Ads (728x90)

Advertisement

अधिक काम के बाद थकान होना आम बात है, लेकिन हर काम के बाद थकान होना सामान्य नहीं है। अत्यधिक थकान होना कई बार एनिमिया के लक्षणों में शामिल होता है। ऐसा जरूरी नहीं है कि यह सिर्फ एनिमिया ही हो, लेकिन इसके प्रति जागरूक रहना अापके लिए बेहद जरूरी है। अगर आपको भी होती है, जब आपके शरीर में रक्त कोशिकाओं की कमी होती है ऐसे में शरीर बहुत थकावट महसूस करता है और आपको बहुत अधिक थकान महसूस होती है। 

इस बारे में डॉक्टर्स कहते हैं कि ‘‘शरीर को हीमोग्लोबिन का निर्माण करने के लिए आयरन की आवश्यकता होती है और हीमोग्लोबिन  लाल रक्त कोशिकाओं में आक्सीजन ले जाने में बहुत महत्वपूर्ण योगदान देता है। इसकी कमी से आपकी मांसपेशियां तथा हड्डियां कमजोर हो सकती हैं।यही कारण है कि आयरन की कमी से शरीर में एनिमिया रोग हो सकता है, और अत्यधिक थकान होना इसके प्रमुख लक्षणों में शामिल है। इसके अलावा एनिमिया के कुछ और भी प्रमुख लक्षण हैं, जिनके आधार पर आप इसकी पहचान कर सकते हैं - 

1 सीढ़ि‍यां चढ़ते समय या जिम में नियमित कसरत करते समय सांस का फूलना एनीमिया का संकेत हो सकता है। 
2 त्वचा का रंग पीला होना भी एनिमिया का एक संकेत है, इसे नजर अंदाज बिल्कुल न करें। डॉक्टर्स के अनुसार शरीर में रक्त प्रवाह में कमी या फिर लाल रक्त कोशिकाओं की कमी के कारण त्वचा पीली 
पड़ सकती है।

3 अगर आप संवेदशीलता में वृद्धि और सहनशक्ति में कमी महसूस कर रहे हैं, तो यह भी एनिमिया का एक लक्षण हो सकता है।इसका मुख्य कारण शरीर में आयरन का स्तर कम होना है, और यह आपकी रोग प्रतिरोधक क्षमता को बुरी तरह प्रभावित करता है

4 अगर आप पहले की अपेक्षा अपनी एकाग्रता में कमी महसूस करते हैं और किसी चीज पर ध्यान केंद्रित करने में आपको परेशानी होती है, तो यह भी एनीमिया का लक्षण है।

5 शरीर में विटामिन डी की कमी से एनिमिया का खतरा होता। विटामिन डी की कमी के कारण इन्म्यून इन्फ्लॉमेशन की समस्या भी पैदा हो सकती है। इसके अलावा इसकी कमी हड्डियों को भी नुकसान पहुंचाने की क्षमता रखती है।
Advertisement

शेयर कीजिये : Comment Now


loading...

यहाँ अपना कमेंट करें -

एक टिप्पणी भेजें

loading......
 
डिसक्लेमर : दोस्तों, आयुर्वेदप्लस में दी गई जानकारी पाठकों के ज्ञानवर्धन के लिए है। अतः हम आप से निवेदन करते हैं की किसी भी उपाय का प्रयोग करने से पहले अपने चिकित्सक से सलह लें। हमारा उद्देश्य आपको जागरूक करना है। आपका डाॅक्टर ही आपकी सेहत बेहतर जानता है इसलिए उसका कोई विकल्प नहीं है।