1,health tips; tamatar ke gurn,1,health tips; tancil ka upchar,1,health tips; vastu ke anusar sidiya,1,health tips; aakho ki rosani badane ke upai,1,health tips; adrak dard nivarak,1,health tips; amarbel,1,health tips; annar se fayde,1,health tips; atisaar,1,health tips; badan ka dard,1,health tips; balo ka girna,1,health tips; balo ke liye mahndi amrit,1,health tips; bangan ke labh,1,health tips; bhidi ke gurn,1,health tips; bhojan ke jaroori niyam,1,health tips; colastarol ki vidhi,1,health tips; gardan dard,1,health tips; ghamori,1,health tips; ghutno ka dard,1,health tips; gurnkari gulab,1,health tips; hasne ke fayde,1,health tips; houto ka kalapan dur karne hetu,1,health tips; hradya me labhkari akhrot,1,health tips; hradya swast rakhne ke upai,1,health tips; labhkari gajar,1,health tips; lahsun ka upai,1,health tips; masoor ki dal,1,health tips; muh ke chaale,1,health tips; mukhbaas hetu bhuna jeera,1,health tips; nak se koon aana,1,health tips; papita se fayda,1,health tips; pathari ka upchar,1,health tips; pattal par bhojan karna,1,health tips; pet dard ke liye,1,health tips; pet ka upchar,1,health tips; piliya,1,health tips; pyaj ka fayda,1,health tips; santra ke gurn,1,health tips; sar dard se rahat ke liye,1,health tips; sev ke fayde,1,health tips; singhare ka aata,1,health tips; sonf ke fayde,1,health tips; swash nali ki sujan,1,health tips;adrak,1,health tips;asthama ka daura,1,health tips;babasir,1,health tips;babasir me labhkari motisonf,1,health tips;cheku,1,health tips;dant dard,1,health tips;kencar ka upai,1,health tips;kharbuja,1,health tips;pudina ki chatni,1,health tips;silbatta,1,HIV AIDS,1,home tips,3,IVF,1,jhaiya door karne ke upay,1,joo se fayde,1,Kaan-ka-dard,1,kabj me upyugi jira,1,Kabz,1,Kaddu se labh,1,kale geero se chutkara,1,Kamar aur Peeth ke liya yoga,1,kapoor ke fayde,1,karela kaise khaye,1,keere ke pani se labh,1,kesar ke fayde or gurn,1,kesar se labh,1,khajoor ka labh,1,Khajoor Ke Upaay,1,Khana Ke Niyam,1,khasi jukam ka upchar,1,kheere ke upyog,1,madhumeh,1,Maleriya ke Upaay,1,Man boobs,1,Masoodo ke rog,1,matar ke fayde,1,mohase ke upay,1,moles,1,moogfalli se labh,1,mooli ke patto ka proyog,1,Moongfali ke Faayde,1,Muh Ke Chhale,2,Munakka ke upaay,1,Munakke ke labh.,1,nahane ka tarika,1,nariyal ke gurn,1,neebu se labh,1,neel padna,1,neend ke upai,1,Paani,1,pan se labh,1,Papita rog naashak,1,Peepal Ke Upchar,1,Pet,1,pet dar hetu upchar,1,pet foolna,1,pipal se labh,1,Piparmint ka Prayog,1,pudina se laabh,1,rajma,1,sarifa,1,sarifa ke gurn,1,sehat me labhkari kakdi,1,sevanti ke gurn,1,shakahaar ke labh,1,Shimla Mirch ke faayde,1,swine flu,1,tamatar ke faayde,1,Thand se hone wala bukhar,1,Thyroid ka upchar,1,Tiliya kand,1,tulsi ke gurn,1,Yoga Tips,8,
ltr
item
आयुर्वेदप्लस - हिंदी : बेजान दारूवाला बता रहे हैं 2018 में किन कार्यों को करें और किन्हें टालें
बेजान दारूवाला बता रहे हैं 2018 में किन कार्यों को करें और किन्हें टालें
https://4.bp.blogspot.com/-Wlp3aFSIHo8/WksK152JGLI/AAAAAAAAQxs/r7WrcCoNHBE_Er4iolSYY6U4tixAQs9wQCLcBGAs/s1600/raashi-ke-anusaar-jaaniye-kaisa-rahega-naya-saal-020202.jpg
https://4.bp.blogspot.com/-Wlp3aFSIHo8/WksK152JGLI/AAAAAAAAQxs/r7WrcCoNHBE_Er4iolSYY6U4tixAQs9wQCLcBGAs/s72-c/raashi-ke-anusaar-jaaniye-kaisa-rahega-naya-saal-020202.jpg
आयुर्वेदप्लस - हिंदी
http://www.ayurvedplus.com/2018/01/raashi-ke-anusaar-jaaniye-kaisa-rahega-naya-saal-020202.html
http://www.ayurvedplus.com/
http://www.ayurvedplus.com/
http://www.ayurvedplus.com/2018/01/raashi-ke-anusaar-jaaniye-kaisa-rahega-naya-saal-020202.html
true
7892328351157627915
UTF-8
Loaded All Posts Not found any posts VIEW ALL Readmore Reply Cancel reply Delete By Home PAGES POSTS View All RECOMMENDED FOR YOU LABEL ARCHIVE SEARCH ALL POSTS Not found any post match with your request Back Home Sunday Monday Tuesday Wednesday Thursday Friday Saturday Sun Mon Tue Wed Thu Fri Sat January February March April May June July August September October November December Jan Feb Mar Apr May Jun Jul Aug Sep Oct Nov Dec just now 1 minute ago $$1$$ minutes ago 1 hour ago $$1$$ hours ago Yesterday $$1$$ days ago $$1$$ weeks ago more than 5 weeks ago Followers Follow THIS CONTENT IS PREMIUM Please share to unlock Copy All Code Select All Code All codes were copied to your clipboard Can not copy the codes / texts, please press [CTRL]+[C] (or CMD+C with Mac) to copy